-man bought 4 pigeons from tantrik for Rs 7 lakh, To prevent son’s death- भारत में अधंविस्वास के चलते कई लोगों को बड़ी ही आसानी से बेवकूफ बना दिया जाता है. कई लोग अपनी समस्याओं के समाधान के लिए तांत्रिक और बाबाओ के पास जाते हैं, लेकिन वहीं उन्हें लाखों रुपए की चपत लगा देते हैं. ऐसा ही एक मामला महाराष्ट्र से सामने आया है जहां, एक परिवार अंधविश्वास के चक्कर में ऐसा पड़ा कि उसके 7 लाख रुपये डूब गए. जी हां, चार कबूतरों की कीमत करीब 7 लाख रुपये. पुणे में एक तांत्रिक ने एक परिवार को झांसा देकर उनसे पैसे ऐंठ लिए. इस घटना की शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

यह घटना पुणे के कोंढवा इलाके में रहने वाले एक परिवार के साथ हुई. बताया जा रहा है कि पीड़ित
परिवार अपने घर के एक सदस्य की बीमारी को लेकर बहुत परेशान था. तमाम तरह के इलाज कराने के
बावजूद बीमार बेटे को कहीं से कोई आराम नहीं मिल रहा था. फिर यह परिवार किसी के माध्यम से तात्रिंक कुतबुद्दीन नजम से मिलने जा पहुंचा.

आरोपी तांत्रिक कुतबुद्दीन ने परिवार से कहा था कि तुम्हारे बेटे पर किसी ने काला जादू किया है, जिसकी
वजह से उसकी मौत हो सकती है. मौत का डर दिखाकर बाबा ने पीड़ित परिवार को साढ़े 6 लाख 80
हजार रुपये के कबूतर खरीदने के लिए कहा था. यानी एक कबूतर 1 लाख 70 हजार रुपये का. परिवार ने
बीमार बेटे के ठीक होने की उम्मीद से इतनी बड़ी रकम भी खर्च करने की बात मान ली.

तांत्रिक ने पीड़ित परिवार से कहा कि कबूतर खरीदने से बेटे की मौत टल जाएगी और उसकी जगह इन
कबूतरों की मौत हो जाएगी. ऐसे परिवार के अंदर अंधविश्वास पैदा हो गया और झट से तांत्रिक की बात
मानकर उसे पैसे दे दिये. कई दिन गुजर जाने के बाद जब पीड़ित परिवार के बेटे की तबीयत में कोई सुधार
नहीं हुआ और जनवरी भी आधा निकल गया. फिर तांत्रिक से पूछा कि बेटे की तबीयत में कोई सुधार क्यों
नहीं हो रहा. इस बात पर तांत्रिक टालमटोल करता रहा. हर बार यही कहता कि इंतजार करो, बेटा ठीक
हो जाएगा. आखिर परिवार के सब्र का बांध टूट गया. उन्होंने फिर इस सारे मामले की जानकारी अंधश्रद्धा
निर्मूलन समिति को दी.-man bought 4 pigeons from tantrik for Rs 7 lakh, To prevent son’s death-

Bigg Boss 14: अली संग प्यार का नाटक कर रही है सोनाली फोगाट! दोस्त ने खोली पोल

कोरोना वायरस का टीका लगवाने के बाद बिगड़ी आशा वर्कर की तबीयत, अस्पताल में कराना पड़ा भर्ती