-Proposal passed against Love Jihad in UP cabinet meeting, will be punished for 10 years for forcibly conversion- उत्तर प्रदेश में जबरन शादी के नाम पर धर्मपरिवर्तन (लव जिहाद) को लेकर आज यानी मंगलवार को राज्य कैबिनेट की बैठक की गई. इस बैठक में लव जिहाद पर अध्यादेश पास कर दिया गया है. अध्यादेश के मुताबिक, धोखे से धर्म बदलवाने पर 10 साल तक की सजा होगी. इसके अलावा धर्म परिवर्तन के लिए जिलाधिकारी को दो महीने पहले सूचना देनी होगी.

बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार ने ऐलान किया था कि हम लव जिहाद पर नया कानून बनाएंगे. ताकि लालच, दबाव, धमकी या झांसा देकर शादी की घटनाओं को रोका जा सके.

यूपी सरकार में मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि अध्यादेश में धर्म परिवर्तन के लिए 15,000 रुपये के जुर्माने के साथ 1-5 साल की जेल की सजा का प्रावधान है. अगर SC-ST समुदाय की नाबालिगों और महिलाओं के साथ ऐसा होता है तो 25,000 रुपये के जुर्माने के साथ 3-10 साल की जेल होगी.

उन्होंने कहा कि यूपी कैबिनेट उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म समपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 लेकर आई है, जो उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था सामान्य रखने के लिए और महिलाओं को इंसाफ दिलाने के लिए जरूरी है. उन्होंने कहा कि बीते दिनों में 100 से ज्यादा घटनाएं सामने आई थीं, जिनमें जबरन धर्म परिवर्तित किया जा रहा है. इसके अंदर छल-कपट, बल से धर्म परिवर्तित किया जा रहा है.

अध्यादेश में धर्म परिवर्तन के इच्छुक होने पर विहित प्रारुप पर जिलाधिकारी को 2 महीने पहले सूचना देनी होगी, इसका उल्लंघन किए जाने पर 6 महीने से 3 साल तक की सजा और जुर्माने की राशि 10 हजार रुपये से कम की नहीं होने का प्रावधान है.

योगी सरकार के मंत्री मोहसिन रजा ने बीते दिनों कहा था कि यूपी में अब ये नहीं चलेगा कि मिशन की तरह लड़कियों को बहलाकर धर्म परिवर्तन कराया जाए. ये उन जिहादियों को कड़ा संदेश है, जो इसकी आड़ में धर्म परिवर्तन करवा रहे हैं. ऐसे लोगों को जेल में डालने की पूरी तैयारी है.

लव जिहाद पर यूपी में कानून
-उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020
-धोखा, लालच, बलपूर्व या अन्य कपट से शादी करने के बाद दूसरे घर्म में परिवर्तन अपराध होगा.
-शादी के बाद जबरन धर्म बदलवाने पर सजा.
-महिला, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के संबंध में धर्म परिवर्तन पर दंड का प्रावधान
-सामूहिक धर्म परिवर्तन के मामले में सामाजिक संगठनों का पंजीकरण होगा रद, होगी कठोर कार्रवाई.
-दोषी को 1 से 5 साल तक की सजा का प्रावधान, 15000 होगा जुर्माना.
-महिला, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के संबंध में 3 से 10 साल तक की सजा. 25000 होगा जुर्माना
-धर्म परिवर्तन करने से पहले जिला मजिस्ट्रेट को 2 महीने पहले सूचित करना होगा. उल्लंघन करने पर 6 महीने से 3 साल तक की सजा. 10000 होगा जुर्माना.

लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने की बात सबसे पहले सीएम योगी ने यूपी के देवरिया में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कही थी. उन्होंने कहा था कि जैसा कि इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अपने एक फैसले में साफ कहा है कि महज शादी करने के लिए किया गया धर्म परिवर्तन अवैध होगा.

सीएम योगी ने कहा कि प्रदेश सरकार इस बाबत सख्त प्रावधानों वाला कानून लाएगी और फिर ऐसी हरकत करने वालों का राम नाम सत्य ही होगा. उनके इस ऐलान के साथ ही बीजेपी शासित अन्य राज्यों में भी लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने की मांग उठने लगी.

मध्य प्रदेश ने भी लव जिहाद को लेकर बिल लाने की बात कही. प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अगले विधानसभा सत्र में लव जिहाद को लेकर विधेयक लाया जा रहा है. लव जिहाद पर 5 साल कारावास की सजा का प्रवधान रहेगा. वहीं, हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने भी कहा कि वे भी प्रदेश में लव जिहाद रोकने के लिए कानून लाएंगे.

हाल ही में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बिहार में भी ऐसा कानून बनाने की मांग की थी, हालांकि जेडीयू ने इससे किनारा किया. शिवसेना की ओर से संजय राउत ने कहा है कि अगर बिहार में ऐसा कोई बिल आता है, तो हम उसे देखेंगे. नीतीश कुमार एक शांत स्वभाव वाले मुख्यमंत्री हैं.-Proposal passed against Love Jihad in UP cabinet meeting, will be punished for 10 years for forcibly conversion-

ट्विटर पर सोनू सूद की नई उपलब्धि, इस मामले में बॉलीवुड स्टार्स को पछाड़ बने नंबर-1 हीरो

App Ban: चीन को लगा एक और बड़ा झटका, भारत सरकार ने बैन किए 43 मोबाइल ऐप, देखें पूरी लिस्ट