उच्च रक्तचाप के लिए आहार , हाई ब्लड प्रेशर में क्या नहीं खाना चाहिए , हाई ब्लड प्रेशर डाइट , हाई ब्लड प्रेशर में क्या खाएं और क्या नहीं खाएं , उच्च रक्तचाप के लिए आहार , उच्च रक्तचाप में परहेज , हाई ब्लड प्रेशर चार्ट , High Blood Pressure Diet in Hindi , High Blood Pressure Me Kya Khana Chahiye , Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi , High Blood Pressure Diet Foods to Avoid in Hindi , BP High Me Kya Khaye

हाई ब्लड प्रेशर डाइट चार्ट

हाई ब्लड प्रेशर में क्या खाएं और क्या नहीं खाएं – यदि आप हाई ब्लडप्रेशर के मरीज हैं, तो आपको अपने खान-पान में बदलाव है। हाई ब्लडप्रेशर होने पर किस तरह का खान-पान अपनाएं, और आपकी दिनचर्या कैसी हो, इस बारे में हम बता रहें हैं, कुछ खास टिप्स। इन्हें अपनाकर आप हाई ब्लडप्रेशर की समस्याओं को कम कर सकते हैं । Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi उच्च रक्तचाप में परहेज

हाई बीपी में क्या खाएं – What Should We Eat in High BP

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं हरी पत्तेदार सब्जियां
अगर आप दिनभर के तनाव को कम करना चाहते हैं, तो हरी पत्तेदार सब्जियां इसमें आपकी मदद कर सकती हैं। इन सब्जियों में पोटेशियम पाया जाता है, जो शरीर से सोडियम (यह उच्च रक्तचाप का एक मुख्य कारण है) को बाहर निकालने का काम करता है। उच्च रक्तचाप के लिए आहार (high blood pressure diet) में इसे शामिल करने से रक्तचाप सामान्य स्तर पर आ जाता है।
आप इन हरी पत्तेदार सब्जियों को अपने भोजन में जरूर शामिल करें।  1 – गोभी , 2 – पालक  ,3- आर्गुला , 4 – मूली के पत्ते , 5 – शलजम के पत्ते , 7 – चुकंदर के पत्ते

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं दलिया 
दलिये में भरपूर मात्रा में फाइबर, विटामिन व मिनरल्स पाए जाते हैं। दलिया का सेवन करने से खून में लिपिट (एक प्रकार का वसा) का स्तर कम होता है, जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है। साथ ही यह उच्च रक्तचाप को भी नियंत्रित कर पाता है। विभिन्न शोध के बाद वैज्ञानिकों ने इस बात की पुष्टि की है कि जो प्रतिदिन पांच ग्राम दलिये का सेवन करता है, उनके सिस्टोलिक रक्तचाप स्तर में 7.7 एमएम एचजी की कमी आती है, जबकि डायस्टोलिक रक्तचाप के स्तर में 5.5 एमएम एचजी की कमी पाई गई है । इसलिए, प्रतिदिन नाश्ते या दोपहर के खाने में दलिये को जरूर शामिल करें।

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं चुकंदर
इसमें नाइट्रिक ऑक्साइड पाया जाता है, जो रक्त नलिकाओं को फैलने में मदद करता है। इसलिए, चुकंदर का सेवन करने से उच्च रक्तचाप कम होने लगता है। चुकंदर किस तरह उच्च रक्तचाप में लाभदायक है, यह जानने के लिए ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों ने एक परीक्षण किया। उन्होंने 15-15 पुरुषों व महिलाओं को दो अलग-अलग ग्रुप में बांट दिया। एक ग्रुप को वैज्ञानिकों ने 500 ग्राम चुकंदर का जूस, जबकि अन्य ग्रुप को सेब का जूस सेवन करने के लिए दिया। जिस ग्रुप को चुकंदर का जूस दिया गया था, करीब दो हफ्ते बाद उनका सिस्टोलिक रक्तचाप स्तर चार-पांच एमएम एचजी कम पाया गया ।

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं फैटी फिश
सेलमन, मैकेरल, हिलसा और टूना मछली में ओमेगा-3-फैटी एसिड पाया जाता है। इनका सेवन करने से शरीर में आई सूजन को कम किया जा सकता है। इन मछलियों में भरपूर मात्रा में विटामिन-डी पाया जाता है। वैज्ञानिकों का दावा है कि ओमेगा-3 में DHA पाया जाता है, जो शरीर की कोशिकाओं में वोल्टेज-गेटेड चैनल को सक्रिय करता है, जो सोडियम को जड़ से खत्म कर देता है। साथ ही शोध में यह भी पाया गया है कि फैटी फिश का सेवन करने से न सिर्फ वजन कम होता है, बल्कि सिस्टोलिक व डायस्टोलिक रक्तचाप में भी कमी आती है . आप डॉक्टर से सलाह लेने के बाद हफ्ते भर में फैटी फिश के तीन-चार सर्विंग बाउल का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा, आप फिश ऑयल को भी सप्लीमेंट के तौर पर अपने भोजन में शामिल कर सकते हैं। Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं डार्क चॉकलेट
यह पढ़कर आपको कुछ अटपटा लगे, लेकिन सच्चाई यही है कि 70-80 प्रतिशत डार्क चॉकलेट खाने से उच्च रक्तचाप में कमी आ सकती है। डार्क चॉकलेट में फ्लैवनॉल्स पाया जाता है, जिसका असर उच्च रक्तचाप पर पड़ता है। यूनिवर्सिटी ऑफ एडिलेड के वैज्ञानिकों का कहना है कि प्रतिदिन 30-1000 एमजी डार्क चॉकलेट खाने से सिस्टोलिक और डायस्टोलिक रक्तचाप में कमी आती है । इसलिए, हर कुछ दिनों के अंतराल में दोपहर या फिर रात के खाने के बाद थोड़ी-सी चॉकलेट खा सकते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं लहसुन
लहसुन में एलिसिन नामक मुख्य तत्व पाया जाता है। यह शरीर में हाइड्रोजन सल्फाइड के उत्पादन को संतुलित करता है और नाइट्रिक ऑक्साइड को नियंत्रित करता है। इससे रक्त वाहिकाओं को तनाव मुक्त होने व फैलने में मदद मिलती है । उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए आप प्रतिदिन लहसुन की एक-दो कलियों का सेवन कर सकते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं अनार
अनार को एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन्स, मिनरल्स और फाइबर का अच्छा स्रोत माना गया है। अगर आप वजन कम करना चाहते हैं, तो अनार आपके लिए सबसे बेहतर फल है। साथ ही इसे खाने से शरीर में रक्त की पूर्ति होती है और चेहरे का निखार बढ़ने लगता है। विभिन्न शोधों में पाया गया है कि अगर आप नियमित रूप से अनार जूस का सेवन करते हैं, तो सिस्टोलिक रक्तचाप में कमी आती है । डॉक्टरों के अनुसार, जिन्हें उच्च रक्तचाप की समस्या है, उन्हें हर कुछ दिनों के अंतराल में एक-दो गिलास अनार जूस पीना चाहिए।

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं पिस्ता
अच्छे स्वास्थ्य के लिए पिस्ता को उत्तम माना गया है। खासकर, उच्च रक्तचाप से पीड़ित मरीजों को इसका करना सेवन करना चाहिए। अगर इसे सीमित मात्रा में लिया जाए, तो वजन कम करने में मदद मिल सकती है। यह रक्त में लिपिड के स्तर को कम करने में सक्षम है । रक्तचाप को संतुलित करने के लिए प्रतिदिन बिना नमक वाले 25 पिस्ता खाए जा सकते हैं। उच्च रक्तचाप के लिए आहार (high blood pressure diet) में इसे जरूर शामिल करें।

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं योगर्ट
यह एक प्रकार की दही होती है। इसमें वसा की मात्रा कम होती है और कैल्शियम व पोटेशियम पर्याप्त मात्रा में होता है। डॉक्टरों का कहना है कि कैल्शियम और पोटिशयम शरीर से सोडियम को बाहर निकालने में मदद करते हैं। न्यूट्रिएंट्स नामक जरनल में प्रकाशित हुई एक स्टडी के अनुसार, योगर्ट खाने से उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद मिलती है । इसलिए, आप प्रतिदिन एक-दो कटोरी योगर्ट का सेवन कर सकते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं जैतून का तेल
इस तेल में पॉलीफेनोल पाया जाता है, जो उच्च रक्तचाप को कम करने में सक्षम है। वैज्ञानिक शोध में पाया गया है कि अगर नियमित रूप से सीमित मात्रा में जैतून का तेल अपने भोजन में शामिल किया जाए, तो बैड कोलेस्ट्रोल और सिस्टोलिक रक्तचाप कम हो सकता है। इसका असर न सिर्फ युवा महिलाओें, बल्कि अधिक उम्र की महिलाओं पर भी हो सकता है . Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं बीज
अन्य खाद्य पदार्थों की तरह प्राकृतिक बीजों में भी कई पोषक व गुणकारी तत्व होते हैं। इनमें कद्दू, सूरजमुखी, खरबूजे व चिया (तुलसी प्रजाति) के बीज प्रमुख हैं। ये बीज फाइबर, स्वस्थ वसा, विटामिन्स और मिनरल्स के प्रमुख स्रोत हैं। ये बीज वजन कम करने के साथ-साथ रक्तचाप को संतुलित करने का काम भी बखूबी करते हैं। आप प्रतिदिन अपनी स्मूदी में या फिर नाश्ते और सलाद में इन बीजों के एक-दो चम्मच शामिल कर सकते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर में खाएं विटामिन-सी युक्त फल
अंगूर, संतरा, किवी, नींबू व मौसमी सिट्रस फलों की श्रेणी में आते हैं। इन्हें विटामिन-सी का सबसे अच्छा स्रोत माना गया है। ये उच्च रक्तचाप को कम करने में सक्षम हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर प्रतिदिन 500 ग्राम विटामिन-सी का सेवन किया जाए, तो ये सिस्टोलिक व डायस्टोलिक रक्तचाप को क्रमश: 3.84 एमएच एचजी व 1.48 एमएच एचजी तक कम कर सकता है । अगर विटामिन-सी युक्त दो तरह के फल का प्रतिदिन सेवन किया जाए, तो सेहत में जल्द ही सकारात्मक असर नजर आ सकता है।

केले में सोडियम होता है कम, हाई बीपी में फायदेमंद
केला फाइबरऔर ऐंटीऑक्सीडेंट का एक अच्छा स्त्रोत है , इसीलिए एक्सपर्ट्स हाईपरटेंशन और हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को सेहतमंद रहने के लिए केला खाने की सलाह देते हैं। इसके अलावा केले में सोडियम भी काफी कम मात्रा में पाया जाता है , हाई बल्ड प्रेशर के मरीजों को सोडियम लेने से परहेज करने की सलाह दी जाती है। केले में मौजूद पौटेशियम vasodilator का काम करता है, जो कि सोडियम के प्रभाव को कम करता है और यूरीन के रास्ते शरीर से अतिरिक्त सोडियम को बाहर निकालता है। Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi

हाई बीपी में इन खादय् पदार्थों को खाएं 

  • सब्जियां – पालक, ब्रोकली, सलाद, शतावरी, मूली की हरी पत्तियां, फूलगोभी, लौकी, करेला, कद्दू, प्याज की पत्तियां, अदरक, लहसुन, गाजर, चुकंदर, बैंगन, टमाटर, मटर आदि।
  • फल –  सेब, तरबूज, चकोतरा, नींबू, संतरा, कीनू, अनानास, आम, बेर, नाशपाती, केला, अंगूर, चेरी, स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी आदि।
  • सूखे मेवे और बीज – पिस्ता, अखरोट, बादाम, अलसी के बीज, सूरजमुखी के बीज, कद्दू के बीज, चिया बीज आदि।
  • अनाज – ब्राउन राइस, दलिया, होल वीट, होल वीट पास्ता, मल्टी ग्रेन ब्रेड और होल वीट ब्रेड आदि।
  • प्रोटीन – चिकन ब्रेस्ट, सूअर का मांस और बीफ़, मशरूम, मैकेरल (एक प्रकार की मछली), टोफू, मसूर की दाल, राजमा, मटर और चने आदि।
  • डेरी उत्पाद – कम वसा वाला दूध, दही, पनीर और छांछ आदि।
  • वसा और तेल –  जैतून का तेल, चावल की भूसी का तेल, अलसी का तेल, फ्लैक्स सीड बटर, सनफ्लावर बटर, घी, पीनट बटर, कम वसा वाले मेयोनेज़ और सूरजमुखी का तेल।
  • पेय पदार्थ – पानी, ताजा फल का जूस, सब्जियों का जूस और नारियल पानी।
  • जड़ी-बूटी और मसाले – जीरा पाउडर, धनिया पाउडर, लहसुन पाउडर, मेंहदी, अजवाइन के फूल, मेथी के बीज, तेज पत्ता, इलायची, लौंग, जायफल, जीरा, और दालचीनी आदि।

हाई ब्लड प्रेशर में क्या नहीं खाएं We Should Not Eat in High BP

सोडियम/नमक से सेवन से करें परहेज  – उच्च रक्तचाप में परहेज

अगर आप हाई ब्लड प्रेशर के शिकार हैं तो जहाँ तक हो सके अपने भोजन में सोडियम/नमक का इस्तेमाल ना करें।दिन में 2.3 मिलीग्राम से ज्यादा सोडियम ना खाएं, अगर आपकी उम्र 50 या उससे ज़्यादा है तो दिन में 1,500 मिलीग्राम से ज्यादा सोडियम/नमक खाना आपके लिए हानिकारक हो सकता है।

हाई ब्लड प्रेशर में नहीं करना चाहिए धूम्रपान  -उच्च रक्तचाप में परहेज
सिगरेट के धुएं में निकोटीन होता है, वो न केवल आपके फेफड़ों के लिए हानिकारक होता है बल्कि हृदय के लिए भी बहुत खतरनाक है। यदि आप धूम्रपान कर रहे हैं, तो आप अपने आप को तो नुकसान पहुंचा ही रहे हैं, साथ ही साथ आस-पास के लोगों को भी प्रभावित कर रहे हैं। इसलिए जितना जल्दी से जल्दी हो सके धूम्रपान छोड़ दें। Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi

हाई बीपी में न पीएं अधिक कॉफी 
कॉफी में मौजूद कैफीन धीरे-धीरे करके ब्लड प्रेशर के स्तर को बढ़ाता है। रोजाना काफी पीने से इसका ब्लड प्रेशर पर नाकारात्म प्रभाव भी पड़ता है। इसलिए 1 दिन में 200 ग्राम से अधिक कॉफी न पीएं। जितना कॉफी आप एक बार में पीते हैं, उसे 2 से 3 बार में पीएं।

मदिरा सेवन ना करें 

शराब हाई ब्लड प्रेशर को और ज्यादा बढाती है इसलिए अगर आप शराब पीने के आदि हैं तो इसका सेवन बंद करें। इस बात का ख़ास ख्याल रखें की एक साथ लगातार 4-5 ड्रिंक ना लें वरना आपका ब्लड प्रेशर अचानक बढ़ सकता है।इस बात का भी ख्याल रखें की अगर आप रोज शराब पीने के आदि हैं तो अचानक शराब ना छोड़ें क्योंकि ऐसे में आपका ब्लड प्रेशर कई दिन तक बढ़ा रह सकता है। इसके लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

अंडे के पीले भाग को ना खाएं 

अगर आपको हाई BP है और अगर आप अंडे का सेवन करते हैं तो ध्यान रखें अंडे की जर्दी जो की अंडे का पीला हिस्सा होता है उसे ना कहें क्योंकि उसमे काफी अधिक मात्रा में कोलेस्ट्रॉल होता है जो हाई ब्लड प्रेशर के लिए नुकसानदायक है।

फास्ट फूड से करें परहेज 

चिप्स, पनीर, बिस्कुट सहित फास्ट फूड में बहुत ज्यादा मात्रा में कोलेस्ट्रॉल पाया जाता है जो हाई BP में बेहद नुकसानदायक है। इसलिए अगर आप हाई ब्लड प्रेशर के शिकार हैं तो फास्ट फूड के सेवन से बचें।

आइसक्रीम ना खाएं 

शायद आपको पता ना हो लेकिन आइसक्रीम में हैमबर्गर से भी ज़्यादा कोलेस्ट्रॉल पाया जाता है इसलिए हाई BP होने पर आइसक्रीम से दूर रहें।

अचार से परहेज करें 

अचार में भी सोडियम की अत्यधिक मात्रा होती है इसलिए हाई ब्लड प्रेशर होने पर अचार खाने से परहेज करें।

मांस और चिकन ना खाएं 

वैसे चिकन में वसा की मात्रा बहुत कम होती है लेकिन इसे पकाने के बाद इसमें कोलेस्ट्रॉल और फैट की मात्रा बढ़ जाती है जो हाई ब्लड प्रेशर में बहुत नुकसानदायक है। तो अगर आप हाई ब्लड प्रेशर के शिकार हैं तो जहाँ तक हो सके मांस और चिकन से परहेज करें। Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi

हाई बीपी में इन खाद्य पदार्थों को न खाएं  , उच्च रक्तचाप में परहेज

फास्ट फूड – चिप्स, पिज्जा, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ, प्रीपैक्ड पास्ता, कुकीज़, पेस्ट्री आदि।
शुगर यक्त खाद्य पदार्थ  – कैंडीज, पैक्ड फल और सब्जियों के जूस, एनर्जी ड्रिंक, पैक्ड सूप, चटनी और सॉस आदि।
नमक युक्त खाद्य पदार्थ – सोडा, नमक युक्त सूख मेवे आदि।
अधिक वसा वाले खाद्य पदार्थ – सफेद ब्रेड, अधिक वसा वाले सलाद आदि।
पेय पदार्थ – अधिक शराब
प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ – प्रोसेस्ड मीट, बिना ठीक से पका हुआ मीट आदि।

Topic – उच्च रक्तचाप के लिए आहार , हाई ब्लड प्रेशर में क्या नहीं खाना चाहिए , हाई ब्लड प्रेशर डाइट , हाई ब्लड प्रेशर में क्या खाएं और क्या नहीं खाएं , उच्च रक्तचाप के लिए आहार , उच्च रक्तचाप में परहेज , हाई ब्लड प्रेशर चार्ट , High Blood Pressure Diet in Hindi , High Blood Pressure Me Kya Khana Chahiye , Healthy Diet Chart For High Blood Pressure Patients In Hindi , High Blood Pressure Diet Foods to Avoid in Hindi , BP High Me Kya Khaye

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण और उपचार , हाई ब्लड प्रेशर , बीपी हाई होने के कारण इन हिंदी , हाई ब्लड प्रेशर १६० ओवर ११० , बीपी हाई होने के लक्षण , रक्तचाप दूर भगाओ , बीपी बढ़ने के क्या लक्षण है?

हाई ब्लड प्रेशर इमरजेंसी होम ट्रीटमेंट , हाई ब्लड प्रेशर को तुरंत कंट्रोल कैसे करे , हाई ब्लड प्रेशर होम ट्रीटमेंट , हाई बी पी इमरजेंसी होम ट्रीटमेंट 

थायराइड क्‍या है? थायराइड के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, परहेज, दवा, निदान, जटिलताएं- थायराइड के लक्षण , थायराइड के कारण , थायराइड का इलाज , थायराइड की दवा

हार्ट अटैक प्रकार कारण लक्षण परहेज़ व्यायाम और बचाव  , दिल का दौरा , हार्ट अटैक के कारण , हार्ट अटैक व्यायाम , हार्ट अटैक के बाद उपचार , दिल का दौरा पड़ने के बाद एहतियात