पुरुष का स्पर्म कितना होना चाहिए जिससे बच्चा ठहर सकता, प्रेगनेंसी के लिए स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए, सीमेन कितना होना चाहिए, Total Sperm Count Kitna Hona Chahiye, नार्मल स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए, नार्मल स्पर्म काउंट फॉर प्रेगनेंसी in Hindi, प्रेग्नेंट होने के लिए स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए, स्पर्म की मात्रा कितनी होनी चाहिए Pregnant Hone Ke Liye, स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए, Pregnancy Ke Liye Sperm Count Kitna Hona Chahiye, पुरुषों में शुक्राणु कितना होना चाहिए, नार्मल स्पर्म कितना होना चाहिए, Ladka पैदा करने के लिए स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए, शुक्राणु कितना परसेंट होना चाहिए

पुरुष का स्पर्म कितना होना चाहिए जिससे बच्चा ठहर सकता, गर्भावस्था के लिए स्पर्म काउंट
आपको बता दें कि स्वस्थ पुरुष के वीर्य या सीमेन में 40 मिलियन से 300 मिलियन के बीच में स्पर्म प्रति मिलिलीटर होना चाहिए। यदि स्पर्म प्रति मिलिलीटर 10 मिलियन से 20 मिलियन के बीच है तो इसे खराब यानि लो स्पर्म काउंट माना जाता है। यदि स्पर्म हेल्दी है तो प्रेग्नेंसी के लिए 20 मिलियन स्पर्म प्रति मिलिलीटर पर्याप्त हो सकता है।

कैसे पता करे की आपका स्पर्म काउंट कितना है

  • सबसे पहली बात आपको पता होना चाहिए की स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए इसके लिए आप डॉक्टर के पास जा सकते है पता करने.
  • कम से कम 29 Milion पर स्पर्म काउंट होना चाहिए अगर इससे कम है तो आपको जरूरत है इसको बढ़ाने की और अगर आपका स्पर्म काउंट 40 Milion पर स्पर्म काउंट है तो आप एक दम हेल्थी है.
  • आप किसी अपने डॉक्टर के पास जाओ और उनको बोलो को आपको अपना स्पर्म काउंट पता करना है और वो आपको टेस्ट करके बता देंगे.

गर्भावस्था के लिए स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए और अगर कम हैं तो इन्हें कैसे बढायें
स्पर्म काउंट कैसे बढाया जाए

  • अगर आप अपना स्पर्म काउंट बढ़ाना चाहते है तो सबसे पहले पता कीजिये की आपका स्पर्म काउंट अभी कितना है.
  •  स्पर्म काउंट बदने के लिए आपको एक अच्छे फैट की जरूरत होती है जो ज्यादातर ड्राई फ्रूट में मिलता है आप इनको खाना शुरू कर सकते है.
  •  आपको बनाना खाना चाहिए ये स्पर्म काउंट बढ़ाने में बहुत मदद करता है और आपको ढूध भी पर्याप्त मात्र में पीना चाहिए.
  •  बात तो यही है की आपके शरीर में प्रोटीन की मात्रा कम होती है इसलिए स्पर्म नही बढ़ पता है अपना खाना अच्छा करो, फाइबर और प्रोटीन लिया करो.

लो स्पर्म काउंट के नुकसान
लो स्पर्म काउंट या शुक्राणु की कमी बांझपन तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह पुरुषों में बीमारी के जोखिम को भी बढ़ा सकता है।
एक नए अध्ययन में पता चला है कि लो स्पर्म काउंट या कम शुक्राणुओं वाले पुरुषों में हृदय रोग और मधुमेह जैसी संभावित घातक बीमारियों का खतरा ज्यादा रहता है। शोध में पाया गया कि कम शुक्राणुओं की संख्या वाले लोगों में उच्च रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल और शरीर में अधिक फैट का प्रतिशत 20 अधिक है।

इटली के ब्रेशिया विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर और अध्ययन के मुख्य लेखक अल्बटरे फेरलिन के मुताबिक, अध्ययन स्पष्ट रूप से बताता है कि पुरुषों में स्पर्म की कमी मेटाबॉलिक परिवर्तन, हृदय जोखिम और हड्डी के द्रव्यमान में कमी से जुड़ा हुआ है। इसके लिए शोधकर्ताओं ने बांझ दंपतियों के 5,177 पुरुषों पर यह अध्ययन किया।

स्पर्म काउंट को लेकर वैज्ञानिकों की चेतावनी
एक अध्ययन में पाया गया कि वैश्विक रूप में हाल के वर्षों में स्पर्म की संख्या और क्वालिटी में गिरावट हुई है। इसको देखते हुए कई वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है, यह मानव जाति के भविष्य के लिए बड़ी समस्याओं का चेतावनी संकेत हो सकता है। इसके लिए जेनेटिक और बिगड़ती लाइफस्टाइल को जिम्मेदार बताया गया है।

पुरुषों में हार्मोनल या ऑटोइम्यून ऑटोइम्यून एबनॉर्मिलिटी हैं जो शुक्राणु उत्पादन में बाधा देती हैं या शुक्राणु को नष्ट करती हैं। इसके अलावा तनाव, शराब और मोटापा जैसे कारक भी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करते हैं।

स्पर्म बढ़ाने के उपाय
1- जंक फूड से परहेज- जंक फूड शब्द का अर्थ उस भोजन से है, जो आपके शरीर के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं होता है। इसमें पोषण की कमी होती है और शरीर के तंत्र के लिए नुकसानदेह होता है। उसी तरह शुगर भी आपके शरीर के लिए नुकसानदेह है। जंक फूड, कैफीन, शुगर और प्रोसेस्ड फूड यह कुछ ऐसी चीजें है जिसकी वजह से आपका स्पर्म काउंट घट सकता है। इसलिए इसका सेवन बहुत ही कम कर दीजिए। इसके अलावा जंक फूड खाने से दिल के रोगों का खतरा बढ़ जाता है क्योंकि जंक फूड में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसेराइड प्रचुर मात्रा में होता है।
2- सिगरेट और अल्कोहल दूरी- शराब और सिगरेट की लत ऐसी है कि अच्छे अच्छों का घर और शरीर को तबाह हो जाता है। एक बार अगर नशे की लत लग गई तो इससे पीछा छुड़ाना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। यदि स्पर्म बढ़ाने के उपाय के बारे में आप सोच रहे हैं तो आपको सबसे पहले सिगरेट और अल्कोहल जैसी बुरी आदतों छुटकारा पाना होगा। यह न केवल आपके लिवर और फेफड़े को बर्बाद करते हैं बल्कि आपने प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करते हैं।
3- स्पर्म बढ़ाने के लिए पौष्टिक आहारों का सेवन- विटामिन और मिनरल से भरपूर पौष्टिक आहार आपके स्पर्म बढ़ाने के उपाय में एक बेहतरी उपाय है। इसके लिए आप अपने आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां तथा फलों को शामिल कीजिए। इसके अलावा ड्राई फ्रूट भी इसमें योगदान दे सकता है। विटामिन डी, विटामिन सी और विटामिन ई जैसे कुछ प्रकार के विटामिन, हेल्दी स्पर्म के लिए महत्वपूर्ण हैं। इसके अलावा मछली का तेल ओमेगा -3 फैटी एसिड में समृद्ध हैं जो स्वस्थ पुरुष प्रजनन के लिए आवश्यक हैं। स्पर्म बढ़ाने वाले आहार
4- स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए वजन पर करें कंट्रोल- यदि आपका वजन ज्यादा है तो इसे कम करने की कोशिश कीजिए। स्पर्म काउंट बढ़ाने के उपायों में यह बहुत ही असरदार उपाय है। अध्ययनों से पता चला है कि वजन घटाने से वीर्य या सीमेन की मात्रा, एकाग्रता और गतिशीलता के साथ ही साथ स्पर्म की समग्र स्वास्थ्य में वृद्धि हो सकती है।
5- एंटीऑक्सिडेंट्स के लिए डार्क चॉकलेट- डार्क चॉकलेट्स में अमिनो एसिड्स पाए जाते हैं. जो स्पर्म काउंट दोगुना करने के साथ ही सीमन (वीर्य) को गाढ़ा बनाने में भी मदद करते हैं. इसके अलावा डार्क चॉकलेट में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं, जो पुरुषों की फर्टिलिटी को प्रभावित करने वाले फ्री रेडिकल्स को दूर करने में मददगार होते हैं. लेकिन बहुत ज़्यादा चॉकलेट नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इससे वज़न बढ़ सकता है, जिसकी वजह से शरीर में टेस्टोस्टेरॉन नामक सेक्स हार्मोन कासंतुलन को बिगाड़ जाता है, नतीजतन स्पर्म काउंट कम होता है. दिनभर में एक टुकड़ा डार्क चॉकलेट काफ़ी है. चॉकलेट जितना डार्क होगा, स्पर्म काउंट बढ़ाने में उतना ही फ़ायदेमंद होगा.
6- स्वस्थ स्पर्म के लिए अंडे- प्रोटीन व विटामिन ई से भरपूर अंडे स्वस्थ शुक्राणुओं के उत्पादन में मदद करते हैं. स़िर्फ इतना ही नहीं, यह स्पर्म काउंट (How To Increase Sperm Count) बढ़ाने के साथ-साथ प्रजनन क्षमता को कम करने वाले फ्री रेेडिकल्स से लड़ने में भी मदद करते हैं. इसलिए रोज़ाना दो अंडे ग्रहण कीजिए.
7- शुक्राणुओं की गतिशीलता के लिए लहसुन- अगर लहसुन की तेज़ महक से आपको कोई परेशानी नहीं है तो इसका सेवन शुरू कर दीजिए. इसमें दो जादुई सत्व पाए जाते हैं-पहला है एलिसिन, जो पुरुषों के सेक्सुअल ऑर्गन में ब्लड फ्लो को बढ़ाता है और स्पर्म को क्षतिग्रस्त होने से बचाता है और दूसरा है सेलेनियम- यह एक प्रकार का एंटीऑक्सिडेंट है, जो शुक्राणुओं की गतिशीलता को बढ़ाता है. प्रति दिन दो लहसुन की कलियां खाना पर्याप्त होगा.
8- कामेच्छा के लिए केला- पुरुषों की योनि की तरह दिखने वाला यह फल उनके सेक्सुअल हेल्थ के लिए अच्छा होता है. केले में ब्रोमेलिन नामक एंज़ाइम पाया जाता है, जो पुरुषों की कामेच्छा बढ़ाने व सेक्स हार्मोन्स को नियंत्रित करने में मदद करता है. इसके अलावा इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन सी, ए और बी 1 पाया जाता है, जो पुरुषों के शरीर में शुक्राण पैदा करने की क्षमता को बढ़ाता है.
9- सेक्स हार्मोन्स के लिए कद्दू के बीज- इसमें मौजूद ओमेगा थ्री फैटी एसिड्स मेल ऑर्गन्स में रक्त संचार बढ़ाते हैं. रोज़ाना एक मुठ्ठी कद्दू के बीज खाने से शरीर में टेस्टोस्टेरॉन नामक सेक्स हार्मोन का स्राव व स्पर्म काउंट बढ़ता है.
10- ऐक्टिव शुक्राणुओं के लिए ब्रोकोली- शरीर में विटामिन ए की कमी से प्रजनन क्षमता कम होती है, क्योंकि इसकी कमी से स्पर्म्स सुस्त हो जाते हैं. इससे बचने के लिए अपने खाने में विटामिन ए से भरपूर ब्रोकोली शामिल करें. इसका सेवन करने से शुक्राणु ऐक्टिव व हेल्दी बनेंगे.
11- स्पर्म काउंट के लिए अखरोट- ओमेगा-3 फैटी एसिड्स स्पर्म काउंट व मेल ऑर्गन्स में ब्लड फ्लो बढ़ाने में मदद करते हैं. अखरोट ओमेगा-थ्री फैटी एसिड्स का बढ़िया स्रोत है. रोज़ाना एक मुट्ठी अखरोट खाने से स्पर्म की संख्या बढ़ेगी और उनका आकार भी बेहतर होगा.
12- टेस्टोस्टेरॉन के लिए जिनशेंग- सालों से इनफर्टिलिटी की समस्या को दूर करने के लिए इस चमत्कारी पौधे का प्रयोग किया जा रहा है. यह शरीर में टेस्टोस्टेरॉन के लेवल को बढ़ाता है और पुरुषों के जनांगों में ब्लड सर्कुलेशन को तेज़ करता है. अतः जिनशेंग युक्त चाय पिएं या रात में सोने से पहले आधा टीस्पून जिनशेंग पाउडर ग्रहण करें.
13- स्वस्थ स्पर्म के लिए पालक – पालक में फॉलिक एसिड पाया जाता है, जो शुक्राणुओं के लिए ज़रूरी पोषक तत्व है. यह स्वस्थ शुक्राणु के उत्पादन में मदद करता है. शरीर में फॉलिक एसिड की कमी होने पर अस्वस्थ स्पर्म्स पनपते हैं. जिसके कारण स्पर्म्स को एग्स तक पहुंचने में दिक्कत होती है.

अन्य घरेलू उपाय

  •  चार-पांच बादाम को रातभर पानी में भिगोएं, सुबह पीसकर महीन पेस्ट बनाकर एक ग्लास दूध में डालकर दूध उबालें. उसमें एक चम्मच देसी घी व मिश्री डालकर पिएं.
  • एक ग्राम इलायची के दानें, एक ग्राम जावित्री, 10 ग्राम मिश्री को पांच बादाम के पेस्ट में मिलाकर सुबह खाली पेट पिएं.
  • रोज़ाना आधा ग्राम जायफल पाउडर पानी के साथ लें.
  • शतावरी, अश्‍वगंधा व सफेल मूसली को मिलाकर पाउडर तैयार करें. इस मिश्रण को सुबह-शाम तीन-तीन ग्राम एक ग्लास दूध से लें.
  • एक चम्मच शहद में उतनी ही मात्रा में प्याज़ का रस व अदरक का रस मिलाकर पिएं. काफी फ़ायदा होगा.

इन बातों का रखें ध्यान

  • शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने के लिए योग का सहारा लें. रोज़ाना भस्त्रिका प्राणायाम, हलासन, सूर्यनमस्कार, सेतूबंघासन व धनुरासन करें. इससे प्रजनन क्षमता व शुक्राणुओं की संख्या बढ़ने में मदद मिलती है.
  • तनाव से दूर रहें. हमेशा तनाव में रहने से शुक्राणुओं की संख्या व उनकी गुणवत्ता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है.
  • एल्कोहल व सिगरेट का सेवन करने से बचें.
  • ज़्यादा कसा हुआ अंडरवियर न पहनें. रात में जीन्स पहनकर न सोएं. ढीला-ढाला पायजामा पहनकर सोने की आदत डालें.
  • लैपटॉप को जांघ पर रखकर काम न करें.
  • मोबाइल को हमेशा अपनी पैंट के पॉकेट में न रखें.
  • अत्यधिक ल्यूब्रिकेन्ट का प्रयोग न करे. इससे शुक्राणु मर सकते हैं.
  • सोया मिल्क का सेवन न करें, क्योंकि ये शुक्राणुओं को नुक़सान पहुंचाते हैं.
  • एक अध्ययन से पता चला है कि जो पुरुष रोज़ाना तीन या उससे अधिक कप कॉफी का सेवन करते हैं, उनके शुक्राणुओं की संख्या व गुणवत्ता कम होती है. अतः ज़्यादा चाय या कॉफी पीने से बचें.
  • स्टीम या सोना बाथ से बचें. हफ़्ते में एक बार स्टीम बाथ सही है, लेकिन 40 डिग्री से उससे अधिक गर्म पानी से नहाने से शुक्राणुओं की संख्या घट सकती है.

स्पर्म बढ़ाने के लिए नियमित रूप से करें व्यायाम
अगर पूरे दिन सक्रिय रहते हैं तो इससे आपको स्पर्म बढ़ाने में मदद मिलेगी। स्वस्थ जीवनशैली और व्यायाम करने से आपके शुक्राणुओं या स्पर्म को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। एक अध्ययन में पाया गया कि आउटडोर एक्सरसाइज शुक्राणु के स्वास्थ्य में मदद कर सकता है।

स्वास्थ्य से सम्बंधित आर्टिकल्स – 

  1. बीकासूल कैप्सूल खाने से क्या फायदे होते हैं, बिकासुल कैप्सूल के लाभ, Becosules Capsules Uses in Hindi, बेकासूल, बीकोस्यूल्स कैप्सूल
  2. शराब छुड़ाने की आयुर्वेदिक दवा , होम्योपैथी में शराब छुड़ाने की दवा, शराब छुड़ाने के लिए घरेलू नुस्खे , शराब छुड़ाने का मंत्र , शराब छुड़ाने के लिए योग
  3. कॉम्बिफ्लेम टेबलेट की जानकारी इन हिंदी, कॉम्बिफ्लेम टेबलेट किस काम आती है, Combiflam Tablet Uses in Hindi, Combiflam Syrup Uses in Hindi
  4. अनवांटेड किट खाने के कितने दिन बाद ब्लीडिंग होती है, अनवांटेड किट खाने की विधि Hindi, अनवांटेड किट ब्लीडिंग टाइम, अनवांटेड किट की कीमत
  5. गर्भाशय को मजबूत कैसे करे, कमजोर गर्भाशय के लक्षण, गर्भाशय मजबूत करने के उपाय, बच्चेदानी का इलाज, बच्चेदानी कमजोर है, गर्भाशय योग
  6. जिम करने के फायदे और नुकसान, जिम जाने से पहले क्या खाएं, जिम जाने के बाद क्या खाएं,  जिम जाने के फायदे, जिम जाने के नुकसान,  जिम से नुकसान
  7. माला डी क्या है, Mala D Tablet Uses in Hindi, माला डी कैसे काम करती है, Maladi Tablet, माला डी गोली कब लेनी चाहिए
  8. Unienzyme Tablet Uses in Hindi, Unienzyme गोली, यूनिएंजाइम की जानकारी, यूनिएंजाइम के लाभ, यूनिएंजाइम के फायदे,यूनिएंजाइम का उपयोग
  9. मानसिक डर का इलाज, फोबिया का उपचार, डर के लक्षण कारण इलाज दवा उपचार और परहेज, डर लगना, मानसिक डर का इलाज, मन में डर लगना
  10. हिंदी बीपी, उच्च रक्तचाप के लिए आहार, High Blood Pressure Diet in Hindi, हाई ब्लड प्रेशर में क्या नहीं खाना चाहिए, हाई ब्लड प्रेशर डाइट
  11. क्या थायराइड लाइलाज है, थ्रेड का इलाज, थायराइड क्‍या है, थायराइड के लक्षण कारण उपचार इलाज परहेज दवा,  थायराइड का आयुर्वेदिक
  12. मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट
  13. हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण और उपचार, हाई ब्लड प्रेशर, बीपी हाई होने के कारण इन हिंदी, हाई ब्लड प्रेशर १६० ओवर ११०, बीपी हाई होने के लक्षण
  14. खाना खाने के बाद पेट में भारीपन, पेट में भारीपन के लक्षण, पतंजलि गैस की दवा, पेट का भारीपन कैसे दूर करे, पेट में भारीपन का कारण
  15. योग क्या है?, Yoga Kya Hai, योग के लाभ, योग के उद्देश्य, योग के प्रकार, योग का महत्व क्या है, योग का लक्ष्य क्या है, पेट कम करने के लिए योगासन, पेट की चर्बी कम करने के लिए बेस्‍ट योगासन

पुरुष का स्पर्म कितना होना चाहिए जिससे बच्चा ठहर सकता, प्रेगनेंसी के लिए स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए, सीमेन कितना होना चाहिए, Total Sperm Count Kitna Hona Chahiye, नार्मल स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए, नार्मल स्पर्म काउंट फॉर प्रेगनेंसी in Hindi, प्रेग्नेंट होने के लिए स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए, स्पर्म की मात्रा कितनी होनी चाहिए Pregnant Hone Ke Liye, स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए, Pregnancy Ke Liye Sperm Count Kitna Hona Chahiye, पुरुषों में शुक्राणु कितना होना चाहिए, नार्मल स्पर्म कितना होना चाहिए, Ladka पैदा करने के लिए स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए, शुक्राणु कितना परसेंट होना चाहिए