How to decorate baby’s room So that he can concentrate in studies: बेबी का फैसला लेना एक मॉम के लिए बेहद कठिन होता है, क्योंकि बेबी होने के बाद एक मॉम पर बहुत सारी जिम्मेदारियां आ जाती हैं। मॉम की परवरिश का सबसे खास हिस्सा होता है एजुकेशन। बच्चा अच्छी पढ़ाई करके स्कोर और टैंलेट के दम पर पहचान बनाएगा तो नाम मॉम का ही होता है। बच्चों को एक उम्र पर पढ़ाई के बंधन में बांधने से अच्छा है कि आप उसे बचपन से ही पढ़ाई के माहौल में रखें। इसके लिए खास भूमिका निभाता है बच्चे के कमरे की सजावट. सजावट ऐसी होनी चाहिए ऐसे जिससे बच्चे का मूड पॉजिटिव बना रहे. लेकिन इसी बात को लेकर माता-पिता हमेशा कन्फयूज्ड रहते हैं कि अपने बच्चे के रूम को कैसे डेकोरेट करें. तो चलिए आज इस लेख में आपको बताते हैं कि कैसे बचपन में ही अपने मासूम के रूम को डेकोरेट करें ताकि वो पढ़ाई में आगे जाकर मन लगा सके.

थीम डेकोरेशन
आप थीम डेकोरेशन के जरिए अपने बच्चे की फेवरेट चीज को आधार बनाकर उसके कमरे को सजा सकते हैं. यहां आप उसके फेवरेट कार्टून कैरेक्टर, फल, सब्जी या फिर जू थीम का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. यह काम आपको बच्चे की उम्र का खास ख्याल रखकर ही करना होगा। अगर आपका बच्चा बड़ा है तोआप कार्टून के स्थान पर कोई मोटिवेशनल थीम का प्रयोग करें.

घर को क्लास रूम बनाएं
अपने बच्चे के घर को ऐसे सजाएं जैसे कोई क्लास रूम हो. जिससे कि उसका ध्यान पढ़ाई के तरफ जाए. इसके लिए आप घर की दीवारों पर Alphabates की फोटो भी लगा सकते हैं. घर में जगह-जगह टेडी बियर और कॉर्टून रखने की बजाय ऐसे कॉर्टून रखें जो शब्द बोलते हो. इसके अलावा घर की दीवारों पर स्वामी विवेकानंद और महात्मा गांधी जैसे महापुरुषों का चित्र चलाएं, और समय-समय पर कहानी के रूप में बच्चे को इनके बारे में बताते भी रहें.

पढ़ाई का बेस्ट तरीका
बच्चे के लिए पौष्टिक खाना भी पढ़ाई जिनता जरूरी होता है. आप खाने की टेबल पर बच्चों को फ्रूट्स बॉडी के लिए कितना हेल्दी और जुबां के लिए कितना टेस्टी है इसके बारे में बताएं. फ्रूट्स के नाम बताएं साथ ही उनके फायदे और नुकसान के बारे में बताएं.

क्रिएटिविटी का कमाल
इसके लिए आप बच्चे की मदद बी ले सकते हैं. आप चाहें तो बच्चे के साथ मिलकर कुछ डेकोरेटिव पीस तैयार करके उसे कमरे में सजाएं सकते हैं. जैसे, पेपर इसके अलावा कार्ड से तैयार होने वाले एनिमल या फिर उनका कोई फेवरेट कार्टून भी तैयार कर सकते हैं. बच्चे के बर्थडे पर खुद से कार्ड तैयार करके उनके कमरे की वॉल पर सजा सकते हैं जिसे देखने के बाद वो हमेशा खुश रहेगा.

इसका रखें खास ध्यान

  • अगर आप बच्चे का कमरा डेकोरेट कर रहे हैं तो उसकी पसंद और के बारे एक बार जरूर बात करें.
  • कमरा डेकोरेट करते समय किसी भी नुकीली वस्तु का इस्तेमाल न करें. इससे आपके बच्चे को नुकसान पहुंच सकता है. अपका बच्चा चोटिल हो भी सकता है.
  • कमरे को अलग लुक देना चाहते हैं तो इसके लिए बाजार में मिलने वाले डिफरेंट शेप्स के फर्नीचर का इस्तेमार करें. इससे कमरे को शानदार लुक मिलेगा.
  • बच्चे के कमरे में कांच से बनी हुईं चीजों का प्रयोग न करें. ऐसा करना बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है, उसको चोट भी पहुंच सकती है.

खाना खाने के बाद पेट में भारीपन , पेट में भारीपन के लक्षण , पतंजलि गैस की दवा , पेट का भारीपन कैसे दूर करे , पेट में भारीपन का कारण , पेट में भारीपन का इलाज

स्किन एलर्जी , स्किन एलर्जी के कारण लक्षण उपचार और सावधानियां , त्वचा की एलर्जी से राहत पाने के घरेलू उपाय ,  स्किन एलर्जी ,  त्वचा की एलर्जी का इलाज