गठिया रोग के दर्द को भगाने के घरेलू उपाय – गठिया के दर्द से तुरंत राहत घरेलू उपाय

आजकल कम उम्र के बच्चे और युवा भी गठिया का शिकार हो रहे हैं. गठिया में काफी तेज दर्द होता है और सूजन भी रहती है. ये सूजन जोड़ों में यूरिक एसिड के जमने के कारण होती है. अगर आप इस दर्द और सूजन से तुरंत राहत पाना चाहते हैं, तो इन आसान घरेलू उपायों को अपना सकते हैं.

आलू का रस –  रोजाना 100 मि.ली. आलू का रस पीने से दर्द से छुटकारा मिलता है लेकिन इसे खाना खाने से पहले ही पीएं।

सौंठ –  सौंठ यानि सूखा अदरक औषधीय गुणों से भरपूर गठिए के रोगी के लिए काफी फायदेमंद होता है। आप इसका सेवन किसी भी तरह कर सकते हैं।

एलोविरा जेल – गठिए के कारण होने वाली दर्द से राहत पाने के लिए एलोविरा जेल को उस पर लगाएं। इससे आपकी दर्द बहुत जल्दी ठीक जाएगी।

लहसुन – गठिए के रोगी के लिए लहसुन बहुत फायदेमंद होता है। अगर आप इसे खाना पसंद नहीं करते तो इसमें सेंधा नमक, जीरा, हींग, पीपल, काली मिर्च और सौंठ आदि सारी चीजें 2-2 ग्राम लेकर पेस्ट बना लें और इसे अरंडी के तेल में भूनें। अब इसे दर्द वाली जगह पर लगाएं।

अरंडी के तेल – जोड़ों में ज्यादा तेज दर्द होने पर अरंडी के तेल से मालिश करें। इससे दर्द से तो राहत मिलेगी साथ ही में सूजन भी कम होगी।

स्टीम बॉथ – गठिए की दर्द से छुटकारा पाने के लिए स्टीम बॉथ लें और बाद में जैतून के तेल से मालिश करें।

बथुआ के पत्तों का रस – गठिया की दर्द से राहत पाने के लिए बथुआ का रस काफी कारगार है। रोजाना 15 ग्राम ताजे बथुआ के पत्तों का रस पीएं लेकिन इसके स्वाद के लिए इसमें कुछ न मिलाएं। इस उपाय को लगातार तीन महीने करने से दर्द से हमेशा के लिए राहत मिलेगी।

ज्‍यादा से ज्‍यादा पानी पीना – गठिया से पीडि़त होने पर ज्‍यादा से ज्‍यादा मात्रा में पानी पिएं। शुरूआत में बार बार पेशाब जाने पर आपको दिक्‍कत हो सकती है लेकिन कुछ दिनों में आराम मिल जाएगा।

हरी पत्‍तेदार सब्‍जी का सेवन – गठिया रोगी को हमेशा हरे पत्‍तेदार सब्‍जी का सेवन करना चाहिए, इससे बॉडी में ऊर्जा मिलती है और दर्द भी नहीं होता।

संतुलित और सुपाच्य आहार लें। चोकर युक्त आटे की रोटी तथा छिलके वाली मूंग की दाल खाएं। हरी सब्जियों में सहिजन, ककड़ी, लौकी, तोरई, पत्ता गोभी, गाजर, आदि का सेवन करें। दूध और उससे बने पदार्थों का सेवन करें।

गठिया रोग के दर्द को भगाने के पतंजलि आयुर्वेद की दवा

गठिया का अचूक इलाज पतंजलि

सोमराजी तैल – इस तैल का प्रयोग कई प्रकार की त्‍वचा संबंधी समस्‍यओं जैसे- एक्जिमा, गठिया व खुजली को दूर करने के लिये किया जाता है।

सिहंनाद गुग्‍गुलु –  इसका उपयोग जीर्ण गठिया, लाकवा व अन्‍य वात रोगों के उपचार के लिए किया जाता है।

पीसीओएस या पीसीओडी क्या है – PCOS के लक्षण, कारण और बचाव, जानें कैसा हो आहार(What is PCOS or PCOD)

डर के लक्षण, कारण, इलाज, दवा, उपचार और परहेज – डर (फोबिया) Fear (Phobias) in Hindi

आधार कार्ड से जुड़े सभी सवालों के जवाब , दस्तावेज – All Answers Related Aadhaar Card in Hindi

शादी के बाद लोगों को आखिर किस बात का पछतावा सबसे ज्यादा होता है?