-Another farmer protesting against agricultural laws commits suicide- मोदी सरकार द्वारा साल 2020 में लाए गए तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान पिछले एक डेढ़ महीनें से ज्यादा समय से दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे है. वहीं विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों में अब तक 50 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों की जान जा चुकी है. बता दें कि यहां दिल्ली-हरियाणा के बीच सिंघु बॉर्डर पर हजारों प्रदर्शनकारी धरने पर हैं. जिनमें से कई किसान आत्महत्या की कोशिश कर चुके हैं. इसी बीच एक और खबर है कि, पंजाब के लुधियाना के रहने वाले 50 वर्षीय किसान लाभ सिंह ने भी जान देने की ठानी. उन्होंने जहर खाकर मरने की कोशिश की. हालांकि, उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, किसान लाभ सिंह सरकार द्वारा की जा रही अनसुनी से आहत थे. उनके द्वारा गलत कदम उठाए जाने की सूचना मिलने पर सोनीपत पुलिस भी मौके पर पहुंची. पता चला है कि, लाभ सिंह को सोनीपत में ही एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. हालांकि, जहर का असर होने से हालत नाजुक बनी हुई है. उधर, किसानों के डेरे में पदाधिकारी लगातार सरकार के रवैये के खिलाफ बुलंद हो रहे हैं. कुंडली बॉर्डर पर भी काफी किसान डटे हुए हैं.

किसान संगठनों द्वारा सरकार को अपनी ताकत का अहसास कराने के लिए कई तरह की कोशिश की जा रही हैं. मसलन, 26 जनवरी की परेड को लेकर किसानों ने बीते रोज 600 ट्रैक्टर लेकर प्रदर्शन किया. जिसके चलते नेशनल हाईवे दो घंटे जाम रहा. ये ट्रैक्टर कृषि कानूनों के विरोध में छछरौली ब्लॉक की अनाज मंडी में इकट्ठे हुए. यह रैली गणतंत्र दिवस समारोह में ट्रैक्टर मार्च निकालने के लिए तैयारी के रूप में निकाली गई. किसान सैकड़ों ट्रैक्टरों से छछरौली से दादूपुर, से देवधर व देवधर से खिजराबाद अनाज मंडी पहुंचे. उस दौरान लेदी होते हुए रैली संपन्न हुई.-Another farmer protesting against agricultural laws commits suicide-

Kundali Bhagya: सृष्टि ने चुराया अक्षय का फोन, प्रीता के सामने आई अक्षय-रुचिका की सच्चाई

‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ में नायरा का किरदार हुआ खत्म, शिवांगी जोशी का ये वीडियो हो रहा वायरल