Kark Rashi Ke Isht Dev

कर्क राशि के इष्ट देव कौन है, कर्क राशि के लिए रत्न, कर्क राशि के दोष का उपाय, कर्क राशि के लिए उपाय, Kark Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai, Kark Rashi Ke Liye Ratna, Kark Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Kark Rashi Ke Liye Upaay

कर्क राशि के इष्ट देव कौन है, कर्क राशि के लिए रत्न, कर्क राशि के दोष का उपाय, कर्क राशि के लिए उपाय, Kark Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai, Kark Rashi Ke Liye Ratna, Kark Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Kark Rashi Ke Liye Upaay

कर्क राशि – परिचय

राशि चक्र की चौथी राशि कर्क के स्वामी चंद्र है. चंद्रमा चेतावनी देने वाला ग्रह है. कर्क राशि के जातक बेहद भावनात्मक अस्तित्व वाले होते हैं, जो भावनाओं को शांत करने में मदद कर सकते हैं. ऐसे जातक बुद्धिमान होते हैं लेकिन यह हठी स्‍वभाव के भी होते हैं. इस राशि के स्‍वामी चंद्रदेव के अशुभ होने पर व्‍यक्ति का स्‍वास्‍थ्‍य प्रभावित होता है और उसे मानिसक परेशानियां रहने लगती हैं. सर्दी, जुकाम और अन्‍य समस्‍याएं चंद्रमा के कमजोर होने की वजह से होती है. चंद्रमा को मजबूत करने के लिए कर्क राशि के जातकों को अपने इष्टदेव की पूजा करनी चाहिए तथा राशिनुसार रत्न धारण करना चाहिए. आइए जानते हैं कर्क राशि के इष्टदेन, रत्न व उपाय के बारे में जानकारी विस्तार से-

कर्क राशि के इष्ट देव कौन है?, Kark Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai?

शास्त्रों के अनुसार इष्ट देव का अर्थ है राशि के पसंद के देवता. अरुण संहिता जिसे लाल किताब के नाम से भी जाना जाता है, के अनुसार व्यक्ति के पूर्व जन्म में किए गए कर्म के आधार पर इष्ट देवी/ देवता का निर्धारण होता है और इसके लिए जन्म कुंडली देखी जाती है. कुंडली के पंचम भाव में जो ग्रह होते हैं उसके स्वामी के आधार पर इष्टदेव का निर्धारण करते हैं. ईष्ट अपनी शरण में आये भक्त का पूरा उत्तरदायित्व अपने ऊपर ले लेते है और उसके समस्त पापो को क्षमा कर देते है. इसलिए इष्टदेव के ज्ञान से हम अपने किये गए पाप से दूर हो जाते है. कर्क राशि के स्वामी चंद्रमा है और इन लोगों के इष्ट देव शिवजी हैं. इनकी पूजा से विशेष फल मिलता है. तीव्र बुद्धि का होता है. इष्ट देव की पूजा करने से कुंडली में चाहे कितने भी ग्रह दोष क्यों न हों, अगर इष्ट देव प्रसन्न हैं तो यह सभी दोष व्यक्ति को अधिक परेशान नहीं करते.
कर्क राशि के स्वामी – चंद्रमा 
कर्क राशि के इष्ट देव – शिवजी

कर्क राशि के लिए रत्न, Kark Rashi Ke Liye Ratna

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, ग्रहों की शांति और मजबूती के लिए रत्नों को धारण किया जाता है. इन्हीं रत्नों में एक रत्न है नीलम, जिसे शनि ग्रह की शांति के लिए धारण किया जाता है. नीलम रत्न का प्रभाव बहुत ही तेजी से दिखता है. इस चमत्कारिक रत्न को धारण करने वाले जातकों को आर्थिक लाभ मिलता है. वह जातक नौकरी और व्यवसाय में खूब उन्नति करता है. यह रत्न शनि दोषों से मुक्ति दिलाने में बेहद कारगर होता है. शनि साढ़ेसाती, शनि ढैय्या के दुष्प्रभावों से बचा जा सकता है. नीलम रत्न रंक को भी राजा बना सकता है. हालांकि इस रत्न को धारण करने से पूर्व किसी अच्छे ज्योतिषी का परामर्श अवश्य लें. क्योंकि अगर रत्न आपके प्रतिकूल हुआ तो इसके नकारात्मक परिणाम भी झेलने पड़ सकते हैं. ज्योतिष शास्त्र में रत्नों का विशेष महत्व बताया गया है. आप भी अपनी राशि के अनुसार रत्न धारण कर सकते हैं-
कर्क राशि के लोग कौन सा रत्न धारण करें- कर्क राशि के स्वामी चंद्र है. चंद्रमा चेतावनी देने वाला ग्रह है. चंद्रमा को मजबूत करने के लिए कर्क राशि के जातकों को मोती धारण करना चाहिए. मोती रत्न चंद्र ग्रह का रत्न है इसलिए चंद्र ग्रह को बल प्रदान करने के लिए मोती रत्न पहना जाता है. मोती समुद्र से सीप के मुंह से प्राप्त होता है. ज्योतिषशास्त्र में सफेद मोती को सबसे उत्तम माना जाता है. कर्क राशि के जातक यदि सफेद मोती रत्न धारण करते हैं, तो इससे इनको काफी लाभ होता है.
मोती किस हाथ में पहने, मोती किस उंगली मे धारण करें, मोती किस दिन पहनें – कर्क राशि के लोगों को मोती को दायें हाथ की अनामिका या कनिष्का उंगली में सोमवार सुबह स्नान करने के बाद धारण किया जाता है.
कर्क राशि के जातक कौन सा रत्न धारण न करें- कर्क राशि के जातक को सलाह दी जाती है कि वह मू्ंगा धारण ना करें.

मोती पहनने के लाभ और नुकसान
लाभ – कर्क राशि के जातकों को मोती पहनने से लाभ होता है. मोती समुद्र से सीप के मुंह से मिलता है. इसे धारण करने से मानसिक शांति, अच्छा स्वास्थ्य, विभिन्न सुख-सुविधाएं और लंबी आयु प्राप्त होती है. यह रत्‍न मन के विचारों को नियंत्रित कर उसे शांति प्रदान करता है.
नुकसान – व्यक्ति को अपनी राशिनुसार मोती रत्न को धारण करना चाहिए नहीं तो आपको इसका नुकसान झेलना पड़ सकता है. लाल किताब के अनुसार यदि कुंडली में चंद्र 12वें या 10वें घर में है तो मोती नहीं पहनना चाहिए. यह भी कहा गया है कि शुक्र, बुध, शनि की राशियों वालों को भी मोती धारण नहीं करना चाहिए. अत्यधिक भावुक लोगों और क्रोधी लोगों को मोती नहीं पहनना चाहिए.

कर्क राशि के दोष का उपाय, कर्क राशि के लिए उपाय

कर्क राशि के दोष का उपाय, कर्क राशि के लिए उपाय, Kark Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Kark Rashi Ke Liye Upaay
कर्क राशि के जातकों को अपने कष्ट दूर करने व जीवन में सफलता पाने के लिए निम्न उपाय करने चाहिए, यह उपाय करने से अवश्य ही आपकी सभी मनोकामना पूर्ण होगी.
1. कर्क राशि के लोगों को प्रतिदिन अपने इष्टदेव शिव जी की विधिवत पूजा अर्चना करनी चाहिए, ऐसा करने से शिव जी का आशीर्वाद अवश्य ही आपको मिलेगा.
2. कर्क राशि के जातकों को सोमवार का व्रत करना चाहिए तथा गरीबों को खाना खिलाना चाहिए, यदि व्रत रखना संभव न हो सके तो शिव जी की पूजा अवश्य करें.
3. आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए कर्क राशि वाले जातक 9 आर्टिफिशियल मछली को पीले रंग के एक्वेरियम में डाल कर उसे घर के उत्तर-पूर्व कोने में रख दें, ऐसा करने से लाभ मिलेगा.
4. कर्क राशि के जातक शाम को पूर्व की ओर मुख करके तिल के तेल का दीपक जलाएं, ऐसा करने से उन्हें कर्ज से छुटकारा मिलेगा और समस्त परेशानियां व कष्ट दूर होंगे.
5. यदि कर्क राशि वाले जातक को स्वास्थ्य संबंधी समस्या हो तो चांदी का चंद्रमा शिव जी के ऊपर चढ़ाना चाहिए.
6. रोग-दोष से मुक्ति के लिए गुरुवार के दिन पीले वस्त्र पहनकर पूजा करें और माथे पर केसर का तिलक लगाएं.

7. कर्क राशि के जातक यदि किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं और उसमें सफलता पाना चाहते हैं तो सोमवार के दिन शिव जी का गंगा जल से अभिषेक करें. ये काम हर सोमवार को करें. ऐसा करने से शिक्षा क्षेत्र में आपको सफलता मिलेगी.
8. पैतृक धन एवं कुटुंब से जुड़ी परेशानियां दूर करने के लिए प्रतिदिन सूर्योदय के समय तांबें के पात्र में शुद्ध जल भरकर उसमें थोड़ी चीनी और लाल पुष्प डालकर सूर्य को अर्घ्य देें. ऐसा करने से आपकी आर्थिक जीवन से जुड़ी सभी परेशानियां दूर हो जाएंगी.
9. कर्क राशि के जातक गुरुवार के दिन पीले वस्त्र धारण करें. माथे पर केसर और चंदन का तिलक लगाएं. इस उपाय को करने से रोग-दोष से छुटकारा मिलेगा. साथ ही शत्रु पक्ष भी कमजोर होगा.
10. कर्क राशि के जातकों को अपने पूजा घर में सफेद एवं हल्के रंग के कपड़ों का इस्तेमाल करना चाहिए. इस उपाय को करने से आपकी सारी पीड़ाएं दूर होंगी.
11. यदि आपको अकस्मात धन लाभ की अभिलाषा है तो धन त्रयोदशी के दिन संध्या के समय पीपल वृक्ष के समीप तेल का पंचमुखी दीपक जलाएं. इस उपाय को करने से आपको अकस्मात धन लाभ प्राप्त होगा.
13. कर्क राशि के जातकों की परेशानियां हीरा रत्न को धारण करने से दूर होती हैं और भूमि-भवन में वृद्धि होती है.
14. कर्क राशि के जातकों को शिक्षा के क्षेत्र में सफलता पाने के लिए सोमवार के दिन शिव जी का गंगा जल से अभिषेक करें. ऐसा नित्य करने से शिवजी प्रसन्न होकर आपको एजुकेशन सेक्टर में सफलता देंगे.

कर्क राशि के इष्ट देव कौन है, कर्क राशि के लिए रत्न, कर्क राशि के दोष का उपाय, कर्क राशि के लिए उपाय, Kark Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai, Kark Rashi Ke Liye Ratna, Kark Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Kark Rashi Ke Liye Upaay