Sharab Ke Nuksan Alcohol Side Effects In Hindi Sharab Peena Sehat Ke Liye Hanikarak Hai Sharab Peene Ke Baad Daaru Ke Nuksan Whisky Pine Ke Nuksan Daru Pine Ke Nuksan

शराब के दुष्परिणाम, शराब के नुकसान, एल्कोहल के फायदे, शराब पीने के फायदे और नुकसान, दारु पीने से क्या होता है, शराब कितनी पीना चाहिए, खाली पेट शराब पीने के नुकसान, Sharab Ke Nuksan, Alcohol Side Effects In Hindi, Sharab Peena Sehat Ke Liye Hanikarak Hai, Sharab Peene Ke Baad, Daaru Ke Nuksan, Whisky Pine Ke Nuksan, Daru Pine Ke Nuksan

शराब के दुष्परिणाम, शराब के नुकसान, एल्कोहल के फायदे, शराब पीने के फायदे और नुकसान, दारु पीने से क्या होता है, शराब कितनी पीना चाहिए, खाली पेट शराब पीने के नुकसान, Sharab Ke Nuksan, Alcohol Side Effects In Hindi, Sharab Peena Sehat Ke Liye Hanikarak Hai, Sharab Peene Ke Baad, Daaru Ke Nuksan, Whisky Pine Ke Nuksan, Daru Pine Ke Nuksan  

फायदे – एल्कोहल के फायदे, शराब पीने के फायदे

अगर आप अल्कोहल को दवा के रूप मैं लेते है और सिर्फ उचित अनुपात में शराब का सेवन करते हैं तो इसके कुछ फायदे हो सकते है , सदियों से मनुष्य किसी न किसी रूप में मदिरा का सेवन करते आ रहे हैं, और तभी से उसके गुण और दोषों के बारे में चर्चा भी होती है. हालांकि दुनिया में जो भी चीज़ बनी है उसके गुण और दोष दोनों ही पहलू होते हैं. जैसा कि सभी जानते हैं कि हर चीज़ एक सीमा तक ही अच्छी होती है तो ऐसा ही कुछ शराब के साथ भी है.

  1. तनाव भी काम करता है अल्कोहल – अल्कोहल की थोड़ी मात्रा, मस्तिष्क की कोशिकाओं को और अधिक मज़बूत बनाती है, जो तनाव आदि विकसित होने से रोकती है.
  2. एल्कोहल हृदय रोगों के होने का खतरा कम होता है – शराब हृदय रोगों को काम कर सकता है , कुछ रिसर्च भी यही कहती है जैसे हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के पब्लिक हेल्थ स्कूल में एक स्टडी में पाया गया कि अगर शराब को सीमित मात्रा में पीते है तो ये अच्छे कोलेस्ट्रोल का स्तर बढ़ता है जो दिल को रोगों के प्रति सुरक्षा प्रदान करता है. शराब की सीमित मात्रा से इंसुलिन में बेहतर संवेदनशीलता आती है जो रक्त के थक्के ज़माने वाले कारकों को प्रभावित करता है. इसके कारण हृदय की धमनियों, गर्दन और मस्तिष्क को ब्लॉक करने वाले थक्के नहीं जमते और हार्ट अटैक का खतरा भी कम होता है.
  3. एल्कोहल जीवनकाल बढ़ा सकता है – शराब पीने से आपकी जीवन की अवधि में भी बढ़ौतरी हो सकती है. एक अध्ययन में यह बताया गया है कि कभी-कभी ड्रिंक करने वाले पुरुषों द्वारा दिन में कम से कम दो ड्रिंक और महिलाओं के लिए एक या डेढ़ ड्रिंक पीने से मृत्यु की संभावना 18 प्रतिशत तक कम होती सकती है. एल्कोहल विशेषज्ञों के अनुसार,अगर आप खाना खाते समय थोड़ी मात्रा में ड्रिंक करे तो ये ड्रिंक करने का सही तरीका होता है.
  4. इससे सेक्सुअल लाइफ में भी सुधार होता है – एक शोध में यह पाया गया है कि जिस प्रकार रेड वाइन दिल के रोगों में फायदेमंद होती है ठीक उसी प्रकार शराब से नपुंसकता में भी सुधार होता है. जर्नल ऑफ सेक्सुअल मेडिसिन में प्रकाशित 2009 के एक स्टडी के अनुसार, शोधकर्ताओं ने पाया कि शराब पीने वालों में 25 से 30 प्रतिशत तक नपुंसकता की समस्या में कमी आयी.
  5. ठण्ड से भी बचाता है – अल्कोहल में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते है.शराब ठण्ड जैसे की सर्दी जुकाम से भी बचाता है कार्नेगी मेलॉन यूनिवर्सिटी में मनोविज्ञान विभाग के मुताबिक, जहां धूम्रपान की वजह से सर्दी जुकाम होने की सम्भावना बढ़ती है वहीं सीमित मात्रा में शराब का सेवन करने से आम सर्दी जुकाम बहुत कम होती है. यह अध्ययन 1993 में 391 वयस्कों के साथ आयोजित किया गया था. न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, 2002 में स्पैनिश शोधकर्ताओं ने पाया कि हर हफ्ते आठ से 14 गिलास वाइन पीने से, विशेष रूप से रेड वाइन, मौसम बदलने पर होने वाली आम सर्दी खांसी में 60 प्रतिशत की कमी होती है. ऐसा अल्कोहल के एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण होता है.
  6. अल्जाइमर रोग और डिमेंशिया – अल्कोहल अल्जाइमर रोग और डिमेंशिया विकसित होने की संभावना को भी कम होती है. न्यूरोसाइकैट्रिक डिसीज और ट्रीटमेंट के जर्नल में बताया गया है, कि सीमित मात्रा में मदिरा का सेवन अल्जाइमर रोग और डिमेंशिया से ग्रस्त होने की संभावना 23 प्रतिशत कम करता है.
  7. अल्कोहल पथरी होने के जोखिम को भी कम करता है – यह पित्त की थैली में पथरी होने के जोखिम को कम करता है. ईस्ट एंग्लिया विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के मुताबिक, प्रति दिन दो यूनिट शराब पीने से पित्त की थैली में पथरी होने का खतरा कम होता है.
  8. डायबिटीज की संभावना भी होती है कम – डायबिटीज की संभावना कम करता है. एक डच अध्ययन के अनुसार, स्वस्थ वयस्क जो प्रति दिन एक से दो गिलास ड्रिंक करते हैं, उनमें उन लोगों की तुलना में टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना कम होती है जो बिल्कुल नहीं पीते हैं.

शराब कितनी पीनी चाहिए, Sharab Kitni Pini Chahie 

ब्रिटिश सरकार की सलाह के अनुसार पुरुषों को हफ़्ते में 28 यूनिट से ज़्यादा शराब का सेवन नहीं करना चाहिए और महिलाओं को एक हफ़्ते में अधिकतम 21 यूनिट से ज़्यादा शराब नहीं पीनी चाहिए. पैमानों के अनुसार एक यूनिट शराब का अर्थ दस मिलीलीटर अल्कोहल होती है.
नयी सलाह के अनुसार पुरुषों के लिए एक हफ़्ते में 0 से 20 यूनिट तक शराब और महिलाओं के लिए 0 से 14 यूनिट शराब पीना सुरक्षित है अगर वो हफ़्ते में दो से तीन दिन शराब ना पिएँ अथवा गैप भी दे और ये भी धयान रखना चाहिए की अगर आप अपनी पूरी ज़िन्दगी में एक छोटा सा पैग रोज़ पीते हैं तो इसकी संभावना है कि आपकी सेहत को फिर भी नुकसान हो सकता. लेकिन अगर आप ज़्यादा शराब एक ही दिन में पीते हैं तो ज़रूरी है कि आप अपने शरीर को आराम दें.

कैसे होता है शराब से नशा, Kaise Hota Hai Nasha

जैसे ही शराब पीते है ये आपके गले में उतरते ही आपके पेट में पहुंचती है  जहां 10% एल्कोहल सोख ली जाती है. बाकी की शराब छोटी आंत में जाती हैं जहां खून की नलियों में इसे सोख लिया जाता है. हमारा लीवर 15 मिलीग्राम/प्रति घंटा शराब ही चयापचय (मेटाबॉलाइज़) कर पाता है. यानि इतनी मात्रा की मदीरा को ही ऊर्जा में बदला जा सकता है. इसके ऊपर अगर आपने पी तो शराब शरीर में जमने लगेगी और आपका शरीर नशे के संकेत देने लगेगा.

शराब पीने के बाद अच्छा क्यों लगता है, Sharab Pine Ke Baad Accha Ku Lagta Hai

शराब उन न्यूरोन्स को सक्रिय करता है जो हमें अच्छा महसूस करवाते हैं. इसे डोपामीन फील गुड न्यूरोट्रांसमीटर कहते हैं जो शराब के असर का हमें बार बार एहसास दिलाता है और हम एक और ड्रिंक के लिए भागते हैं और फिर तीन चार ड्रिंक्स के बाद यानि शरीर में 50 मिलीग्राम शराब के जमा होने के बाद तो फिर जो होता है, वही होता है. नशे के और दूसरे असर भी दिखाई पड़ने लगते हैं जैसे पैर लड़खड़ाना.

शरीर में कब तक रहती है शराब, Sharab Ka Nasha Shareer Mai Kab Tak Rehta Hai 

अगर आपने शराब यानि अल्कोहल का इस्तेमाल किया है, तो इसका पता मूत्र की जांच में चल जाता है और इसकी मौजूदगी मूत्र में 3 से 5 दिन तक रहती है. वहीं, खून में ये 10 से 12 घंटे रह जाती है जबकि बालों की अगर जांच हो, तो 90 दिनों तक शराब का असर रहता है.

खाली पेट शराब पीने के नुकसान, Khali Pet Sharab Pine Ke Nuksan

शराब तो वैसे भी सेहत के लिए हानिकारक है लेकिन खाली पेट तो यह और भी नुकसान पहुंचाती है. इसके सेवन से पेट में जलन होने लगती है, जिसकी वजह से खाना ठीक से पचता नहीं है.

क्या होता है जब आप अचानक अल्कोहल पीना बंद कर दें, Achanak Alcohol Na Pine Se Kya Hota Hai

ऐसे लोगों के लिए एकदम से शराब छोड़ना मुश्किल होता है. ज्यादा शराब पीने से याददाश्त कमजोर होती है, आंखों की मांसपेशियां कमजोर होती हैं, ब्लड प्रेशर हाई बना रहता है, डायबिटीज का खतरा रहता है, हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और कैंसर भी हो सकता है. ऐसे लोगों के मन में आत्महत्या के विचार जल्दी आते हैं.

नुकसान – शराब पीने से क्या नुकसान होता है, Sharab Ke Nuksan

ज्यादा शराब पीने से अल्कोहल कई अंगों पर बुरा असर डालता है और 200 से ज्यादा बीमारियां पैदा कर सकता है। मुंह और गले में अल्कोहल कफ झिल्ली को प्रभावित करता है और भोजन नलिका पर भी बुरा असर डालता है. ब्रेस्ट कैंसर और आंत के कैंसर के लिए भी अल्कोहल जिम्मेदार होता है. अल्कोहल का ज्यादा सेवन पेट में अल्सर का कारण हो सकता है.

  1. शराब हृदय स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करती है – शराब का नियमित सेवन कैंसर, लिवर रोग, पेप्टिक अल्सर और हृदय स्वास्थ्य के नुकसान से जोड़ा गया है. जानें, शराब पीने से आपके हृदय के स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ सकता है.उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिए शराब का नियमित सेवन विशेष रूप से हानिकारक है क्योंकि यह रक्तचाप बढ़ा सकता है.महिलाओं द्वारा चार या अधिक पेय और 2 घंटे में पुरुषों द्वारा पांच या उससे अधिक पीने से दिल की हाट रिदम अनियमित हो सकती है.शराब का नियमित सेवन या बहुत अधिक शराब पीने से ट्राइग्लिसराइड्स का स्तर बढ़ सकता है. ट्राइग्लिसराइड्स का उच्च स्तर एलडीएल या खराब कोलेस्ट्रॉल के उच्च स्तर के साथ संयुक्त होता है. यह दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा बढ़ा सकता है.
  2. शराब से लिवर, स्‍तन और गले का कैंसर का खतरा बढ़ जाता है – शराब में कैंसर पैदा करने वाले गुण होते हैं. रिसेर्च में ये पाया गया है कि सीधे तौर पर कैंसर का खतरा पैदा करता है. आप इसको नियमित रूप से पियें या कभी कभार, यह सिर और गले, लिवर, स्तन और कोलोरेक्टल आदि कैंसर को बढ़ावा देती है. लिवर डैमेज इसको ज्‍यादा पीने से सिरोसिस हो जाता है जिससे लिवर में घाव हो जाता है और वह ठीक से काम नहीं कर पाता. इससे इंसान की मृत्‍यु भी हो सकती है.
  3. कैल्‍शियम और विटामिन डी की कमी – शरीर, कैल्‍शियम और विटामिन डी अवशोषित नहीं कर पाता शराब पीने से हमारी आंत कमजोर हो जाती है जिससे वह कैल्‍शियम और विटामिन डी अवशोषित नहीं कर पाता. इन जरुरी मिनरल्‍स की कमी की वजह से हड्डियों पर बड़ा ही बुरा असर पड़ता है.
  4. कमजोर मासपेशियां – हृदय रोग रिसर्च के माध्‍यम से पता चला है कि ज्‍यादा शराब के सेवन से दिल की मासपेशियां कमजोर पड़ने लगती हैं, जिससे हृदय तक पहुंचने वाला रक्‍त सही गति से उस तक नहीं पहुंच पाता. इसके आलावा इससे हार्ट अटैक, स्‍ट्रोक और हाई बीपी भी हो सकता है.
  5. अवसाद और कमजोर दिमाग –दिमागी कमजोरी लंबे समय तक शराब के सेवन से दिमाग सोंचने-समझने तथा निर्णय लेने की क्षमता खो बैठता है. इसके अलावा डिमेंशिया नामक बीमारी हो जाती है जिसमें व्‍यक्‍ति अपनी याददाश धीरे धीरे खोने लगता है.अवसाद शराब दिमाग से निकलने वाले हार्मोन का लेवल कम कर देती है. यही वही हार्मोन होता है जो हमें अच्‍छा महसूस करवाता है. शराब कुछ देर के लिये तो मूड को बेहतर बनाती है लेकिन बाद में यह हमें अवसाद के घेरे में ढकेल देती है.
  6. नपुंसकता –नपुंसकता का खतरा अधिक मात्रा में शराब का सेवन वीर्य को नुकसान पहुंचाता है. इससे वीर्य की क्‍वालिटी घट जाती है. साथ ही इससे हार्मोन का संतुलन भी बिगड़ जाता है , जिससे शुक्राणुओं पर बुरा असर पड़ता है.
  7. पेट में सूजन – शराब एक जहरीला द्रव्‍य है. शराब से पेट के स्‍तर में सूजन और जलन होती है. दरअसल, अल्‍कोहल पेट में एसिड के उत्‍पादन को उत्‍तेजित करता है. यह एसिड ही पेट में सूजन का कारण बनता है. इससे आपको सुबह मिचली और अन्‍य समस्‍याएं उत्‍पन्‍न होती हैं. दूसरे जब आप खाली पेट शराब का सेवन करते हैं तो गैस्ट्रिक के कारण भाेजन और तरल पदार्थ लंबे समय तक इसमें पड़े रहते हैं. इससे पेट में एसिड बनने की प्रक्रिया तेज होती है. और सुबह आपका पेट खाली नहीं हो पाता और आप परेशानी महसूस करते हैं. कई बार उल्‍टी महसूस करते हैं.
  8. किडनी को नुकसान –शराब का सबसे ज्यादा असर किडनी पर पड़ता है. एक रिपोर्ट के अनुसार, शराब के सेवन से दिमाग उस हार्मोन को प्रभावित करता है जो किडनियों को अधिक मात्रा में यूरिन बनाने से रोकता है. यानी शराब पीने से बार-बार पेशाब के लिए जाने की जरूरत महसूस होती है. लंबे समय तक ऐसी स्थिति रहे तो किडनी खराब हो सकती है.
  9. एसिडिटी और पाचन की समस्या – शराब का असर पाचन पर पड़ता है. ज्यादा शराब पीने से एसिडिटी की समस्या होती है. क्योंकि अल्कोहल से पेट की अंदरूनी दीवार पर असर पड़ता है.पेट की इन्हीं अंदरूनी दीवारों से पाचक रस निकलता है. जब यह पाचक रस और अल्कोहल मिलता है तो एसिडिटी होती है.
  10. शरीर में Vitamin B12 कम बनेगा –B12 तंत्रिकाओं और रक्त कोशिकाओं को स्‍वस्‍थ रखने का काम करता है। यह ब्रेन, स्पाइनल कॉर्ड और न‌र्व्स के कुछ तत्वों की रचना में भी सहायक होता है. शराब B12 के लेवल को घटा देती है और उसका कम निर्माण करती है. इससे पुरुषों में इन्फर्टिलिटी या सेक्सुअल डिस्फंक्शन की भी समस्या हो सकती है.
  11. घर और समाज के लिए भी समस्या – शराब, हिंसक अपराध के मामलों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.वाहन दुर्घटनाओं में हर साल हज़ारों लोग मारे जाते हैं जिसमें शराब की अहम भूमिका होती है. यहां तक कि सीमित मात्रा में भी इसके सेवन से नींद पर प्रभाव पड़ता है.परिवार के किसी सदस्य को नशे की लत होने से भी यह आदत लग सकती है.

शराब के दुष्परिणाम, शराब के नुकसान, एल्कोहल के फायदे, शराब पीने के फायदे और नुकसान, दारु पीने से क्या होता है, शराब कितनी पीना चाहिए, खाली पेट शराब पीने के नुकसान, Sharab Ke Nuksan, Alcohol Side Effects In Hindi, Sharab Peena Sehat Ke Liye Hanikarak Hai, Sharab Peene Ke Baad, Daaru Ke Nuksan, Whisky Pine Ke Nuksan, Daru Pine Ke Nuksan

अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए आर्टिकल्स पर क्लिक करें – 

  1. नशा छुड़ाने की घरेलू दवा, नशा मुक्ति के कुछ घरेलू नुस्खे, Nasha Mukti In Hindi, Nasha Churane Ke Gharelu Tarike
  2. शराब छुड़ाने की आयुर्वेदिक दवा, शराब छुड़ाने की होम्योपैथी दवा, शराब छुड़ाने के लिए घरेलू नुस्खे, शराब छुड़ाने का मंत्र, शराब छुड़ाने के लिए योग, Sharab Churane Ki Ayurvedic Dawa
  3. नशा छुड़ाने की होम्योपैथिक दवा, होम्योपैथिक नशा मुक्ति दवा, नशा मुक्ति होम्योपैथिक दवा, Nasha Chudane Ki Homeopathic Medicine 
  4. नशा छुड़ाने की आयुर्वेदिक दवा, नशा मुक्ती की दवा, Nasha Mukti Dava Powder, Nasha Chudane Ki Ayurvedic Dawa, नशा छुड़ाने के आयुर्वेदिक उपाय
  5. गांजा छोड़ने के फायदे, चरस छोड़ने के फायदे, भांग छोड़ने के फायदे, मारिजुआना छोड़ने के फायदे , वीड छोड़ने के फायदे, कैनेबिस छोड़ने के फायदे, हशीश या हैश छोड़ने के फायदे
  6. तंबाकू छोड़ने के फायदे, खैनी छोड़ने के फायदे, गुटखा छोड़ने के फायदे, पान मसाला छोड़ने के फायदे, Tambaku Chorne Ke Fayde, Gutkha Chorne Ke Fayde, Khaini Chorne Ke Fayde
  7. शराब छोड़ने के फायदे, अल्कोहल छोड़ने के फायदे, दारू छोड़ने के फायदे, Sharab Chorne Ke Fayde, Daaru Chorne Ke Fayde, Sharab Pine Band Karne Ke Fayde
  8. सिगरेट छोड़ने के फायदे, धूम्रपान छोड़ने के फायदे, स्मोकिंग छोड़ने के फायदे , बीड़ी छोड़ने के फायदे, Cigarette Chorne Ke Fayde, Bidi Chorne Ke Fayde
  9. बीड़ी कैसे बनती है, बीड़ी बनाने का तरीका, बीड़ी बनाने की मशीन, बीड़ी छोड़ने के घरेलू नुस्खे, बीड़ी कैसे बनती है बताएं, Bidi Kaise Banate Hain
  10. सिगरेट कैसे बनती है, सिगरेट कैसे बनाई जाती हैं, सिगरेट बनाने की विधि, सिगरेट कैसे बनती है बताएं, How Cigarettes Are Made, Cigarette Kaise Banti Hai
  11. तंबाकू कैसे बनाते हैं, तम्बाकू बनाने का तरीका, तम्बाकू बनाने की विधि, तम्बाकू कैसे बनता है, Tambaku Kaise Banta Hai, Tambaku Banane Ki Vidhi
  12. भांग और गांजा का इतिहास, गांजे का इतिहास, चरस का इतिहास, भांग का इतिहास, मारिजुआना का इतिहास, वीड का इतिहास,Ganje Ki History In Hindi, Bhang Ki History In Hindi
  13. शराब का इतिहास, अल्कोहल का इतिहास, शराब की खोज किसने की, History Of Alcohol In Hindi, Sharab Ka Itihas, Alcohol History In Hindi, When Was Alcohol Invented
  14. सिगरेट का इतिहास, सिगरेट का आविष्कार, सिगरेट का हिंदी नाम, History Of Cigarette In Hindi, Cigarette Ki Khoj Kisne Ki, Who Invented Cigarette, Cigarette History In Hindi
  15. बीड़ी का इतिहास, बीड़ी का आविष्कार किसने किया था, बीड़ी की खोज, Bidi, Beedi History In Hindi, Beedi Ki History, Biri Ki Khoj Kisne Ki, Bidi Ka Itihas, Bidi Meaning In Hindi
  16. सिगरेट छोड़ने के बाद क्या होता है, सिगरेट छोड़ने के बाद नुकसान, तम्बाकू छोड़ने के बाद हालात से कैसे निपटा जाए, Nicotine Withdrawal Symptoms In Hindi, Quit Smoking 
  17. अल्कोहल विथड्रावल सिंड्रोम, अल्कोहल विथड्रावल ट्रीटमेंट प्रक्रिया दुष्प्रभाव,शराब वापसी, Alcohol Withdrawal Symptoms In Hindi, Alcohol Withdrawal Treatment
  18. गांजा पीने के फायदे, चरस पीने के फायदे, भांग पीने के फायदे, मारिजुआना पीने के फायदे, वीड पीने के फायदे, कैनेबिस पीने के फायदे , हशीश या हैश पीने के फायदे 
  19. गांजा पीने के नुकसान, चरस पीने के नुकसान, भांग पीने के नुकसान, मारिजुआना पीने के नुकसान, वीड पीने के नुकसान, कैनेबिस पीने के नुकसान, हशीश या हैश पीने के नुकसान 
  20. तंबाकू खाने के नुकसान, सुर्ती खाने के नुकसान, खैनी खाने के नुकसान, तंबाकू खाने से क्या नुकसान होता है, Tambaku Khane Ke Nuksan, Khaini Khane Ke Nuksan 
  21. गुटका गुटखा के नुकसान, गुटखा खाने के नुकसान, पान मसाला खाने के नुकसान, गुटखा खाने से कौन सा रोग होता है, Gutkha Khane Ke Nuksan, Pan Masala Khane Ke Nuksan 
  22. सिगरेट पीने के नुकसान, बीड़ी के नुकसान, स्मोकिंग करने के नुकसान, धूम्रपान के नुकसान, Cigarette Ke Nuksan, Beedi Peene Ke Nuksan, Dhumrapan Ke Nuksan
  23. शराब के दुष्परिणाम, शराब के नुकसान, एल्कोहल के फायदे, शराब पीने के फायदे और नुकसान, दारु पीने से क्या होता है, Sharab Ke Nuksan, Alcohol Side Effects In Hindi
  24. गांजा भांग की लत से छुटकारा, भांग छोड़ने के उपाय, स्मैक का नशा छुड़ाने के उपाय, गांजे का नशा छुड़ाने के उपाय, हशीश हैश का नशा छुड़ाने के उपाय 
  25. तम्बाकू छोड़ने के तरीके, गुटखा छोड़ने की दवा , तम्बाकू कैसे बंद करें, खैनी छोड़ने के घरेलू उपाय ,तम्बाकू छोड़ने की दवा, Gutkha Chodne Ka Tarika, Tobacco Chodne Ke Upay
  26. बीड़ी सिगरेट छोड़ने की दवा, स्मोकिंग छोड़ने की दवा, बीड़ी सिगरेट छोड़ने का उपाय, सिगरेट छोड़ने की दवा, Cigarette Kaise Band Kare, Desi Nuskhe For Quitting Smoking 

Disclaimer – हमारा एकमात्र उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि पाठकों को सटीक और भरोसेमंद जानकारी मिले. हालांकि, इसमें दी गई जानकारी को एक योग्य चिकित्सक की सलाह के विकल्प के रूप में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए. यहां दी गई जानकारी केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है यह सभी संभावित दुष्प्रभावों, चेतावनी या अलर्ट को कवर नहीं कर सकता है. कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें और किसी भी बीमारी या दवा से संबंधित अपने सभी प्रश्नों पर चर्चा करें. हमारा मकसद सिर्फ जानकारी देना है.

what alcohol does to body sarab sharab peene ke nuksan

दारु पीने से क्या होता है, शराब का नशा कितने समय तक रहता है, Daru Peene Se Kya Hota Hai, शराब का असर खून में कब तक रहता है, शराब पीने के कितनी देर बाद दवा खानी चाहिए, शराब कितनी पीना चाहिए, Sharab Ka Nasha Kitni Der Tak Rehta Hai, हम शराब पीने के बाद दवा ले सकते हैं, दारू का नशा कितनी देर तक रहता है, Sharab Peene Se Kya Hota Hai, दवा खाने के कितनी देर बाद शराब पीना चाहिए, दारू पीने के तुरंत बाद दवा खाने से क्या होता है, What Alcohol Does To Body

दारु पीने से क्या होता है, शराब का नशा कितने समय तक रहता है, Daru Peene Se Kya Hota Hai, शराब का असर खून में कब तक रहता है, शराब पीने के कितनी देर बाद दवा खानी चाहिए, शराब कितनी पीना चाहिए, Sharab Ka Nasha Kitni Der Tak Rehta Hai, हम शराब पीने के बाद दवा ले सकते हैं, दारू का नशा कितनी देर तक रहता है, Sharab Peene Se Kya Hota Hai, दवा खाने के कितनी देर बाद शराब पीना चाहिए, दारू पीने के तुरंत बाद दवा खाने से क्या होता है, What Alcohol Does To Body

परिचय – शराब पीने के बाद शरीर में क्या क्या होता है?

अल्‍कोहल के कारण शराब में नशा होता है। अल्कोहल एक रंगहीन तरल है जो अनाज, फल या कुछ सब्जियों में खमीर उठाकर तैयार किया जाता है। इस प्रक्रिया में जो रसायन पैदा होता है उसे एथनॉल कहते हैं।
शराब बनाने के लिए विशुद्ध अल्कोहल में अन्य तत्व मिलाकर उसे पतला किया जाता है। जब कोई आदमी शराब पीता है तो अल्कोहल उसके पेट और आंतों से होते हुए खून में पहुंचता है। यह खून तेजी से शरीर के सभी हिस्सों से होता हुआ मस्तिष्क में पहुंचता है।
दरअसल गले में उतरते ही यह शराब पहुंचती है आपके पेट में जहां 10% एल्कोहल सोख ली जाती है. बाकी की शराब छोटी आंत में जाती हैं जहां खून की नलियों में इसे सोख लिया जाता है. हमारा लीवर 15 मिलीग्राम/प्रति घंटा शराब ही चयापचय (मेटाबॉलाइज़) कर पाता है. यानि इतनी मात्रा की मदीरा को ही ऊर्जा में बदला जा सकता है. इसके ऊपर अगर आपने पी तो शराब शरीर में जमने लगेगी और आपका शरीर नशे के संकेत देने लगेगा.
शराब आपके लीवर में दो एनज़ायम्स की बदौलत मेटाबॉलाइज़ होती है – ADH और ALDH. सबसे पहले शराब को मेटाबॉलाइज़ करने का काम ADH करता है जो इसे एसिटैलडीहाइड में बदलता है. एसिटैलडीहाइड एक जहरीला मिश्रण होता है. हमारे वो सिरदर्द से भरे हैंगओवर की वजह इसे ही माना जाता है. खैर, तो एसिटैलडीहाइड को फिर ALDH, एसिटिक एसिड यानि विनेगर में मेटबॉलाइज़ करता है. दो ड्रिंक के बाद नशे के लक्षण थोड़े नजर आने लगते हैं. इसी वजह से आप कुछ ऐसा करने लगते हैं जो आप होश में शायद ही करें जैसे अपने बॉस से जरूरत से ज्यादा फ्रेंडली होने की कोशिश.

लेकिन शराब हमसे ये सब करवा कैसे लेती है?

हमारे दिमाग में होते हैं गाबा न्यूरोन्स, जिन्हें हम स्टॉप न्यूरोन्स भी कह सकते हैं और ग्लूटोमैटर्जिक या गो न्यूरोन्स जो हमसे काम करवाती है. शराब इन दोनों न्यूरोन्स पर असर डालती है और कुल मिलाकर हमारे दिमाग के काफी ज्यादा हिस्से में काम ठप्प पड़ जाता है. इसमें से एक हिस्सा है प्रीफ्रंटल कोर्टेक्स यानि दिमाग के आगे का हिस्सा. यह काफी सक्रिय होता है लेकिन शराब इसे भी काम का नहीं छोड़ती.

लेकिन शराब पीने के बाद अच्छा क्यों लगता है?

क्योंकि शराब उन न्यूरोन्स को सक्रिय करता है जो हमें अच्छा महसूस करवाते हैं. इसे डोपामीन फील गुड न्यूरोट्रांसमीटर कहते हैं जो शराब के असर का हमें बार बार एहसास दिलाता है और हम एक और ड्रिंक के लिए भागते हैं. और तीन चार ड्रिंक्स के बाद यानि शरीर में 50 मिलीग्राम शराब के जमा होने के बाद तो फिर जो होता है, वही होता है. नशे के और दूसरे असर भी दिखाई पड़ने लगते हैं जैसे पैर लड़खड़ाना.
दस ड्रिंक्स के बाद तो हालत बदतर होते चले जाते हैं. उल्टी, जी घबराना, कुछ याद नहीं आना, ठीक से बोल नहीं पाना, हायपरथर्मिया जब तापमान 104 डिग्री से ऊपर चला जाता है. हायपोवेंटीलेशन जब हम बहुत ही धीमी गति पर सांस ले पाते हैं जिसकी वजह से खून में कार्बन डायऑक्साइड की मात्रा बढ़ जाती है. इन सब हालातों से बचने के लिए जरूरी है कि शराब पीते वक्त अपने दिमाग का साथ न छोड़ें.

शरीर में कब तक रहती है शराब?

अगर आपने शराब यानि अल्कोहल का इस्तेमाल किया है, तो इसका पता मूत्र की जांच में चल जाता है और इसकी मौजूदगी मूत्र में 3 से 5 दिन तक रहती है. वहीं, खून में ये 10 से 12 घंटे रह जाती है जबकि बालों की अगर जांच हो, तो 90 दिनों तक शराब का असर रहता है.

एक दिन में कितनी शराब पीनी चाहिए? , 

  • अगर आप बीयर/ शराब पीते है तो लीजिए आप Occasionally 2 units ड्रिंक्स ले सकते हैं जो कि आपके दिल के दौरों से दूर रखती है और आपकों बाकियों से अलग करते हैं।
  • और अगर आप मदिरापान पीने के शौकीन हैं तो 3 units एक दिन में और 21 units एक हफ्ते में पी सकते हैं।
  • शरीर में अल्कोहल को डाइजेस्ट करने के लिए एक एंजाइम होता है जिसे अल्कोहल हाइड्रोजन नेट (Alcohol Hydrogen Net) कहते हैं। जिसके लिवर में इसकी मात्रा सही होती है उसे कोई प्रॉब्लम नहीं होती लेकिन जिसके शरीर में कम होती है उसमें लिवर संबंधित प्रॉब्लम्स जल्दी देखने को मिलती हैं। हमारा शरीर एक घंटे में सिर्फ एक ही ड्रिंक और दिन में कुल 3 ड्रिंक को पचा सकता है लेकिन एक से अधिक स्टैन्डर्ड ड्रिंक पीना हमेशा से ही गलत होता है।

सीमित मात्रा में अल्कोहल पीने के फायदे

तय मात्रा में अल्कोहल पीने के फायदे – आज दुनिया बहुत आगे निकल चुकी है , भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में एंजॉयमेंट और एंटरटेनमेंट के लिए लोग पार्टी या फिर अन्य ओकेजन पर अल्कोहल (Alcohol) का सेवन करते हैं।आज के समय में अल्कोहल पीना करना सोशल लाइफ का हिस्सा बन गया है। चाहे वो महिला हो या पुरुष हर कोई अपने शौक के लिए या फिर टेंशन से राहत पाने के लिए अल्कोहल का सेवन करते हैं।

  • अगर आप अपनी पसंद की ड्रिंक वाइन, बीयर, शैंपेन या कुछ भी पीते है तो इससे कई हेल्दी बेनेफिट्स हो सकते हैं। रिसर्च के मुताबिक निर्धारित की हुई लिमिट की मात्रा में अल्कोहल लेने से आपका तनाव कम हो सकता है।
  • हृदय रोगों के होने का खतरा कम होता है – हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के पब्लिक हेल्थ स्कूल में एक अध्ययन में पाया गया कि “सीमित मात्रा” में अल्कोहल का सेवन करने से अच्छे कोलेस्ट्रोल (Good Cholesterol- HDL) का स्तर बढ़ता है जो हृदय को रोगों के प्रति सुरक्षा प्रदान करता है।
  • इसके सेवन से अल्जाइमर रोग (Alzheimer) के जोखिम को कम कर सकता है।ये आपके अंदर क्रिएटिविटी को बूस्ट करता है।
  • सर्दी जुकाम से भी बचाता है – कार्नेगी मेलॉन यूनिवर्सिटी में मनोविज्ञान विभाग के मुताबिक, जहां धूम्रपान की वजह से सर्दी जुकाम होने की सम्भावना बढ़ती है वहीं सीमित मात्रा में शराब का सेवन करने से आम सर्दी जुकाम बहुत कम होती है।
  • डायबिटीज की संभावना कम करता है – एक डच अध्ययन के अनुसार, स्वस्थ वयस्क जो प्रति दिन एक से दो गिलास ड्रिंक करते हैं, उनमें उन लोगों की तुलना में टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना कम होती है जो बिल्कुल नहीं पीते हैं।
  • सीमित मात्रा में अल्कोहल पीने से नींद अच्छी आती है।
  • अल्कोहल से बॉडी रिलेक्स हो जाती है।

शराब का नशा कितने समय तक रहता है, 

शराब का नशा कितनी देर बाद उतरता है? – कुछ लोग जाने अनजाने बहुत अधिक नशा कर लेते हैं और कई परेशानियों का सामना करते हैं।जब हद से अधिक नशा हो जाये तो उसका असर समाप्त करने के लिए आयुर्वेद में कुछ नुस्खेबताएं गए हैं, जिनसे इसका नशा काफी हद तक उतर जाता है।नशा शरीर में 5 से 6 घण्टे तक रहता है।

शराब पीने के कितनी देर बाद दवा खानी चाहिए, Sharab Pine Ke Kitne Der Baad Dava Khani Chahiye

शराब पीने के बाद अगर आप कोई दवा खाते है तो आपको साइड इफ़ेक्ट हो सकते हैं जैसे चक्कर आना, उल्टी होना, चेहरे का रंग उतर जाना, सिरदर्द, सांस फूलना और सीने में दर्द आदि हो सकता हैं. कुछ मेडिसिन शराब के साथ इंटरैक्ट करती हैं और कुछ नहीं करती। जो दवा शराब के साथ इंटरैक्ट करती हैं वह जानलेवा हो सकती हैं. इसलिए आपको शराब के साथ दवा नहीं लेनी चाहिए। अगर आप को शराब की लत है तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए की शराब और दवा के बीच कितने समय का अंतर होना चाहिए।

घरेलू नुस्खे – शराब का नशा कम करने के घरेलू नुस्खे, शराब का नशा कैसे उतारें

  • ब्लैक कॉफी शराब के नशे को उतारने में मदद करता है।
  • लेमन जूस से भी शराब का नशा उतरता है।
  • एक नींबू एक कप पानी में निचोडकर पिलाने से लाभ मिलता है।
  • शराबी के सिर पर ठंडा पानी डालने और पिसा हुआ धनिया – शक्कर मिलाकर देने से भी नशा उतरता है।
  • नींबू चूसने व अचार खाने से भी नशा हल्का पड़ जाता है।
  • संतरा खाने से भी नशा उतर जाता है।
  • दही और छाछ से भी नशा उतर जाता है।

नुकसान – शराब पीने के नुकसान, Daru Pine Ke Nuksan

  • शराब पीने से लीवर और यकृत को नुकसान पहुंचता है।
  • शराब पीने से पाचन तंत्र पर काफी बुरा असर होता है।
  • शराब पीने से अल्कोहल का कई अंगों पर बुरा असर होता है और 200 से भी ज्यादा बीमारियां पैदा कर सकता है।
  • मुंह और गले में अल्कोहल कफ झिल्ली को प्रभावित करता है, और भोजन की नली पर बुराअसर होता है।
  • अल्कोहल के कारन ब्रेस्ट कैंसर और आंत के कैंसर होता है।
  • शराब पीने से पेट में अल्सर हो सकता है।
  • शराब पीने से पाचन तंत्र पर काफी बुरा असर होता है।

मौत का सौदागर है नशा

  • धूम्रपान की वजह से होने वाली दिल की बीमारी की वजह से हर साल 45 लाख लोगों की मौत हो जाती है।
  • 39 लाख लोग हर साल फेफड़े की बीमारी से घिर जाते हैं।
  • 60 प्रतिशत से ज्‍यादा दिल के मरीजों की उम्र 40 साल से कम है।
  • भारत में मुंह के कैंसर की सबसे बड़ी वजह तंबाकू का सेवन है।
  • 25 करोड़ लोग भारत में तंबाकू की लत के शिकार हैं।
  • सन 2020 तक 15 लाख लोग हर साल तंबाकू की वजह से मौत का शिकार बनेंगे।

स्वास्थ्य से सम्बंधित आर्टिकल्स – 

  1. बीकासूल कैप्सूल खाने से क्या फायदे होते हैं, बिकासुल कैप्सूल के लाभ, Becosules Capsules Uses in Hindi, बेकासूल, बीकोस्यूल्स कैप्सूल
  2. शराब छुड़ाने की आयुर्वेदिक दवा , होम्योपैथी में शराब छुड़ाने की दवा, शराब छुड़ाने के लिए घरेलू नुस्खे , शराब छुड़ाने का मंत्र , शराब छुड़ाने के लिए योग
  3. कॉम्बिफ्लेम टेबलेट की जानकारी इन हिंदी, कॉम्बिफ्लेम टेबलेट किस काम आती है, Combiflam Tablet Uses in Hindi, Combiflam Syrup Uses in Hindi
  4. अनवांटेड किट खाने के कितने दिन बाद ब्लीडिंग होती है, अनवांटेड किट खाने की विधि Hindi, अनवांटेड किट ब्लीडिंग टाइम, अनवांटेड किट की कीमत
  5. गर्भाशय को मजबूत कैसे करे, कमजोर गर्भाशय के लक्षण, गर्भाशय मजबूत करने के उपाय, बच्चेदानी का इलाज, बच्चेदानी कमजोर है, गर्भाशय योग
  6. जिम करने के फायदे और नुकसान, जिम जाने से पहले क्या खाएं, जिम जाने के बाद क्या खाएं,  जिम जाने के फायदे, जिम जाने के नुकसान,  जिम से नुकसान
  7. माला डी क्या है, Mala D Tablet Uses in Hindi, माला डी कैसे काम करती है, Maladi Tablet, माला डी गोली कब लेनी चाहिए
  8. Unienzyme Tablet Uses in Hindi, Unienzyme गोली, यूनिएंजाइम की जानकारी, यूनिएंजाइम के लाभ, यूनिएंजाइम के फायदे,यूनिएंजाइम का उपयोग
  9. मानसिक डर का इलाज, फोबिया का उपचार, डर के लक्षण कारण इलाज दवा उपचार और परहेज, डर लगना, मानसिक डर का इलाज, मन में डर लगना
  10. हिंदी बीपी, उच्च रक्तचाप के लिए आहार, High Blood Pressure Diet in Hindi, हाई ब्लड प्रेशर में क्या नहीं खाना चाहिए, हाई ब्लड प्रेशर डाइट
  11. क्या थायराइड लाइलाज है, थ्रेड का इलाज, थायराइड क्‍या है, थायराइड के लक्षण कारण उपचार इलाज परहेज दवा,  थायराइड का आयुर्वेदिक
  12. मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट
  13. हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण और उपचार, हाई ब्लड प्रेशर, बीपी हाई होने के कारण इन हिंदी, हाई ब्लड प्रेशर १६० ओवर ११०, बीपी हाई होने के लक्षण
  14. खाना खाने के बाद पेट में भारीपन, पेट में भारीपन के लक्षण, पतंजलि गैस की दवा, पेट का भारीपन कैसे दूर करे, पेट में भारीपन का कारण
  15. योग क्या है?, Yoga Kya Hai, योग के लाभ, योग के उद्देश्य, योग के प्रकार, योग का महत्व क्या है, योग का लक्ष्य क्या है, पेट कम करने के लिए योगासन, पेट की चर्बी कम करने के लिए बेस्‍ट योगासन

Disclaimer – हमारा एकमात्र उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि पाठको सटीक और भरोसेमंद जानकारी मिले. हालांकि, इसमें दी गई जानकारी को एक योग्य चिकित्सक की सलाह के विकल्प के रूप में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए. यहां दी गई जानकारी केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है यह सभी संभावित दुष्प्रभावों, चेतावनी या अलर्ट को कवर नहीं कर सकता है. कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें और किसी भी बीमारी या दवा से संबंधित अपने सभी प्रश्नों पर चर्चा करें. हमारा मकसद सिर्फ जानकारी देना है.

दारु पीने से क्या होता है, शराब का नशा कितने समय तक रहता है, Daru Peene Se Kya Hota Hai, शराब का असर खून में कब तक रहता है, शराब पीने के कितनी देर बाद दवा खानी चाहिए, शराब कितनी पीना चाहिए, Sharab Ka Nasha Kitni Der Tak Rehta Hai, हम शराब पीने के बाद दवा ले सकते हैं, दारू का नशा कितनी देर तक रहता है, Sharab Peene Se Kya Hota Hai, दवा खाने के कितनी देर बाद शराब पीना चाहिए, दारू पीने के तुरंत बाद दवा खाने से क्या होता है, What Alcohol Does To Body