मिर्ज़ा ग़ालिब के टॉप 20 शेर (MIRZA GHALIB ke Top 20 Sher)

1- हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन
दिल के ख़ुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है

(ham ko ma.alūm hai jannat kī haqīqat lekin
dil ke ḳhush rakhne ko ‘ġhālib’ ye ḳhayāl achchhā hai)

2- उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है

un ke dekhe se jo aa jaatī hai muñh par raunaq
vo samajhte haiñ ki bīmār kā haal achchhā hai

3- मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले

mohabbat meñ nahīñ hai farq jiine aur marne kā
usī ko dekh kar jiite haiñ jis kāfir pe dam nikle

4- हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले

hazāroñ ḳhvāhisheñ aisī ki har ḳhvāhish pe dam nikle
bahut nikle mire armān lekin phir bhī kam nikle

5- ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता
अगर और जीते रहते यही इंतिज़ार होता

ye na thī hamārī qismat ki visāl-e-yār hotā
agar aur jiite rahte yahī intizār hotā

6- इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना

ishrat-e-qatra hai dariyā meñ fanā ho jaanā
dard kā had se guzarnā hai davā ho jaanā

7- रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है

ragoñ meñ dauḌte phirne ke ham nahīñ qaa.il
jab aañkh hī se na Tapkā to phir lahū kyā hai

8- न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता

na thā kuchh to ḳhudā thā kuchh na hotā to ḳhudā hotā
Duboyā mujh ko hone ne na hotā maiñ to kyā hotā

9- आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक

aah ko chāhiye ik umr asar hote tak
kaun jiitā hai tirī zulf ke sar hote tak

10- रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं

rañj se ḳhūgar huā insāñ to miT jaatā hai rañj
mushkileñ mujh par paḌīñ itnī ki āsāñ ho ga.iiñ

11- बस-कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना

bas-ki dushvār hai har kaam kā āsāñ honā
aadmī ko bhī mayassar nahīñ insāñ honā

12- हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और

haiñ aur bhī duniyā meñ suḳhan-var bahut achchhe
kahte haiñ ki ‘ġhālib’ kā hai andāz-e-bayāñ aur

13- बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मिरे आगे
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मिरे आगे

bāzīcha-e-atfāl hai duniyā mire aage
hotā hai shab-o-roz tamāshā mire aage

14- रेख़्ते के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ‘ग़ालिब’
कहते हैं अगले ज़माने में कोई ‘मीर’ भी था

reḳhte ke tumhīñ ustād nahīñ ho ‘ġhālib’
kahte haiñ agle zamāne meñ koī ‘mīr’ bhī thā

15- काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुम को मगर नहीं आती

kaaba kis muñh se jāoge ‘ġhālib’
sharm tum ko magar nahīñ aatī

16- दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ
मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ

dard minnat-kash-e-davā na huā
maiñ na achchhā huā burā na huā

17- कोई मेरे दिल से पूछे तिरे तीर-ए-नीम-कश को
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता

koī mere dil se pūchhe tire tīr-e-nīm-kash ko
ye ḳhalish kahāñ se hotī jo jigar ke paar hotā

18- क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हाँ
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन

qarz kī piite the mai lekin samajhte the ki haañ
rañg lāvegī hamārī fāqa-mastī ek din

19- कहाँ मय-ख़ाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइज़
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था कि हम निकले

kahāñ mai-ḳhāne kā darvāza ‘ġhālib’ aur kahāñ vaa.iz
par itnā jānte haiñ kal vo jaatā thā ki ham nikle

20-  इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया
वर्ना हम भी आदमी थे काम के 

ishq ne ‘ġhālib’ nikammā kar diyā
varna ham bhī aadmī the kaam ke

ग़ज़ल: न मैं समझा न आप आए कहीं से – अनवर देहलवी (na main samjha na aap aae kahin se – ANWAR DEHLVI Ghazal)

हिंदी गजल: तीर पर तीर लगाओ तुम्हें डर किस का है – अमीर मीनाई (Tir Par Tir Lagao Tumhein Dar Kis Ka Hai- Ameer Minai shayari in Hindi)