श्री गंगा माता चालीसा, Shri Ganga Mata Chalisa, गंगा माता चालीसा अर्थ के साथ, Ganga Mata Chalisa Arth Ke Saath, श्री गंगा चालीसा, Maa Ganga Chalisa, गंगा माता चालीसा लिरिक्स इन हिंदी, माँ गंगा चालीसा हिंदी में, Mata Ganga Chalisa, Ganga Mata Chalisa Lyrics In Hindi, Shree Ganga Mata Chalisa In Hindi, Shri Ganga Chalisa Lyrics Aur Video, Ganga Mata Ji Ki Chalisa, Ganga Mata Ki Chalisa Hindi Mai

Ganga-Chalisa

श्री गंगा माता चालीसा, Shri Ganga Mata Chalisa, गंगा माता चालीसा अर्थ के साथ, Ganga Mata Chalisa Arth Ke Saath, श्री गंगा चालीसा, Maa Ganga Chalisa, गंगा माता चालीसा लिरिक्स इन हिंदी, माँ गंगा चालीसा हिंदी में, Mata Ganga Chalisa, Ganga Mata Chalisa Lyrics In Hindi, Shree Ganga Mata Chalisa In Hindi, Shri Ganga Chalisa Lyrics Aur Video, Ganga Mata Ji Ki Chalisa, Ganga Mata Ki Chalisa Hindi Mai


श्री गंगा माता चालीसा, Shri Ganga Mata Chalisa

॥दोहा॥

जय जय जय जग पावनी जयति देवसरि गंग ।
जय शिव जटा निवासिनी अनुपम तुंग तरंग ॥

॥चौपाई॥

जय जग जननि अघ खानी, आनन्द करनि गंग महरानी ।
जय भागीरथि सुरसरि माता, कलिमल मूल दलनि विखयाता ।।

जय जय जय हनु सुता अघ अननी, भीषम की माता जग जननी ।
धवल कमल दल मम तनु साजे, लखि शत शरद चन्द्र छवि लाजे ।।

वाहन मकर विमल शुचि सोहै, अमिय कलश कर लखि मन मोहै ।
जडित रत्न कंचन आभूषण, हिय मणि हार, हरणितम दूषण ।।

जग पावनि त्रय ताप नसावनि, तरल तरंग तंग मन भावनि ।
जो गणपति अति पूज्य प्रधाना, तिहुं ते प्रथम गंग अस्नाना ।।
ब्रह्‌म कमण्डल वासिनी देवी श्री प्रभु पद पंकज सुख सेवी ।
साठि सहत्र सगर सुत तारयो, गंगा सागर तीरथ धारयो ।।

अगम तरंग उठयो मन भावन, लखि तीरथ हरिद्वार सुहावन ।
तीरथ राज प्रयाग अक्षैवट, धरयौ मातु पुनि काशी करवट ।।

धनि धनि सुरसरि स्वर्ग की सीढ़ी, तारणि अमित पितृ पद पीढी ।
भागीरथ तप कियो अपारा, दियो ब्रह्‌म तब सुरसरि धारा ।।

जब जग जननी चल्यो लहराई, शंभु जटा महं रह्‌यो समाई ।
वर्ष पर्यन्त गंग महरानी, रहीं शंभु के जटा भुलानी ।।
मुनि भागीरथ शंभुहिं ध्यायो, तब इक बूंद जटा से पायो ।
ताते मातु भई त्रय धारा, मृत्यु लोक, नभ अरु पातारा ।।

गई पाताल प्रभावति नामा, मन्दाकिनी गई गगन ललामा ।
मृत्यु लोक जाह्‌नवी सुहावनि, कलिमल हरणि अगम जग पावनि ।।

धनि मइया तव महिमा भारी, धर्म धुरि कलि कलुष कुठारी ।
मातु प्रभावति धनि मन्दाकिनी, धनि सुरसरित सकल भयनासिनी ।।

पान करत निर्मल गंगाजल, पावत मन इच्छित अनन्त फल ।
पूरब जन्म पुण्य जब जागत, तबहिं ध्यान गंगा महं लागत ।।
जई पगु सुरसरि हेतु उठावहिं, तइ जगि अश्वमेध फल पावहिं ।
महा पतित जिन काहु न तारे, तिन तारे इक नाम तिहारे ।।

शत योजनहू से जो ध्यावहिं, निश्चय विष्णु लोक पद पावहिं ।
नाम भजत अगणित अघ नाशै, विमल ज्ञान बल बुद्धि प्रकाशै ।।

जिमि धन मूल धर्म अरु दाना, धर्म मूल गंगाजल पाना ।
तव गुण गुणन करत सुख भाजत, गृह गृह सम्पत्ति सुमति विराजत ।।

गंगहिं नेम सहित निज ध्यावत, दुर्जनहूं सज्जन पद पावत ।
बुद्धिहीन विद्या बल पावै, रोगी रोग मुक्त ह्‌वै जावै ।।
गंगा गंगा जो नर कहहीं, भूखे नंगे कबहूं न रहहीं ।
निकसत की मुख गंगा माई, श्रवण दाबि यम चलहिं पराई ।।

महां अधिन अधमन कहं तारें, भए नर्क के बन्द किवारे ।
जो नर जपै गंग शत नामा, सकल सिद्ध पूरण ह्‌वै कामा ।।

सब सुख भोग परम पद पावहिं, आवागमन रहित ह्‌वै जावहिं ।
धनि मइया सुरसरि सुखदैनी, धनि धनि तीरथ राज त्रिवेणी ।।

ककरा ग्राम ऋषि दुर्वासा, सुन्दरदास गंगा कर दासा ।
जो यह पढ़ै गंगा चालीसा, मिलै भक्ति अविरल वागीसा ।।

॥दोहा॥

नित नव सुख सम्पत्ति लहैं, धरैं, गंग का ध्यान ।
अन्त समय सुरपुर बसै, सादर बैठि विमान ॥
सम्वत्‌ भुज नभ दिशि, राम जन्म दिन चैत्र ।
पूण चालीसा कियो, हरि भक्तन हित नैत्र ॥

।।इतिश्री गंगा चालीसा समाप्त।।

गंगा माता चालीसा अर्थ के साथ, Ganga Mata Chalisa Arth Ke Saath

॥दोहा॥
जय जय जय जग पावनी, जयति देवसरि गंग।
जय शिव जटा निवासिनी, अनुपम तुंग तरंग॥
अर्थ (Arth)- समस्त जगत में पवित्र मानी जाने वाली, देवताओं के लिए भी पूजनीय हे गंगा मैया आपकी जय हो, जय हो। आपकी बहती और उछलती हुई तेज धाराएं अद्वीतीय नजारा बनाती हैं, भगवान शिव की जटाओं में निवास करने वाली हे गंगा मैया आपकी जय हो।

॥चौपाई॥
जय जय जननी हरण अघखानी। आनंद करनी गंगा महारानी।।
जय भगीरथी सुरसरि माता। कलिमल मूल दलिनी विख्याता।।
जय जय जहानु सुता अघ हननी। भीष्म की माता जग जननी।।
धवल कमल दल मम तनु साजे। लखी शत शरद चंद्र छवि लाजै।।
वाहन मकर विमल शुची सोहें। अमिया कलश कर लखी मन मोहें।।
जडित रत्न कंचन आभूषण। हिय मणि हार, हरानितम दूषण।।
जग पावनी त्रय ताप नसावनी। तरल तरंग तुंग मन भावनी ।
अर्थ (Arth)- (अपने भक्तों को पापों से मुक्ति दिलाकार, सुख प्रदान करने वाली, नदियों में महारानी हे गंगा मैया आपकी जय हो, महारानी माता आपकी जय हो। हे भागीरथी देवलोक में प्रवाहित होने वाली जगत का पालन करने वाली आपकी जय हो, आप ही इस कलयुग में समस्त पापों को धोने के लिए विख्यात हैं प्रसिद्ध हैं। हे जहानु पुत्री पापों का हरण करने वाली, भीष्म पितामह को जन्म देने वाली जग जननी माता आपकी जय हो, जय हो। हे गंगा मैया आप श्वेत कमल की पंखुड़ियों के समान सुंदर हैं, आपकी सुंदरता को देखकर तो शरद ऋतु के सैंकड़ों चंद्रमा भी शरमां जांए। आपका वाहन पवित्र मगरमच्छ भी आपकी शोभा को बढा रहा है, तो वहीं आपके हाथों में अमृत-कलश भी आकर्षित करता है। आपके सोने के आभूषणों में कीमती रत्न जुड़े हुए हैं व आपके वक्षस्थल पर मणियों का हार भी दाग व दोष रहित है। हे समस्त जगत में पवित्र व प्राणि मात्र के तीनों तापों (आधिभौतिक- सांसारिक वस्तुओं/जीवों से प्राप्त कष्ट, आधिदैविक- दैविक शक्तियों द्वारा दिया गया कष्ट या पूर्व जन्म में किए गये कर्मों से प्राप्त कष्ट, एवं आध्यात्मिक- अज्ञानजनित कष्ट) का नास करने वाली। आपकी उछलती हुई तेज प्रवाह से बहती लहरें भी मनभावनी हैं।)

जो गणपति अति पूज्य प्रधान। तिहूँ ते प्रथम गंगा अस्नाना।।
ब्रम्हा कमंडल वासिनी देवी। श्री प्रभु पद पंकज सुख सेवि।।
साठी सहस्त्र सागर सुत तारयो। गंगा सागर तीरथ धारयो।।
अगम तरंग उठ्यो मन भावन। लखी तीरथ हरिद्वार सुहावन।।
तीरथ राज प्रयाग अक्षयवट। धरयो मातु पुनि काशी करवट।।
धनी धनी सुरसरि स्वर्ग की सीढ़ी। तारनी अमित पितर पद पीढ़ी।।
अर्थ (Arth)- (जिस प्रकाश देवताओं में सबसे पहले भगवान श्री गणेश की पूजा होती है, उसी प्रकार हे गंगा मैया सारे तीर्थ स्थलों में सबसे पहले आपके स्नान की मान्यता है। हे देवी आप भगवान श्री ब्रह्मा के कमंडल में वास करने वाली हैं। ब्रह्मा जी ने भगवान विष्णु के पैर धोकर जो पानी एकत्र किया आप उसी का रुप हो। आपने ही राजा सगर के साठ हजार पुत्रों को मोक्ष प्रदान किया और गंगा सागर तीर्थ को अस्तित्व में लायीं आपकी आगे की और उठती हुई तरंगे मन को मोह लेती हैं। आपको देखकर ही हरिद्वार तीर्थ सुहावना लगता है। आपने ही प्रयाग को अक्षयवट (प्रयाग स्थित प्राचीन बरगद का पेड़ जिसके बारे में मान्यता है कि यह कभी नष्ट नहीं होगा) के समान अमर व तीर्थों का राजा होने के गौरव प्रदान किया, फिर आपने काशी की और रुख किया। कहने का अभिप्राय है गंगा जी के किनारे पर अनेक तीर्थ स्थलों का विकास हुआ। देवता भी आपको स्वर्ग की सीढ़ी मानते हैं, हे गंगा मैया आप धन्य हैं। आप पीढ़ियों से असंतुष्ट पितरों की आत्मा को शांत कर उन्हें मुक्ति दिलाती हैं।)

भागीरथ तप कियो उपारा। दियो ब्रह्मा तव सुरसरि धारा।।
जब जग जननी चल्यो हहराई। शम्भु जटा महं रह्यो समाई।।
वर्ष पर्यंत गंगा महारानी। रहीं शम्भू के जटा भुलानी।।
मुनि भागीरथ शम्भुहीं ध्यायो। तब इक बूंद जटा से पायो।।
अर्थ (Arth)- (भागीरथ ने ब्रह्मा जी की कठोर तपस्या की तब जाकर उन्होंनें आपकी धारा को उनके साथ भेजा। हे जग जननी जब आप अपने वेग से चली तो आपके वेग को सहना पृथ्वी के बस का नहीं था, इसलिए भगवान शिव ने अपनी जटाओं में आपको समा लिया। चूंकि आपमें उस समय अहंकार भी आ गया था क्योंकि आप स्वर्ग को छोड़ना नहीं चाहती थी, इसलिए हे नदियों की महारानी गंगा आपको एक साल तक भगवान शिव की जटाओं में उलझे रहना पड़ा। भागीरथी ने फिर से भगवान शिव की स्तुति की जिसके बाद भोलेनाथ ने प्रसन्न होकर आपके वेग को कम करते हुए आपको अपनी जटाओं से मुक्त किया।)

ताते मातु भई त्रय धारा। मृत्यु लोक नभ अरु पातारा।।
गईं पाताल प्रभावती नामा। मन्दाकिनी गई गगन ललामा।।
मृत्यु लोक जाह्नवी सुहावनी। कलिमल हरनी अगम जग पावनि।।
धनि मइया तब महिमा भारी। धर्मं धुरी कलि कलुष कुठारी।।
मातु प्रभवति धनि मन्दाकिनी। धनि सुर सरित सकल भयनासिनी।।
अर्थ (Arth)- (भगवान शिव की जटाओं से मुक्त होने के बाद गंगा माता वहां से तीन धारा में बह चली जो मृत्यु लोक, आकाश व पाताल लोक की ओर प्रवाहित हुई। पाताल लोक में आपका नाम प्रभावती तो आकाश में मंदाकिनी व मृत्यु लोक यानि पृथ्वी पर जाह्नवी के रुप में जानी गई, यहां आप कलयुग में विश्व को पापों से मुक्त कर पवित्र करती हो। हे मैया आपकी महिमा अपरमपार हैं, आप धन्य हैं जो इस कलियुग में धर्म की धुरी बनकर पापों का विनाश करती हो। हे पाताल में प्रवाहित होने वाली प्रभावती व आकाश में बहने वाली मंदाकिनी माता आप धन्य हैं। सारे डरों को नष्ट करने वाली देव नदी गंगा आप धन्य हैं।)

पान करत निर्मल गंगा जल। पावत मन इच्छित अनंत फल।।
पुरव जन्म पुण्य जब जागत। तबहीं ध्यान गंगा महँ लागत।।
जई पगु सुरसरी हेतु उठावही। तई जगि अश्वमेघ फल पावहि।।
महा पतित जिन कहू न तारे। तिन तारे इक नाम तिहारे।।
शत योजन हूँ से जो ध्यावहिं। निशचाई विष्णु लोक पद पावहीं।।
अर्थ (Arth)- (आपके पवित्र जल का पान करते ही प्राणी मात्र की हर इच्छा पूरी होती है। यदि मनुष्य ने पूर्वजन्म में कोई पुण्य किया हो तो ही उसका ध्यान आपकी भक्ति में लगता है। हे माता आपकी और रखा गया एक एक कदम अश्वमेघ यज्ञ के समान फलदायक होता है। जिन महापापियों को कहीं से भी मुक्ति नहीं मिली ऐसे महापापी भी आपके नाम के सहारे अमरता को पा गए। सैंकड़ों योजन दूरी से भी जो आपका ध्यान लगाता है उसकी भगवान विष्णु के लोक में जगह निश्चित है अर्थात उसे स्वर्ग की प्राप्ति होती है, उसे मोक्ष मिलता है।)

नाम भजत अगणित अघ नाशै। विमल ज्ञान बल बुद्धि प्रकाशे।।
जिमी धन मूल धर्मं अरु दाना। धर्मं मूल गँगाजल पाना।।
तब गुन गुणन करत दुःख भाजत। गृह गृह सम्पति सुमति विराजत।।
गंगहि नेम सहित नित ध्यावत। दुर्जनहूँ सज्जन पद पावत।।
बुद्धिहीन विद्या बल पावै। रोगी रोग मुक्तझ हो जावै।।
गंगा गंगा जो नर कहहीं। भूखा नंगा कबँहु न रहहि।।
निकसत ही मुख गंगा माई। श्रवण दाबी यम चलहिं पराई।।
अर्थ (Arth)- (हे गंगा मैया आपमें इतनी शक्ति है कि आपके नाम का भजन करने से, अनगिनत पापों का नाश हो जाता है। अज्ञानता का अंधेरा दूर होकर पवित्र ज्ञान व बल बुद्धि से मन प्रकाशित हो जाता है। जिसके लिए धर्म और दान ही धन संपत्ति हैं अर्थात जो धर्म व दान में आस्था रखते हैं, उनके लिए गंगाजल का पान भी धर्म के समान है। आपके पवित्र जल को ग्रहण करके जब आपका गुणगान किया जाता है तो सारे दुख दूर भागने लगते हैं, और घर-घर में संपत्ति व अच्छी बुद्धि विराजमान होती हैं। गंगा को नियम सहित जो ध्याता है अर्थात ध्यान लगाता है तो बूरे से बूरे आदमी को भी अच्छा पद मिलता है। बुद्धिहीन विद्या बल को पा लेते हैं, रोगी रोग से मुक्त हो जाते हैं, गंगा के नाम को जो लोग जपते रहते हैं वे कभी भी भूखे या वस्त्रहीन नहीं रहते। यदि अंतिम समय में भी यदि किसी के मुख से गंगा माई निकलता है तो यमराज भी अपने कान दबोच कर वहां से परे चला जाते है।)

महं अघिन अधमन कहं तारे। भए नरका के बंद किवारें॥
जो नर जपी गंग शत नामा। सकल सिद्धि पूरण ह्वै कामा॥
सब सुख भोग परम पद पावहीं। आवागमन रहित ह्वै जावहीं॥
धनि मइया सुरसरि सुख दैनि। धनि धनि तीरथ राज त्रिवेणी॥
अर्थ (Arth)- (जिन अधम पापियों के लिए नरक तक के दरवाजे बंद थे ऐसे-ऐसे पापी भी आपके सहारे भवसागर से पार हो गए अर्थात मोक्ष पा गए। जिसने भी गंगा के सौ नामों को जपा, उसके सारे काम सारी सिद्धियां पूरी हुई हैं। उन्होंनें सारे सुख भोग कर परम पद को पाया व जीवन मृत्यु के चक्कर से उसका पिछा छूट जाता है वह आवागमन रहित हो जाता है। सुख दात्री गंगा मैया आप अन्य हैं हे तीरथ राज त्रिवेणी आप धन्य हैं।)

ककरा ग्राम ऋषि दुर्वासा। सुन्दरदास गंगा कर दासा॥
जो यह पढ़े गंगा चालीसा। मिली भक्ति अविरल वागीसा॥
अर्थ (Arth)- (दुर्वासा ऋषि के ककरा ग्राम का निवासी सुंदर दास भी गंगा मैया आपका दास है। जो भी इस गंगा चालीसा का पाठ करता है उसे आपकी भक्ति प्राप्त होती है व निरंतर आपका आशीर्वचन मिलता रहता है।)

॥दोहा॥
नित नए सुख सम्पति लहैं। धरें गंगा का ध्यान।।
अंत समाई सुर पुर बसल। सदर बैठी विमान।।
सम्वत भुज नभ दिशि, राम जन्‍म दिन चैत्र।।
पुरण चालीसा किया, हरि भक्तन हित नैत्र।।
अर्थ (Arth)- (जो गंगा मैया का ध्यान धरते हैं उन्हें हर रोज नई खुशियां व संपत्ती प्राप्त होती है। वह अंतिम समय में आदरपूर्वक विमान में बैठकर देवलोक में निवास करता है। यह चालीसा को भक्तों के कल्याण के लिए संवत भुज नभ दिशि (इसका अर्थ यानि वर्ष सपष्ट नहीं है, लेकिन एक जगह पर विक्रमी संवत 2010 माना गया है) में चैत्र माह की शुक्ल पक्ष की नवमी को संपन्न हुआ इस दिन भगवान श्री राम का जन्मदिन मनाया जाता है इसलिए इसे राम नवमी भी कहा जाता है। अत: संवत का वर्ष जो भी रहा हो लेकिन माह चैत्र और तिथि शुक्ल पक्ष की नवमी को इस चालीसा के लिखने का कार्य पूरा हुआ यह निश्चित है।)


वीडियो – श्री गंगा चालीसा (Video Credit T-Series Bhakti Sagar)

श्री गंगा माता चालीसा, Shri Ganga Mata Chalisa, गंगा माता चालीसा अर्थ के साथ, Ganga Mata Chalisa Arth Ke Saath, श्री गंगा चालीसा, Maa Ganga Chalisa, गंगा माता चालीसा लिरिक्स इन हिंदी, माँ गंगा चालीसा हिंदी में, Mata Ganga Chalisa, Ganga Mata Chalisa Lyrics In Hindi, Shree Ganga Mata Chalisa In Hindi, Shri Ganga Chalisa Lyrics Aur Video, Ganga Mata Ji Ki Chalisa, Ganga Mata Ki Chalisa Hindi Mai

और चालीसा पढ़ने के लिए निम्नलिखित लिंक्स पर क्लिक करें –

  1. श्री हनुमान चालीस हिन्दी, Shree Hanuman Chalisa Hindi, हनुमान चालीसा पाठ हिंदी मै, Hanuman Chalisa Path Hindi Me, हनुमान चालीसा हिंदी में लिरिक्स.
  2. 7 बार हनुमान चालीसा पढ़ने के फायदे, 11 बार हनुमान चालीसा पढ़ने के फायदे, 100 बार हनुमान चालीसा पढ़ने के फायदे, 108 बार हनुमान चालीसा पढ़ने के फायदे.
  3. मां गौरी चालीसा, Maa Gauri Chalisa, मां गौरी चालीसा का लाभ, Mata Gauri Chalisa Ka Laabh, मां गौरी चालीसा लिरिक्स, Maa Gauri Chalisa Lyrics.
  4. सूर्य चालीसा, Surya Chalisa, सूर्य चालीसा लिरिक्स, Surya Chalisa Lyrics, सूर्य चालीसा पढ़ने के फायदे, Surya Chalisa Padne Ke Fayde, श्री सूर्य देव चालीसा का अर्थ.
  5. श्री राधा चालीसा, Shri Radha Chalisa, राधा चालीसा, Radha Chalisa, राधा जी चालीसा, राधा चालीसा लिरिक्स इन हिंदी, श्री राधा चालीसा इन हिंदी, श्री राधा चालीसा हिंदी में.
  6. श्री सरस्वती चालीसा और अर्थ, Shri Saraswati Chalisa Aur Arth, सरस्वती चालीसा पढ़ने के फायदे, Saraswati Chalisa Padhne Ke Fayde, मां सरस्वती चालीसा लिरिक्स, Shree Saraswati Chalisa With Lyrics, सरस्वती चालीसा वीडियो, Saraswati Chalisa Video.
  7. श्री रानी सती चालीसा, श्री राणी सती दादी चालीसा, Rani Sati Chalisa, Rani Sati Dadi Chalisa, दादी चालीसा, Dadi Chalisa, Dadi Chalisa Lyrics, Sati Chalisa.
  8. श्री ललिता माता चालीसा, Shri Lalita Mata Chalisa, ललिता माता चालीसा, Lalita Mata Chalisa, Maa Lalita Chalisa, ललिता माता चालीसा लिरिक्स इन हिंदी.
  9. श्री भैरव चालीसा, Shree Bhairav Chalisa, भैरव बाबा चालीसा, Bhairav Baba Chalisa, भैरव चालीसा के लाभ, भैरव चालीसा बेनिफिट्स, बटुक भैरव चालीसा इन हिंदी.
  10. श्री विश्वकर्मा चालीसा, Shri Vishwakarma Chalisa, भगवान विश्वकर्मा चालीसा, Bhagwan Vishwakarma Chalisa, श्री विश्वकर्मा चालीसा लिरिक्स.
  11. श्री शीतला माता चालीसा, Shri Sheetla Mata Chalisa, शीतला माता चालीसा, Shitala Mata Chalisa, श्री शीतला चालीसा, Maa Shitala Chalisa.
  12. संतोषी माता जी की चालीसा, Santoshi Mata Ji Ki Chalisa, श्री संतोषी माता चालीसा, Shri Santoshi Mata Chalisa, संतोषी माता चालीसा, Santoshi Mata Chalisa.
  13. श्री बजरंग बाण, बजरंग बाण लिरिक्स, Bajrang Baan Lyrics, हनुमान बजरंग बाण अर्थ के साथ, Hanuman Bajrang Baan Arth Ke Sath, बजरंग बाण लिरिक्स हिंदी.
  14. श्री तुलसी चालीसा, Shri Tulsi Mata Chalisa, तुलसी माता चालीसा अर्थ के साथ, Tulasi Mata Chalisa Arth Ke Saath, श्री तुलसी चालीसा, Maa Tulsi Chalisa.
  15. श्री गंगा माता चालीसा, Shri Ganga Mata Chalisa, गंगा माता चालीसा अर्थ के साथ, Ganga Mata Chalisa Arth Ke Saath, श्री गंगा चालीसा, Maa Ganga Chalisa.
  16. श्री खाटू श्याम चालीसा, श्री श्याम चालीसा, श्याम चालीसा हिंदी में, श्याम चालीसा लिरिक्स और वीडियो, Shri Khatu Shyam Chalisa In Hindi.
  17. श्री शाकुम्भरी देवी चालीसा, Shree Shakambari Devi Chalisa, मां शाकुम्भरी देवी चालीसा, शाकम्भरी माता चालीसा लिरिक्स, Maa Shakambari Devi Chalisa.
  18. राम चालीसा, Ram Chalisa, श्री राम चालीसा, Shri Ram Chalisa, राम चालीसा पाठ, Ram Chalisa Path, श्री राम चालीसा इन हिंदी, Shree Ram Chalisa In Hindi.
  19. कृष्ण चालीसा, Krishna Chalisa, श्री कृष्ण चालीसा, Shri Krishna Chalisa, कृष्ण चालीसा पाठ, Krishna Chalisa Path, श्री कृष्ण चालीसा इन हिंदी, Shree Krishna Chalisa In Hindi, भगवान कृष्ण की चालीसा, Bhagwan Krishna Ki Chalisa, कृष्ण चालीसा हिंदी में.
  20. शीतलनाथ चालीसा, Sheetalnath Ji Chalisa, श्री शीतलनाथ चालीसा, Shri Sheetalnath Chalisa, शीतलनाथ चालीसा पाठ, श्री शीतलनाथ चालीसा इन हिंदी.
  21. चित्रगुप्त चालीसा, Chitragupt Chalisa, श्री चित्रगुप्त महाराज चालीसा, Shri Chitragupt Maharaj Chalisa, श्री चित्रगुप्त चालीसा लिरिक्स, Shri Chitragupt Chalisa Lyrics.
  22. माँ अन्नपूर्णा चालीसा, श्री अन्नपूर्णा चालीसा लिरिक्स, Maa Annapurna Chalisa, श्री अन्नपूर्णा चालीसा, Shri Annapoorna Chalisa Lyrics, अन्नपूर्णा माता चालीसा लिरिक्स इन हिंदी.
  23. श्री झूलेलाल चालीसा, Shri Jhulelal Chalisa, श्री झूलेलाल भगवान का चालीसा, झूलेलाल चालीसा, Shri Jhulelal Bhagwan Chalisa, श्री झूलेलाल चालीसा लिरिक्स.
  24. श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा, Shree Vindheshwari Chalisa, विंध्याचल चालीसा, Vindhyachal Chalisa, विंधेश्वरी चालीसा लिखा हुआ, विंध्यवासिनी चालीसा, Vindhyavasini Chalisa.
  25. श्री बगलामुखी चालीसा, बगलामुखी चालीसा हिंदी में, मां बगलामुखी चालीसा, Shri Baglamukhi Chalisa, Maa Baglamukhi Chalisa, Shree Baglamukhi Chalisa In Hindi, बगलामुखी चालीसा के फायदे, माता बगलामुखी चालीसा के लाभ, Maa Baglamukhi Chalisa Ke Labh.
  26. श्री महाकाली चालीसा, महाकाली चालीसा, Mahakali Chalisa, Mahakali Chalisa Lyrics, महाकाली चालीसा इन हिंदी, माँ महाकाली चालीसा, Maa Mahakali Chalisa.
  27. नवग्रह चालीसा, Navgrah Chalisa, श्री नवग्रह चालीसा का पाठ, श्री नवग्रह चालीसा, Shree Navgrah Chalisa, Shri Navgrah Chalisa, नवग्रह चालीसा लिरिक्स.
  28. श्री विष्णु चालीसा, Shri Vishnu Chalisa, विष्णु चालीसा, Vishnu Chalisa, Vishnu Chalisa Lyrics In Hindi, Vishnu Chalisa Lyrics, Vishnu Chalisa In Hindi, श्री विष्णु चालीसा लिरिक्स.
  29. श्री गणेश चालीसा, Shri Ganesh Chalisa, श्री गणेश भगवान का चालीसा, गणेश चालीसा, Shri Ganesh Bhagwan Chalisa, श्री गणेश चालीसा लिरिक्स, Shri Ganesh Chalisa Lyrics.
  30. श्री शिव चालीसा, Shri Shiv Chalisa, श्री शिव भगवान का चालीसा, शिव चालीसा, Shri Shiv Bhagwan Chalisa, श्री शिव चालीसा लिरिक्स, Shri Shiv Chalisa Lyrics.
  31. मां वैष्णो देवी चालीसा, Maa Vaishno Devi Chalisa, माँ वैष्णो देवी चालीसा, Maa Vaishno Devi Ji Ki Chalisa, माता वैष्णो देवी चालीसा, Mata Vaishno Devi Chalisa.
  32. श्री पार्वती चालीसा, पार्वती चालीसा हिंदी में, मां पार्वती चालीसा, Shri Parvati Chalisa, Maa Parvati Chalisa, Shree Parvati Chalisa In Hindi, माता पार्वती चालीसा के लाभ.
  33. श्री नर्मदा चालीसा, नर्मदा चालीसा हिंदी में, मां नर्मदा चालीसा, Shri Narmada Chalisa, Maa Narmada Chalisa, Shree Narmada Chalisa In Hindi, माता नर्मदा चालीसा.
  34. कुबेर चालीसा, Kuber Chalisa, कुबेर चालीसा इन हिंदी, Kuber Chalisa In Hindi, कुबेर चालीसा लिरिक्स, Shree Kuber Chalisa Lyrics, भगवान कुबेर की चालीसा लिरिक्स.
  35. श्री ब्रह्मा चालीसा, Shri Brahma Chalisa, श्री ब्रह्मा भगवान की चालीसा, ब्रह्मा चालीसा, Shri Brahma Bhagwan Ki Chalisa, श्री ब्रह्मा चालीसा लिरिक्स.
  36. गिरिराज चालीसा, Giriraj Chalisa, गिरिराज गोवर्धन महाराज की चालीसा, Giriraj Govardhan Maharaj Ki Chalisa, श्री गोवर्धन महाराज चालीसा लिरिक्स.
  37. माँ कैला देवी चालीसा, कैला चालीसा, श्री कैला देवी चालीसा, कैला माता की चालीसा, Maa Kaila Devi Chalisa, Kela Chalisa, Kela Devi Chalisa, Kaila Chalisa.
  38. श्री वीरभद्र चालीसा, Shree Veerbhadra Chalisa, वीरभद्र चालीसा, Virabhadra Chalisa, श्री वीरभद्र चालीसा लिरिक्स, Shri Veerbhadra Chalisa Lyrics.
  39. श्री परशुराम चालीसा, Shri Parshuram Chalisa, श्री परशुराम भगवान की चालीसा, परशुराम चालीसा, Shri Parshuram Bhagwan Ki Chalisa.
  40. श्री लक्ष्‍मी चालीसा, Shri Laxmi Chalisa, माता लक्ष्‍मी चालीसा के लाभ, Mata Laxmi Chalisa Ke Labh, लक्ष्‍मी जी चालीसा, माँ लक्ष्‍मी चालीसा लिरिक्स इन हिंदी.
  41. श्री शनि देव चालीसा, श्री शनि चालीसा, श्री शनि देव चालीसा हिंदी में, शनि देव चालीसा लिरिक्स और वीडियो, Shri Shanidev Chalisa In Hindi, Shanidev Chalisa.
  42. श्री गायत्री चालीसा, Shree Gayatri Chalisa, मां गायत्री चालीसा, Shri Maa Gayatri Chalisa, Gayatri Chalisa, Gayatri Chalisa Lyrics, हिंदी गायत्री चालीसा.
  43. श्री दुर्गा चालीसा, Shree Durga Chalisa, मां दुर्गा चालीसा, Maa Durga Chalisa, Durga Chalisa, Durga Chalisa Lyrics, हिंदी दुर्गा चालीसा, Hindi Durga Chalisa.
  44. रामदेव चालीसा, Ramdev Chalisa, श्री रामदेव जी चालीसा, Shree Ramdev Ji Chalisa, रामदेव चालीसा हिंदी में, Ramdev Chalisa Hindi Me,श्री रामदेव चालीसा लिरिक्स.
  45. पितर चालीसा, Pitar Chalisa, श्री पितर जी चालीसा, Shree Pitar Ji Chalisa, पितृ देव चालीसा हिंदी में, Pitar Dev Chalisa Hindi Me,श्री पितृ देव चालीसा लिरिक्स.
  46. श्री साईं बाबा चालीसा, Shri Sai Baba Chalisa, साईं बाबा चालीसा, Sai Baba Chalisa, श्री साईं चालीसा, Shri Sai Chalisa, साईं बाबा चालीसा लिरिक्स इन हिंदी.
  47. श्री रविदास चालीसा, Shree Ravidas Chalisa, रविदास चालीसा, Ravidas Chalisa, श्री रविदास चालीसा लिरिक्स, Shri Ravidas Chalisa Lyrics.
  48. गोरखनाथ चालीसा, Gorakhnath Chalisa, गुरु गोरखनाथ चालीसा, Guru Gorakhnath Chalisa, श्री बाबा गोरखनाथ चालीसा, Shree Baba Gorakhnath Chalisa.
  49. श्री पार्श्वनाथ चालीसा, Shri Parasvanath Chalisa, पारसनाथ चालीसा, Parasnath Chalisa, पारसनाथ चालीसा लिरिक्स, Parasnath Chalisa Lyrics.
  50. श्री महावीर चालीसा, Shri Mahaveer Chalisa, महावीर चालीसा इन हिंदी, Mahaveer Chalisa In Hindi, महावीर चालीसा लिखा हुआ, Mahavir Chalisa Likha Hua.
  51. श्री आदिनाथ चालीसा, Shri Adinath Chalisa In Hindi, आदिनाथ चालीसा, Adinath Chalisa, Aadinath Chalisa, आदिनाथ जैन चालीसा, Adinath Bhagwan Chalisa.
  52. मुनिसुव्रत चालीसा, Munisuvrat Chalisa, श्री मुनिसुव्रतनाथ चालीसा, Munisuvrat Nath Chalisa, सुव्रतनाथ जैन चालीसा, Subratnath Jain Chalisa.
Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

Trending Article

Trending Article