हिंदी गजल शायरी: तीर पर तीर लगाओ तुम्हें डर किस का है – अमीर मीनाई (Tir Par Tir Lagao Tumhein Dar Kis Ka Hai- Ameer Minai Ghazal in Hindi)

तीर पर तीर लगाओ तुम्हें डर किस का है
सीना किस का है मिरी जान जिगर किस का है

ख़ौफ़-ए-मीज़ान-ए-क़यामत नहीं मुझ को ऐ दोस्त
तू अगर है मिरे पल्ले में तो डर किस का है

कोई आता है अदम से तो कोई जाता है
सख़्त दोनों में ख़ुदा जाने सफ़र किस का है

छुप रहा है क़फ़स-ए-तन में जो हर ताइर-ए-दिल
आँख खोले हुए शाहीन-ए-नज़र किस का है

नाम-ए-शाइर न सही शेर का मज़मून हो ख़ूब
फल से मतलब हमें क्या काम शजर किस का है

सैद करने से जो है ताइर-ए-दिल के मुंकिर
ऐ कमाँ-दार तिरे तीर में पर किस का है

मेरी हैरत का शब-ए-वस्ल ये बाइ’स है ‘अमीर’
सर ब-ज़ानू हूँ कि ज़ानू पे ये सर किस का है

tiir par tiir lagāo tumheñ Dar kis kā hai
siina kis kā hai mirī jaan jigar kis kā hai

ḳhauf-e-mīzān-e-qayāmat nahīñ mujh ko ai dost
tū agar hai mire palle meñ to Dar kis kā hai

koī aatā hai adam se to koī jaatā hai
saḳht donoñ meñ ḳhudā jaane safar kis kā hai

chhup rahā hai qafas-e-tan meñ jo har tā.ir-e-dil
aañkh khole hue shāhīn-e-nazar kis kā hai

nām-e-shā.ir na sahī sher kā mazmūn ho ḳhuub
phal se matlab hameñ kyā kaam shajar kis kā hai

said karne se jo hai tā.ir-e-dil ke munkir
ai kamāñ-dār tire tiir meñ par kis kā hai

merī hairat kā shab-e-vasl ye baa.is hai ‘amīr’
sar ba-zānū huuñ ki zaanū pe ye sar kis kā hai

Shayari, Shayari for Love, Shayari in Hindi, Sher o Shayari Hindi, Hindi Shayari on Dosti, शेरो शायरी