-UK approves Pfizer-BioNTech’s Kovid-19 vaccine, common people will be vaccinated from next week- विश्वव्यापी कोरोना महामारी एक बार फिर से दुनियाभर में कहर बरपा रहा है. हर रोज कोरोना संक्रमण के मामलो में वृध्दि देखी जा रही है साथ ही संक्रमण से मरने वाले लोगों का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है. इसी बीच कोविड-19 वैक्सीन को लेकर एक अच्छी खबर सामने आई है. ब्रिटेन सरकार ने Pfizer-BioNTech की COVID-19 वैक्सीन को मंजूरी दे दी है. अगले सप्ताह से इसे देश भर में उपलब्ध कराया जाएगा. बता दें कि इस कोरोना वैक्सीन को जर्मन कंपनी बायोनटेक और अमेरिकी कंपनी फाइजर ने विकसित किया है. कोरोना वायरस संकट के बीच ब्रिटेन ने वैक्सीन के इस्तेमाल को मंजूरी देकर मरीजों को बड़ी राहत दी है. कंपनी के मुताबिक उसकी वैक्सीन 90 फीसदी से ज्यादा असरदार साबित हुई है. तीसरे चरण के ट्रायल के बाद कंपनी ने ये दावा किया है.

आम जनता को दिया जाएगा टीका
बता दें कि Pfizer कोरोना वायरस वैक्सीन को अगले सप्ताह से आम जनता को देने के लिए उपयोग में लाया जाएगा. इस संबंध में जानकारी देते हुए ब्रिटेन सरकार ने कहा कि आज (2 दिसंबर) सरकार ने आज स्वतंत्र मेडिसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (एमएचआरए) की सिफारिश को स्वीकार कर लिया है. फाइजर-बायोएनटेक की कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे दी गई है. अगले सप्ताह से यह पूरे देश में उपलब्ध होगी. कुछ मीडिया रिपोर्ट का कहाना है कि वैक्सीन को मंजूरी देने वाल ब्रिटेन दुनिया का पहला देश है.

UK approves

इस कंपनी ने विकसित किया टीका
वैक्सीन बनाने वाली दोनों कंपनियों जर्मन कंपनी बायोनटेक और अमेरिकी कंपनी फाइजर का कहना है कि उन्हें अब तक कोई गंभीर सुरक्षा मुद्दा दिखाई नहीं दिया जिसके बाद टीके के आम लोगों में उपयोग के लिए प्राधिकरण से इजाजत मांगी गई थी. मंगलवार को कंपनी की ओर से बताया गया कि ईयू रेगुलेटरी (नियामक) में उन्होंने वैक्सीन को मंजूरी के लिए अप्लाई कर दिया है. गौरतलब है कि कोरोना वायरस के खिलाफ भारत समेत दुनियाभर में वैक्सीन का बेसब्री से इंतजार हो रहा है.

भारत में सबको नहीं मिलेगी वैक्सीन
हालांकि यह भी सच है कि भारत में फिलहाल हर किसी को कोरोना वायरस की वैक्सीन नहीं दी जाएगी. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को कहा था कि वैक्सीन सबके लिए नहीं हैं. उन्होंने कहा कि पूरे देश में टीकाकरण की बात सरकार ने कभी नहीं कही. हम स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि जो विज्ञान से संबंधित विषय है, अच्छा होगा उस पर चर्चा करने से पहले तथ्यात्मक जानकारी जुटा ली जाए. सरकार ने पूरे देश में टीकाकरण की बात कभी नहीं कही.

सीरम इंस्टीट्यूट में कोरोना वैक्सीन ट्रायल पर रोक से इनकार
केंद्र सरकार की ओर से कहा गया है कि सीरम इंस्टीट्यूट में चल रहे कोरोना वैक्सीन कोविडशील्ड के ट्रायल को रोके जाने की कोई वजह नहीं है. ऐसे में ट्रायल चलता रहेगा. केंद्र ने ये फैसला 40 साल के उस वॉलिंटियर के दावों पर रिव्यू करते हुए लिया है, जिसने कहा है कि टीका असुरक्षित है और टीका लेने के बाद उसे सेहत संबंधी समस्याएं पैदा हो गईं हैं. 40 साल के इस शख्स ने सीरम इंस्टीट्यूट और अन्य से क्षतिपूर्ति के लिए पांच करोड़ रुपए मांगने के साथ परीक्षण को रोक देने की मांग की. जिसके बाद मंगलवार को केंद्र ने इस शख्स के दावों को खारिज कर दिया.-UK approves Pfizer-BioNTech’s Kovid-19 vaccine, common people will be vaccinated from next week-

किसान आंदोलन को लेकर किए ट्वीट ने कंगना रनौत की बढ़ाई मुश्किलें, वकील ने भेजा कानूनी नोटिस

फिल्म अभिनेता-बीजेपी सांसद सनी देओल की कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव