Hindi Story Bani Thani Monalisa of Rajasthan

बनी ठनी, बनी ठनी की कहानी, बणी ठणी राजस्थान की मोनालिसा, बानी थानी, राजस्थान की मोनालिसा, Bani Thani Rajasthan Ki Monalisa, बनी ठनी का चित्र, Hindi Story Bani Thani Monalisa of Rajasthan, Bani Thani, Bani Thani in Hindi, Bani Thani Kaun Thi, बनी ठनी कौन थी, बणी ठणी का इतिहास

बनी ठनी, बनी ठनी की कहानी, बणी ठणी राजस्थान की मोनालिसा, बानी थानी, राजस्थान की मोनालिसा, Bani Thani Rajasthan Ki Monalisa, बनी ठनी का चित्र, Hindi Story Bani Thani Monalisa of Rajasthan, Bani Thani, Bani Thani in Hindi, Bani Thani Kaun Thi, बनी ठनी कौन थी, बणी ठणी का इतिहास

बणी ठणी राजस्थान की मोनालिसा, Bani Thani Rajasthan Ki Monalisa
राजस्थान के इतिहास में राजा-रानियों आदि ने ही नहीं बल्कि तत्कालीन शाही परिवारों की दासियों ने भी अपने अच्छे बुरे कार्यों से प्रसिद्धि पायी है।

जयपुर की एक दासी रूपा ने राज्य के तत्कालीन राजनैतिक झगडों में अपने कुटिल षड्यंत्रों के जरिये राजद्रोह जैसे घिनोने, लज्जाजनक और निम्नकोटि के कार्य कर इतिहास में कुख्याति अर्जित की तो उदयपुर की एक दासी रामप्यारी ने मेवाड़ राज्य के कई तत्कालीन राजनैतिक संकट निपटाकर अपनी राज्य भक्ति, सूझ-बुझ व होशियारी का परिचय दिया और मेवाड़ के इतिहास में अपना नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखवाने में सफल रही। पूर्व रियासत जोधपुर राज्य की एक दासी भारमली भी अपने रूप और सौंदर्य के चलते इतिहास में चर्चित और प्रसिद्ध है। (Hindi Story Bani Thani Monalisa of Rajasthan)

बणी-ठणी भी राजस्थान के किशनगढ़ रियासत के तत्कालीन राजा सावंत सिंह की दासी व प्रेमिका थी। राजा सावंत सिंह सौंदर्य व कला की कद्र करने वाले थे वे खुद बड़े अच्छे कवि व चित्रकार थे। उनके शासन काल में बहुत से कलाकारों को आश्रय दिया गया।

बणी-ठणी भी सौंदर्य की अदभुत मिशाल होने के साथ ही उच्च कोटि की कवयित्री थी। ऐसे में कला और सौंदर्य की कद्र करने वाले राजा का अनुग्रह व अनुराग इस दासी के प्रति बढ़ता गया। राजा सावंतसिंह व यह गायिका दासी दोनों कृष्ण भक्त थे। राजा की अपनी और आसक्ति देख दासी ने भी राजा को कृष्ण व खुद को मीरां मानते हुए राजा के आगे अपने आपको पुरे मनोयोग से पूर्ण रूप से समर्पित कर दिया।

उनकी आसक्ति जानने वाली प्रजा ने भी उनके भीतर कृष्ण-राधा की छवि देखी और दोनों को कई अलंकरणों से नवाजा जैसे- राजा को नागरीदास, चितवन, चितेरे,अनुरागी, मतवाले आदि तो दासी को भी कलावंती, किर्तिनिन, लवलीज, नागर रमणी, उत्सव प्रिया आदि संबोधन मिले वहीं रसिक बिहारी के नाम से वह खुद कविता पहले से ही लिखती थी।

एक बार राजा सावंतसिंह ने जो चित्रकार थे इसी सौंदर्य और रूप की प्रतिमूर्ति दासी को राणियों जैसी पौशाक व आभूषण पहनाकर एकांत में उसका एक चित्र बनाया। और इस चित्र को राजा ने नाम दिया बणी-ठणी । राजस्थानी भाषा के शब्द बणी-ठणी का मतलब होता है सजी-संवरी,सजी-धजी ।राजा ने अपना बनाया यह चित्र राज्य के राज चित्रकार निहालचंद को दिखाया। निहालचंद ने राजा द्वारा बनाए उस चित्र में कुछ संशोधन बताये। (Hindi Story Bani Thani Monalisa of Rajasthan)

संशोधन करने के बाद भी राजा ने वह चित्र सिर्फ चित्रकार के अलावा किसी को नहीं दिखाया। और चित्रकार निहालचंद से वह चित्र अपने सामने वापस बनवाकर उसे अपने दरबार में प्रदर्शित कर सार्वजानिक किया। इस सार्वजनिक किये चित्र में भी बनते समय राजा ने कई संशोधन करवाए व खुद भी संशोधन किये।

इस चित्र की सर्वत्र बहुत प्रसंशा हुई और उसके बाद दासी का नाम बणी-ठणी पड़ गया। सब उसे बणी-ठणी के नाम से ही संबोधित करने लगे। चितेरे राजा के अलावा उनके चित्रकार को भी अपनी चित्रकला के हर विषय में राजा की प्रिय दासी बणी-ठणी ही आदर्श मोडल नजर आने लगी और उसने बणी-ठणी के ढेरों चित्र बनाये। जो बहुत प्रसिद्ध हुए और इस तरह किशनगढ़ की चित्रशैली को बणी-ठणी के नाम से ही जाना जाने लगा। (Hindi Story Bani Thani Monalisa of Rajasthan)

और आज किशनगढ़ कि यह बणी-ठणी चित्रकला शैली पुरे विश्व में प्रसिद्ध है। बणी-ठणी का पहला चित्र तैयार होने का समय संवत 1755-57 है। आज बेशक राजा द्वारा अपनी उस दासी पर आसक्ति व दोनों के बीच प्रेम को लेकर लोग किसी भी तरह की प्रतिक्रिया व्यक्त करे या विश्लेषण करें पर किशनगढ़ के चित्रकारों को के लिए उन दोनों का प्रेम वरदान सिद्ध हुआ है क्योंकि यह विश्व प्रसिद्ध चित्रशैली भी उसी प्रेम की उपज है और इस चित्रशैली की देश-विदेश में अच्छी मांग है।

किशनगढ़ के अलावा भी राजस्थान के बहुतेरे चित्रकार आज भी इस चित्रकला शैली से अच्छा कमा-खा रहें है यह चित्रकला शैली उनकी आजीविका का अच्छा साधन है।
बणी-ठणी सिर्फ रूप और सौंदर्य की प्रतिमा व राजा की प्रेमिका ही नहीं थी वह एक अच्छी गायिका व कवयित्री थी। उसके इस साहित्यक पक्ष पर प्रकाश डालते हुए राजस्थानी भाषा के मूर्धन्य साहित्यकार सौभाग्य सिंह शेखावत लिखते है-

राजकुलीय परिवारों की राणियों महारानियों की भांति ही राजा महाराजाओं के पासवानों, पड़दायतों और रखैलों में कई नारियाँ अच्छी साहित्यकार हुई है। किशनगढ़ के ख्यातिलब्ध साहित्यकार महाराजा सावंतसिंह की पासवान बनीठनी उत्तम कोटि की कवयित्री और भक्त-हृदया नारी थी।

अपने स्वामी नागरीदास (राजा सावंत सिंह) की भांति ही बनीठनी की कविता भी अति मधुर, हृदय स्पर्शी और कृष्ण-भक्ति अनुराग के सरोवर है। वह अपना काव्य नाम रसिक बिहारी रखती थी। रसिक बिहारी का ब्रज, पंजाबी और राजस्थानी भाषाओँ पर सामान अधिकार था। रसीली आँखों के वर्णन का एक पद उदाहरणार्थ प्रस्तुत है-

रतनारी हो थारी आँखड़ियाँ ।
प्रेम छकी रस बस अलसारणी, जाणी कमाल पांखड़ियाँ ।
सुन्दर रूप लुभाई गति मति हो गई ज्यूँ मधु मांखड़ियाँ।
रसिक बिहारी वारी प्यारी कौन बसि निसि कांखड़ियाँ।।

रसिक प्रिया ने श्रीकृष्ण और राधिका के जन्म, कुञ्ज बिहार, रास-क्रीड़ा, होली, साँझ, हिंडोला, पनघट आदि विविध लीला-प्रसंगों का अपने पदों में वर्णन किया है। कृष्ण राधा लीला वैविध की मार्मिक अभिव्यक्ति पदों में प्रस्फुटित हुई है। (Hindi Story Bani Thani Monalisa of Rajasthan)

बनी ठनी, बनी ठनी की कहानी, बणी ठणी राजस्थान की मोनालिसा, बानी थानी, राजस्थान की मोनालिसा, Bani Thani Rajasthan Ki Monalisa, बनी ठनी का चित्र, Hindi Story Bani Thani Monalisa of Rajasthan, Bani Thani, Bani Thani in Hindi, Bani Thani Kaun Thi, बनी ठनी कौन थी, बणी ठणी का इतिहास

ये भी पढ़े –

बीरबल और चोर की कहानी, Birbal Aur Chor Ki Kahani, हिंदी कहानी बीरबल ने चोर को पकड़ा, Birbal Caught the Thief in Hindi, Birbal Aur Chor Ki Kahani

बिल्ली के गले मे घंटी हिंदी कहानी, Billi Ke Gale Me Ghanti Hindi Kahani, बिल्ली की कहानी, कैट की कहानी, बिल्ली चुहे की कहानी, Billi Chuhe Ki Kahani

जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Story In Hindi, जैसे को तैसा कहानी, Jaise Ko Taisa Kahani, जैसे को तैसा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Hindi Story

हिंदी कहानी खरगोश और कछुआ, खरगोश और कछुआ की कहानी हिंदी में लिखी हुई, कछुआ और खरगोश की कहानी, Kachhua Aur Khargosh Ki Kahani Hindi Mein

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

निक नाम, निक नाम फॉर बॉयज, निक नाम फॉर गर्ल्स, Cute Nicknames for Baby Boy Indian, Cute Nicknames for Baby Girl Indian, गर्ल्स निक नाम इन हिंदी, निक नाम लिस्ट

ज्यादा नींद आने के कारण और उपाय, Jyada Nind Kyon Aati Hai, Jyada Neend Aane Ka Karan, ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Neend Aane Ka Reason

बच्चों के नये नाम की लिस्ट , बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम , हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम

Sohni and Mahiwal Love Story in hindi

सोहणी महीवाल, सोहनी महिवाल की कहानी, Sohni Mahiwal, सोहणी और महिवाल की प्रेम कहानी, Sohni Mahiwal Story In Hindi, Soni Mahiwal Ki Kahani, Sohni Mahiwal Ki Kahani, Sohni And Mahiwal Love Story In Hindi, Sohni Mahiwal Real Story In Hindi, Story Of Sohni Mahiwal In Hindi, सोहनी महिवाल स्टोरी, सोनी महिवाल की कहानी

सोहणी महीवाल, सोहनी महिवाल की कहानी, Sohni Mahiwal, सोहणी और महिवाल की प्रेम कहानी, Sohni Mahiwal Story In Hindi, Soni Mahiwal Ki Kahani, Sohni Mahiwal Ki Kahani, Sohni And Mahiwal Love Story In Hindi, Sohni Mahiwal Real Story In Hindi, Story Of Sohni Mahiwal In Hindi, सोहनी महिवाल स्टोरी, सोनी महिवाल की कहानी

सोहनी महिवाल की कहानी, Sohni Mahiwal Ki Kahani
पंजाब की ही धरती पर उगी एक प्रेम कथा है सोहनी-महिवाल की। सिंधु नदी के तट पर रहने वाले कुम्हार तुला की बेटी थी सोहनी। वह कुम्हार द्वारा बनाए गए बर्तनों पर सुंदर चित्रकारी करती थी। Sohni and Mahiwal Love Story in Hindi

उजबेकिस्तान स्थित बुखारा का धनी व्यापारी इज्जत बेग व्यापार के सिलसिले में भारत आया। सोहनी से मिलने पर वह उसके सौंदर्य पर मोहित हो उठा। सोहनी को देखने के लिए वह रोज सोने की मुहरें जेब में भरकर कुम्हार के पास आता और बर्तन खरीदता। सोहनी भी उसकी तरफ आकर्षित हो गई। बाद में इज्जत बेग सोहनी के पिता के घर भैंसों को चराने की नौकरी करने लगा। पंजाब में भैंसों को महियां कहा जाता है इसलिए भैंसों को चराने वाला इज्जत बेग महिवाल कहलाने लगा। दोनों की मुलाकात मोहब्बत में बदल गई।

जब सोहनी की मां को यह बात पता चली तो उन्होंने महिवाल को घर से निकाल दिया। सोहनी की शादी किसी और से कर दी गई। लेकिन महिवाल तो सोहनी के बिना जी नहीं सकता था। इसलिए महिवाल ने अपने खूने-दिल से लिखा खत सोहनी को भिजवा दिया। सोहनी ने जवाब दिया कि मैं तुम्हारी थी और तुम्हारी ही रहूंगी।

सोहनी के प्यार में पागल महिवाल अपना घर, देश भूलकर फकीर हो गया। मगर दोनों प्रेमियों ने मिलना नही छोड़ा। रोज जब रात में सारी दुनिया सोती, सोहनी नदी के उस पार महिवाल का इंतजार करती, जो तैरकर उसके पास आता।

महिवाल बीमार हुआ तो सोहनी एक पक्के घडे की मदद से तैरकर उससे मिलने पहुंचने लगी। सोहनी की ननद ने एक बार उन्हें देख लिया तो उसने पक्के घडे की जगह कच्चा घड़ा रख दिया। सोहनी ने जल्दबाजी में वह कच्चा घड़ा उठाया और महिवाल से मिलने निकल पड़ी।

प्यार में बैचेन सोहनी कच्चे घड़े द्वारा नदी पार करने लगी। घड़ा नदी के बीच में ही टूट गया और सोहनी डूबने लगी। महिवाल उसे बचाने के लिए नदी में कूदा लेकिन वह भी डूब गया। सुबह मछुआरों के जाल में दोनों के जिस्म मिले जो मर कर भी एक हो गए थे। इस तरह यह दुख भरी प्रेम कहानी खत्म हो गई।

ये भी पढ़े –

बीरबल और चोर की कहानी, Birbal Aur Chor Ki Kahani, हिंदी कहानी बीरबल ने चोर को पकड़ा, Birbal Caught the Thief in Hindi, Birbal Aur Chor Ki Kahani

बिल्ली के गले मे घंटी हिंदी कहानी, Billi Ke Gale Me Ghanti Hindi Kahani, बिल्ली की कहानी, कैट की कहानी, बिल्ली चुहे की कहानी, Billi Chuhe Ki Kahani

जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Story In Hindi, जैसे को तैसा कहानी, Jaise Ko Taisa Kahani, जैसे को तैसा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Hindi Story

हिंदी कहानी खरगोश और कछुआ, खरगोश और कछुआ की कहानी हिंदी में लिखी हुई, कछुआ और खरगोश की कहानी, Kachhua Aur Khargosh Ki Kahani Hindi Mein

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

निक नाम, निक नाम फॉर बॉयज, निक नाम फॉर गर्ल्स, Cute Nicknames for Baby Boy Indian, Cute Nicknames for Baby Girl Indian, गर्ल्स निक नाम इन हिंदी, निक नाम लिस्ट

ज्यादा नींद आने के कारण और उपाय, Jyada Nind Kyon Aati Hai, Jyada Neend Aane Ka Karan, ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Neend Aane Ka Reason

बच्चों के नये नाम की लिस्ट , बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम , हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम

Meerabai Love for Krishna hindi story

मीरा का कृष्ण प्रेम, मीराबाई का कृष्ण प्रेम, मीरा की कृष्ण प्रेम कहानी, Meera Krishna Story in Hindi, कृष्ण जी के प्रति मीरा का प्रेम, मीराबाई और कृष्ण जी का प्रेम, Meerabai Love for Krishna in Hindi, मीराबाई की कहानी, Meera Bai Ki Kahani, Meerabai Story in Hindi, Meera Krishna Love Story in Hindi, Story of Meera and Krishna in Hindi, Meera or Krishna Ki Prem Kahani, Mirabai Ki Kahani, Meera Bai Story in Hindi, मीरा ने कृष्ण प्रेम के लिए यह किया

मीरा का कृष्ण प्रेम, मीराबाई का कृष्ण प्रेम, मीरा की कृष्ण प्रेम कहानी, Meera Krishna Story in Hindi, कृष्ण जी के प्रति मीरा का प्रेम, मीराबाई और कृष्ण जी का प्रेम, Meerabai Love for Krishna in Hindi, मीराबाई की कहानी, Meera Bai Ki Kahani, Meerabai Story in Hindi, Meera Krishna Love Story in Hindi, Story of Meera and Krishna in Hindi, Meera or Krishna Ki Prem Kahani, Mirabai Ki Kahani, Meera Bai Story in Hindi, मीरा ने कृष्ण प्रेम के लिए यह किया

मीराबाई के बालमन में कृष्ण की ऐसी छवि बसी थी कि यौवन काल से लेकर मृत्यु तक मीरा बाई ने कृष्ण को ही अपना सब कुछ माना। जोधपुर के राठौड़ रतनसिंह जी की इकलौती पुत्री मीराबाई का जन्म सोलहवीं शताब्दी में हुआ था। बचपन से ही वे कृष्ण-भक्ति में रम गई थीं। मीराबाई का कृष्ण प्रेम बचपन की एक घटना की वजह से अपने चरम पर पहुंचा था। मीराबाई के बचपन में एक दिन उनके पड़ोस में किसी बड़े आदमी के यहां बारात आई थी। सभी स्त्रियां छत से खड़ी होकर बारात देख रही थीं। मीराबाई भी बारात देख रही थीं। Meerabai Love For Krishna Hindi Story

बारात को देख मीरा ने अपनी माता से पूछा कि मेरा दूल्हा कौन है? इस पर मीराबाई की माता ने कृष्ण की मूर्ति के तरफ इशारा करके कह दिया कि वही तुम्हारे दुल्हा हैं। यह बात मीरा बाई के बालमन में एक गांठ की तरह बंध गई। बाद में मीराबाई का विवाह महाराणा सांगा के पुत्र भोजराज से कर दिया गया। इस शादी के लिए पहले तो मीराबाई ने मना कर दिया पर जोर देने पर वह फूट-फूट कर रोने लगीं और विदाई के समय कृष्ण की वही मूर्ति अपने साथ ले गईं जिसे उनकी माता ने उनका दुल्हा बताया था। मीराबाई ने लज्जा और परंपरा को त्याग कर अनूठे प्रेम और भक्ति का परिचय दिया था। Meerabai Love For Krishna Hindi Story

विवाह के दस बरस बाद इनके पति का देहांत हो गया था। पति की मृत्यु के बाद ससुराल में मीराबाई पर कई अत्याचार किए गए। इनके देवर राणा विक्रमजीत को इनके यहां साधु संतों का आना-जाना बुरा लगता था। पति के परलोकवास के बाद इनकी भक्ति दिन प्रति दिन बढ़ती गई। ये मंदिरों में जाकर वहां मौजूद कृष्णभक्तों के सामने कृष्णजी की मूर्ति के आगे नाचती रहती थीं।

कहते हैं मीराबाई के कृष्ण प्रेम को देखते हुए और लोक लज्जा के वजह से मीराबाई के ससुराल वालों ने उन्हें मारने के लिए कई चालें चलीं पर सब विफल रहीं। घर वालों के इस प्रकार के व्यवहार से परेशान होकर वह द्वारका और वृंदावन गईं। मीराबाई जहां जाती थीं, वहां उन्हें लोगों का सम्मान मिलता था। मीराबाई कृष्ण की भक्ति में इतना खो जाती थीं कि भजन गाते-गाते वह नाचने लगती थीं। Meerabai Love For Krishna Hindi Story

मीराबाई ने भक्ति को एक नया आयाम दिया है। एक ऐसा स्थान जहां भगवान ही इंसान का सब कुछ होता है। दुनिया के सभी लोभ उसे मोह से विचलित नहीं कर सकते। एक अच्छा-खासा राजपाट होने के बाद भी मीराबाई वैरागी बनी रहीं। मीराजी की कृष्ण भक्ति एक अनूठी मिसाल रही है।
मेरे तो गिरिधर गोपाल दूसरौ न कोई।
जाके सिर मोर मुकुट मेरो पति सोई।।
छांड़ि दई कुल की कानि कहा करै कोई।
संतन ढिग बैठि बैठि लोक लाज खोई।
अंसुवन जल सींचि सींचि प्रेम बेलि बोई।
दधि मथि घृत काढ़ि लियौ डारि दई छोई।
भगत देखि राजी भइ, जगत देखि रोई।
दासी मीरा लाल गिरिधर तारो अब मोई।

कहा जाता है कि मीराबाई रणछोड़ जी में समा गई थीं। मीराबाई की मृत्यु के विषय में किसी भी तथ्य का स्पष्टीकरण आज तक नहीं हो सका है। Meerabai Love For Krishna Hindi Story

एक ऐसी मान्यता है कि मीराबाई के मन में श्रीकृष्ण के प्रति जो प्रेम की भावना थी, वह जन्म-जन्मांतर का प्रेम था। मान्यतानुसार मीरा पूर्व जन्म में वृंदावन (मथुरा) की एक गोपिका थीं। उन दिनों वह राधा की प्रमुख सहेलियों में से एक हुआ करती थीं और मन ही मन भगवान कृष्ण को प्रेम करती थीं। इनका विवाह एक गोप से कर दिया गया था। विवाह के बाद भी गोपिका का कृष्ण प्रेम समाप्त नहीं हुआ। सास को जब इस बात का पता चला तो उन्हें घर में बंद कर दिया। कृष्ण से मिलने की तड़प में गोपिका ने अपने प्राण त्याग दिए। बाद के समय में जोधपुर के पास मेड़ता गाँव में 1504 ई। में राठौर रतन सिंह के घर गोपिका ने मीरा के रूप में जन्म लिया। मीराबाई ने अपने एक अन्य दोहे में जन्म-जन्मांतर के प्रेम का भी उल्लेख किया है-

आकुल व्याकुल फिरूं रैन दिन, विरह कलेजा खाय॥
दिवस न भूख नींद नहिं रैना, मुख के कथन न आवे बैना॥
कहा करूं कुछ कहत न आवै, मिल कर तपत बुझाय॥
क्यों तरसाओ अतंरजामी, आय मिलो किरपा कर स्वामी। 

मीरा दासी जनम जनम की, परी तुम्हारे पाय॥ मीराबाई के मन में श्रीकृष्ण के प्रति प्रेम की उत्पत्ति से संबंधित एक अन्य कथा भी मिलती है। इस कथानुसार, एक बार एक साधु मीरा के घर पधारे। उस समय मीरा की उम्र लगभग 5-6 साल थी। साधु को मीरा की माँ ने भोजन परोसा। साधु ने अपनी झोली से श्रीकृष्ण की मूर्ति निकाली और पहले उसे भोग लगाया। मीरा माँ के साथ खड़ी होकर इस दृश्य को देख रही थीं। जब मीरा की नज़र श्रीकृष्ण की मूर्ति पर गयी तो उन्हें अपने पूर्व जन्म की सभी बातें याद आ गयीं। इसके बाद से ही मीरा कृष्ण के प्रेम में मग्न हो गयीं। Meerabai Love For Krishna Hindi Story

ये भी पढ़े –

बीरबल और चोर की कहानी, Birbal Aur Chor Ki Kahani, हिंदी कहानी बीरबल ने चोर को पकड़ा, Birbal Caught the Thief in Hindi, Birbal Aur Chor Ki Kahani

बिल्ली के गले मे घंटी हिंदी कहानी, Billi Ke Gale Me Ghanti Hindi Kahani, बिल्ली की कहानी, कैट की कहानी, बिल्ली चुहे की कहानी, Billi Chuhe Ki Kahani

जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Story In Hindi, जैसे को तैसा कहानी, Jaise Ko Taisa Kahani, जैसे को तैसा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Hindi Story

हिंदी कहानी खरगोश और कछुआ, खरगोश और कछुआ की कहानी हिंदी में लिखी हुई, कछुआ और खरगोश की कहानी, Kachhua Aur Khargosh Ki Kahani Hindi Mein

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

निक नाम, निक नाम फॉर बॉयज, निक नाम फॉर गर्ल्स, Cute Nicknames for Baby Boy Indian, Cute Nicknames for Baby Girl Indian, गर्ल्स निक नाम इन हिंदी, निक नाम लिस्ट

ज्यादा नींद आने के कारण और उपाय, Jyada Nind Kyon Aati Hai, Jyada Neend Aane Ka Karan, ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Neend Aane Ka Reason

बच्चों के नये नाम की लिस्ट , बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम , हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम

Rao Maldev and Dasi Bharmali Hindi love story

राजा मालदेव की कथा, राव मालदेव और दासी भारमली, राव मालदेव और दासी भारमली की प्रेम कहानी, राव मालदेव और दासी भारमली लव स्टोरी, Rao Maldev Ki Katha, Rao Maldev Aur Dasi Bharmali Ki Prem Kahani, Dasi Bharmali Aur Rao Maldev, Rao Maldev and Dasi Bharmali Hindi Love Story

राजा मालदेव की कथा, राव मालदेव और दासी भारमली, राव मालदेव और दासी भारमली की प्रेम कहानी, राव मालदेव और दासी भारमली लव स्टोरी, Rao Maldev Ki Katha, Rao Maldev Aur Dasi Bharmali Ki Prem Kahani, Dasi Bharmali Aur Rao Maldev, Rao Maldev and Dasi Bharmali Hindi Love Story

राव मालदेव और दासी भारमली की प्रेम कहानी, Rao Maldev and Dasi Bharmali Hindi Love Story
मेड़ता के राव विरमदेव और राव जयमल के बारे में पढ़ते हुए आपने जोधपुर के शासक राव मालदेव के बारे में जरुर पढ़ा होगा । राव मालदेव अपने समय के राजपुताना के सर्वाधिक शक्तिशाली शासक थे वे बहुत शूरवीर व धनी व्यक्ति थे उन्होंने जोधपुर राज्य की सीमाओं का काफी विस्तार किया था उनकी सेना में राव जैता व कुंपा नामक शूरवीर सेनापति थे ।

यदि मालदेव राव विरमदेव व उनके पुत्र वीर शिरोमणि जयमल से बैर न रखते और जयमल द्वारा प्रस्तावित संधि मान लेते जिसमे राव जयमल ने शान्ति के लिए अपने पैत्रिक टिकाई राज्य जोधपुर की अधीनता तक स्वीकार करने की पेशकश की थी।

जयमल जैसे वीर और जैता कुंपा जैसे सेनापतियों के होते राव मालदेव दिल्ली को फतह करने तक समर्थ हो जाते । राव मालदेव के ३१ वर्ष के शासन काल तक पुरे भारत में उनकी टक्कर का कोई राजा नही था । लेकिन ये परम शूरवीर राजा अपनी एक रूठी रानी को पुरी जिन्दगी मना नही सके और वो रानी मरते दम तक अपने शूरवीर पति राव मालदेव से रूठी रही।

राव मालदेव का विवाह बैसाख सुदी ४ वि।स। १५९२ को जैसलमेर के शासक राव लुनकरण की राजकुमारी उमादे के साथ हुआ था । उमादे अपनी सुन्दरता व चतुरता के लिए प्रसिद्ध थी । राठोड राव मालदेव की बारात शाही लवाजमे के साथ जैसलमेर पहुँची । राजकुमारी उमादे राव मालदेव जैसा शूरवीर और महाप्रतापी राजा को पति के रूप में पाकर बहुत प्रसन्नचित थी ।

विवाह संपन्न होने के बाद राव मालदेव अपने सरदारों व सम्बन्धियों के साथ महफ़िल में बैठ गए और रानी उमादे सुहाग की सेज पर उनकी राह देखती-देखती थक गई ।Hindi love story: Rao Maldev – Dasi Bharmali

इस पर रानी ने अपनी खास दासी भारमली जिसे रानी को दहेज़ में दिया गया था को राव जी को बुलाने भेजा । दासी भारमली राव मालदेव जी को बुलाने गई, खुबसूरत दासी को नशे में चूर राव जी ने रानी समझ कर अपने पास बिठा लिया काफी वक्त गुजरने के बाद भी भारमली के न आने पर रानी जब राव जी कक्ष में गई और भारमली को उनके आगोस में देख रानी ने वह आरती वाला थाल जो राव जी की आरती के लिए सजा रखा था यह कह कर की अब राव मालदेव मेरे लायक नही रहे उलट दिया । प्रात: काल राव मालदेव जी नशा उतरा तब वे बहुत शर्मिंदा हुए और रानी के पास गए लेकिन तब तक वह रानी उमादे रूठ चुकी थी ।

और इस कारण एक शक्तिशाली राजा को बिना दुल्हन के एक दासी को लेकर वापस बारात लानी पड़ी । ये रानी आजीवन राव मालदेव से रूठी ही रही और इतिहास में रूठी रानी के नाम से मशहूर हुई ।

इस रानी के लिए किले की तलहटी में एक अलग महल भी बनवाया गया लेकिन वह वहां भी कुछ दिन रह कर वापस लौट गई । दो साल पहले जब एक मित्र को जोधपुर का किला दिखाने ले गया था तब गाइड ने किले के ऊपर से ही दूर से उस रूठी रानी का महल दिखाया था लेकिन कैमरा न होने वजह से उस वक्त उस महल का फोटो नही ले पाया ।कार्तिक सुदी १२ वि।स।१६१९ में जब राव मालदेव जी का निधन हुआ तब यह रानी उनके पीछे उनकी पगड़ी के साथ जलती चिता में प्रवेश कर सती हो गई ।

दासी भारमली के अलावा ज्योतिषी चंडू जी भी इस रानी को दहेज़ में दिए गए थे जिन्होंने अपनी पद्धति से एक पन्चांक बनाया जो चंडू पंचांक के नाम से प्रसिद्ध हुआ । वर्तमान में चंडू जी की १९ वी। पीढी के पंडित सुरजाराम जी यह पंचांक निकालते है ।

इतिहास में रूठी रानी के नाम से प्रसिद्ध जैसलमेर की उस राजकुमारी उमादे जो उस समय अपनी सुन्दरता व चतुरता के लिए प्रसिद्ध थी को उसका पति जो जोधपुर के इतिहास में सबसे शक्तिशाली शासक रहा ने क्या कभी उसे मनाने की कोशिश भी की या नहीं और यदि उसने कोई कोशिश की भी तो वे कारण थे कि वह अपनी उस सुन्दर और चतुर रानी को मनाने में कामयाब क्यों नहीं हुआ ।

आज उसी रानी की दासी भारमली उसके प्रेमी बाघ जी के बारे में पढ़ते हुए मेरी इस जिज्ञासा का उत्तर भी मिला कि राव मालदेव अपनी रानी को क्यों नहीं मना पाए । ज्ञात हो इसी दासी भारमली के चलते ही रानी अपने पति राव मालदेव से रूठ गई थी । शादी में रानी द्वारा रूठने के बाद राव मालदेव जोधपुर आ गए और उन्होंने अपने एक चतुर कवि आशानन्द जी चारण को रूठी रानी उमादे को मना कर लाने के लिए जैसलमेर भेजा । स्मरण रहे चारण जाति के लोग बुद्धि से चतुर व अपनी वाणी से वाक् पटुता व उत्कृष्ट कवि के तौर पर जाने जाते है.

राजस्थान का डिंगल पिंगल काव्य साहित्य रचने में चारण कवियों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है । राव मालदेव के दरबार के कवि आशानन्द चारण बड़े भावुक व निर्भीक प्रकृति व वाक् पटु व्यक्ति थे ।

जैसलमेर जाकर उन्होंने किसी तरह अपनी वाक् पटुता के जरिए उस रूठी रानी उमादे को राजा मालदेव के पास जोधपुर चलने हेतु मना भी लिया और उन्हें ले कर जोधपुर के लिए रवाना हो गए । रास्ते में एक जगह रानी ने मालदेव व दासी भारमली के बारे में कवि आशानन्द जी से एक बात पूछी । मस्त कवि कहते है समय व परिणाम की चिंता नहीं करता और उस निर्भीक व मस्त कवि ने भी बिना परिणाम की चिंता किये रानी को दो पंक्तियों का एक दोहे बोलकर उत्तर दिया –
माण रखै तो पीव तज, पीव रखै तज माण ।
दो दो गयंद न बंधही , हेको खम्भु ठाण ।।
अर्थात मान रखना है तो पति को त्याग दे और पति रखना है तो मान को त्याग दे लेकिन दो-दो हाथियों का एक ही स्थान पर बाँधा जाना असंभव है ।
अल्हड मस्त कवि के इस दोहे की दो पंक्तियों ने रानी उमादे की प्रसुप्त रोषाग्नि को वापस प्रज्वल्लित करने के लिए धृत का काम किया और कहा मुझे ऐसे पति की आवश्यकता नहीं । और रानी ने रथ को वापस जैसलमेर ले जाने का आदेश दे दिया ।
बारहट जी (कवि आशानन्द जी) ने अपने मन में अपने कहे गए शब्दों पर विचार किया और बहुत पछताए भी लेकिन वे शब्द वापस कैसे लिए जा सकते थे ।

आपने जोधपुर की रूठी रानी के बारे में पढ़ते हुए उसकी दासी भारमली का नाम भी पढ़ा होगा । जैसलमेर की राजकुमारी उमादे जो इतिहास में रूठी रानी के नाम से प्रसिद्ध है अपनी इसी रूपवती दासी भारमली के चलते ही अपने पति जोधपुर के शक्तिशाली शासक राव मालदेव से रूठ गई थी और मालदेव के लाख कोशिश करने के बाद भी वह आजीवन अपने पति से रूठी ही रही ।Rao Maldev and Dasi Bharmali Hindi love story

जोधपुर के राव मालदेव का विवाह जैसलमेर के रावल लूणकरणजी की राजकुमारी उमादे के साथ हुआ था । सुहागरात्रि के समय उमादे को श्रृंगार करते देर हो गई तो उसने अपनी दासी भारमली को कुछ देर के लिए मालदेव जी का जी बहलाने के लिए भेजा । भारमली इतनी सुन्दर थी कि उसके रूप लावण्य को देख नशे में धुत मालदेव जी अपने आप को न बचा सके ।

श्रृंगार करने के बाद जब उमादे आई और उसने मालदेव जी भारमली के साथ देखकर यह कहकर वापस चली गयी कि ये पति मेरे लायक नहीं है । और वो जीवन भर रूठी ही रही । राव मालदेव ने जोधपुर आने के बाद अपने एक कवि आशानन्द जी बारहट को रानी को मनाने भेजा पर वे भी रानी मनाने में असमर्थ रहे । इस पर कवि आशानन्द जी बारहट ने जैसलमेर के रावत लूणकरणजी से कहा कि अपनी पुत्री का भला चाहते है तो दासी भारमली को जोधपुर से वापस बुलवा लीजिए ।

रावत लूणकरण जी ने एसा ही किया और भारमली को उन्होंने जोधपुर से जैसलमेर बुलवा भेजा पर स्वयम लूणकरण जी भारमली के रूप और लावण्य पर मुग्ध हो गए जिससे लूणकरण जी की दोनों रानियाँ ने परेशान होकर भारमली को जैसलमेर से हटाने की सोची । लूणकरण जी की पहली रानी सोढ़ी जी ने उमरकोट अपने भाइयों से भारमली को ले जाने के लिए कहा लेकिन उमरकोट के सोढों ने लूणकरण जी से इस बात पर शत्रुता लेना उचित नहीं समझा ।तब लूणकरण जी की दूसरी रानी जो जोधपुर के मालानी परगने के कोटडे के शासक बाघ जी राठौड़ की बहन थी ने अपने भाई बाघ जी को बुलाया ।

बहन का दुःख मिटाने हेतु बाघजी शीघ्र आये और रानियों के कथनानुसार भारमली को ऊंट पर बैठकर जैसलमेर से छिपकर भाग आये । लूणकरण जी कोटडे पर हमला तो कर नहीं सकते थे क्योंकि पहली बात तो ससुराल पर हमला करने में उनकी प्रतिष्ठा घटती और दूसरी बात राव मालदेव जैसा शक्तिशाली शासक मालानी का संरक्षकथा । अत: रावत लूणकरण जी ने जोधपुर के ही कवि आशानन्द जी बारहट को कोटडा भेजा कि बाघजी को समझाकर भारमली को वापस ले आये ।

दोनों रानियों ने बाघ जी को पहले ही सन्देश भेजकर सूचित कर दिया कि वे बारहट जी की बातों में न आना । जब बारहट जी कोटडा पहुंचे तो बाघजी ने उनका बड़ा स्वागत सत्कार किया और बारहट जी की इतनी खातिरदारी की कि वे अपने आने का उद्देश्य ही भल गए । एक दिन बाघजी शिकार पर गए ,बारहट जी व भारमली भी साथ थे । भारमली व बाघजी में असीम प्रेम हो गया था अत: वह भी किसी भी हालत में बाघजी को छोड़कर जैसलमेर नहीं जाना चाहती थी । शिकार के बाद भारमली ने सूलें सेंक कर खुद विश्राम स्थल पर बारहट जी दी व शराब आदि भी पिलाई । इससे खुश होकर व बाघजी व भारमली के बीच प्रेम देखकर बारहट जी का भावुक-कवि- हृदय बोल उठा
जंह गिरवर तंह मोरिया, जंह सरवर तंह हंस ।
जंह बाघा तंह भारमली ,जंह दारु तंह मंस ।

अर्थात जहाँ पहाड़ होते है वहां मोर होते है ,जहाँ सरवर होता है वहां हंस होते है इसी प्रकार जहाँ बाघ जी है वहीँ भारमली होगी ठीक उसी तरह जिस तरह जहाँ दारू होती है वहां मांस भी होता है ।

बारहट की यह बात सुन बाघजी ने झट से कह दिया ,बारहट जी आप बड़े है और बड़े आदमी दी हुई वास्तु को वापिस नहीं लेते अत: अब भारमली को मुझसे न मांगना । आशानन्द जी बारहट पर वज्रपात सा हो गया लेकिन बाघजी ने बात सँभालते हुए कहा – कि आपसे एक प्रार्थना और है आप भी मेरे यहीं रहिये । Rao Maldev and Dasi Bharmali Hindi love story

और इस तरह से बाघजी ने कवि आशानन्द जी बारहट को मनाकर भारमली को जैसलमेर ले जाने से रोक लिया । आशानन्द जी भी कोटडा रहे और उनकी व बाघजी जी की भी इतनी घनिष्ट दोस्ती हुई कि वे जिन्दगी भर बाघजी को भुला ना पाए । एक दिन अकस्मात बाघजी का निधन हो गया , भारमली बाघजी के शव के साथ चिता में बैठकर सती हो गई और आशानन्द जी अपने मित्र बाघजी की याद में जिन्दगी भर बैचेन रहे और उन्होंने बाघजी की स्मृति में अपने उदगारों के पीछोले बनाये ।

बाघजी और कवि आशानंद जी के बीच इतनी घनिष्ट मित्रता हुई कि आशानन्द जी सोते उठते बाघजी का नाम ही लेते थे एक बार उदयपुर के महाराणा ने कवि आशानन्द जी की परीक्षा लेने के लिए कहा कि वे सिर्फ एक रात बाघजी का नाम लिए बिना निकाल दे तो मैं आपको चार लाख रूपये दूंगा । कवि पुत्र ने भरपूर कोशिश की कि कवि पिता अपने मित्र बाघजी का नाम कम से कम एक रात्री तो न ले पर कवि मन कहाँ चुप रहने वाला था ।

राजा मालदेव की कथा, राव मालदेव और दासी भारमली, राव मालदेव और दासी भारमली की प्रेम कहानी, राव मालदेव और दासी भारमली लव स्टोरी, Rao Maldev Ki Katha, Rao Maldev Aur Dasi Bharmali Ki Prem Kahani, Dasi Bharmali Aur Rao Maldev, Rao Maldev and Dasi Bharmali Hindi Love Story

ये भी पढ़े –

बीरबल और चोर की कहानी, Birbal Aur Chor Ki Kahani, हिंदी कहानी बीरबल ने चोर को पकड़ा, Birbal Caught the Thief in Hindi, Birbal Aur Chor Ki Kahani

बिल्ली के गले मे घंटी हिंदी कहानी, Billi Ke Gale Me Ghanti Hindi Kahani, बिल्ली की कहानी, कैट की कहानी, बिल्ली चुहे की कहानी, Billi Chuhe Ki Kahani

जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Story In Hindi, जैसे को तैसा कहानी, Jaise Ko Taisa Kahani, जैसे को तैसा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Hindi Story

हिंदी कहानी खरगोश और कछुआ, खरगोश और कछुआ की कहानी हिंदी में लिखी हुई, कछुआ और खरगोश की कहानी, Kachhua Aur Khargosh Ki Kahani Hindi Mein

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

निक नाम, निक नाम फॉर बॉयज, निक नाम फॉर गर्ल्स, Cute Nicknames for Baby Boy Indian, Cute Nicknames for Baby Girl Indian, गर्ल्स निक नाम इन हिंदी, निक नाम लिस्ट

ज्यादा नींद आने के कारण और उपाय, Jyada Nind Kyon Aati Hai, Jyada Neend Aane Ka Karan, ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Neend Aane Ka Reason

बच्चों के नये नाम की लिस्ट , बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम , हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम

Chouboli love story in Hindi

चौबोली की प्रेम कहानी, रानी चौबोली की कहानी, राजा विक्रमादित्य की प्रेम कहानी, चौबोली और राजा विक्रमादित्य, Choboli Ki Prem Kahani, Chouboli Ki Prem Kahani, Rani Choboli Ki Kahani, Chouboli Aur Raaja Vikramaditya, Chouboli Love Story in Hindi

चौबोली की प्रेम कहानी, रानी चौबोली की कहानी, राजा विक्रमादित्य की प्रेम कहानी, चौबोली और राजा विक्रमादित्य, Choboli Ki Prem Kahani, Chouboli Ki Prem Kahani, Rani Choboli Ki Kahani, Chouboli Aur Raaja Vikramaditya, Chouboli Love Story in Hindi

रानी चौबोली की कहानी, चौबोली और राजा विक्रमादित्य
एक दिन राजा विक्रमादित्य और उसकी एक रानी के साथ थोड़ी बहस हो गयी रानी कहने लगी- मैं रूठ गयी तो आपको मेरे जैसी रूपवती व गुणवान पत्नी कहाँ मिलेगी ? राजा बोला- मैं तो तेरे से भी सुन्दर व गुणवान ऐसी पत्नी ला सकता हूँ जिसका तूं तो किसी तरह से मुकाबला ही नहीं कर सकती।
रानी बोली- यदि ऐसे ही बोल रहे है तो फिर चौबोली को पकड़ कर लाओ तब जानूं । राजा तो उसी वक्त चौबोली से प्रणय करने चल पड़ा। चौबोली बहुत ही सुन्दर रूपवती, गुणवान थी हर राजा उससे प्रणय करने की ईच्छा रखते थे। पर चौबोली ने भी एक शर्त रखी हुई थी कि –
जो व्यक्ति रात्री के चार प्रहरों में चार बार उसके मुंह से बुलवा दे उसी से वह शादी करेगी और जो उसे न बुलवा सके उसे कैद । अब तक कोई एक सौ साठ राजा अपने प्रयास में विफल होकर उसकी कैद में थे।

चौबोली ने अपने महल के आगे एक ढोल रखवा रखा था जिसे भी उससे शादी करने का प्रयास करना होता था वह आकार ढोल पर डंके की चोट मार सकता था। (Chouboli love story in Hindi)

राजा विक्रमादित्य भी वहां पहुंचे और ढोल पर जोरदार चोट मार चौबोली को आने की सुचना दी। चौबोली ने सांय ही राजा को अपने महल में बुला लिया और उसके सामने सौलह श्रृंगार कर बैठ गयी। राजा ने वहां आने से पहले अपने चार वीर जो अदृश्य हो सकते थे व रूप बदल सकते थे को साथ ले लिया था और उन्हें समझा दिया था कि उसके साथ चौबोली के महल में रूप बदलकर छुप जाएं।

राजा चौबोली के सामने बैठ गया, चौबोली तो बोले ही नहीं ऐसे चुपचाप बैठी जैसे पत्थर हो। पर राजा भी आखिर राजा विक्रमादित्य था। वह चौबोली के पलंग से बोला-
पलंग चौबोली तो बोलेगी नहीं सो तूं ही कुछ ताकि रात का एक प्रहर तो कटे।

पलंग में छुपा राजा का एक वीर बोलने लगा- राजा आप यहाँ आकर कहाँ फंस गए ? खैर मैं आपको एक कहानी सुनाता हूँ आप हुंकारा दीजिए कम से कम एक प्रहर तो कट ही जायेगा।

पलंग बोलने लगा राजा हुंकारा देने लगा- एक राजा का और एक साहूकार का बेटा, दोनों मैं तगड़ी दोस्ती थी। साथ सोते,साथ खेलते।साथ आते जाते। एक पल भी एक दूसरे से दूर नहीं होते।दोनों ने आपस में तय भी कर रखा था कि वे दोनों कभी अलग नहीं होंगे।

दोनों की शादियाँ भी हो चुकी थी और दोनों की ही पत्नियाँ मायके बैठी थी।एक दिन साहूकार अपने बेटे से बोला कि -बेटे तेरी बहु मायके में बैठी है जवान है उसे ज्यादा दिन वहां नहीं छोड़ा जा सकता सो जा और उसे ले आ।

बेटा बोला- बापू!आपका हुक्म सिर माथे पर जावूँ कैसे मैंने तो कुंवर से वादा कर रखा है कि उसे छोड़कर कहीं अकेला नहीं जाऊंगा।

साहूकार ने सोचते हुए कहा- बेटे तुम दोनों में ऐसी ही मित्रता है तो एक काम कर राजा के बेटे को भी अपनी ससुराल साथ ले जा । पर एक बात ध्यान रखना तेरे ससुराल में उसकी खातिर उनकी प्रतिष्ठा के हिसाब से बड़े आव-भगत से होनी चाहिए।

आखिर दोनों मित्र साहूकार के बेटे की ससुराल चल दिए।रास्ते में राजा का बेटा तो बड़ी मस्ती से व मजाक करता चल रहा था और साहूकार का बेटा बड़ी चिंता में चल रहा था पता नहीं ससुराल वाले कुंवर की कैसी खातिर करेंगे यदि कोई कमी रह गयी तो कुंवर क्या सोचेगा आदि आदि। (Chouboli love story in Hindi)

चलते चलते रास्ते में एक देवी का मंदिर आया। जिसके बारे में ऐसी मान्यता थी कि वहां देवी के आगे जो मनोरथ मांगो पूरा हो जाता। कोढियों की कोढ़ मिट जाती, पुत्रहीनों को पुत्र मिल जाते। साहूकार के बेटे ने भी देवी के आगे जाकर प्रार्थना की- हे देवी माँ ! ससुराल में मेरे मित्र की खातिर व आदर सत्कार वैसा ही हो जैसी मैंने मन में सोच रखा है। यदि मेरे मन की यह मुराद पूरी हुई तो वापस आते वक्त मैं अपना मस्तक काटकर आपके चरणों में अर्पित कर दूँगा। (Chouboli love story in Hindi)

ऐसी मनोकामना कर वह अपने मित्र के साथ आगे बढ़ गया और ससुराल पहुँच गया। ससुराल वाले बहुत बड़े साहूकार थे, उनकी कई शहरों में कई दुकाने थी, विदेश से भी वे व्यापार करते थे इसके लिए उनके पास अपने जहाज थे। पैसे वाले तो थे ही साथ ही दिलदार भी थे उन्होंने अपने दामाद के साथ आये राजा के कुंवर को देखकर ऐसी मान मनुहार व आदर सत्कार किया कि उसे देखकर राजा का कुंवर खूद भौचंका रह गया। ऐसा सत्कार तो उसने कभी देखा ही नहीं था।

दोनों दस दिन वहां रहे उसके बाद साहूकार के बेटे की वधु को लेकर वापस चले। रास्ते में राजा का बेटा तो वहां किये आदर सत्कार की प्रशंसा ही करता रहा। साहूकार के बेटे ने जो मनोरथ किया था वो पूरा हो गया। रास्ते में देवी का मंदिर आया तो साहूकार का बेटा रुका।
बोला- आप चलें मैं दर्शन कर आता हूँ।
राजा का बेटा बोला- मैं भी चलूं दोनों साथ साथ दर्शन कर लेंगे।
साहूकार का बेटा- नहीं ! मैंने अकेले में दर्शन करने की मन्नत मांगी है इसलिए आप रुकिए।
साहूकार का बेटा मंदिर में गया और अपना सिस काटकर देवी के चरणों में चढा दिया। राजा के कुंवर ने काफी देर तक इन्तजार किया फिर भी साहूकार का बेटा नहीं आया तो वह भी मंदिर में जा पहुंचा। आगे देखा तो मंदिर में अपने मित्र का कटा सिर एक तरफ पड़ा था और धड एक तरफ।कुंवर के पैरों तले से तो धरती ही खिसक गयी। ये क्या हो गया? अब मित्र की पत्नी और उसके पिता को क्या जबाब दूँगा। कुंवर सोच में पड़ गया कि इस तरह बिना मित्र के घर जाए लोग क्या क्या सोचेंगे ? आज तक हम अलग नहीं रहे आज कैसे हो गए ? ये सब सोचते सोचते और विचार करते हुए कुंवर ने भी तलवार निकाली और अपना सिर काट कर डाला।

उधर साहूकार की वधु रास्ते में खड़ी खड़ी दोनों का इन्तजार करते करते थक गयी तो वह भी मंदिर के अंदर पहुंची और वहां का दृश्य देख हक्की बक्की रह गयी। दोनों मित्रों के सिर कटे शव पड़े थे।मंदिर में लहू बह रहा था। वह सोचने लगी कि – अब उसका क्या होगा? कैसे ससुराल में बिना पति के जाकर अपना मुंह दिखाएगी? लोग क्या क्या कहेंगे? यह सोच उसने भी तलवार उठाई और जोर से अपने पेट में मारने लगी तभी देवी माँ ने प्रकट हो उसका हाथ पकड़ लिया।

साहूकार की वधु देवी से बोली- हे देवी! छोड़ दे मुझे और मरने दे। इन दोनों का तुने भक्षण कर लिया है अब मेरा भी कर ले।

देवी ने कहा- तलवार नीचे रख दे और दोनों के सिर उठा और इनके धड़ पर रख दे अभी दोनों को पुनर्जीवित कर देती हूँ। साहूकार की वधु ने झट से दोनों के सिर उठाये और धड़ों के ऊपर रख दिए। देवी ने अपने हाथ से उनपर एक किरण छोड़ी और दोनों जीवित हो उठे।देवी अंतर्ध्यान हो गयी। (Chouboli love story in Hindi)

पर एक गडबड हो गयी साहूकार की बहु ने जल्दबाजी में साहूकार का सिर कुंवर की धड़ पर और कुंवर का सिर साहूकार की धड़ पर रख दिया था। अब दोनों विचार में पड़ गए कि -अब ये पत्नी किसकी ? सिर वाले की या धड़ वाले की ? पलंग बोला- ‘ हे राजा ! विक्रमादित्य आप न्याय के लिए प्रसिद्ध है अत: आप ही न्याय करे वह अब किसकी पत्नी होगी? राजा बोला- इसमें पुछने वाली कौनसी बात है ? वह महिला धड़ वाले की ही पत्नी होगी। (Chouboli love story in Hindi)

ये सुनते ही चौबोली बोली चमकी। गुस्से में भर कर बोली- वाह ! राजा वाह ! बहुत बढ़िया न्याय करते हो। धड़ से क्या लेना देना, पत्नी तो सिर वाले की ही होगी। सिर बिना धड़ का क्या मोल।’ राजा बोला- आप जो कह रही है वही सत्य है। बजा रे ढोली ढोल। चौबोली बोली पहला बोल।। और ढोली ने ढोल पर जोरदार डंका मारा धे अब राजा ने चौबोली के कक्ष में रखे पानी के मटके को बतलाया- हे मटके! एक प्रहर तो पलंग ने काट दी अभी भी रात के तीन प्रहर बचे है। तूं भी कोई बात बता ताकि कुछ तो समय कटे। मटका बोलने लगा राजा हुंकार देता गया – मटका- एक समय की बात है एक राजा का बेटा और एक साहूकार का बेटा बचपन से ही बड़े अच्छे मित्र थे। साथ रहते,साथ खेलते,साथ खाते-पीते। एक दिन उन्होंने बचपने व नादानी में आपस एक वचन किया कि -जिसकी शादी पहले होगी वह अपनी पत्नी को सुहाग रात को अपने मित्र के पास भेजेगा। समय बीता और बात आई गयी हो गयी।

समय के साथ दोनों मित्र बड़े हुए तो साहूकार ने अपने बेटे का विवाह कर दिया। साहूकार की बहु घर आ गयी। सुहाग रात का समय, बहु रमझम करती, सोलह श्रृंगार किये अपने शयन कक्ष में घुसी, आगे देखा साहूकार का बेटा उसका पति मुंह लटकाए उदास बैठा था। साहूकारनी बड़ी चतुर थी अपने पति की यह हालत देख बड़े प्यार से हाथ जोड़कर बोली-

क्या बात नाथ ! क्या आप मेरे से नाराज है ? क्या मैं आपको पसंद नहीं हूँ ? या मेरे माँ-बाप ने शादी में जो दिया वह आपको पसंद नहीं ? मैं जैसी भी हूँ आपकी सेवा में हाजिर हूँ।आपने मेरा हाथ थामा है मेरी लाज बचाना अब आपके हाथ में है।
साहूकार बोला-ऐसी बात नहीं है! मैं धर्म संकट में फंस गया हूँ । बचपन में नादानी के चलते अपने मित्र राजा के कुंवर से एक वचन कर लिए था जिसे न निभा सकता न तोड़ सकता, अब क्या करूँ ? समझ नहीं आ रहा।और न ही वचन के बारे में बताना आ रहा ।
ऐसा क्या वचन दिया है आपने! कृपया मुझे भी बताएं,यदि आपने कोई वचन दिया है तो उसे पूरा भी करेंगे। मैं भी आपका इसमें साथ दूंगी। (Chouboli love story in Hindi)

साहूकार पुत्र ने अपनी पत्नी को न चाहते हुए भी बचपन में किये वचन की कहानी सुनाई।
पत्नी बोली-हे नाथ ! चिंता ना करें।मुझे आज्ञा दीजिए मैं आपका वचन भी निभा लुंगी और अपना धर्म भी बचा लुंगी।
ऐसा कह पति से आज्ञा ले साहूकार की पत्नी सोलह श्रृंगार किये कुंवर के महल की ओर चली। रास्ते में उसे चोर मिले। उन्होंने गहनों से लदी साहूकार पत्नी को लूटने के इरादे से रोक लिया।

सहुकारनी चोरों से बोली- अभी मुझे छोड़ दीजिए, मैं एक जरुरी कार्य से जा रही हूँ, वापस आकार सारे गहने,जेवरात उतारकर आपको दे दूँगा ये मेरा वादा है।पर अभी मुझे मत रोकिये जाने दीजिए ।
चोर बोले-तेरा क्या भरोसा? जाने के बाद आये ही नहीं और आये भी तो सुपाहियों के साथ आये!
सहुकारनी बोली- मैं आपको वचन देती हूँ। मेरे पति ने एक वचन दिया था उसे पूरा कर आ रही हूँ। वह पूरा कर आते ही आपको दिया वचन भी पूरा करने आवुंगी। (Chouboli love story in Hindi)
चोरों ने आपस में सलाह की कि-देखते है यह वचन पूरा करती है या नहीं, यदि नहीं भी आई तो कोई बात नहीं एक दिन लुट का माल न मिला सही।
सहुकारनी रमझम करती कुंवर के महल की सीढियाँ चढ गयी। कुंवर पलंग पर अपने कक्ष में सो रहा था। साहुकारनी ने कुंवर के पैर का अंगूठा मरोड़ जगाया- जागो कुंवर सा।
कुंवर चौक कर जागा और देखा उसके कक्ष में इतनी रात गए एक सुन्दर स्त्री सोलह श्रृंगार किये खड़ी है। कुंवर को लगा वह सपना देख रहा है इसलिए कुंवर ने बार बार आँखे मल कर देखा और बोला –
हे देवी ! तुम कौन हो ? कहाँ से आई हो? और इस तरह इतनी रात्री गए तुम्हारा यहाँ आने का प्रयोजन क्या है ? (Chouboli love story in Hindi)

साहूकार की पत्नी बोली- मैं आपके बचपन के मित्र साहूकार की पत्नी हूँ। आपके व आपके मित्र के बीच बचपन में तय हुआ था कि जिसकी शादी पहले होगी वह अपनी पत्नी को सुहाग रात में अपने मित्र के पास भेजेगा सो उसी वचन को निभाने हेतु आपके मित्र ने आज मुझे सुहाग रात्री के समय आपके पास भेजा है।
कुंवर को यह बात याद आते ही वह बहुत शर्मिंदा हुआ और अपने मित्र की पत्नी से बोला-
हे देवी! मुझे माफ कर दीजिए वो तो बालपने में नादानी में हुयी बातें थी। आप तो मेरे लिए माँ- बहन समान है। (Chouboli love story in Hindi)
कहकर कुंवर ने मित्र की पत्नी को बहन की तरह चुन्दड़ी(ओढ़ना) सिर पर ओढ़ाई और एक हीरों मोतियों से भरा थाल भेंट कर विदा किया।
साहुकारनी वापस आई, चोर रास्ते में ही खड़े उसका इन्जार कर रहे थे उसे देख आपस में चर्चा करने लगे ये औरत है तो जबान की पक्की।
साहुकारनी ने चोरों के पास आकार बोला- यह हीरों मोतियों से भरा थाल रख लीजिए ये तुम्हारे भाग्य में ही लिखा था। और मैं अभी अपने गहने उतार कर भी आपको दे देती हूँ। कहकर साहुकारनी अपने एक एक कर सभी गहने उतारने लगी।
चोरों को यह देख बड़ा आश्चर्य हुआ वे पुछने लगे- पहले ये बता कि तूं गयी कहाँ थी ? और ये हीरों भरा थाल तुझे किसने दिया?
साहुकारनी ने पूरी बात विस्तार से चोरों को बतायी। सुनकर चोरों के मुंह से निकला-धन्य है ऐसी औरत! जो अपने पति का वचन निभाने कुंवर जी के पास चली गयी और धन्य है कुंवर जी जिन्होंने इसकी मर्यादा की रक्षा व आदर करते हुए इसे अपनी बहन बना इतने महंगे हीरे भेंट किये। ऐसी चरित्रवान और धर्म पर चलने वाली औरत को तो हमें भी बहन मानना चाहिए। (Chouboli love story in Hindi)
और चोरों ने भी उसे बहन मान उसका सारा धन लौटते हुए उनके पास जो थोड़ा बहुत लुटा हुआ धन था भी उसे भेंट कर उसे सुरक्षित उसके घर तक पहुंचा दिया।
अब मटकी राजा से बोली- हे राजा विक्रमादित्य! आपने बहुत बड़े बड़े न्याय किये है अब बताईये इस मामले में किसकी भलमनसाहत बड़ी चोरों की या कुंवर की
। राजा बोला-यह तो साफ है कुंवर की भलमनसाहत ज्यादा बड़ी।
इतना सुनते ही चौबोली को गुस्सा आ गया और वह गुस्से में राजा से बोली- अरे राजा तेरी अक्ल कहाँ गयी ? क्या ऐसे ही न्याय करके तूं लोकप्रिय हुआ है! सुन – इस मामले में चोर बड़े भले मानस निकले।
जब सहुकारनी चोरों को वचन के मुताबिक इतना धन दें रही थी फिर भी चोरों ने उसे बहन बना पास में जो था वह भी दे दिया इसलिए चोरों की भलमनसाहत ज्यादा बड़ी है।
राजा बोला- चौबोली ने जो न्याय किया है वह खरा है।
बजा रे ढोली ढोल।
चौबोली बोली दूजो बोल।।
और ढोली ने नंगारे पर जोर से दो दे मारी धें – धें

अब राजा चौबोली के महल की खिड़की से बोला-दो घडी रात तो कट गयी अब तूं ही कोई बात कह ताकि तीसरा प्रहर कट सके।
खिड़की बोली- ठीक है राजा ! आपका हुक्म सिर माथे, मैं आपको कहानी सुना रही हूँ आप हुंकारा देते जाना। खिड़की राजा को कहानी सुनाने लगी-एक गांव में एक ब्राह्मण व एक साहूकार के बेटे के बीच बहुत गहरी मित्रता थी।जब वे जवान हुए तो एक दिन ससुराल अपनी पत्नियों को लेने एक साथ रवाना हुए कई दूर रास्ता काटने के बाद आगे दोनों के ससुराल के रास्ते अलग अलग हो गए। अत: अलग-अलग रास्ता पकड़ने से पहले दोनों ने सलाह मशविरा किया कि वापसी में जो यहाँ पहले पहुँच जाए वो दूसरे का इंतजार करे। (Chouboli love story in Hindi)

ऐसी सलाह कर दोनों ने अपने अपने ससुराल का रास्ता पकड़ा। साहूकार के बेटे के साथ एक नाई भी था। ससुराल पहुँचने पर साहूकार के साथ नाई को देखकर एक बुजुर्ग महिला ने अन्य महिलाओं को सलाह दी कि -जवांई जी के साथ आये नाई को खातिर में कहीं कोई कमी नहीं रह जाए वरना यह हमारी बेटी के सुसराल में जाकर हमारी बहुत उलटी सीधी बातें करेगा और इसकी बढ़िया खातिर करेंगे तो यह वहां जाकर हमारी तारीफों के पुरे गांव में पुल बांधेगा इसलिए इसलिय इसकी खातिर में कोई कमी ना रहें।

बस फिर क्या था घर की बहु बेटियों ने बुढिया की बात को पकड़ नाई की पूरी खातिरदारी शुरू करदी वे अपने जवांई को पूछे या ना पूछे पर नाई को हर काम में पहले पूछे, खाना खिलाना हो तो पहले नाई,बिस्तर लगाना हो तो पहले नाई के लगे। साहूकार का बेटा अपनी ससुराल में मायूस और नाई उसे देख अपनी मूंछ मरोड़े। यह देख मन ही मन दुखी हो साहूकार के बेटे ने वापस जाने की जल्दी की। ससुराल वालों ने भी उसकी पत्नी के साथ उसे विदा कर दिया। अब रास्ते में नाई साहूकार पुत्र से मजाक करते चले कि- ससुराल में नाई की इज्जत ज्यादा रही कि जवांई की ? जैसे जैसे नाई ये डायलोग बोले साहूकार का बेटा मन ही मन जल भून जाए। पर नाई को इससे क्या फर्क पड़ने वाला था उसने तो अपनी डायलोग बाजी जारी रखी ऐसे ही चलते चलते काफी रास्ता कट गया। आधे रास्ते में ही साहूकार के बेटे ने इसी मनुहार वाली बात पर गुस्सा कर अपनी पत्नी को छोड़ नाई को साथ ले चल दिया। (Chouboli love story in Hindi)

इस तरह बीच रास्ते में छोड़ देने पर साहूकार की बेटी बहुत दुखी हुई और उसने अपना रथ वापस अपने मायके की ओर मोड़ लिया पर वह रास्ता भटक कर किसी और अनजाने नगर में पहुँच गयी। नगर में घुसते ही एक मालण का घर था, साहुकारनी ने अपना रथ रोका और कुछ धन देकर मालण से उसे अपने घर में कुछ दिन रहने के लिए मना लिया। मालण अपने बगीचे के फूलों से माला आदि बनाकर राजमहल में सप्लाई करती थी। अब मालण फूल तोड़ कर लाये और साहुकारनी नित नए डिजाइन के गजरे, मालाएं आदि बनाकर उसे राजा के पास ले जाने हेतु दे दे। एक दिन राजा ने मालण से पुछा कि -आजकल फूलों के ये इतने सुन्दर डिजाइन कौन बना रहा है ? तुझे तो ऐसे बनाने आते ही नहीं।
मालण ने राजा को बताया- हुकुम! मेरे घर एक स्त्री आई हुई है बहुत गुणवंती है वही ऐसी सुन्दर-सुन्दर कारीगरीयां जानती है।

राजा ने हुक्म दे दिया कि- उसे हमारे महल में हाजिर किया जाय। अब क्या करे? साहुकारनी ने बहुत मना किया पर राजा का हुक्म कैसे टाला जा सकता था सो साहुकारनी को राजा के सामने हाजिर किया गया। राजा तो उस रूपवती को देखकर आसक्त हो गया ऐसी सुन्दर नारी तो उसके महल में कोई नहीं थी। सो राजा ने हुक्म दिया कि -इसे महल में भेज दिया जाय। साहुकारनी बोली- हे राजन ! आप तो गांव के मालिक होने के नाते मेरे पिता समान है।मेरे ऊपर कुदृष्टि मत रखिये और छोड़ दीजिए।

पर राजा कहाँ मानने वाला था, नहीं माना, अत: साहुकारनी बोली- आप मुझे सोचने हेतु छ: माह का समय तो दीजिए। राजा ने समय दे दिया साथ ही उसके रहने के लिए गांव के नगर के बाहर रास्ते पर एक एकांत महल दे दिया। (Chouboli love story in Hindi)

साहुकारनी रोज उस महल के झरोखे से आते जाते लोगों को देखती रहती कहीं कोई ससुराल या पीहर का कोई जानपहचान वाला मिल जाए तो समाचार भेजें जा सकें।
उधर रास्ते में ब्राह्मण का बेटा अपने मित्र साहूकार का इन्तजार कर रहा था जब साहूकार को अकेले आते देखा तो वह सोच में पड़ गया उसने पास आते ही साहूकार के बेटे से उसकी पत्नी के बारे में पुछा तो साहूकार बेटे ने पूरी कहानी ब्राह्मण पुत्र को बताई।
ब्राह्मण ने साहूकार को खूब खरी खोटी सुनाई कि- ‘बावली बूच नाई की खातिर ज्यादा हो गयी तो इसमें उसकी क्या गलती थी ? ऐसे कोई पत्नी को छोड़ा जा सकता है ?
और दोनों उसे लेने वापस चले, तलाश करते करते वे दोनों भी उसी नगर पहुंचे। साहुकारनी ने महल के झरोखे से दोनों को देख लिया तो बुलाने आदमी भेजा। मिलने पर ब्राह्मण के बेटे ने दोनों में सुलह कराई। राजा को भी पता चला कि उसका ब्याहता आ गया तो उसने भी अपने पति के साथ जाने की इजाजत दे दी।और साहूकार पुत्र अपनी पत्नी को लेकर घर आ गया।
कहानी पूरी कर खिड़की ने राजा से पुछा- हे राजा! आपके न्याय की प्रतिष्ठा तो सात समंदर दूर तक फैली है अब आप बताएं कि -इस मामले में भलमनसाहत किसकी ? साहूकार की या साहुकारनी की ?
राजा बोला- इसमें तो साफ़ है भलमनसाहत तो साहूकार के बेटे की। जिसने छोड़ी पत्नी को वापस अपना लिया।
इतना सुनते ही चौबोली के मन में तो मानो आग लग गयी हो उसने राजा को फटकारते हुए कहा-

अरे अधर्मी राजा! क्या तूं ऐसे ही न्याय कर प्रसिद्ध हुआ है ? साहूकार के बेटे की इसमें कौनसी भलमनसाहत ? भलमनसाहत तो साहूकार पत्नी की थी। जिसे निर्दोष होने के बावजूद साहूकार ने छोड़ दिया था और उसे रानी बनने का मौका मिलने के बावजूद वह नहीं मानी और अपने धर्म पर अडिग रही।धन्य है ऐसी स्त्री।

राजा बोला- हे चौबोली जी ! आपने जो न्याय किया वही न्याय है।
बजा रे ढोली ढोल।
चौबोली बोली तीजो बोल।।
और ढोली ने नंगारे पर जोर से ‘धें धें कर तीन ठोक दी। (Chouboli love story in Hindi)

चौबोली की प्रेम कहानी, रानी चौबोली की कहानी, राजा विक्रमादित्य की प्रेम कहानी, चौबोली और राजा विक्रमादित्य, Choboli Ki Prem Kahani, Chouboli Ki Prem Kahani, Rani Choboli Ki Kahani, Chouboli Aur Raaja Vikramaditya, Chouboli Love Story in Hindi

ये भी पढ़े –

बीरबल और चोर की कहानी, Birbal Aur Chor Ki Kahani, हिंदी कहानी बीरबल ने चोर को पकड़ा, Birbal Caught the Thief in Hindi, Birbal Aur Chor Ki Kahani

बिल्ली के गले मे घंटी हिंदी कहानी, Billi Ke Gale Me Ghanti Hindi Kahani, बिल्ली की कहानी, कैट की कहानी, बिल्ली चुहे की कहानी, Billi Chuhe Ki Kahani

जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Story In Hindi, जैसे को तैसा कहानी, Jaise Ko Taisa Kahani, जैसे को तैसा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Hindi Story

हिंदी कहानी खरगोश और कछुआ, खरगोश और कछुआ की कहानी हिंदी में लिखी हुई, कछुआ और खरगोश की कहानी, Kachhua Aur Khargosh Ki Kahani Hindi Mein

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

निक नाम, निक नाम फॉर बॉयज, निक नाम फॉर गर्ल्स, Cute Nicknames for Baby Boy Indian, Cute Nicknames for Baby Girl Indian, गर्ल्स निक नाम इन हिंदी, निक नाम लिस्ट

ज्यादा नींद आने के कारण और उपाय, Jyada Nind Kyon Aati Hai, Jyada Neend Aane Ka Karan, ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Neend Aane Ka Reason

बच्चों के नये नाम की लिस्ट , बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम , हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम

Mirza and Sahiba Hindi love Story

मिर्जा साहिबा की प्रेम कहानी, मिर्जा साहिबा, साहिबा मिर्जा, मिर्जा साहिबा लव स्टोरी, Mirza Sahiba Story in Hindi, Sahiba Mirza Story in Hindi, Mirza Sahiba Ki Kahani, Mirza and Sahiba Story in Hindi, Mirza and Sahiba Hindi Love Story, Sahiba Love Story, Mirza Love Story, Mirza Aur Sahiba Ki Kahani

मिर्जा साहिबा की प्रेम कहानी, मिर्जा साहिबा, साहिबा मिर्जा, मिर्जा साहिबा लव स्टोरी, Mirza Sahiba Story in Hindi, Sahiba Mirza Story in Hindi, Mirza Sahiba Ki Kahani, Mirza and Sahiba Story in Hindi, Mirza and Sahiba Hindi Love Story, Sahiba Love Story, Mirza Love Story, Mirza Aur Sahiba Ki Kahani

मिर्जा साहिबा की प्रेम कहानी, Mirza Sahiba Love Story in Hindi
कहते हैं कि इश्क खुदा है, इश्क जन्नत है, इश्क जमाने की सबसे बड़ी नेमत है। शायद यही सोचकर उन दोनों ने मुहब्बत की थी। लेकिन इस मुहब्बत को अंजाम नसीब न था और फिर वो हुआ जो सदियों से आशिकों के साथ होता आया है। कहते है कि उन्हें मौत नसीब हुई लेकिन मौत से पहले एक दूसरे की आखों में उन्होंने जो देखा उसी को असली सुकून कहते हैं।

आज सिनेमाई पर्दे पर ‘मिर्जा-साहिबा’ की कहानी उतरी है- मिर्ज्या। रुपहले पर्दे पर हर्षवर्धन कपूर और सैयामी खेर ने मिर्जा और साहिबा की भूमिका निभाई है। फिल्म में कहानी वर्तमान वक्त के हिसाब से कही गई है लेकिन असली कहानी किसी स्याही से लिखी नहीं जा सकती। (Mirza and Sahiba Hindi love Story)

इस कहानी को लिखने के लिए तो दिल में दर्द और आखों में आंसू चाहिएं। चलिए कोशिश करते हैं मिर्जा और साहिबा की कहानी सुनाने की, उस दौर, उस मंजर और उस दर्द का बयां करने की जो मिर्जा और साहिबा की रगों में इश्क बनकर दौड़ता था।

बचपन का प्यार
बात उन दिनों से भी बहुत पहले की है जब पंजाब दो टुकड़ों में बंटा नहीं था। पंजाब की उपजाऊ जमीन पर ही उपजी थी इश्क की ये दास्तान। मिर्जा और साहिबा को पढ़ते वक्त ही प्यार हो गया था। दोनों को एक मौलवी साहब पढ़ाते थे। जब तक मौलवी साहब उनकी आखों को पढ़ पाते, देर हो चुकी थी। (Mirza and Sahiba Hindi love Story)

दोनों एक-दूसरे की मुहब्बत में इस कदर गिरफ्तार थे कि ना दिन का होश था और ना रात का। सोते-जागते, इबादत करते सिर्फ एक-दूसरे का ही ख्याल उनके ज़ेहन में रहता था। कहते हैं कि इश्क और मुश्क छुपाए नहीं छुपते। मौलवी को उनकी ये नजदीकियां रास नहीं आईं। और फिर खबर जमाने को भी होने लगी। Hindi Story

साहिबा की बदनामी ना हो इस डर से मिर्जा ने गांव छोड़ दिया और अपने गांव चला गया। साहिबा जैसे-तैसे मिर्जा की याद में वक्त गुजार रही थी। इसी बीच उसके माता पिता ने उसकी शादी तय कर दी। साहिबा ने मिर्जा को संदेश भेजा कि वो उसे ले जाए।

साहिबा का डर
मिर्जा, साहिबा को लेने पहुंचा और घोड़े पर उसे ले भागा। कहते हैं कि मिर्जा जितना बढ़िया घुड़सवार था उससे ज्यादा बढ़िया तीरंदाज था। मिर्जा जब साहिबा को लेकर निकला तो बारात और साहिबा के घरवाले उसे देखते रह गए। कोई उसे ना तो रोक पाया और ना ही पकड़ पाया। Hindi Story

रास्ते में मिर्जा की मुठभेड़ एक पुराने दुश्मन से हुई- फिरोज। कहते हैं कि उसने फिरोज को मार दिया और इस खून खराबे को देख कर साहिबा डर गई। वो जानती थी उसके परिवार के लोग और उसके भाई उसे तलाश कर रहे होंगे। वो नहीं चाहती थी कि खूनखराबा हो। वो नहीं चाहती थी कि मिर्जा के हाथ उसके परिवार के खून से रंगे जाएं।

उसने मिर्जा से निकल चलने को कहा लेकिन मिर्जा को अपने तीर-कमान पर अभिमान था। उसने भागने से इंकार कर दिया और एक पहाड़ी पर चढ़ साहिबा के भाइयों का इंतजार करने लगा। रात होने लगी तो मिर्जा की आंख लग गई।

साहिबा के कारण मारा गया मिर्जा
साहिबा मिर्जा से अनुनय-विनय करती रही, चलने को कहती रही लेकिन वो नहीं माना। उसके पास 300 तीर थे और उसका निशाना अचूक था। उसे भरोसा था कि कोई उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकता लेकिन होनी को तो कुछ और ही मंजूर था। (Mirza and Sahiba Hindi love Story)

साहिबा उसने परिवार को भी मरता नहीं देख सकती थी और अपने मिर्जा को भी। मिर्जा की आंख लगने के बाद उसने 300 तीरों को तोड़ कर फेंक दिया और कमान को पेड़ की ऊंचाई पर टांग दिया। थोड़ी ही देर में उसके भाई उस मैदान में पहुंच गए।

मिर्जा उठा तो उसने अपने हथियार नादारद पाए। लेकिन उसे साहिबा पर गुस्सा नहीं आया। वह उसकी आखों से दिल की बात समझ गया। साहिबा के भाइयों ने मिर्जा को मौत के घाट उतार दिया।

एक कहानी में साहिबा मर जाती है। वह अपने भाईयों को रोकने के लिए मिर्जा के सामने खड़ी हो जाती है लेकिन उनके तीर दोनों को चीर देते हैं और दोनों शरशय्या पर हमेशा के लिए सो जाते हैं।

एक दूसरी कहानी भी है जिसमें मिर्जा साहिबा को जिंदा रहने के लिए कहता है और फिर साहिबा जिंदा रहती है। लेकिन ऐसे जैसे मन मिर्जा तन साहिबा। यानि साहिबा के शरीर में मिर्जा का दिल।
कौन सा अंत सच है? नहीं पता लेकिन ये कहानी जितनी पुरानी है उतनी है दर्द से भरी भी है। मिर्जा और साहिबा की ये अमर प्रेम कहानी पंजाब के लोकगीतों में अक्सर सुनने को मिल जाती है. (Mirza and Sahiba Hindi love Story)

मिर्जा साहिबा की प्रेम कहानी, मिर्जा साहिबा, साहिबा मिर्जा, मिर्जा साहिबा लव स्टोरी, Mirza Sahiba Story in Hindi, Sahiba Mirza Story in Hindi, Mirza Sahiba Ki Kahani, Mirza and Sahiba Story in Hindi, Mirza and Sahiba Hindi Love Story, Sahiba Love Story, Mirza Love Story, Mirza Aur Sahiba Ki Kahani

ये भी पढ़े –

बीरबल और चोर की कहानी, Birbal Aur Chor Ki Kahani, हिंदी कहानी बीरबल ने चोर को पकड़ा, Birbal Caught the Thief in Hindi, Birbal Aur Chor Ki Kahani

बिल्ली के गले मे घंटी हिंदी कहानी, Billi Ke Gale Me Ghanti Hindi Kahani, बिल्ली की कहानी, कैट की कहानी, बिल्ली चुहे की कहानी, Billi Chuhe Ki Kahani

जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Story In Hindi, जैसे को तैसा कहानी, Jaise Ko Taisa Kahani, जैसे को तैसा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Hindi Story

हिंदी कहानी खरगोश और कछुआ, खरगोश और कछुआ की कहानी हिंदी में लिखी हुई, कछुआ और खरगोश की कहानी, Kachhua Aur Khargosh Ki Kahani Hindi Mein

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

निक नाम, निक नाम फॉर बॉयज, निक नाम फॉर गर्ल्स, Cute Nicknames for Baby Boy Indian, Cute Nicknames for Baby Girl Indian, गर्ल्स निक नाम इन हिंदी, निक नाम लिस्ट

ज्यादा नींद आने के कारण और उपाय, Jyada Nind Kyon Aati Hai, Jyada Neend Aane Ka Karan, ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Neend Aane Ka Reason

बच्चों के नये नाम की लिस्ट , बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम , हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम

Romeo and Juliet love story

रोमियो जूलियट, रोमियो और जूलियट की कहानी, Romeo Aur Juliet Ki Kahani, रोमियो जूलिएट स्टोरी इन हिंदी, Romeo and Juliet Love Story in Hindi, रोमियो जूलियट की कहानी, Romeo Juliet Ki Kahani, रोमियो एंड जूलियट स्टोरी इन हिंदी, रोमियो और जूलियट की प्रेम कहानी, Romeo and Juliet in Hindi, Story of Romeo and Juliet in Hindi, Romeo and Juliet Real Story in Hindi, Love Story of Romeo and Juliet in Hindi

रोमियो जूलियट, रोमियो और जूलियट की कहानी, Romeo Aur Juliet Ki Kahani, रोमियो जूलिएट स्टोरी इन हिंदी, Romeo and Juliet Love Story in Hindi, रोमियो जूलियट की कहानी, Romeo Juliet Ki Kahani, रोमियो एंड जूलियट स्टोरी इन हिंदी, रोमियो और जूलियट की प्रेम कहानी, Romeo and Juliet in Hindi, Story of Romeo and Juliet in Hindi, Romeo and Juliet Real Story in Hindi, Love Story of Romeo and Juliet in Hindi

रोमियो और जूलियट की कहानी, Romeo Aur Juliet Ki Kahani
रोमियो जूलियट- रोमियो और जूलियट की कहानी इटली का वेरोना नाम के शहर कि है. शहर के दो परिवार कैपुलेट और मोंटेग्यू के बीच नफरत और शत्रुता है. रोमियो जो कि मोंटेग्यू परिवार का लड़का है, वह रोज़ालिन से प्यार करता हैI रोज़ालिन लार्ड कैपुलेट की भतीजी है. कैपुलेट परिवार की एक दावत और नृत्य पार्टी में रोमियो और उसका चचेरा भाई बेनवोलियो चोरी छुपे शामिल हो जाते हैं. यहाँ रोमियो की मुलाक़ात जूलियट से होती है और दोनों एक दुसरे से प्यार करने लग जाते हैं.

बाद में दोनों को एहसास होता है कि उनके परिवारों के बीच की नफरत के कारण उनकी शादी नहीं हो पायेगी. रोमियो के करीबी फ्रायर लारेंस जो कि एक पादरी हैं वो उन दोनों की चर्च में गुप्त रूप से शादी करवा देते हैं. वो सोचते हैं कि उचित समय आने पर इस शादी के बारे में दोनों परिवारों को बता दिया जायेगा और शायद इस शादी से दोनों परिवारों के मध्य की नफरत भी मिट जाएगी. इस शादी की गवाह जूलियट की एक नौकरानी भी है जो जूलियट के लिए उसकी निजी नर्स की भूमिका भी निभाती है. मरक्युश्यो, रोमियो का खास मित्र है और टिबोल्ट, जूलियट की माँ के भाई का पुत्र है. लेकिन दोनों को उनकी शादी या प्यार के बारे में बिल्कुल नहीं पता. एक दिन दोनों के बीच में लड़ाई हो जाती है. रोमियो आकर बीच बचाव करता है लेकिन टिबोल्ट मौका पाते ही तलवार से मरक्युश्यो को मौत के घाट उतार देता है. अब रोमियो अपना आपा खो देता है और टिबोल्ट का पीछा करता है और उसे तलवार के द्वंद युद्ध में मौत के घाट उतार देता है.

शहर में दो हत्याएं होने की खबर वेरोना के राजकुमार के पास पहुँचती है. राजकुमार रोमियो को अगले दिन का सूरज निकलने से पहले सदा के लिए वेरोना शहर छोड़ कर चले जाने की सज़ा दे देता है जबकि जूलियट की माँ रोमियो के लिए मौत की सज़ा की मांग करती है. उसी रात रोमियो चोरी से जूलियट से मिलने आता है और वो सुबह उस से सदा के लिए विदा लेकर मान्टुआ शहर की ओर चला जाता है. जूलियट बहुत दुखी है लेकिन वो किसी को भी अपनी शादी के बारे में बता नहीं पाती. उसके पिता उसकी शादी वेरोना शहर के राजकुमार के ही एक रिश्तेदार काउंट पेरिस से तय कर देते हैं. जूलियट शादी के लिए राज़ी नहीं होती. वह फ्रायर लारेंस पादरी के पास जाती है और आत्महत्या की इच्छा ज़ाहिर करती है.

इस पर पादरी उसे एक उपाय बताते है और उसे एक विशेष बेहोशी की दवा देते है. ये दवा उसे इस तरह से बेहोश कर देगी कि सभी उसे मरा हुआ समझ लेंगे और इस दवा का असर एक निश्चित समय तक रहेगा. योजना के अनुसार जूलियट को रात को सोने से पहले इसे पीना है और अकेले सोना है , सुबह होते ही सभी उसे मरा हुआ समझेंगे और फिर उसकी लाश को शवगृह में रख दिया जायेगा, और बाद में उसके होश में आने पर उसे रोमियो के पास भेज दिया जायेगा और रोमियो को भी इस योजना के बारे में संदेश भेज कर सूचित कर दिया जायेगा. पूरी योजना समझने के बाद जूलियट ख़ुशी ख़ुशी घर वापस चली जाती है और अपने पिता से माफ़ी मांगती है और काउंट पेरिस से शादी के लिए सहमती दे देती है. अगले दिन के लिए उसकी शादी की घोषणा कर दी जाती है. जूलियट योजना के अनुसार वो दवाई लेती है और सुबह सभी उसे मरा हुआ समझ लेते हैं.

काउंट पेरिस को भी जूलियट की अकस्मात् मौत का पता चलता है. पादरी फ्रायर लारेंस अपने एक सन्देशवाहक को पत्र देकर रोमियो के पास भेज देते हैं. इतने में जूलियट को अंतिम विदाई दी जाती है. बल्थासार, जो कि रोमियो के परिवार का नौकर है, वो जूलियट की मौत की खबर देने के लिए रोमियो के पास जाता है. अब कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ आता है कि पादरी फ्रायर लारेंस का भेजा हुआ सन्देशवाहक रोमियो के पास पहुँच नहीं पाता, उसे किसी की चिकित्सा के लिए रास्ते में ही रोक लिया जाता है जबकि बल्थासार रोमियो के पास पहुँच कर उसे जूलियट की मौत की दुखद खबर देता है. ये खबर सुनकर रोमियो को एक सदमा लगता है और वह एक छोटे से पात्र में ज़हर लेकर आता है. बल्थासार को इस ज़हर के बारे में पता नहीं चलता. दोनों वेरोना शहर के लिए रवाना हो जाते हैं. शवगृह के बाहर काउंट पेरिस, जो वहां शोक के लिए आया था, रोमियो को देख लेता है और वो रोमियो को युद्ध के लिए ललकारता है जिसमे काउंट पेरिस मारा जाता है. रोमियो अंदर पहुँच कर जूलियट की लाश को देखता है. भरे हृदय से रोमियो जुलियट को विदाई देता है और ज़हर पी लेता है. इतने में जूलियट को होश आता है और उसे एहसास होता है कि रोमियो ने ज़हर पी लिया. रोमियो में अब इतनी सांसे नहीं बची कि वो कुछ समझ सके. इतने में पादरी फ्रायर लारेंस वहां आ जाता और जूलियट, जो रोमियो की मौत के सदमे में है और फ्रायर लारेंस के रोकने के बावजूद, एक खंजर से आत्महत्या कर लेती है.

बाद में दोनों परिवारों के लोग भी वहां पहुँच जाते हैं. पादरी फ्रायर लारेंस दोनों की शादी और इस योजना में अपनी भूमिका स्वीकार करता है और दोनों की मौत पर अफ़सोस प्रकट करता है. अगले दिन वेरोना शहर का राजकुमार अपने दरबार में दोनों परिवारों की दुश्मनी को रोमियो और जूलियट की दुखदायी मौत के लिए जिम्मेदार ठहराता है और आगे से मिल जुल कर रहने का आह्वान करता है. दोनों परिवारों के लोग नफरत भुला कर गले मिलते हैं. इस तरह से रोमियो और जूलियट की इस प्रेम कहानी का त्रासदिक अंत हो जाता है.

ये भी पढ़े –

बीरबल और चोर की कहानी, Birbal Aur Chor Ki Kahani, हिंदी कहानी बीरबल ने चोर को पकड़ा, Birbal Caught the Thief in Hindi, Birbal Aur Chor Ki Kahani

बिल्ली के गले मे घंटी हिंदी कहानी, Billi Ke Gale Me Ghanti Hindi Kahani, बिल्ली की कहानी, कैट की कहानी, बिल्ली चुहे की कहानी, Billi Chuhe Ki Kahani

जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Story In Hindi, जैसे को तैसा कहानी, Jaise Ko Taisa Kahani, जैसे को तैसा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Hindi Story

हिंदी कहानी खरगोश और कछुआ, खरगोश और कछुआ की कहानी हिंदी में लिखी हुई, कछुआ और खरगोश की कहानी, Kachhua Aur Khargosh Ki Kahani Hindi Mein

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

निक नाम, निक नाम फॉर बॉयज, निक नाम फॉर गर्ल्स, Cute Nicknames for Baby Boy Indian, Cute Nicknames for Baby Girl Indian, गर्ल्स निक नाम इन हिंदी, निक नाम लिस्ट

ज्यादा नींद आने के कारण और उपाय, Jyada Nind Kyon Aati Hai, Jyada Neend Aane Ka Karan, ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Neend Aane Ka Reason

बच्चों के नये नाम की लिस्ट , बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम , हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम

Akbar fell in love with Roopmati

अकबर रूपमती, अकबर और रूपमती की प्रेम कहानी, Akbar Aur Roopmati Ki Prem Kahani, अकबर एंड रूपमती स्टोरी इन हिंदी, Akbar And Roopmati Story In Hindi, रूपमती और अकबर का प्यार, Roopmati Aur Akbar Ka Pyar, अकबर एंड रूपमती लव स्टोरी इन हिंदी, Akbar And Roopmati Love Story In Hindi, Akbar Roopmati In Hindi, Story Of Akbar And Roopmati In Hindi

अकबर रूपमती, अकबर और रूपमती की प्रेम कहानी, Akbar Aur Roopmati Ki Prem Kahani, अकबर एंड रूपमती स्टोरी इन हिंदी, Akbar And Roopmati Story In Hindi, रूपमती और अकबर का प्यार, Roopmati Aur Akbar Ka Pyar, अकबर एंड रूपमती लव स्टोरी इन हिंदी, Akbar And Roopmati Love Story In Hindi, Akbar Roopmati In Hindi, Story Of Akbar And Roopmati In Hindi

अकबर और रूपमती की प्रेम कहानी, Akbar Aur Roopmati Ki Prem Kahani
मांडू की रानी और सुल्तान बाज बहादुर की बेगम रूपमती से अकबर को प्रेम हो गया था। रानी रूपमती को पाने के लिए अकबर ने एक साजिश के तहत सुल्तान बाज बहादुर पर ने सिर्फ हमला करवाया था, बल्कि उन्हें बंदी भी बना लिया था और रानी को अपने पति से अलग करना चाहा था। इस बात से दुखी रानी रूपमती ने विष पीकर अपनी जान दे दी थी। (Akbar Fell In Love With Roopmati Hindi Love Story)

इस प्रेम की अनोखी दास्तां के बारे में जानकर अकबर को बहुत पछतावा हुआ। दो प्रेमियों को अलग करने का जिम्मेदार खुद को मानने वाले अकबर के आदेश पर रानी रूपमती के शव को ससम्मान सारंगपुर भेजकर दफनाया गया। इतना ही नहीं अकबर ने रानी की मजार भी बनवाई। रानी की मौत से दुखी अकबर ने फौरन बंधक बनाए सुल्तान बाज बहादुर को आजाद कर दिया। मुक्त होते ही बाज बहादुर को अकबर ने मिलने के लिए अपने दरबार में बुलाया।

बाज बहादुर ने अकबर से अपनी अंतिम इच्छा जाहिर करते हुए सारंगपुर जाने की बात कही। इस पर अकबर ने बाज बहादुर को दिल्ली से पालकी में बैठाकर सारंगपुर भिजवाया। यहां बाज बहादुर ने रूपमती की मजार पर सिर पटक-पटक कर जान दे दी। बाद में रूपमती के पास में ही बाज बहादुर की मजार भी बनाई गई।

इतना ही नहीं अकबर ने प्रेमिका की समाधि पर जान देने वाले बाज बहादुर का मकबरा भी बनवाया। अकबर ने बाज बहादुर के मकबरा पर आशिक ए सादिक और रानी रूपमति की समाधि पर ‘शहीदे ए वफा’ लिखवाया था। हालांकि वह शिलालेख अब वहां मौजूद नहीं है, लेकिन जानने वाले इसे इसी नाम से पुकारते हैं।

ये भी पढ़े –

बीरबल और चोर की कहानी, Birbal Aur Chor Ki Kahani, हिंदी कहानी बीरबल ने चोर को पकड़ा, Birbal Caught the Thief in Hindi, Birbal Aur Chor Ki Kahani

बिल्ली के गले मे घंटी हिंदी कहानी, Billi Ke Gale Me Ghanti Hindi Kahani, बिल्ली की कहानी, कैट की कहानी, बिल्ली चुहे की कहानी, Billi Chuhe Ki Kahani

जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Story In Hindi, जैसे को तैसा कहानी, Jaise Ko Taisa Kahani, जैसे को तैसा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Hindi Story

हिंदी कहानी खरगोश और कछुआ, खरगोश और कछुआ की कहानी हिंदी में लिखी हुई, कछुआ और खरगोश की कहानी, Kachhua Aur Khargosh Ki Kahani Hindi Mein

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

निक नाम, निक नाम फॉर बॉयज, निक नाम फॉर गर्ल्स, Cute Nicknames for Baby Boy Indian, Cute Nicknames for Baby Girl Indian, गर्ल्स निक नाम इन हिंदी, निक नाम लिस्ट

ज्यादा नींद आने के कारण और उपाय, Jyada Nind Kyon Aati Hai, Jyada Neend Aane Ka Karan, ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Neend Aane Ka Reason

बच्चों के नये नाम की लिस्ट , बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम , हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम

Hindi Love story of Prithviraj and Sanyogita

पृथ्वीराज संयोगिता, Prithviraj Sanyogita, पृथ्वीराज चौहान और संयोगिता की प्रेम कहानी, Prithviraj Chauhan and Sanyogita Love Story in Hindi, Prithviraj Chauhan Love Story, Prithviraj Chauhan Wife in Hindi, Rajkumari Sanyogita, पृथ्वीराज चौहान और संयोगिता की शादी, पृथ्वीराज की कहानी, Sanyogita in Hindi, पृथ्वीराज चौहान संयोगिता, पृथ्वीराज चौहान और संयोगिता की कहानी, संयोगिता स्वयंवर, Prithviraj Chauhan Aur Sanyogita Ki Prem Kahani

पृथ्वीराज संयोगिता, Prithviraj Sanyogita, पृथ्वीराज चौहान और संयोगिता की प्रेम कहानी, Prithviraj Chauhan and Sanyogita Love Story in Hindi, Prithviraj Chauhan Love Story, Prithviraj Chauhan Wife in Hindi, Rajkumari Sanyogita, पृथ्वीराज चौहान और संयोगिता की शादी, पृथ्वीराज की कहानी, Sanyogita in Hindi, पृथ्वीराज चौहान संयोगिता, पृथ्वीराज चौहान और संयोगिता की कहानी, संयोगिता स्वयंवर, Prithviraj Chauhan Aur Sanyogita Ki Prem Kahani

पृथ्वीराज चौहान और संयोगिता की प्रेम कहानी, Prithviraj Sanyogita
Hindi Story : अजमेर के राजा सोमेश्वर और रानी कर्पूरी देवी के यहाँ सन 1149 में एक पुत्र पैदा हुआ। जो आगे चलकर भारतीय इतिहास में महान हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान के नाम से प्रसिद्ध हुआ। उसे दिल्ली के अंतिम हिंदू शासक के रूप मे भी जाना जाता है। संयोंगिता कन्नौज के राजा जयचंद की पुत्री थी। वह बड़ी ही सुन्दर थी। (Hindi Love story of Prithviraj and Sanyogita)

उसने पृथ्वीराज की वीरता के अनेक किस्से सुने थे इसलिए वो अपनी सहेलियों से भी पृथ्वीराज के बारे में जानकारियां लेती रहती थी। एक बार दिल्ली से पन्नाराय चित्रकार दिल्ली के सौंदर्य और राजा पृथ्वीराज के भी कुछ दुर्लभ चित्र लेकर कन्नौज राज्य में आया हुआ था। राजकुमारी संयोंगिता को जब यह पता चला तो उसने चित्रकार को अपने पास बुलाया और महाराज पृथ्वीराज का चित्र दिखाने का आग्रह किया। पृथ्वीराज का चित्र देखते ही वो मोहित हो गयी। चित्रकार पन्नाराय ने राजकुमारी का चित्र बनाकर उसको पृथ्वीराज के सामने प्रस्तुत किया और राजकुमारी के मन की बात बताई जिन्हें सुनकर और चित्र देखकर पृथ्वीराज भी राजकुमारी संयोगिता पर मोहित हो गए।

दोनों का प्रेम परवान चढ़ रहा था लेकिन संयोगिता के पिता कन्नौज के महाराज जयचंद्र की पृथ्वीराज से दुश्मनी थी। जयचंद्र ने संयोगिता के स्वयंवर में पृथ्वीराज को नहीं बुलाया, उल्टा उन्हें अपमानित करने के लिए उनका पुतला दरबान के रूप में दरवाजे पर रखवा दिया। लेकिन पृथ्वीराज बेधड़क स्वयंवर में आए और सबके सामने राजकुमारी को उसकी सहमती से अगवा कर ले गए। राजधानी पहुंचकर दोनों ने शादी कर ली।

कहते हैं कि इसी अपमान का बदला लेने के लिए जयचंद्र ने मोहम्मद गौरी को भारत पर आक्रमण करने का निमंत्रण दिया। गौरी को 17 बार पृथ्वीराज ने हराया। 18वीं बार गौरी ने पृथ्वीराज को धोखे से बंदी बनाया और अपने देश ले गया, वहां उसने गर्म सलाखों से पृथ्वीराज की आंखे तक फोड़ दीं।

ग़ौरी ने पृथ्वीराज से अन्तिम ईच्‍छा पूछी। पृथ्वीराज के अभिन्न सखा चंदबरदायी ने कहा की पृथ्वीराज शब्द भेदी बाण छोड़ने में माहिर सूरमा है इसलिए इन्हें अपनी इस कला के प्रदर्शन की अनुमति दी जाएँ। ग़ौरी ने मंजूरी दे दी।

प्रदर्शन के दौरान ग़ौरी ने जैसे ही अपने मुंह से शाबास लफ्ज निकाला तो उसी समय चंदबरदायी ने पृथ्वीराज से कहा – चार बाँस चौबीस गज अंगुल अष्‍ठ प्रमाण, ता ऊपर है सुल्तान, मत चूको रे चौहान। इतना इशारा पाते ही अंधे पृथ्वीराज ने ग़ौरी की आवाज पर शब्दभेदी बाण छोड़ दिया। जिससे गौरी मारा गया। अपनी दुर्गति से बचने के लिए चंदबरदायी और पृथ्वीराज दोनों ने एक-दूसरे का वध कर दिया। जब संयोगिता को इस बात की खबर मिली तो उन्होंने भी सती होकर जान दे दी। इस तरह इस प्रेम कहानी का अंत हो गया। (Hindi Love story of Prithviraj and Sanyogita)

ये भी पढ़े –

बीरबल और चोर की कहानी, Birbal Aur Chor Ki Kahani, हिंदी कहानी बीरबल ने चोर को पकड़ा, Birbal Caught the Thief in Hindi, Birbal Aur Chor Ki Kahani

बिल्ली के गले मे घंटी हिंदी कहानी, Billi Ke Gale Me Ghanti Hindi Kahani, बिल्ली की कहानी, कैट की कहानी, बिल्ली चुहे की कहानी, Billi Chuhe Ki Kahani

जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Story In Hindi, जैसे को तैसा कहानी, Jaise Ko Taisa Kahani, जैसे को तैसा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Hindi Story

हिंदी कहानी खरगोश और कछुआ, खरगोश और कछुआ की कहानी हिंदी में लिखी हुई, कछुआ और खरगोश की कहानी, Kachhua Aur Khargosh Ki Kahani Hindi Mein

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

निक नाम, निक नाम फॉर बॉयज, निक नाम फॉर गर्ल्स, Cute Nicknames for Baby Boy Indian, Cute Nicknames for Baby Girl Indian, गर्ल्स निक नाम इन हिंदी, निक नाम लिस्ट

ज्यादा नींद आने के कारण और उपाय, Jyada Nind Kyon Aati Hai, Jyada Neend Aane Ka Karan, ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Neend Aane Ka Reason

बच्चों के नये नाम की लिस्ट , बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम , हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम

Hindi Love story Bajirao and Mastani

मस्तानी, Mastani, बाजीराव, Bajirao, बाजीराव और मस्तानी की प्रेम कहानी, बाजीराव मस्तानी की कहानी, Bajirao Aur Mastani Ki Prem Kahani, Bajirao Mastani Story in Hindi, Bajirao Mastani Real Story in Hindi, Bajirao Mastani History in Hindi, Bajirao Mastani Ki Kahani, Mastani Ki Kahani, Bajirao Ki Kahani, Bajirao and Mastani Love Story, Bajirao Mastani Love Story in Hindi

मस्तानी, Mastani, बाजीराव, Bajirao, बाजीराव और मस्तानी की प्रेम कहानी, बाजीराव मस्तानी की कहानी, Bajirao Aur Mastani Ki Prem Kahani, Bajirao Mastani Story in Hindi, Bajirao Mastani Real Story in Hindi, Bajirao Mastani History in Hindi, Bajirao Mastani Ki Kahani, Mastani Ki Kahani, Bajirao Ki Kahani, Bajirao and Mastani Love Story, Bajirao Mastani Love Story in Hindi

बाजीराव और मस्तानी की प्रेम कहानी
ये भारत के मराठा इतिहास की सबसे दिलचस्प प्रेम कहानी है। हालांकि, एक-दूसरे से मिलने से लेकर मौत तक, इतिहास में दोनों के बारे में कई तरह की बातें हैं। लेकिन सभी कहानियों में एक बात समान है। वह है इन दोनों के बीच की बेपनाह मोहब्बत। जी हां, यह कहानी बाजीराव-मस्तानी की ही है।

मस्‍तानी एक हिंदु महाराजा, महाराजा छत्रसाल बुंदेला की बेटी थीं। उनकी मां रुहानी बाई हैदराबाद के निजाम के राज दरबार में नृत्‍यांगना थीं। महराजा छत्रसाल ने बुंदलेखंड में पन्‍ना राज्य की स्‍थापना की थी। कुछ लोग यह भी कहते हैं कि मस्‍तानी को महाराजा छत्रसाल ने गोद लिया था। मस्‍तानी की परवरिश मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले से 15 किमी दूर मऊ साहनिया में हुई थी। इस जगह पर मस्‍तानी के नाम पर एक मस्‍तानी महल भी बना हुआ है। (Hindi Love story Bajirao and Mastani)

मस्‍तानी इसी महल में रहतीं और डांस करती थीं। मस्‍तानी को राजनीति, युद्धकला, तलवारबाजी और घर के कामों का पूरा प्रशिक्षण मिला हुआ था। मस्‍तानी के बारे में कहा जाता है कि वह बहुत ही खूबसूरत थीं। उन्‍हें अपनी मां की ही तरह नृत्य में कुशलता हासिल थी। कहते हैं कि मस्‍तानी ने बाजीराव की मृत्‍यु के बाद जहर खाकर आत्‍महत्‍या कर ली थी। ुछ लोग कहते हैं कि उन्‍होंने अपनी अंगूठी में मौजूद जहर को पी लिया था। वहीं कुछ लोग मानते हैं कि वह बाजीराव की चिता में कूद कर सती हो गई थीं। उनकी मौत सन 1740 में बताई जाती है।

300 साल पहले, सन 1700 में छत्रपति शिवाजी के पौत्र शाहूजी महाराज ने बाजीराव के पिता बालाजी विश्वनाथ की मौत के बाद उसे अपने राज्य का पेशवा यानी प्रधानमंत्री नियुक्त किया। 20 साल की उम्र में कमान संभालने वाले बाजीराव ने अपने शासन काल में 41 युद्ध लड़े और सभी में जीत हासिल की।

बचपन से बाजीराव को घुड़सवारी, तीरंदाजी, तलवार, भाला, बनेठी, लाठी आदि चलाने का शौक था। पेशवा बनने के बाद अगले बीस वर्षों तक बाजीराव मराठा साम्राज्य को बढ़ाते चले गए। इसके लिए उन्हें अपने दुश्मनों से लगातार लड़ाईयां करनी पड़ी। अपनी वीरता, अपनी नेतृत्व क्षमता व कौशल युद्ध योजना द्वारा यह वीर हर लड़ाई को जीतता गया।

विश्व इतिहास में बाजीराव पेशवा ऐसा अकेला योद्धा माना जाता है जो कभी नहीं हारा। एक बड़ी बात ये भी थी कि बाजीराव युद्ध मैदान में अपनी सेना को हमेशा प्रेरित करने का काम करते थे। बाजीराव की सेनाएं भगवा झंडों के साथ मैदान में उतरती थी और उसकी जुबां पर ‘हर हर महादेव’ का नारा रहता था। बाजीराव में राजनीतिक और सैनिक नेतृत्व की अदम्य क्षमता भरी हुई थी।

इसी वजह से वह मराठा साम्राज्य को डक्कन से लेकर उत्तर भारत के हिस्से तक बढ़ा सके, जहां शासक शाहू 1 का शासन हुआ। युद्धक्षेत्र की तरह ही बाजीराव का निजी जीवन भी चर्चा के केंद्र में रहा। एक विशुद्ध हिंदू होने के बावजूद, बाजीराव ने दो बार शादी की थी। बाजीराव की पहली पत्नी का नाम काशीबाई और दूसरी मस्तानी थी। (Hindi Love story Bajirao and Mastani)

सन 1727-28 के दौरान महाराजा छत्रसाल के राज्य पर मुसलमान शासक मोहम्मद खान बंगश ने हमला बोल दिया था। बताया जाता है कि खुद पर खतरा बढ़ता देख छत्रसाल ने बाजीराव को एक गुप्त संदेश भिजवाया। इस संदेश में छत्रसाल ने बाजीराव से मदद की मांग की। बाजीराव ने छत्रसाल की मदद की और मोहम्मद बंगश से उनका साम्राज्य बचा लिया। छत्रसाल, बाजीराव की मदद से काफी खुश हुए और खुद को उनका कर्जदार समझने लगे।

इस कर्ज को उतारने के लिए छत्रसाल ने अपनी बेटी मस्‍तानी, बाजीराव को उपहार में दे दी थी। बाजीराव पहली ही नजर में मस्‍तानी को दिल दे बैठे थे। उन्‍होंने मस्‍तानी को अपनी दूसरी पत्‍नी बनाया। मस्‍तानी से पहले उनका विवाह काशीबाई नामक महिला हो चुका था।

मस्तानी ने बाजीराव के दिल में एक विशेष स्थान बना लिया था। उसने अपने जीवन में हिंदू स्त्रियों के रीति रिवाजों को अपना लिया था। बाजीराव से संबंध के कारण मस्तानी को भी अनेक दुख झेलने पड़े पर बाजीराव के प्रति उसका प्रेम अटूट था। मस्तानी का सन 1734 में एक बेटा हुआ। उसका नाम शमशेर बहादुर रखा गया। बाजीराव ने कालपी और बांदा की सूबेदारी उसे दी, शमशेर बहादुर ने पेशवा परिवार की बड़े लगन और परिश्रम से सेवा की। सन 1761 में शमशेर बहादुर मराठों की ओर से लड़ते हुए पानीपत के मैदान में मारा गया था।

1739 की शुरुआत में पेशवा बाजीराव और मस्तानी का रिश्ता तोडऩे के लिए लोगों ने असफल प्रयत्न किया गया। कुछ दिनों बाद बाजीराव को किसी काम से पूना छोडऩा पड़ा। मस्तानी पेशवा के साथ नहीं जा सकी। चिमाजी अप्पा और नाना साहब ने एक योजना बनाई। उन्होंने मस्तानी को पर्वती बाग (पूना) में कैद किया। बाजीराव को जब यह खबर मिली तो वे अत्यंत दुखी हुए। वे बीमार पड़ गए। इसी बीच मस्तानी कैद से बचकर बाजीराव के पास 4 नवम्बर 1739 ई0 को पटास पहुंची।।

1739 ई० के आरंभ में पेशवा बाजीराव और मस्तानी का संबंध विच्छेद कराने के असफल प्रयत्न किए गए। 1739 ई० के अंतिम दिनों में बाजीराव को आवश्यक कार्य से पूना छोड़ना पड़ा। मस्तानी पेशवा के साथ न जा सकी। चिमाजी अप्पा और नाना साहब ने मस्तानी के प्रति कठोर योजना बनाई। उन्होंने मस्तानी को पर्वती बाग में (पूना में) कैद किया। बाजीराव को जब यह समाचार मिला, वे अत्यंत दु:खित हुए। वे बीमार पड़ गए। इसी बीच अवसर पा मस्तानी कैद से बचकर बाजीराव के पास 4 नवम्बर 1739 ई० को पटास पहुँची। बाजीराव निश्चिंत हुए, पर यह स्थिति अधिक दिनों तक न रह सकी। शीघ्र ही पुरंदरे, काका मोरशेट तथा अन्य व्यक्ति पटास पहुँचे। उनके साथ पेशवा बाजीराव की माँ राधाबाई और उनकी पत्नी काशीबाई भी वहाँ पहुँची। उन्होंने मस्तानी को समझा बुझाकर लाना आवश्यक समझा। मस्तानी पूना लौटी। कट्टरपंथी लोग मस्तानी को मार ही डालना चाहते थे, क्योंकि उनके अनुसार सभी झंझटों का मूल वही थी। उन लोगों ने छत्रपति से आज्ञा भी लेने का प्रयत्न किया, परंतु छत्रपति राजा शाहू अधिक बुद्धिमान थे। उनके अधिकारी गोविंदराव ने 24 जनवरी 1740 ईस्वी को एक पत्र में लिखा है – मस्तानी के विषय पर मैंने निजी तौर पर राजा की इच्छा का पता लगा लिया है। बलपूर्वक पृथक्करण या व्यक्तिगत निरोध (बंदीवास) के प्रस्ताव के प्रति उस को गंभीर आपत्ति है। वह बाजीराव को किसी भी प्रकार अप्रसन्न किया जाना सहन नहीं करेगा, क्योंकि वह सदैव उसे प्रसन्न रखना चाहता है। दोष उस महिला का नहीं है। इस दोष का निराकरण उसी समय हो सकता है जब बाजीराव की ऐसी इच्छा हो। बाजीराव की भावनाओं के विरुद्ध हिंसा प्रयोग की कैसी भी सलाह राजा किसी भी कारण नहीं दे सकता। 1740 ई० के आरंभ में बाजीराव नासिरजंग से लड़ने के लिए निकल पड़े और गोदावरी नदी को पारकर औरंगाबाद के पास शत्रु को बुरी स्थिति में ला दिया। 27 फरवरी 1740 ई० को मुंगी शेगाँव में दोनों के बीच संधि हो गयी। बाजीराव के जीवन का यह अंतिम अभियान सिद्ध हुआ। उस समय कोई नहीं जानता था कि बाजीराव की मृत्यु सन्निकट है। 7 मार्च 1740 ईस्वी को नानासाहेब के नाम चिमना जी के पत्र से संदेह होता है कि बाजीराव हृदय से रुग्ण थे। चिमना जी ने इस पत्र में लिखा था कि जब से हम एक दूसरे से विदा हुए हैं, मुझको पूजनीय राव से कोई समाचार प्राप्त नहीं हुआ है। मैंने उसके विक्षिप्त मन को यथाशक्ति शांत करने का प्रयास किया, परंतु मालूम होता है कि ईश्वर की इच्छा कुछ और ही है। मैं नहीं जानता हूं कि हमारा क्या होने वाला है। मेरे पुणे वापस होते ही हम को चाहिए कि हम उसको (मस्तानी को) उसके पास भेज दें। स्पष्ट है कि बाजीराव अत्यंत व्याकुल था। मस्तानी के विरह तथा उसे मुक्त कराने में अपनी अक्षमता से उसे मानसिक क्लेश और क्षोभ था। 28 अप्रैल 1740 ईस्वी को अपनी पहली और अंतिम बीमारी से उसकी मृत्यु हुई। इस समय बाजीराव की आयु केवल 42 वर्ष की थी। उसकी मृत्यु के समय उसके पास उसकी क्षमाशील पत्नी काशीबाई भी थी।

मस्तानी का देहान्त
इतिहासकारो अनुसार मस्तानी अपने प्रियतम बाजीराव के साथ सती हो गयी। उन्होंने लिखा है कि इस संसार में वह अपने प्रियतम से अलग की गयी थी। वह अग्नि की भयंकर ज्वालाओं के बीच से गुजर कर दूसरे संसार में उसका स्वागत करने पहुंच गयी।[हालांकि यह बात विवादास्पद है। यह कहना कठिन है कि उसने आत्महत्या कर ली या शोक-प्रहार से वह मर गयी। उसका शव पाबल भेजा गया, जो पूना के पूरब में लगभग 20 मील पर एक छोटा सा गाँव है। यह गाँव बाजीराव ने उसको इनाम में दिया था। यहाँ पर एक साधारण-सी कब्र आने-जाने वालों को उसकी प्रेम-कथा तथा दुःखद मृत्यु का स्मरण दिलाती है। सर्वसम्मति से वह अपने समय की सर्वाधिक सुंदरी थी।

मस्तानी, Mastani, बाजीराव, Bajirao, बाजीराव और मस्तानी की प्रेम कहानी, बाजीराव मस्तानी की कहानी, Bajirao Aur Mastani Ki Prem Kahani, Bajirao Mastani Story in Hindi, Bajirao Mastani Real Story in Hindi, Bajirao Mastani History in Hindi, Bajirao Mastani Ki Kahani, Mastani Ki Kahani, Bajirao Ki Kahani, Bajirao and Mastani Love Story, Bajirao Mastani Love Story in Hindi

ये भी पढ़े –

बीरबल और चोर की कहानी, Birbal Aur Chor Ki Kahani, हिंदी कहानी बीरबल ने चोर को पकड़ा, Birbal Caught the Thief in Hindi, Birbal Aur Chor Ki Kahani

बिल्ली के गले मे घंटी हिंदी कहानी, Billi Ke Gale Me Ghanti Hindi Kahani, बिल्ली की कहानी, कैट की कहानी, बिल्ली चुहे की कहानी, Billi Chuhe Ki Kahani

जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Story In Hindi, जैसे को तैसा कहानी, Jaise Ko Taisa Kahani, जैसे को तैसा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी जैसे को तैसा, Jaise Ko Taisa Hindi Story

हिंदी कहानी खरगोश और कछुआ, खरगोश और कछुआ की कहानी हिंदी में लिखी हुई, कछुआ और खरगोश की कहानी, Kachhua Aur Khargosh Ki Kahani Hindi Mein

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

निक नाम, निक नाम फॉर बॉयज, निक नाम फॉर गर्ल्स, Cute Nicknames for Baby Boy Indian, Cute Nicknames for Baby Girl Indian, गर्ल्स निक नाम इन हिंदी, निक नाम लिस्ट

ज्यादा नींद आने के कारण और उपाय, Jyada Nind Kyon Aati Hai, Jyada Neend Aane Ka Karan, ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Neend Aane Ka Reason

बच्चों के नये नाम की लिस्ट , बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम , हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम