Chanakya Niti

चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi, Chanakya Neeti First Chapter, Chanakya Niti Pahla Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर एक, चाणक्य नीति प्रथम अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi, Chanakya Neeti First Chapter, Chanakya Niti Pahla Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर एक, चाणक्य नीति प्रथम अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 1, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्वविख्‍यात और मौर्य साम्राज्य के संस्थापक आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया. आज हम आपके लिए “चाणक्य नीति” के सभी सत्रह अध्याय लेकर आए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि “चाणक्य नीति” आचार्य चाणक्य की नीतियों का अद्भुत संग्रह है, जो आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना वह दो हजार चार सौ साल पहले था, जब इसे लिखा गया था.

चाणक्य नीति द्वारा मित्र-भेद से लेकर दुश्मन तक की पहचान, पति-परायण तथा चरित्र हीन स्त्रियों में विभेद, राजा का कर्तव्य और जनता के अधिकारों तथा वर्ण व्यवस्था का उचित निदान हो जाता है. जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि महापंडित आचार्य चाणक्य की ‘चाणक्य नीति’ में कुल सत्रह अध्याय है, इन्हे आप यहां पढ़ सकते हैं. हमने आपकी सुविधा के लिए हर एक अध्याय के नीचे बाकि के बचे सभी अध्याय की लिंक्स भी प्रकाशित कर दी है, ताकि आप एक ही जगह से संपूर्ण चाणक्य नीति का अध्ययन कर सके.

चाणक्य नीति : प्रथम अध्याय, Chanakya Niti Chapter 1
1- तीनो लोको के स्वामी सर्वशक्तिमान भगवान विष्णु को नमन करते हुए मै एक राज्य के लिए नीति शास्त्र के सिद्धांतों को कहता हूँ. मै यह सूत्र अनेक शास्त्रों का आधार ले कर कह रहा हूँ।
2- जो व्यक्ति शास्त्रों के सूत्रों का अभ्यास करके ज्ञान ग्रहण करेगा उसे अत्यंत वैभवशाली कर्तव्य के सिद्धांत ज्ञात होगे। उसे इस बात का पता चलेगा कि किन बातों का अनुशरण करना चाहिए और किनका नहीं। उसे अच्छाई और बुराई का भी ज्ञात होगा और अंततः उसे सर्वोत्तम का भी ज्ञान होगा।
3- इसलिए लोगो का भला करने के लिए मै उन बातों को कहूंगा जिनसे लोग सभी चीजों को सही परिपेक्ष्य मे देखेगे।
4- एक पंडित भी घोर कष्ट में आ जाता है यदि वह किसी मुर्ख को उपदेश देता है, यदि वह एक दुष्ट पत्नी का पालन-पोषण करता है या किसी दुखी व्यक्ति के साथ अतयंत घनिष्ठ सम्बन्ध बना लेता है.
5. दुष्ट पत्नी, झूठा मित्र, बदमाश नौकर और सर्प के साथ निवास साक्षात् मृत्यु के समान है।

6- व्यक्ति को आने वाली मुसीबतो से निबटने के लिए धन संचय करना चाहिए। उसे धन-सम्पदा त्यागकर भी पत्नी की सुरक्षा करनी चाहिए। लेकिन यदि आत्मा की सुरक्षा की बात आती है तो उसे धन और पत्नी दोनो को तुक्ष्य समझना चाहिए।
7- भविष्य में आने वाली मुसीबतो के लिए धन एकत्रित करें। ऐसा ना सोचें की धनवान व्यक्ति को मुसीबत कैसी? जब धन साथ छोड़ता है तो संगठित धन भी तेजी से घटने लगता है।
8- उस देश मे निवास न करें जहाँ आपकी कोई ईज्जत नहीं हो, जहा आप रोजगार नहीं कमा सकते, जहा आपका कोई मित्र नहीं और जहा आप कोई ज्ञान आर्जित नहीं कर सकते।
9- ऐसे जगह एक दिन भी निवास न करें जहाँ निम्नलिखित पांच ना हो:
एक धनवान व्यक्ति ,
एक ब्राह्मण जो वैदिक शास्त्रों में निपुण हो,
एक राजा,
एक नदी ,
और एक चिकित्सक।
10- बुद्धिमान व्यक्ति को ऐसे देश में कभी नहीं जाना चाहिए जहाँ :
रोजगार कमाने का कोई माध्यम ना हो,
जहा लोगों को किसी बात का भय न हो,
जहा लोगो को किसी बात की लज्जा न हो,
जहा लोग बुद्धिमान न हो,
और जहाँ लोगो की वृत्ति दान धरम करने की ना हो।

11- नौकर की परीक्षा तब करें जब वह कर्त्तव्य का पालन न कर रहा हो,
रिश्तेदार की परीक्षा तब करें जब आप मुसीबत मे घिरें हों,
मित्र की परीक्षा विपरीत परिस्थितियों मे करें,
और जब आपका वक्त अच्छा न चल रहा हो तब पत्नी की परीक्षा करे।
12- अच्छा मित्र वही है जो हमे निम्नलिखित परिस्थितियों में नहीं त्यागे:
आवश्यकता पड़ने पर,
किसी दुर्घटना पड़ने पर,
जब अकाल पड़ा हो,
जब युद्ध चल रहा हो,
जब हमे राजा के दरबार मे जाना पड़े,
और जब हमे समशान घाट जाना पड़े।
13- जो व्यक्ति कसी नाशवंत चीज के लिए कभी नाश नहीं होने वाली चीज को छोड़ देता है, तो उसके हाथ से अविनाशी वस्तु तो चली ही जाती है और इसमे कोई संदेह नहीं की नाशवान को भी वह खो देता है।
14- एक बुद्धिमान व्यक्ति को किसी इज्जतदार घर की अविवाहित कन्या से किस वयंग होने के बावजूद भी विवाह करना चाहिए। उसे किसी हीन घर की अत्यंत सुन्दर स्त्री से भी विवाह नहीं करनी चाहिए। शादी-विवाह हमेशा बराबरी के घरो मे ही उिचत होता है।
15- इन ५ पर कभी विश्वास ना करें :
१. नदियां,
२. जिन व्यक्तियों के पास अश्त्र-शस्त्र हों,
३. नाख़ून और सींग वाले पशु,
४. औरतें (यहाँ संकेत भोली सूरत की तरफ है, बहने बुरा न माने )
५. राज घरानो के लोगो पर।

16- अगर हो सके तो विष मे से भी अमृत निकाल लें,
यदि सोना गन्दगी में भी पड़ा हो तो उसे उठाये, धोएं और अपनाये,
निचले कुल मे जन्म लेने वाले से भी सर्वोत्तम ज्ञान ग्रहण करें,
उसी तरह यदि कोई बदनाम घर की कन्या भी महान गुणो से संपनन है और आपको कोई सीख देती है तो गहण करे.
17- महिलाओं में पुरुषों कि अपेक्षा:
भूख दो गुना,
लज्जा चार गुना,
साहस छः गुना,
और काम आठ गुना होती है।

चाणक्य नीति के सभी अध्याय यहां पढ़ें

  1. चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
  2. चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
  3. चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
  4. चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
  5. चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
  6. चाणक्य नीति अध्याय 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
  7. चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
  8. चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
  9. चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
  10. चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
  11. चाणक्य नीति अध्याय 11, चाणक्य नीति ग्यारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Gyarah, Chanakya Niti Gyarahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 11 In Hindi
  12. चाणक्य नीति अध्याय 12, चाणक्य नीति बारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Baarah, Chanakya Niti Barahwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 12 In Hindi
  13. चाणक्य नीति अध्याय 13, चाणक्य नीति तेरहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Terah, Chanakya Niti Terwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi
  14. चाणक्य नीति अध्याय 14, चाणक्य नीति चौदहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Chaudah, Chanakya Niti Chaudahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 14 In Hindi
  15. चाणक्य नीति अध्याय 15, चाणक्य नीति पन्द्रहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Pandrah, Chanakya Niti Pandrahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 15 In Hindi
  16. चाणक्य नीति अध्याय 16, चाणक्य नीति सोलहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Solah, Chanakya Niti Solahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 16 In Hindi
  17. चाणक्य नीति अध्याय 17, चाणक्य नीति सतरहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Satrah, Chanakya Niti Satrahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 17 In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi, Chanakya Neeti First Chapter, Chanakya Niti Pahla Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर एक, चाणक्य नीति प्रथम अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

Chanakya Niti

चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi, Chanakya Neeti Second Chapter, Chanakya Niti Dusra Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर दो, चाणक्य नीति द्वितीय अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi, Chanakya Neeti Second Chapter, Chanakya Niti Dusra Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर दो, चाणक्य नीति द्वितीय अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 2, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्वविख्‍यात और मौर्य साम्राज्य के संस्थापक आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया. आज हम आपके लिए “चाणक्य नीति” के सभी सत्रह अध्याय लेकर आए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि “चाणक्य नीति” आचार्य चाणक्य की नीतियों का अद्भुत संग्रह है, जो आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना वह दो हजार चार सौ साल पहले था, जब इसे लिखा गया था.

चाणक्य नीति द्वारा मित्र-भेद से लेकर दुश्मन तक की पहचान, पति-परायण तथा चरित्र हीन स्त्रियों में विभेद, राजा का कर्तव्य और जनता के अधिकारों तथा वर्ण व्यवस्था का उचित निदान हो जाता है. जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि महापंडित आचार्य चाणक्य की ‘चाणक्य नीति’ में कुल सत्रह अध्याय है, इन्हे आप यहां पढ़ सकते हैं. हमने आपकी सुविधा के लिए हर एक अध्याय के नीचे बाकि के बचे सभी अध्याय की लिंक्स भी प्रकाशित कर दी है, ताकि आप एक ही जगह से संपूर्ण चाणक्य नीति का अध्ययन कर सके.

चाणक्य नीति द्वितीय अध्याय, Chanakya Niti Chapter 2
1- झूठ बोलना, कठोरता, छल करना, बेवकूफी करना, लालच, अपवित्रता और निर्दयता ये औरतो के कुछ नैसर्गिक दुर्गुण है।
2- भोजन के योग्य पदार्थ और भोजन करने की क्षमता, सुन्दर स्त्री और उसे भोगने के लिए काम शक्ति, पर्याप्त धनराशी तथा दान देने की भावना – ऐसे संयोगों का होना सामान्य तप का फल नहीं है।
3- उस व्यक्ति ने धरती पर ही स्वर्ग को पा लिया :
१. जिसका पुत्र आज्ञांकारी है,
२. जिसकी पत्नी उसकी इच्छा के अनुरूप व्यव्हार करती है,
३. जिसे अपने धन पर संतोष है।
4- पुत्र वही है जो पिता का कहना मानता हो, पिता वही है जो पुत्रों का पालन-पोषण करे, मित्र वही है जिस पर आप विश्वास कर सकते हों और पत्नी वही है जिससे सुख प्राप्त हो।
5- ऐसे लोगों से बचे जो आपके मुह पर तो मीठी बातें करते हैं, लेकिन आपके पीठ पीछे आपको बर्बाद करने की योजना बनाते है, ऐसा करने वाले तो उस विष के घड़े के समान है जिसकी उपरी सतह दूध से भरी है।

6- एक बुरे मित्र पर तो कभी विश्वास ना करे। एक अच्छे मित्र पर भी विश्वास ना करें। क्यूंकि यदि ऐसे लोग आपसे रुष्ट होते है तो आप के सभी राज से पर्दा खोल देंगे।
7- मन में सोंचे हुए कार्य को किसी के सामने प्रकट न करें बल्कि मनन पूर्वक उसकी सुरक्षा करते हुए उसे कार्य में परिणत कर दें।
8- मुर्खता दुखदायी है, जवानी भी दुखदायी है,लेकिन इन सबसे कहीं ज्यादा दुखदायी किसी दुसरे के घर जाकर उसका अहसान लेना है।
9- हर पर्वत पर माणिक्य नहीं होते, हर हाथी के सर पर मणी नहीं होता, सज्जन पुरुष भी हर जगह नहीं होते और हर वन मे चन्दन के वृक्ष भी नहीं होते हैं।
10- बुद्धिमान पिता को अपने पुत्रों को शुभ गुणों की सीख देनी चाहिए क्योंकि नीतिज्ञ और ज्ञानी व्यक्तियों की ही कुल में पूजा होती है।

11- जो माता व् पिता अपने बच्चों को शिक्षा नहीं देते है वो तो बच्चों के शत्रु के सामान हैं। क्योंकि वे विद्याहीन बालक विद्वानों की सभा में वैसे ही तिरस्कृत किये जाते हैं जैसे हंसो की सभा मे बगुले।
12- लाड-प्यार से बच्चों मे गलत आदते ढलती है, उन्हें कड़ी शिक्षा देने से वे अच्छी आदते सीखते है, इसलिए बच्चों को जरुरत पड़ने पर दण्डित करें, ज्यादा लाड ना करें।
13- ऐसा एक भी दिन नहीं जाना चाहिए जब आपने एक श्लोक, आधा श्लोक, चौथाई श्लोक, या श्लोक का केवल एक अक्षर नहीं सीखा, या आपने दान, अभ्यास या कोई पवित्र कार्य नहीं किया।
14- पत्नी का वियोग होना, आपने ही लोगो से बे-इजजत होना, बचा हुआ ऋण, दुष्ट राजा की सेवा करना, गरीबी एवं दरिद्रों की सभा – ये छह बातें शरीर को बिना अग्नि के ही जला देती हैं।
15- नदी के किनारे वाले वृक्ष, दुसरे व्यक्ति के घर मे जाने अथवा रहने वाली स्त्री एवं बिना मंत्रियों का राजा – ये सब निश्चय ही शीघ्र नस्ट हो जाते हैं।

16- एक ब्राह्मण का बल तेज और विद्या है, एक राजा का बल उसकी सेना मे है, एक वैशय का बल उसकी दौलत मे है तथा एक शुद्र का बल उसकी सेवा परायणता मे है।
17- वेश्या को निर्धन व्यक्ति को त्याग देना चाहिए, प्रजा को पराजित राजा को त्याग देना चाहिए, पक्षियों को फलरहित वृक्ष त्याग देना चाहिए एवं अतिथियों को भोजन करने के पश्चात् मेजबान के घर से निकल देना चाहिए।
18- ब्राह्मण दक्षिणा मिलने के पश्चात् आपने यजमानो को छोड़ देते है, विद्वान विद्या प्राप्ति के बाद गुरु को छोड़ जाते हैं और पशु जले हुए वन को त्याग देते हैं।
19- जो व्यक्ति दुराचारी, कुदृष्टि वाले, एवं बुरे स्थान पर रहने वाले मनुष्य के साथ मित्रता करता है, वह शीघ्र नष्ट हो जाता है।
20- प्रेम और मित्रता बराबर वालों में अच्छी लगती है, राजा के यहाँ नौकरी करने वाले को ही सम्मान मिलता है, व्यवसायों में वाणिज्य सबसे अच्छा है, अवं उत्तम गुणों वाली स्त्री अपने घर में सुरक्षित रहती है।

चाणक्य नीति के सभी अध्याय यहां पढ़ें

  1. चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
  2. चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
  3. चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
  4. चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
  5. चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
  6. चाणक्य नीति अध्याय 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
  7. चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
  8. चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
  9. चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
  10. चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
  11. चाणक्य नीति अध्याय 11, चाणक्य नीति ग्यारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Gyarah, Chanakya Niti Gyarahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 11 In Hindi
  12. चाणक्य नीति अध्याय 12, चाणक्य नीति बारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Baarah, Chanakya Niti Barahwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 12 In Hindi
  13. चाणक्य नीति अध्याय 13, चाणक्य नीति तेरहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Terah, Chanakya Niti Terwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi
  14. चाणक्य नीति अध्याय 14, चाणक्य नीति चौदहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Chaudah, Chanakya Niti Chaudahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 14 In Hindi
  15. चाणक्य नीति अध्याय 15, चाणक्य नीति पन्द्रहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Pandrah, Chanakya Niti Pandrahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 15 In Hindi
  16. चाणक्य नीति अध्याय 16, चाणक्य नीति सोलहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Solah, Chanakya Niti Solahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 16 In Hindi
  17. चाणक्य नीति अध्याय 17, चाणक्य नीति सतरहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Satrah, Chanakya Niti Satrahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 17 In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi, Chanakya Neeti Second Chapter, Chanakya Niti Dusra Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर दो, चाणक्य नीति द्वितीय अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

Chanakya Niti

चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi, Chanakya Neeti Third Chapter, Chanakya Niti Teesra Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर तीन, चाणक्य नीति तृतीया अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi, Chanakya Neeti Third Chapter, Chanakya Niti Teesra Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर तीन, चाणक्य नीति तृतीया अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 3, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्वविख्‍यात और मौर्य साम्राज्य के संस्थापक आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया. आज हम आपके लिए “चाणक्य नीति” के सभी सत्रह अध्याय लेकर आए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि “चाणक्य नीति” आचार्य चाणक्य की नीतियों का अद्भुत संग्रह है, जो आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना वह दो हजार चार सौ साल पहले था, जब इसे लिखा गया था.

चाणक्य नीति द्वारा मित्र-भेद से लेकर दुश्मन तक की पहचान, पति-परायण तथा चरित्र हीन स्त्रियों में विभेद, राजा का कर्तव्य और जनता के अधिकारों तथा वर्ण व्यवस्था का उचित निदान हो जाता है. जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि महापंडित आचार्य चाणक्य की ‘चाणक्य नीति’ में कुल सत्रह अध्याय है, इन्हे आप यहां पढ़ सकते हैं. हमने आपकी सुविधा के लिए हर एक अध्याय के नीचे बाकि के बचे सभी अध्याय की लिंक्स भी प्रकाशित कर दी है, ताकि आप एक ही जगह से संपूर्ण चाणक्य नीति का अध्ययन कर सके.

चाणक्य नीति तीसरा अध्याय, Chanakya Niti Chapter 3Chapter
1- इस दुनिया मे ऐसा किसका घर है जिस पर कोई कलंक नहीं, वह कौन है जो रोग और दुख से मुक्त है.सदा सुख किसको रहता है?
2- मनुष्य के कुल की ख्याति उसके आचरण से होती है, मनुष्य के बोल चल से उसके देश की ख्याति बढ़ती है, मान सम्मान उसके प्रेम को बढ़ता है, एवं उसके शारीर का गठन उसे भोजन से बढ़ता है.
3- लड़की का बयाह अच्छे खानदान मे करना चाहिए. पुत्र को अचछी शिक्षा देनी चाहिए, शत्रु को आपत्ति और कष्टों में डालना चाहिए, एवं मित्रों को धर्म कर्म में लगाना चाहिए.
4- एक दुर्जन और एक सर्प मे यह अंतर है की साप तभी डंख मरेगा जब उसकी जान को खतरा हो लेकिन दुर्जन पग पग पर हानि पहुचने की कोशिश करेगा .
5- राजा लोग अपने आस पास अच्छे कुल के लोगो को इसलिए रखते है क्योंकि ऐसे लोग ना आरम्भ मे, ना बीच मे और ना ही अंत मे साथ छोड़कर जाते है.

6- जब प्रलय का समय आता है तो समुद्र भी अपनी मयारदा छोड़कर किनारों को छोड़ अथवा तोड़ जाते है, लेकिन सज्जन पुरुष प्रलय के सामान भयंकर आपत्ति अवं विपत्ति में भी आपनी मर्यादा नहीं बदलते.
7- मूर्खो के साथ मित्रता नहीं रखनी चाहिए उन्हें त्याग देना ही उचित है, क्योंकि प्रत्यक्ष रूप से वे दो पैरों वाले पशु के सामान हैं,जो अपने धारदार वचनो से वैसे ही हदय को छलनी करता है जैसे अदृश्य काँटा शारीर में घुसकर छलनी करता है .
8- रूप और यौवन से सम्पन्न तथा कुलीन परिवार में जन्मा लेने पर भी विद्या हीन पुरुष पलाश के फूल के समान है जो सुन्दर तो है लेकिन खुशबु रहित है.
9- कोयल की सुन्दरता उसके गायन मे है. एक स्त्री की सुन्दरता उसके अपने पिरवार के प्रति समर्पण मे है. एक बदसूरत आदमी की सुन्दरता उसके ज्ञान मे है तथा एक तपस्वी की सुन्दरता उसकी क्षमाशीलता मे है.
10- कुल की रक्षा के लिए एक सदस्य का बिलदान दें,गाव की रक्षा के लिए एक कुल का बिलदान दें, देश की रक्षा के लिए एक गाव का बिलदान दें, आतमा की रक्षा के लिए देश का बिलदान दें.

11- जो उद्यमशील हैं, वे गरीब नहीं हो सकते,
जो हरदम भगवान को याद करते है उनहे पाप नहीं छू सकता.
जो मौन रहते है वो झगड़ों मे नहीं पड़ते.
जो जागृत रहते है वो निर्भय होते है.
12- आत्याधिक सुन्दरता के कारन सीताहरण हुआ, अत्यंत घमंड के कारन रावन का अंत हुआ, अत्यधिक दान देने के कारन रजा बाली को बंधन में बंधना पड़ा, अतः सर्वत्र अति को त्यागना चाहिए.
13- शक्तिशाली लोगों के लिए कौनसा कार्य कठिन है ? व्यापारिओं के लिए कौनसा जगह दूर है, विद्वानों के लिए कोई देश विदेश नहीं है, मधुभाषियों का कोई शत्रु नहीं.
14- जिस तरह सारा वन केवल एक ही पुष्प अवं सुगंध भरे वृक्ष से महक जाता है उसी तरह एक ही गुणवान पुत्र पुरे कुल का नाम बढाता है.
15- जिस प्रकार केवल एक सुखा हुआ जलता वृक्ष सम्पूर्ण वन को जला देता है उसी प्रकार एक ही कुपुत्र सरे कुल के मान, मर्यादा और प्रतिष्ठा को नष्ट कर देता है.

16- विद्वान एवं सदाचारी एक ही पुत्र के कारन सम्पूर्ण परिवार वैसे ही खुशहाल रहता है जैसे चन्द्रमा के निकालने पर रात्रि जगमगा उठती है.
17- ऐसे अनेक पुत्र किस काम के जो दुःख और निराशा पैदा करे. इससे तो वह एक ही पुत्र अच्छा है जो समपूणर घर को सहारा और शांित पदान करे.
18- पांच साल तक पुत्र को लाड एवं प्यार से पालन करना चाहिए, दस साल तक उसे छड़ी की मार से डराए. लेकिन जब वह १६ साल का हो जाए तो उससे मित्र के समान वयवहार करे.
19- वह व्यक्ति सुरक्षित रह सकता है जो नीचे दी हुई परिस्थितियां उत्पन्न होने पर भाग जाए.
१. भयावह आपदा.
२. विदेशी आक्रमण
३. भयंकर अकाल
४. दुष व्यक्ति का संग.
20- जो व्यक्ति निम्नलिखित बाते अर्जित नहीं करता वह बार बार जनम लेकर मरता है-
१. धमर
२. अर्थ
३. काम
४. मोक्ष
21- धन की देवी लक्ष्मी स्वयं वहां चली आती है जहाँ –
१. मूखो का सम्मान नहीं होता.
२. अनाज का अचछे से भणडारण िकया जाता है.
३. पित, पत्नी मे आपस मे लड़ाई बखेड़ा नहीं होता है.

चाणक्य नीति के सभी अध्याय यहां पढ़ें

  1. चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
  2. चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
  3. चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
  4. चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
  5. चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
  6. चाणक्य नीति अध्याय 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
  7. चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
  8. चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
  9. चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
  10. चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
  11. चाणक्य नीति अध्याय 11, चाणक्य नीति ग्यारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Gyarah, Chanakya Niti Gyarahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 11 In Hindi
  12. चाणक्य नीति अध्याय 12, चाणक्य नीति बारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Baarah, Chanakya Niti Barahwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 12 In Hindi
  13. चाणक्य नीति अध्याय 13, चाणक्य नीति तेरहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Terah, Chanakya Niti Terwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi
  14. चाणक्य नीति अध्याय 14, चाणक्य नीति चौदहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Chaudah, Chanakya Niti Chaudahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 14 In Hindi
  15. चाणक्य नीति अध्याय 15, चाणक्य नीति पन्द्रहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Pandrah, Chanakya Niti Pandrahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 15 In Hindi
  16. चाणक्य नीति अध्याय 16, चाणक्य नीति सोलहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Solah, Chanakya Niti Solahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 16 In Hindi
  17. चाणक्य नीति अध्याय 17, चाणक्य नीति सतरहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Satrah, Chanakya Niti Satrahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 17 In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi, Chanakya Neeti Third Chapter, Chanakya Niti Teesra Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर तीन, चाणक्य नीति तृतीया अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

Chanakya Niti

चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi, Chanakya Neeti Fourth Chapter, Chanakya Niti Chautha Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर चार, चाणक्य नीति चतुर्थ अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi, Chanakya Neeti Fourth Chapter, Chanakya Niti Chautha Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर चार, चाणक्य नीति चतुर्थ अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 4, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्वविख्‍यात और मौर्य साम्राज्य के संस्थापक आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया. आज हम आपके लिए “चाणक्य नीति” के सभी सत्रह अध्याय लेकर आए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि “चाणक्य नीति” आचार्य चाणक्य की नीतियों का अद्भुत संग्रह है, जो आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना वह दो हजार चार सौ साल पहले था, जब इसे लिखा गया था.

चाणक्य नीति द्वारा मित्र-भेद से लेकर दुश्मन तक की पहचान, पति-परायण तथा चरित्र हीन स्त्रियों में विभेद, राजा का कर्तव्य और जनता के अधिकारों तथा वर्ण व्यवस्था का उचित निदान हो जाता है. जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि महापंडित आचार्य चाणक्य की ‘चाणक्य नीति’ में कुल सत्रह अध्याय है, इन्हे आप यहां पढ़ सकते हैं. हमने आपकी सुविधा के लिए हर एक अध्याय के नीचे बाकि के बचे सभी अध्याय की लिंक्स भी प्रकाशित कर दी है, ताकि आप एक ही जगह से संपूर्ण चाणक्य नीति का अध्ययन कर सके.

चाणक्य नीति चौथा अध्याय, Chanakya Niti Chapter 4
1- निम्नलिखित बातें माता के गर्भ में ही निश्चित हो जाती है-
१. व्यक्ति कितने साल जियेगा
२. वह किस प्रकार का काम करेगा
३. उसके पास कितनी संपत्ति होगी
४. उसकी मृत्यु कब होगी.
2- पुत्र , मित्र, सगे सम्बन्धी साधुओं को देखकर दूर भागते है, लेकिन जो लोग साधुओं का अनुसरण करते है उनमें भक्ति जागृत होती है और उनके उस पुण्य से उनका सारा कुल धन्य हो जाता है .
3- जैसे मछली दृष्टि से, कछुआ ध्यान देकर और पंछी स्पर्श करके अपने बच्चों को पालते है, वैसे ही संत-जन पुरुषों की संगति मनुष्य का पालन पोषण करती है.
4- जब आपका शरीर स्वस्थ है और आपके नियंत्रण में है उसी समय आत्म साक्षात्कार का उपाय कर लेना चाहिए क्योंकि मृत्यु हो जाने के बाद कोई कुछ नहीं कर सकता है.
5- विद्या अर्जन करना यह एक कामधेनु के समान है जो हर मौसम में अमृत प्रदान करती है. वह विदेश में माता के समान रक्षक अवं हितकारी होती है. इसीलिए विद्या को एक गुप्त धन कहा जाता है.

6- सैंकड़ों गुणरहित पुत्रों से अच्छा एक गुणी पुत्र है क्योंकि एक चन्द्रमा ही रात्रि के अन्धकार को भगाता है, असंख्य तारे यह काम नहीं करते.
7- एक ऐसा बालक जो जन्मते वक़्त मृत था, एक मूर्ख दीर्घायु बालक से बेहतर है. पहला बालक तो एक क्षण के लिए दुःख देता है, दूसरा बालक उसके माँ बाप को जिंदगी भर दुःख की अग्नि में जलाता है.
8- निम्नलिखित बातें व्यक्ति को बिना आग के ही जलाती है-
१. एक छोटे गाँव में बसना जहाँ रहने की सुविधाएँ उपलब्ध नहीं.
२. एक ऐसे व्यक्ति के यहाँ नौकरी करना जो नीच कुल में पैदा हुआ है.
३. अस्वास्थय्वर्धक भोजन का सेवन करना.
४. जिसकी पत्नी हरदम ग़ुस्से में होती है.
५. जिसका मूर्ख पुत्र है.
६. जिसकी पुत्री विधवा हो गयी है.
9- वह गाय किस काम की जो ना तो दूध देती है ना तो बच्चे को जन्म देती है. उसी प्रकार उस बच्चे का जन्म किस काम का जो ना ही विद्वान हुआ ना ही भगवान का भक्त हुआ.
10- जब व्यक्ति जीवन के दुःख से झुलसता है उसे निम्नलिखित ही सहारा देते है…
१. पुत्र और पुत्री
२. पत्नी
३. भगवान के भक्त.

11- यह बातें एक बार ही होनी चाहिए-
१. राजा का बोलना.
२. विद्वान व्यक्ति का बोलना.
३. लड़की का ब्याहना.
12- जब आप तप करते है तो अकेले करे.
१. अभ्यास करते है तो दूसरे के साथ करे.
२. गायन करते है तो तीन लोग करे.
३. कृषि चार लोग करे.
४. युद्ध अनेक लोग मिलकर करे.
13- वही अच्छी पत्नी है जो शुचिपूर्ण है, पारंगत है, शुद्ध है, पति को प्रसन्न करने वाली है और सत्यवादी है.
14- जिस व्यक्ति के पुत्र नहीं है उसका घर उजाड़ है. जिसे कोई सम्बन्धी नहीं है उसकी सभी दिशाए उजाड़ है. मूर्ख व्यक्ति का ह्रदय उजाड़ है. निर्धन व्यक्ति का सब कुछ उजाड़ है.
15- जिस अध्यात्मिक सीख का आचरण नहीं किया जाता वह जहर है. जिसका पेट ख़राब है उसके लिए भोजन जहर है. निर्धन व्यक्ति के लिए लोगों का किसी सामाजिक या व्यक्तिगत कार्यक्रम में एकत्र होना जहर है.

16- जिस व्यक्ति के पास धर्म और दया नहीं है उसे दूर करो. जिस गुरु के पास अध्यात्मिक ज्ञान नहीं है उसे दूर करो. जिस पत्नी के चेहरे पर हरदम घृणा है उसे दूर करो. जिन रिश्तेदारों के पास प्रेम नहीं उन्हें दूर करो.
17- सतत भ्रमण करना व्यक्ति को बूढ़ा बना देता है. यदि घोड़े को हरदम बांध कर रखते है तो वह बूढ़ा हो जाता है. यदि स्त्री उसके पति के साथ प्रणय नहीं करती हो तो बढ़ी हो जाती है. धूप में रखने से कपड़े पुराने हो जाते है.
18- इन बातों को बार-बार गौर करे-
१. सही समय
२. सही मित्र
३. सही ठिकाना
४. पैसे कमाने के सही साधन
५. पैसे खर्चा करने के सही तरीके
६. आपके ऊर्जा स्रोत.
19- द्विज अग्नि में भगवान देखते है-
१. भक्तों के ह्रदय में परमात्मा का वास होता है.
२. जो अल्प मति के लोग है वे मूर्ति में भगवान देखते है.
३. लेकिन जो व्यापक दृष्टि रखने वाले लोग है, वे यह जानते है की भगवान सर्व व्यापी है.

चाणक्य नीति के सभी अध्याय यहां पढ़ें

  1. चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
  2. चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
  3. चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
  4. चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
  5. चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
  6. चाणक्य नीति अध्याय 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
  7. चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
  8. चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
  9. चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
  10. चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
  11. चाणक्य नीति अध्याय 11, चाणक्य नीति ग्यारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Gyarah, Chanakya Niti Gyarahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 11 In Hindi
  12. चाणक्य नीति अध्याय 12, चाणक्य नीति बारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Baarah, Chanakya Niti Barahwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 12 In Hindi
  13. चाणक्य नीति अध्याय 13, चाणक्य नीति तेरहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Terah, Chanakya Niti Terwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi
  14. चाणक्य नीति अध्याय 14, चाणक्य नीति चौदहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Chaudah, Chanakya Niti Chaudahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 14 In Hindi
  15. चाणक्य नीति अध्याय 15, चाणक्य नीति पन्द्रहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Pandrah, Chanakya Niti Pandrahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 15 In Hindi
  16. चाणक्य नीति अध्याय 16, चाणक्य नीति सोलहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Solah, Chanakya Niti Solahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 16 In Hindi
  17. चाणक्य नीति अध्याय 17, चाणक्य नीति सतरहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Satrah, Chanakya Niti Satrahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 17 In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi, Chanakya Neeti Fourth Chapter, Chanakya Niti Chautha Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर चार, चाणक्य नीति चतुर्थ अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

Chanakya Niti

चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, पाँचवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi, Chanakya Neeti Fifth Chapter, Chanakya Niti Panchwa Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर पांच, चाणक्य नीति पञ्चम अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, पाँचवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi, Chanakya Neeti Fifth Chapter, Chanakya Niti Panchwa Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर पांच, चाणक्य नीति पञ्चम अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 5, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्वविख्‍यात और मौर्य साम्राज्य के संस्थापक आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया. आज हम आपके लिए “चाणक्य नीति” के सभी सत्रह अध्याय लेकर आए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि “चाणक्य नीति” आचार्य चाणक्य की नीतियों का अद्भुत संग्रह है, जो आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना वह दो हजार चार सौ साल पहले था, जब इसे लिखा गया था.

चाणक्य नीति द्वारा मित्र-भेद से लेकर दुश्मन तक की पहचान, पति-परायण तथा चरित्र हीन स्त्रियों में विभेद, राजा का कर्तव्य और जनता के अधिकारों तथा वर्ण व्यवस्था का उचित निदान हो जाता है. जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि महापंडित आचार्य चाणक्य की ‘चाणक्य नीति’ में कुल सत्रह अध्याय है, इन्हे आप यहां पढ़ सकते हैं. हमने आपकी सुविधा के लिए हर एक अध्याय के नीचे बाकि के बचे सभी अध्याय की लिंक्स भी प्रकाशित कर दी है, ताकि आप एक ही जगह से संपूर्ण चाणक्य नीति का अध्ययन कर सके.

चाणक्य नीति पाँचवाँ अध्याय, Chanakya Niti Chapter 5
1- ब्राह्मणों को अग्नि की पूजा करनी चाहिए . दूसरे लोगों को ब्राह्मण की पूजा करनी चाहिए . पत्नी को पति की पूजा करनी चाहिए तथा दोपहर के भोजन के लिए जो अतिथि आये उसकी सभी को पूजा करनी चाहिए
2- सोने की परख उसे घिस कर, काट कर, गरम कर के और पीट कर की जाती है. उसी तरह व्यक्ति का परीक्षण वह कितना त्याग करता है, उसका आचरण कैसा है, उसमें गुण कौन से है और उसका व्यवहार कैसा है इससे होता है.
3- यदि आप पर मुसीबत आती नहीं है तो उससे सावधान रहे. लेकिन यदि मुसीबत आ जाती है तो किसी भी तरह उससे छुटकारा पाए.
4- अनेक व्यक्ति जो एक ही गर्भ से पैदा हुए है या एक ही नक्षत्र में पैदा हुए है वे एक से नहीं रहते. उसी प्रकार जैसे बेर के झाड़ के सभी बेर एक से नहीं रहते.
5- वह व्यक्ति जिसके हाथ स्वच्छ है कार्यालय में काम नहीं करना चाहता. जिस ने अपनी कामना को ख़तम कर दिया है, वह शारीरिक शृंगार नहीं करता, जो आधा पढ़ा हुआ व्यक्ति है वे मीठे बोल नहीं सकता. जो सीधी बात करता है वह धोका नहीं दे सकता.
6- मूढ़ लोग बुद्धिमानो से ईर्ष्या करते है. गलत मार्ग पर चलने वाली औरत पवित्र स्त्री से ईर्ष्या करती है. बदसूरत औरत खूबसूरत औरत से ईर्ष्या करती है.

7- खाली बैठने से अभ्यास का नाश होता है. दूसरों को देखभाल करने के लिए देने से पैसा नष्ट होता है. गलत ढंग से बुवाई करने वाला किसान अपने बीजों का नाश करता है. यदि सेनापति नहीं है तो सेना का नाश होता है.
8- अर्जित विद्या अभ्यास से सुरक्षित रहती है.
घर की इज्जत अच्छे व्यवहार से सुरक्षित रहती है.
अच्छे गुणों से इज्जतदार आदमी को मान मिलता है.
किसी भी व्यक्ति का गुस्सा उसकी आँखों में दिखता है.
9- धर्म की रक्षा पैसे से होती है.
ज्ञान की रक्षा जमकर आजमाने से होती है.
राजा से रक्षा उसकी बात मानने से होती है.
घर की रक्षा एक दक्ष गृहिणी से होती है.
10- जो वैदिक ज्ञान की निंदा करते है, शास्त्र सम्मत जीवनशैली की मजाक उगाते है, शांतिपूर्ण स्वभाव के लोगों की मजाक उगाते है, बिना किसी आवश्यकता के दुःख को प्राप्त होते है.
11- दान गरीबी को ख़त्म करता है. अच्छा आचरण दुःख को मिटाता है. विवेक अज्ञान को नष्ट करता है. जानकारी भय को समाप्त करती है.

12- वासना के समान दुष्कर कोई रोग नहीं. मोह के समान कोई शत्रु नहीं. क्रोध के समान अग्नि नहीं. स्वरूप ज्ञान के समान कोई बोध नहीं.
13- व्यक्ति अकेले ही पैदा होता है. अकेले ही मरता है. अपने कर्मों के शुभ अशुभ परिणाम अकेले ही भोगता है. अकेले ही नरक में जाता है या सद्गति प्राप्त करता है.
14- जिसने अपने स्वरूप को जान लिया उसके लिए स्वर्ग तो तिनके के समान है. एक पराक्रमी योद्धा अपने जीवन को तुच्छ मानता है. जिसने अपनी कामना को जीत लिया उसके लिए स्त्री भोग का विषय नहीं. उसके लिए सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड तुच्छ है जिसके मन में कोई आसक्ति नहीं.
15- जब आप सफ़र पर जाते हो तो विद्यार्जन ही आपका मित्र है. घर में पत्नी मित्र है. बीमार होने पर दवा मित्र है. अर्जित पुण्य मृत्यु के बाद एकमात्र मित्र है.
16- समुद्र में होने वाली वर्षा व्यर्थ है. जिसका पेट भरा हुआ है उसके लिए अन्न व्यर्थ है. पैसे वाले आदमी के लिए भेट वस्तु का कोई अर्थ नहीं. दिन के समय जलता दिया व्यर्थ है.
17- वर्षा के जल के समान कोई जल नहीं. खुद की शक्ति के समान कोई शक्ति नहीं. नेत्र ज्योति के समान कोई प्रकाश नहीं. अन्न से बढ़कर कोई संपत्ति नहीं.

18- निर्धन को धन की कामना. पशु को वाणी की कामना. लोगों को स्वर्ग की कामना. देव लोगों को मुक्ति की कामना.
19- सत्य की शक्ति ही इस दुनिया को धारण करती है. सत्य की शक्ति से ही सूर्य प्रकाशमान है, हवाए चलती है, सही में सब कुछ सत्य पर आश्रित है.
20- लक्ष्मी जो संपत्ति की देवता है, वह चंचला है. हमारी श्वास भी चंचला है. हम कितना समय जियेंगे इसका कोई ठिकाना नहीं. हम कहा रहेंगे यह भी पक्का नहीं. कोई बात यहाँ पर पक्की है तो यह है की हमारा अर्जित पुण्य कितना है.
21- आदमियों में नाई सबसे धूर्त है. कौवा पक्षीयों में धूर्त है. लोमड़ी प्राणीयो में धूर्त है. औरतो में लम्पट औरत सबसे धूर्त है.
22- ये सब आपके पिता है. १. जिसने आपको जन्म दिया. २. जिसने आपका यज्ञोपवीत संस्कार किया. ३. जिसने आपको पढाया. ४. जिसने आपको भोजन दिया. ५. जिसने आपको भयपूर्ण परिस्थितियों में बचाया.
23- इन सब को अपनी माता समझें .१. राजा की पत्नी २. गुरु की पत्नी ३. मित्र की पत्नी ४. पत्नी की माँ ५. आपकी माँ.

चाणक्य नीति के सभी अध्याय यहां पढ़ें

  1. चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
  2. चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
  3. चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
  4. चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
  5. चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
  6. चाणक्य नीति अध्याय 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
  7. चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
  8. चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
  9. चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
  10. चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
  11. चाणक्य नीति अध्याय 11, चाणक्य नीति ग्यारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Gyarah, Chanakya Niti Gyarahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 11 In Hindi
  12. चाणक्य नीति अध्याय 12, चाणक्य नीति बारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Baarah, Chanakya Niti Barahwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 12 In Hindi
  13. चाणक्य नीति अध्याय 13, चाणक्य नीति तेरहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Terah, Chanakya Niti Terwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi
  14. चाणक्य नीति अध्याय 14, चाणक्य नीति चौदहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Chaudah, Chanakya Niti Chaudahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 14 In Hindi
  15. चाणक्य नीति अध्याय 15, चाणक्य नीति पन्द्रहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Pandrah, Chanakya Niti Pandrahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 15 In Hindi
  16. चाणक्य नीति अध्याय 16, चाणक्य नीति सोलहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Solah, Chanakya Niti Solahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 16 In Hindi
  17. चाणक्य नीति अध्याय 17, चाणक्य नीति सतरहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Satrah, Chanakya Niti Satrahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 17 In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, पाँचवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi, Chanakya Neeti Fifth Chapter, Chanakya Niti Panchwa Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर पांच, चाणक्य नीति पञ्चम अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

Chanakya Niti

चाणक्य नीति अध्याय छ: 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi, Chanakya Neeti Sixth Chapter, Chanakya Niti Chhatha Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर छ:, चाणक्य नीति षष्ठी अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय छ: 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi, Chanakya Neeti Sixth Chapter, Chanakya Niti Chhatha Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर छ:, चाणक्य नीति षष्ठी अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 6, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्वविख्‍यात और मौर्य साम्राज्य के संस्थापक आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया. आज हम आपके लिए “चाणक्य नीति” के सभी सत्रह अध्याय लेकर आए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि “चाणक्य नीति” आचार्य चाणक्य की नीतियों का अद्भुत संग्रह है, जो आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना वह दो हजार चार सौ साल पहले था, जब इसे लिखा गया था.

चाणक्य नीति द्वारा मित्र-भेद से लेकर दुश्मन तक की पहचान, पति-परायण तथा चरित्र हीन स्त्रियों में विभेद, राजा का कर्तव्य और जनता के अधिकारों तथा वर्ण व्यवस्था का उचित निदान हो जाता है. जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि महापंडित आचार्य चाणक्य की ‘चाणक्य नीति’ में कुल सत्रह अध्याय है, इन्हे आप यहां पढ़ सकते हैं. हमने आपकी सुविधा के लिए हर एक अध्याय के नीचे बाकि के बचे सभी अध्याय की लिंक्स भी प्रकाशित कर दी है, ताकि आप एक ही जगह से संपूर्ण चाणक्य नीति का अध्ययन कर सके.

चाणक्य नीति छठवाँ अध्याय, Chanakya Niti Chapter 6
1- श्रवण करने से धर्म का ज्ञान होता है, द्वेष दूर होता है, ज्ञान की प्राप्ति होती है और माया की आसक्ति से मुक्ति होती है.
2- पक्षीयों में कौवा नीच है. पशुओ में कुत्ता नीच है. जो तपस्वी पाप करता है वह घिनौना है. लेकिन जो दूसरों की निंदा करता है वह सबसे बड़ा चांडाल है.
3- राख से घिसने पर पीतल चमकता है . ताम्बा इमली से साफ़ होता है. औरते प्रदर से शुद्ध होती है. नदी बहती रहे तो साफ़ रहती है.
4- राजा, ब्राह्मण और तपस्वी योगी जब दूसरे देश जाते है, तो आदर पाते है. लेकिन औरत यदि भटक जाती है तो बर्बाद हो जाती है.
5- धनवान व्यक्ति के कई मित्र होते है. उसके कई सम्बन्धी भी होते है. धनवान को ही आदमी कहा जाता है और पैसेवालों को ही पंडित कह कर नवाजा जाता है.

6- सर्व शक्तिमान के इच्छा से ही बुद्धि काम करती है, वही कर्मों को नियंत्रित करता है. उसी की इच्छा से आस पास में मदद करने वाले आ जाते है.
7- काल सभी जीवों को निपुणता प्रदान करता है. वही सभी जीवों का संहार भी करता है. वह जागता रहता है जब सब सो जाते है. काल को कोई जीत नहीं सकता.
8- जो जन्म से अंध है वह देख नहीं सकते. उसी तरह जो वासना के अधीन है वह भी देख नहीं सकते. अहंकारी व्यक्ति को कभी ऐसा नहीं लगता की वह कुछ बुरा कर रहा है. और जो पैसे के पीछे पड़े है उनको उनके कर्मों में कोई पाप दिखाई नहीं देता.
9- जीवात्मा अपने कर्म के मार्ग से जाता है. और जो भी भले बुरे परिणाम कर्मों के आते है उन्हें भोगता है. अपने ही कर्मों से वह संसार में बँधता है और अपने ही कर्मों से बन्धनों से छूटता है.
10- राजा को उसके नागरिकों के पाप लगते है. राजा के यहाँ काम करने वाले पुजारी को राजा के पाप लगते है. पति को पत्नी के पाप लगते है. गुरु को उसके शिष्यों के पाप लगते है.

11- अपने ही घर में व्यक्ति के ये शत्रु हो सकते है-
उसका बाप यदि वह हरदम कर्ज में डूबा रहता है.
उसकी माँ यदि वह दूसरे पुरुष से संग करती है.
सुन्दर पत्नी.
वह लड़का जिसने शिक्षा प्राप्त नहीं की.
12- एक लालची आदमी को भेट वास्तु दे कर संतुष्ट करे. एक कठोर आदमी को हाथ जोड़ कर संतुष्ट करे. एक मूर्ख को सम्मान देकर संतुष्ट करे. एक विद्वान् आदमी को सच बोल कर संतुष्ट करे.
13- एक बेकार राज्य का राजा होने से यह बेहतर है की व्यक्ति किसी राज्य का राजा ना हो.
एक पापी का मित्र होने से बेहतर है की बिना मित्र का हो.
एक मूर्ख का गुरु होने से बेहतर है की बिना शिष्य वाला हो.
एक बुरी पत्नी होने से बेहतर है की बिना पत्नी वाला हो.
14- एक बेकार राज्य में लोग सुखी कैसे हो? एक पापी से किसी शास्ति की प्राप्ति कैसे हो? एक बुरी पत्नी के साथ घर में कौन सा सुख प्राप्त हो सकता है. एक नालायक शिष्य को शिक्षा देकर कैसे कीर्ति प्राप्त हो?
15- शेर से एक बात सीखे. बगुले से एक. मुर्ग़े से चार. कौवे से पाच. कुत्ते से छह. और गधे से तीन.

16- शेर से यह बढ़िया बात सीखे की आप जो भी करना चाहते हो एकदिली से और जबरदस्त प्रयास से करे.
17- बुद्धिमान व्यक्ति अपने इन्द्रियों को बगुले की तरह वश में करते हुए अपने लक्ष्य को जगह, समय और योग्यता का पूरा ध्यान रखते हुए पूर्ण करे.
18- मुर्ग़े से हे चार बातें सीखे-
१. सही समय पर उठे. २. निडर बने और लड़े. ३. संपत्ति का रिश्तेदारों से उचित बटवारा करे. ४. अपने कष्ट से अपना रोजगार प्राप्त करे.
19- कौवे से ये पाच बातें सीखे- १. अपनी पत्नी के साथ एकांत में प्रणय करे. २. निडरता ३. उपयोगी वस्तुओ का संचय करे. ४. सभी ओर दृष्टि घुमाये. ५. दूसरों पर आसानी से विश्वास ना करे.
20- कुत्ते से ये बातें सीखे १. बहुत भूख हो पर खाने को कुछ ना मिले या कम मिले तो भी संतोष करे. २. गाढ़ी नींद में हो तो भी क्षण में उठ जाए. ३. अपने स्वामी के प्रति बेहिचक ईमानदारी रखे ४. निडरता.
21- गधे से ये तीन बातें सीखे. १. अपना बोझा ढोना ना छोड़ने. २. सर्दी गर्मी की चिंता ना करे. ३. सदा संतुष्ट रहे.
22- जो व्यक्ति इन बीस गुणों पर अमल करेगा वह जो भी करेगा सफल होगा.

चाणक्य नीति के सभी अध्याय यहां पढ़ें

  1. चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
  2. चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
  3. चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
  4. चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
  5. चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
  6. चाणक्य नीति अध्याय 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
  7. चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
  8. चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
  9. चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
  10. चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
  11. चाणक्य नीति अध्याय 11, चाणक्य नीति ग्यारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Gyarah, Chanakya Niti Gyarahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 11 In Hindi
  12. चाणक्य नीति अध्याय 12, चाणक्य नीति बारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Baarah, Chanakya Niti Barahwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 12 In Hindi
  13. चाणक्य नीति अध्याय 13, चाणक्य नीति तेरहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Terah, Chanakya Niti Terwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi
  14. चाणक्य नीति अध्याय 14, चाणक्य नीति चौदहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Chaudah, Chanakya Niti Chaudahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 14 In Hindi
  15. चाणक्य नीति अध्याय 15, चाणक्य नीति पन्द्रहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Pandrah, Chanakya Niti Pandrahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 15 In Hindi
  16. चाणक्य नीति अध्याय 16, चाणक्य नीति सोलहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Solah, Chanakya Niti Solahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 16 In Hindi
  17. चाणक्य नीति अध्याय 17, चाणक्य नीति सतरहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Satrah, Chanakya Niti Satrahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 17 In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय छ: 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi, Chanakya Neeti Sixth Chapter, Chanakya Niti Chhatha Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर छ:, चाणक्य नीति षष्ठी अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

Chanakya Niti

चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi, Chanakya Neeti Seventh Chapter, Chanakya Niti Saatwa Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर सात, चाणक्य नीति सप्तमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi, Chanakya Neeti Seventh Chapter, Chanakya Niti Saatwa Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर सात, चाणक्य नीति सप्तमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 7, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्वविख्‍यात और मौर्य साम्राज्य के संस्थापक आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया. आज हम आपके लिए “चाणक्य नीति” के सभी सत्रह अध्याय लेकर आए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि “चाणक्य नीति” आचार्य चाणक्य की नीतियों का अद्भुत संग्रह है, जो आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना वह दो हजार चार सौ साल पहले था, जब इसे लिखा गया था.

चाणक्य नीति द्वारा मित्र-भेद से लेकर दुश्मन तक की पहचान, पति-परायण तथा चरित्र हीन स्त्रियों में विभेद, राजा का कर्तव्य और जनता के अधिकारों तथा वर्ण व्यवस्था का उचित निदान हो जाता है. जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि महापंडित आचार्य चाणक्य की ‘चाणक्य नीति’ में कुल सत्रह अध्याय है, इन्हे आप यहां पढ़ सकते हैं. हमने आपकी सुविधा के लिए हर एक अध्याय के नीचे बाकि के बचे सभी अध्याय की लिंक्स भी प्रकाशित कर दी है, ताकि आप एक ही जगह से संपूर्ण चाणक्य नीति का अध्ययन कर सके.

चाणक्य नीति सातवाँ अध्याय, Chanakya Niti Chapter 7
1- एक बुद्धिमान व्यक्ति को निम्नलिखित बातें किसी को नहीं बतानी चाहिए-
१. की उसकी दौलत खो चुकी है.
२. उसे क्रोध आ गया है.
३. उसकी पत्नी ने जो गलत व्यवहार किया.
४. लोगों ने उसे जो गालियां दी.
५. वह किस प्रकार बेइज्जत हुआ है.
2- जो व्यक्ति आर्थिक व्यवहार करने में, ज्ञान अर्जन करने में, खाने में और काम-धंधा करने में शर्माता नहीं है वह सुखी हो जाता है.
3- जो सुख और शांति का अनुभव स्वरूप ज्ञान को प्राप्त करने से होता है, वैसा अनुभव जो लोभी लोग धन के लोभ में यहाँ वहाँ भटकते रहते है उन्हें नहीं होता.
4- व्यक्ति नीचे दी हुए ३ चीजों से संतुष्ट रहे-
१. खुद की पत्नी २. वह भोजन जो विधाता ने प्रदान किया. ३. उतना धन जितना ईमानदारी से मिल गया.
लेकिन व्यक्ति को नीचे दी हुई ३ चीजों से संतुष्ट नहीं होना चाहिए-
१. अभ्यास २. भगवान का नाम स्मरण. ३. परोपकार
5- इन दोनों के मध्य से कभी ना जाए-
१. दो ब्राह्मण.
२. ब्राह्मण और उसके यज्ञ में जलने वाली अग्नि.
३. पति पत्नी.
४. स्वामी और उसका चाकर.
५. हल और बैल.

6- अपना पैर कभी भी इनसे न छूने दे- १. अग्नि २. अध्यात्मिक गुरु ३. ब्राह्मण ४. गाय ५. एक कुमारिका ६. एक उम्र में बड़ा आदमी. ५. एक बच्चा.
7- हाथी से हजार गज की दुरी रखे.
घोड़े से सौ की.
सींग वाले जानवर से दस की.
लेकिन दुष्ट जहाँ हो उस जगह से ही निकल जाए.
8- हाथी को अंकुश से नियंत्रित करे.
घोड़े को थपथपा के.
सींग वाले जानवर को डंडा दिखा के.
एक बदमाश को तलवार से.
9- ब्राह्मण अच्छे भोजन से तृप्त होते है. मोर मेघ गर्जना से. साधु दूसरों की सम्पन्नता देखकर और दुष्ट दूसरों की विपदा देखकर.
10- एक शक्तिशाली आदमी से उसकी बात मान कर समझौता करे. एक दुष्ट का प्रतिकार करे. और जिनकी शक्ति आपकी शक्ति के बराबर है उनसे समझौता विनम्रता से या कठोरता से करे.

11- एक राजा की शक्ति उसकी शक्तिशाली भुजाओं में है. एक ब्राह्मण की शक्ति उसके स्वरूप ज्ञान में है. एक स्त्री की शक्ति उसकी सुन्दरता, तारुण्य और मीठे वचनों में है.
12- अपने व्यवहार में बहुत सीधे ना रहे. आप यदि वन जाकर देखते है तो पायेंगे की जो पेड़ सीधे उगते है उन्हें काट लिया गया और जो पेड़ आड़े तिरछे है वह खड़े है.
13- हंस वहाँ रहते है जहाँ पानी होता है. पानी सूखने पर वे उस जगह को छोड़ देते है. आप किसी आदमी को ऐसा व्यवहार ना करने दे की वह आपके पास आता जाता रहे.
14- संचित धन खर्च करने से बढ़ता है. उसी प्रकार जैसे ताजा जल जो अभी आया है बचता है, यदि पुराने स्थिर जल को निकल बहार किया जाये.
15- वह व्यक्ति जिसके पास धन है उसके पास मित्र और सम्बन्धी भी बहुत रहते है. वही इस दुनिया में टिक पाता है और उसी को इज्जत मिलती है.

16- स्वर्ग में निवास करने वाले देवता लोगों में और धरती पर निवास करने वाले लोगों में कुछ साम्य पाया जाता है. उनके समान गुण है १. परोपकार २. मीठे वचन ३. भगवान की आराधना. ४. ब्राह्मणों के ज़रूरतों की पूर्ति.
17- नरक में निवास करने वाले और धरती पर निवास करने वालों में साम्यता – १. अत्यधिक क्रोध २. कठोर वचन ३. अपने ही संबंधियों से शत्रुता ४. नीच लोगों से मैत्री ५. हीन हरकतें करने वालों की चाकरी.
18- यदि आप शेर की गुफा में जाते हो तो आप को हाथी के माथे का मणि मिल सकता है. लेकिन यदि आप लोमड़ी जहाँ रहती है वहाँ जाते हो तो बछड़े की पूछ या गधे की हड्डी के अलावा कुछ नहीं मिलेगा.
19- एक अनपढ़ आदमी की जिंदगी किसी कुत्ते की पूछ की तरह बेकार है. उससे ना उसकी इज्जत ही ढकती है और ना ही कीड़े मक्खियों को भगानें के काम आती है.
20- यदि आप दिव्यता चाहते है तो आपके वाचा, मन और इन्द्रियों में शुद्धता होनी चाहिए. उसी प्रकार आपके ह्रदय में करुणा होनी चाहिए.
21- जिस प्रकार एक फूल में खुशबू है. तिल में तेल है. लकड़ी में अग्नि है. दूध में घी है. गन्ने में गुड़ है. उसी प्रकार यदि आप ठीक से देखते हो तो हर व्यक्ति में परमात्मा है.

चाणक्य नीति के सभी अध्याय यहां पढ़ें

  1. चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
  2. चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
  3. चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
  4. चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
  5. चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
  6. चाणक्य नीति अध्याय 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
  7. चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
  8. चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
  9. चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
  10. चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
  11. चाणक्य नीति अध्याय 11, चाणक्य नीति ग्यारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Gyarah, Chanakya Niti Gyarahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 11 In Hindi
  12. चाणक्य नीति अध्याय 12, चाणक्य नीति बारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Baarah, Chanakya Niti Barahwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 12 In Hindi
  13. चाणक्य नीति अध्याय 13, चाणक्य नीति तेरहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Terah, Chanakya Niti Terwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi
  14. चाणक्य नीति अध्याय 14, चाणक्य नीति चौदहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Chaudah, Chanakya Niti Chaudahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 14 In Hindi
  15. चाणक्य नीति अध्याय 15, चाणक्य नीति पन्द्रहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Pandrah, Chanakya Niti Pandrahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 15 In Hindi
  16. चाणक्य नीति अध्याय 16, चाणक्य नीति सोलहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Solah, Chanakya Niti Solahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 16 In Hindi
  17. चाणक्य नीति अध्याय 17, चाणक्य नीति सतरहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Satrah, Chanakya Niti Satrahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 17 In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi, Chanakya Neeti Seventh Chapter, Chanakya Niti Saatwa Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर सात, चाणक्य नीति सप्तमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

Chanakya Niti

चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi, Chanakya Neeti Eighth Chapter, Chanakya Niti Aathvan Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर आठ, चाणक्य नीति अष्टमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi, Chanakya Neeti Eighth Chapter, Chanakya Niti Aathvan Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर आठ, चाणक्य नीति अष्टमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 8, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्वविख्‍यात और मौर्य साम्राज्य के संस्थापक आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया. आज हम आपके लिए “चाणक्य नीति” के सभी सत्रह अध्याय लेकर आए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि “चाणक्य नीति” आचार्य चाणक्य की नीतियों का अद्भुत संग्रह है, जो आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना वह दो हजार चार सौ साल पहले था, जब इसे लिखा गया था.

चाणक्य नीति द्वारा मित्र-भेद से लेकर दुश्मन तक की पहचान, पति-परायण तथा चरित्र हीन स्त्रियों में विभेद, राजा का कर्तव्य और जनता के अधिकारों तथा वर्ण व्यवस्था का उचित निदान हो जाता है. जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि महापंडित आचार्य चाणक्य की ‘चाणक्य नीति’ में कुल सत्रह अध्याय है, इन्हे आप यहां पढ़ सकते हैं. हमने आपकी सुविधा के लिए हर एक अध्याय के नीचे बाकि के बचे सभी अध्याय की लिंक्स भी प्रकाशित कर दी है, ताकि आप एक ही जगह से संपूर्ण चाणक्य नीति का अध्ययन कर सके.

चाणक्य नीति आठवाँ अध्याय, Chanakya Niti Chapter 8
strong>1-
नीच वर्ग के लोग दौलत चाहते है, मध्यम वर्ग के दौलत और इज्जत, लेकिन उच्च वर्ग के लोग सम्मान चाहते है क्यों की सम्मान ही उच्च लोगों की असली दौलत है.
2- दीपक अँधेरे का भक्षण करता है इसीलिए काला धुआँ बनाता है. इसी प्रकार हम जिस प्रकार का अन्न खाते है. माने सात्विक, राजसिक, तामसिक उसी प्रकार के विचार उत्पन्न करते है.
3- हे विद्वान् पुरुष ! अपनी संपत्ति केवल योग्य पात्र को ही दे और दूसरों को कभी ना दे. जो जल बादल को समुद्र देता है वह बड़ा मीठा होता है. बादल वर्षा करके वह जल पृथ्वी के सभी चल अचल जीव को देता है और फिर उसे समुद्र को लौटा देता है.
4- विद्वान् लोग जो तत्त्व को जानने वाले है उन्होंने कहा है की मास खाने वाले चांडालों से हजार गुना नीच है. इसलिए ऐसे आदमी से नीच कोई नहीं.

5- शरीर पर मालिश करने के बाद, स्मशान में चिता का धुआँ शरीर पर आने के बाद, सम्भोग करने के बाद, दाढ़ी बनाने के बाद जब तक आदमी नहा ना ले वह चांडाल रहता है.
6- जल अपच की दवा है. जल चैतन्य निर्माण करता है, यदि उसे भोजन पच जाने के बाद पीते है. पानी को भोजन के बाद तुरंत पीना विष पीने के समान है.
7- यदि ज्ञान को उपयोग में ना लाया जाए तो वह खो जाता है. आदमी यदि अज्ञानी है तो खो जाता है. सेनापति के बिना सेना खो जाती है. पति के बिना पत्नी खो जाती है.
8- वह आदमी अभागा है जो अपने बुढ़ापे में पत्नी की मृत्यु देखता है. वह भी अभागा है जो अपनी सम्पदा संबंधियों को सौंप देता है. वह भी अभागा है जो खाने के लिए दूसरों पर निर्भर है.
9- यह बातें बेकार है. वेद मंत्रो का उच्चारण करना लेकिन निहित यज्ञ कर्मों को ना करना. यज्ञ करना लेकिन बाद में लोगों को दान दे कर तृप्त ना करना. पूर्णता तो भक्ति से ही आती है. भक्ति ही सभी सफलताओ का मूल है.

10- एक संयमित मन के समान कोई तप नहीं. संतोष के समान कोई सुख नहीं. लोभ के समान कोई रोग नहीं. दया के समान कोई गुण नहीं.
11- क्रोध साक्षात् यम है. तृष्णा नरक की और ले जाने वाली वैतरणी है. ज्ञान कामधेनु है. संतोष ही तो नंदनवन है.
12- नीति की उत्तमता ही व्यक्ति के सौंदर्य का गहना है. उत्तम आचरण से व्यक्ति उत्तरोत्तर ऊँचे लोक में जाता है. सफलता ही विद्या का आभूषण है. उचित विनियोग ही संपत्ति का गहना है.
13- नीति भ्रष्ट होने से सुन्दरता का नाश होता है. हीन आचरण से अच्छे कुल का नाश होता है. पूर्णता न आने से विद्या का नाश होता है. उचित विनियोग के बिना धन का नाश होता है.
14- जो जल धरती में समां गया वह शुद्ध है. परिवार को समर्पित पत्नी शुद्ध है. लोगों का कल्याण करने वाला राजा शुद्ध है. वह ब्राह्मण शुद्ध है जो संतुष्ट है.
15- असंतुष्ट ब्राह्मण, संतुष्ट राजा, लज्जा रखने वाली वेश्या, कठोर आचरण करने वाली गृहिणी ये सभी लोग विनाश को प्राप्त होते है.

16- क्या करना उचे कुल का यदि बुद्धिमत्ता ना हो. एक नीच कुल में उत्पन्न होने वाले विद्वान् व्यक्ति का सम्मान देवता भी करते है.
17- विद्वान् व्यक्ति लोगों से सम्मान पाता है. विद्वान् उसकी विद्वत्ता के लिए हर जगह सम्मान पाता है. यह बिलकुल सच है की विद्या हर जगह सम्मानित है.
18- जो लोग दिखने में सुन्दर है, जवान है, ऊँचे कुल में पैदा हुए है, वह बेकार है यदि उनके पास विद्या नहीं है. वह तो पलाश के फूल के समान है जो दिखते तो अच्छे है पर महकते नहीं.
19- यह धरती उन लोगों के भार से दबी जा रही है, जो मास खाते है, दारू पीते है, बेवकूफ है, वे सब तो आदमी होते हुए पशु ही है.
20- उस यज्ञ के समान कोई शत्रु नहीं जिसके उपरांत लोगों को बड़े पैमाने पर भोजन ना कराया जाए. ऐसा यज्ञ राज्यों को ख़तम कर देता है. यदि पुरोहित यज्ञ में ठीक से उच्चारण ना करे तो यज्ञ उसे ख़तम कर देता है. और यदि यजमान लोगों को दान एवं भेटवस्तू ना दे तो वह भी यज्ञ द्वारा ख़तम हो जाता है.

चाणक्य नीति के सभी अध्याय यहां पढ़ें

  1. चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
  2. चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
  3. चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
  4. चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
  5. चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
  6. चाणक्य नीति अध्याय 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
  7. चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
  8. चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
  9. चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
  10. चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
  11. चाणक्य नीति अध्याय 11, चाणक्य नीति ग्यारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Gyarah, Chanakya Niti Gyarahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 11 In Hindi
  12. चाणक्य नीति अध्याय 12, चाणक्य नीति बारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Baarah, Chanakya Niti Barahwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 12 In Hindi
  13. चाणक्य नीति अध्याय 13, चाणक्य नीति तेरहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Terah, Chanakya Niti Terwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi
  14. चाणक्य नीति अध्याय 14, चाणक्य नीति चौदहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Chaudah, Chanakya Niti Chaudahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 14 In Hindi
  15. चाणक्य नीति अध्याय 15, चाणक्य नीति पन्द्रहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Pandrah, Chanakya Niti Pandrahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 15 In Hindi
  16. चाणक्य नीति अध्याय 16, चाणक्य नीति सोलहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Solah, Chanakya Niti Solahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 16 In Hindi
  17. चाणक्य नीति अध्याय 17, चाणक्य नीति सतरहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Satrah, Chanakya Niti Satrahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 17 In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi, Chanakya Neeti Eighth Chapter, Chanakya Niti Aathvan Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर आठ, चाणक्य नीति अष्टमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

Chanakya Niti

चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi, Chanakya Neeti Ninth Chapter, Chanakya Niti Nauvaan Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर नौ, चाणक्य नीति नवमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi, Chanakya Neeti Ninth Chapter, Chanakya Niti Nauvaan Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर नौ, चाणक्य नीति नवमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 9, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्वविख्‍यात और मौर्य साम्राज्य के संस्थापक आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया. आज हम आपके लिए “चाणक्य नीति” के सभी सत्रह अध्याय लेकर आए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि “चाणक्य नीति” आचार्य चाणक्य की नीतियों का अद्भुत संग्रह है, जो आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना वह दो हजार चार सौ साल पहले था, जब इसे लिखा गया था.

चाणक्य नीति द्वारा मित्र-भेद से लेकर दुश्मन तक की पहचान, पति-परायण तथा चरित्र हीन स्त्रियों में विभेद, राजा का कर्तव्य और जनता के अधिकारों तथा वर्ण व्यवस्था का उचित निदान हो जाता है. जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि महापंडित आचार्य चाणक्य की ‘चाणक्य नीति’ में कुल सत्रह अध्याय है, इन्हे आप यहां पढ़ सकते हैं. हमने आपकी सुविधा के लिए हर एक अध्याय के नीचे बाकि के बचे सभी अध्याय की लिंक्स भी प्रकाशित कर दी है, ताकि आप एक ही जगह से संपूर्ण चाणक्य नीति का अध्ययन कर सके.

चाणक्य नीति नवाँ अध्याय, Chanakya Niti Chapter 9
1- तात, यदि तुम जन्म मरण के चक्र से मुक्त होना चाहते हो तो जिन विषयों के पीछे तुम इन्द्रियों की संतुष्टि के लिए भागते फिरते हो उन्हें ऐसे त्याग दो जैसे तुम विष को त्याग देते हो. इन सब को छोड़कर हे तात तितिक्षा, ईमानदारी का आचरण, दया, शुचिता और सत्य इसका अमृत पियो.
2- वह कमीने लोग जो दूसरों की गुप्त खामियों को उजागर करते हुए फिरते है, उसी तरह नष्ट हो जाते है जिस तरह कोई साँप चीटियों के टीलों में जा कर मर जाता है.
3- शायद किसी ने ब्रह्मा जी, जो इस सृष्टि के निर्माता है, को यह सलाह नहीं दी की वह-
सुवर्ण को सुगंध प्रदान करे.
गन्ने के झाड़ को फल प्रदान करे.
चन्दन के वृक्ष को फूल प्रदान करे.
विद्वान् को धन प्रदान करे.
राजा को लम्बी आयु प्रदान करे.
4- अमृत सबसे बढ़िया औषधि है.
इन्द्रिय सुख में अच्छा भोजन सर्वश्रेष्ठ सुख है.
नेत्र सभी इन्द्रियों में श्रेष्ठ है.
मस्तक शरीर के सभी भागों में श्रेष्ठ है.
5- कोई संदेशवाहक आकाश में जा नहीं सकता और आकाश से कोई खबर आ नहीं सकती. वहाँ रहने वाले लोगों की आवाज सुनाई नहीं देती. और उनके साथ कोई संपर्क नहीं हो सकता. इसीलिए वह ब्राह्मण जो सूर्य और चन्द्र ग्रहण की भविष्य वाणी करता है, उसे विद्वान मानना चाहिए.
6- इन सातो को जगा दे यदि ये सो जाए-
१. विद्यार्थी २. सेवक ३. पथिक ४. भूखा आदमी ५. डरा हुआ आदमी ६. खजाने का रक्षक ७. खजांची

7- इन सातो को नींद से नहीं जगाना चाहिए-
१. साँप २. राजा ३. बाघ ४. डंक करने वाला कीड़ा ५. छोटा बच्चा ६. दूसरों का कुत्ता ७. मूर्ख
8- जिन्होंने वेदों का अध्ययन पैसा कमाने के लिए किया और जो नीच काम करने वाले लोगों का दिया हुआ अन्न खाते है उनके पास कौनसी शक्ति हो सकती है. वह ऐसे भुजंगों के समान है जो दंश नहीं कर सकते.
9- जिसके डांटने से सामने वाले के मन में डर नहीं पैदा होता और प्रसन्न होने के बाद जो सामने वाले को कुछ देता नहीं है. वह ना किसी की रक्षा कर सकता है ना किसी को नियंत्रित कर सकता है. ऐसा आदमी भला क्या कर सकता है.
10- यदि नाग अपना फना खड़ा करे तो भले ही वह जहरीला ना हो तो भी उसका यह करना सामने वाले के मन में डर पैदा करने को पर्याप्त है. यहाँ यह बात कोई मानना नहीं रखती की वह जहरीला है की नहीं.
11- सुबह उठ कर दिन भर जो दाव आप लगाने वाले है उसके बारे में सोचे. दोपहर को अपनी माँ को याद करे. रात को चोरों को ना भूले.
12- आपको इन्द्र के समान वैभव प्राप्त होगा यदि आप..
अपने भगवान के गले की माला अपने हाथों से बनाये.
अपने भगवान के लिए चन्दन अपने हाथों से घिसे.
अपने हाथों से पवित्र ग्रंथों को लिखे.
13- गरीबी पर धैर्य से मात करे. पुराने वस्त्रों को स्वच्छ रखे. बासी अन्न को गरम करे. अपनी कुरूपता पर अपने अच्छे व्यवहार से मात करे.

चाणक्य नीति के सभी अध्याय यहां पढ़ें

  1. चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
  2. चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
  3. चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
  4. चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
  5. चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
  6. चाणक्य नीति अध्याय 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
  7. चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
  8. चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
  9. चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
  10. चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
  11. चाणक्य नीति अध्याय 11, चाणक्य नीति ग्यारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Gyarah, Chanakya Niti Gyarahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 11 In Hindi
  12. चाणक्य नीति अध्याय 12, चाणक्य नीति बारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Baarah, Chanakya Niti Barahwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 12 In Hindi
  13. चाणक्य नीति अध्याय 13, चाणक्य नीति तेरहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Terah, Chanakya Niti Terwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi
  14. चाणक्य नीति अध्याय 14, चाणक्य नीति चौदहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Chaudah, Chanakya Niti Chaudahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 14 In Hindi
  15. चाणक्य नीति अध्याय 15, चाणक्य नीति पन्द्रहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Pandrah, Chanakya Niti Pandrahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 15 In Hindi
  16. चाणक्य नीति अध्याय 16, चाणक्य नीति सोलहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Solah, Chanakya Niti Solahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 16 In Hindi
  17. चाणक्य नीति अध्याय 17, चाणक्य नीति सतरहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Satrah, Chanakya Niti Satrahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 17 In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi, Chanakya Neeti Ninth Chapter, Chanakya Niti Nauvaan Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर नौ, चाणक्य नीति नवमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

Chanakya Niti

चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, दसवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi, Chanakya Neeti Tenth Chapter, Chanakya Niti Dasvan Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर दस, चाणक्य नीति दशमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, दसवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi, Chanakya Neeti Tenth Chapter, Chanakya Niti Dasvan Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर दस, चाणक्य नीति दशमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 10, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्वविख्‍यात और मौर्य साम्राज्य के संस्थापक आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता, बुद्धिमता और क्षमता के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया। आज हम आपके लिए “चाणक्य नीति” के सभी सत्रह अध्याय लेकर आए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि “चाणक्य नीति” आचार्य चाणक्य की नीतियों का अद्भुत संग्रह है, जो आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना वह दो हजार चार सौ साल पहले था, जब इसे लिखा गया था ।

चाणक्य नीति द्वारा मित्र-भेद से लेकर दुश्मन तक की पहचान, पति-परायण तथा चरित्र हीन स्त्रियों में विभेद, राजा का कर्तव्य और जनता के अधिकारों तथा वर्ण व्यवस्था का उचित निदान हो जाता है। जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि महापंडित आचार्य चाणक्य की ‘चाणक्य नीति’ में कुल सत्रह अध्याय है, इन्हे आप यहां पढ़ सकते हैं. हमने आपकी सुविधा के लिए हर एक अध्याय के नीचे बाकि के बचे सभी अध्याय की लिंक्स भी प्रकाशित कर दी है, ताकि आप एक ही जगह से संपूर्ण चाणक्य नीति का अध्ययन कर सके.

चाणक्य नीति दसवां अध्याय, Chanakya Niti Chapter 10
1- जिसके पास धन नहीं है वह गरीब नहीं है, वह तो असल में रईस है, यदि उसके पास विद्या है. लेकिन जिसके पास विद्या नहीं है वह तो सब प्रकार से निर्धन है.
2- हम अपना हर कदम फूँक-फूँक कर रखे. हम छाना हुआ जल पिए. हम वही बात बोले जो शास्त्र सम्मत है. हम वही काम करे जिसके बारे हम सावधानी पुर्वक सोच चुके है.
3- जिसे अपने इन्द्रियों की तुष्टि चाहिए, वह विद्या अर्जन करने के सभी विचार भूल जाए. और जिसे ज्ञान चाहिए वह अपने इन्द्रियों की तुष्टि भूल जाये. जो इन्द्रिय विषयों में लगा है उसे ज्ञान कैसा, और जिसे ज्ञान है वह व्यर्थ की इन्द्रिय तुष्टि में लगा रहे यह संभव नहीं.
4- वह क्या है जो कवि कल्पना में नहीं आ सकता. वह कौनसी बात है जिसे करने में औरत सक्षम नहीं है. ऐसी कौनसी बकवास है जो दारू पिया हुआ आदमी नहीं करता. ऐसा क्या है जो कौवा नहीं खाता.
5- नियति एक भिखारी को राजा और राजा को भिखारी बनाती है. वह एक अमीर आदमी को गरीब और गरीब को अमीर.

6- भिखारी यह कंजूस आदमी का दुश्मन है. एक अच्छा सलाहकार एक मूर्ख आदमी का शत्रु है.
वह पत्नी जो पर पुरुष में रुचि रखती है, उसके लिए उसका पति ही उसका शत्रु है.
जो चोर रात को काम करने निकलता है, चन्द्रमा ही उसका शत्रु है.
7- जिनके पास यह कुछ नहीं है- १- विद्या, २- तप, ३- ज्ञान, ४- अच्छा स्वभाव, ५- गुण, ६- दया भाव, वह धरती पर मनुष्य के रूप में घूमने वाले पशु है. धरती पर उनका भार है.
8- जिनके भेजे खाली है, वह कोई उपदेश नहीं समझते. यदि बाँस को मलय पर्वत पर उगाया जाये तो भी उसमें चन्दन के गुण नहीं आते.
9- जिसे अपनी कोई अकल नहीं उसकी शास्त्र क्या भलाई करेंगे. एक अंधा आदमी आईने का क्या करेगा.
10- एक बुरा आदमी सुधर नहीं सकता. आप पृष्ठ भाग को चाहे जितना साफ़ करे वह श्रेष्ठ भागों की बराबरी नहीं कर सकता.

11- अपने निकट संबंधियों का अपमान करने से जान जाती है.
दूसरों का अपमान करने से दौलत जाती है.
राजा का अपमान करने से सब कुछ जाता है.
एक ब्राह्मण का अपमान करने से कुल का नाश हो जाता है.
12- यह बेहतर है की आप जंगल में एक झाड़ के नीचे रहे, जहाँ बाघ और हाथी रहते है, उस जगह रहकर आप फल खाए और जलपान करे, आप घास पर सोये और पुराने पेड़ों की खालें पहने. लेकिन आप अपने सगे संबंधियों में ना रहे यदि आप निर्धन हो गए है.
13- ब्राह्मण एक वृक्ष के समान है. उसकी प्रार्थना ही उसका मूल है. वह जो वेदों का गान करता है वही उसकी शाखाएं है. वह जो पुण्य कर्म करता है वही उसके पत्ते है. इसीलिए उसे अपने मूल को बचाना चाहिए. यदि मूल नष्ट हो जाता है तो शाखाएं भी ना रहेगी और पत्ते भी.
14- लक्ष्मी मेरी माता है. विष्णु मेरे पिता है. वैष्णव जन मेरे सगे सम्बन्धी है. तीनों लोक मेरा देश है.
15- रात्रि के समय कितने ही प्रकार के पंछी वृक्ष पर विश्राम करते है. भोर होते ही सब पंछी दसों दिशाओं में उड़ जाते है. हम क्यों भला दुःख करे यदि हमारे अपने हमें छोड़कर चले गए.
16- जिसके पास में विद्या है वह शक्तिशाली है. निर्बुद्धि पुरुष के पास क्या शक्ति हो सकती है? एक छोटा खरगोश भी चतुराई से मदमस्त हाथी को तालाब में गिरा देता है.
17- हे विश्वम्भर तू सब का पालन करता है. मैं मेरे गुज़ारे की क्यों चिंता करुँ जब मेरा मन तेरी महिमा गाने में लगा हुआ है. आपके अनुग्रह के बिना एक माता की छाती से दूध नहीं बह सकता और शिशु का पालन नहीं हो सकता. मैं हरदम यही सोचता हुआ, हे यदु वंशियो के प्रभु, हे लक्ष्मी पति, मेरा पूरा समय आपकी ही चरण सेवा में खर्च करता हू.

चाणक्य नीति के सभी अध्याय यहां पढ़ें

  1. चाणक्य नीति अध्याय 1, चाणक्य नीति पहला भाग, Chanakya Niti Adhyay Ek, Chanakya Niti Pratham Adhyay, Chanakya Niti Chapter 1 In Hindi
  2. चाणक्य नीति अध्याय 2, चाणक्य नीति दूसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Do, Chanakya Niti Dwitiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 2 In Hindi
  3. चाणक्य नीति अध्याय 3, चाणक्य नीति तीसरा भाग, Chanakya Niti Adhyay Teen, Chanakya Niti Tritiya Adhyay, Chanakya Niti Chapter 3 In Hindi
  4. चाणक्य नीति अध्याय 4, चाणक्य नीति चौथा भाग, Chanakya Niti Adhyay Char, Chanakya Niti Chautha Adhyay, Chanakya Niti Chapter 4 In Hindi
  5. चाणक्य नीति अध्याय 5, चाणक्य नीति पांचवा भाग, Chanakya Niti Adhyay Paanch, Chanakya Niti Panchwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 5 In Hindi
  6. चाणक्य नीति अध्याय 6, चाणक्य नीति छठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Chah, Chanakya Niti Chhatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 6 In Hindi
  7. चाणक्य नीति अध्याय 7, चाणक्य नीति सातवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Saat, Chanakya Niti Saatwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 7 In Hindi
  8. चाणक्य नीति अध्याय 8, चाणक्य नीति आठवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Aath, Chanakya Niti Aathvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 8 In Hindi
  9. चाणक्य नीति अध्याय 9, चाणक्य नीति नौवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Nau, Chanakya Niti Nauvaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 9 In Hindi
  10. चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi
  11. चाणक्य नीति अध्याय 11, चाणक्य नीति ग्यारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Gyarah, Chanakya Niti Gyarahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 11 In Hindi
  12. चाणक्य नीति अध्याय 12, चाणक्य नीति बारहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Baarah, Chanakya Niti Barahwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 12 In Hindi
  13. चाणक्य नीति अध्याय 13, चाणक्य नीति तेरहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Terah, Chanakya Niti Terwa Adhyay, Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi
  14. चाणक्य नीति अध्याय 14, चाणक्य नीति चौदहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Chaudah, Chanakya Niti Chaudahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 14 In Hindi
  15. चाणक्य नीति अध्याय 15, चाणक्य नीति पन्द्रहवां भाग, Chanakya Niti Adhyay Pandrah, Chanakya Niti Pandrahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 15 In Hindi
  16. चाणक्य नीति अध्याय 16, चाणक्य नीति सोलहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Solah, Chanakya Niti Solahva Adhyay, Chanakya Niti Chapter 16 In Hindi
  17. चाणक्य नीति अध्याय 17, चाणक्य नीति सतरहवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Satrah, Chanakya Niti Satrahavaan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 17 In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 10, चाणक्य नीति दसवां भाग, दसवाँ भाग, Chanakya Niti Adhyay Dus, Chanakya Niti Dasvan Adhyay, Chanakya Niti Chapter 10 In Hindi, Chanakya Neeti Tenth Chapter, Chanakya Niti Dasvan Bhag, चाणक्य नीति चैप्टर दस, चाणक्य नीति दशमम् अध्याय, सम्पूर्ण आचार्य चाणक्य नीति हिंदी में, Sampurna Chanakya Neeti, Chanakya Niti In Hindi