पौराणिक कथाएंहिन्दू धर्म

छठ व्रत कथा, छठ पूजा का इतिहास, Chhath Vrat Katha, Chhath Puja Pauranik Katha, छठ पूजा पौराणिक कथा, छठ माता की कथा, छठ महारानी की कहानी, छठ पूजा की कहानी, छठ मैया की कथा, Chhath Puja History, Chhath Mata Ki Katha, Chhath Maharani Ki Kahani, Chhath Maiya Ki Katha

छठ व्रत कथा, छठ पूजा का इतिहास, Chhath Vrat Katha, Chhath Puja Pauranik Katha, छठ पूजा पौराणिक कथा, छठ माता की कथा, छठ महारानी की कहानी, छठ पूजा की कहानी, छठ मैया की कथा, Chhath Puja History, Chhath Mata Ki Katha, Chhath Maharani Ki Kahani, Chhath Maiya Ki Katha

छठ व्रत कथा, छठ पूजा का इतिहास, Chhath Vrat Katha
हिंदुओं के लिए सभी त्‍योहारों का विशेष महत्‍व होता है और हर त्‍योहार को मनाने के पीछे पौराणिक महत्‍व और कथाएं होती हैं। इसी प्रकार आस्‍था के महापर्व के पीछे भी कई पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं। यह त्‍योहार विशेष रूप से बिहार, पूर्वांचल, झारखंड आदि क्षेत्रों में विशेष धूमधाम के साथ मनाया जाता है। मुख्‍य रूप से यह त्‍योहार बिहार की अस्मिता से जुड़ा पर्व है। आइए जानते हैं कैसे हुई इसकी शुरुआत और क्‍या हैं पौराणिक कथाएं…

छठ पर्व प्रियंवद और मालिनी की कहानी
पुराणों के मुताबिक राजा प्रियंवद को कोई संतान नहीं थी। तब महर्षि कश्यप ने पुत्र प्राप्ति के लिए यज्ञ कराकर प्रियंवद की पत्नी मालिनी को यज्ञ आहुति के लिए बनाई गई खीर दी। इससे उन्हें पुत्र हुआ, लेकिन वह मृत पैदा हुआ। प्रियंवद पुत्र को लेकर श्मशान गए और पुत्र वियोग में प्राण त्यागने लगे। उसी वक्त भगवान की मानस पुत्री देवसेना प्रकट हुईं और उन्होंने कहा- सृष्टि की मूल प्रवृत्ति के छठे अंश से उत्पन्न होने के कारण मैं षष्ठी कहलाती हूं। राजन तुम मेरी पूजा करो और इसके लिए दूसरों को भी प्रेरित करो। राजा ने पुत्र इच्छा से देवी षष्ठी का व्रत किया और उन्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। यह पूजा कार्तिक शुक्ल षष्ठी को हुई थी।

छठ पर्व कथाः राम-सीता ने की सूर्य की पूजा 
एक मान्यता के अनुसार, लंका पर विजय पाने के बाद रामराज्य की स्थापना के दिन कार्तिक शुक्ल षष्ठी को भगवान राम और माता सीता ने उपवास किया और सूर्यदेव की पूजा की। सप्तमी को सूर्योदय के वक्त फिर से अनुष्ठान कर सूर्यदेव से आशीर्वाद प्राप्त किया था। यही परंपरा अब तक चली आ रही है।

कर्ण ने शुरू की सूर्य देव की पूजा
एक दूसरी मान्यता के अनुसार, छठ पर्व की शुरुआत महाभारत काल में हुई थी। सबसे पहले सूर्यपुत्र कर्ण ने सूर्य देव की पूजा शुरू की। कर्ण भगवान सूर्य के परम भक्त थे। वह प्रतिदिन घंटों कमर तक पानी में खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य देते थे। सूर्य की कृपा से ही वह महान योद्धा बने। आज भी छठ में अर्घ्य दान की यही परंपरा प्रचलित है।

छठ पर्व से पांडवों को वापस मिला राजपाट
छठ पर्व के बारे में एक कथा और भी है। इसके अनुसार, जब पांडव अपना सारा राजपाट जुए में हार गए, तब द्रौपदी ने छठ व्रत रखा। उनकी मनोकामनाएं पूरी हुईं और पांडवों को राजपाट वापस मिल गया। लोक परंपरा के अनुसार, सूर्य देव और छठी मईया का संबंध भाई-बहन का है। इसलिए छठ के मौके पर सूर्य की आराधना फलदायी मानी गई है।

छठ व्रत कथा, छठ पूजा का इतिहास, Chhath Vrat Katha, Chhath Puja Pauranik Katha, छठ पूजा पौराणिक कथा, छठ माता की कथा, छठ महारानी की कहानी, छठ पूजा की कहानी, छठ मैया की कथा, Chhath Puja History, Chhath Mata Ki Katha, Chhath Maharani Ki Kahani, Chhath Maiya Ki Katha

ये भी पढ़े –

  1. 16 सोमवार व्रत विधि, 16 Somvar Vrat Vidhi In Hindi, 16 सोमवार व्रत कब से शुरू करें, सोलह सोमवार व्रत.
  2. नींद आने का मंत्र, Neend Aane Ka Mantr, जल्दी नींद आने का मंत्र, Jaldi Neend Aane Ka Mantra.
  3. बुध अष्टमी का व्रत कैसे करें, बुध अष्टमी व्रत पूजा विधि, बुधाष्टमी व्रत कथा, बुधाष्टमी पूजा मंत्र, बुधाष्टमी व्रत.
  4. बच्चों के नये नाम की लिस्ट, बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम.
  5. सामवेद क्या है, सामवेद में कितने मंत्र है, सामवेद संहिता, सामवेद पाठ, सामवेद का महत्व.
  6. शुक्ल पक्ष का अर्थ, कृष्ण पक्ष का अर्थ, शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष किसे कहते हैं, एक महीने में कितने पक्ष होते हैं?.
  7. सोमवार व्रत कैसे करें, सोमवार व्रत पूजन विधि नियम कथा आरती, प्रति सोमवार व्रत विधि, सोमवार व्रत.
  8. Hanuman Ji Ke 12 Naam, हनुमान जी के 12 नाम, श्री हनुमान जी के 12 नाम, हनुमान जी के 12 नाम का मंत्र.
  9. न्यूरोबियान फोर्ट टेबलेट किस काम आती है, न्यूरोबिन Forte, Neurobion Forte Tablet Uses in Hindi, Neurobion Forte.
  10. मां गौरी चालीसा, Maa Gauri Chalisa, मां गौरी चालीसा का लाभ, Mata Gauri Chalisa Ka Laabh.

Related Articles

Back to top button