मानसिक डर का इलाज, फोबिया का घरेलू उपचार, बीमारी का डर कैसे दूर करे, डर का कारण क्या है, डर की होम्योपैथिक दवा, फोबिया का होम्योपैथिक इलाज, फोबिया की होम्योपैथिक दवा, Dar Lagna, मन में डर लगना, Phobia Ka Ilaj, Phobia Ko Kaise Dur Kare, फोबिया उपचार, Dar Ka Ilaj, Hamesha Dar Lagna, Phobia Ke Lakshan, डर लगना, डर के लक्षण कारण इलाज दवा उपचार और परहेज, डर को दूर करने के मंत्र,  डर (फोबिया) के प्रकार, Fear (Phobias) in Hindi, Phobia Ka Gharelu Upchar, Types of Phobia and Symptoms in Hindi

मानसिक डर का इलाज, भय क्या है?, डर क्या है ?, Phobia Ka Ilaj
भय एक ऐसी भावना है जो कुछ जीवों में होने वाले डर से उत्पन्न होती है। डर अंग कार्यों और चयापचय में बदलाव का कारण बन सकता है जो आखिरकार व्यवहारिक परिवर्तनों का कारण बन सकता है। जैसे कि भागने, ठंड या खतरनाक खतरे से छिपाना आदि। फोबिया एक ऐसी बीमारी है जो डर व भय से जुड़ी होती है। यह डर का एक अत्याधिक और अकारण रिएक्शन होता है। यदि आपको फोबिया है तो जब आप अपने भय के कारण से सामने होते हैं, तो आपको भय या आतंक की एक गहरी भावना महसूस हो सकती है। भय किसी निश्चित स्थान, वस्तु या परिस्थिति का हो सकता है। यह सामान्य चिंता विकार (General anxiety disorder) से अलग होता है, जो किसी विशिष्ट चीज से जुड़ा होता है।

मनुष्यों में डर वर्तमान में या यहां तक कि किसी व्यक्ति के जीवन या शरीर पर होने वाले भविष्य के खतरे की अपेक्षा से होने वाले विशिष्ट उत्तेजना के कारण हो सकता है। खतरे की धारणा से डर का जवाब उस खतरे से बचकर टकराव या भागने की ओर जाता है जिसे युद्ध-या-उड़ान प्रतिक्रिया के रूप में भी जाना जाता है। चरम मामलों में डर भी पक्षाघात का कारण बन सकता है। जानवरों और मनुष्यों में डर एक परिणामस्वरूप कारक है जो संज्ञान और सीखने की प्रक्रिया के कारण होता है। इस प्रकार डर को दो प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है। पहला एक तार्किक भय और बाद में अजीब डर है। अनौपचारिक भय को भय के रूप में भी जाना जाता है।

मनोवैज्ञानिक क्या कहता है
मनोवैज्ञानिकों ने सुझाव दिया है कि सभी मनुष्यों में पाए जाने वाली कुछ सहज भावनाओं में से एक में डर है। मानव में पाए जाने वाली अन्य सहज भावनाएं क्रोध, चिंता, एंजस्ट, खुशी, डरावनी, दहशत और उदासी हैं। हालांकि, भय और चिंता के बीच एक अंतर है। यद्यपि ये भावनाएं एक-दूसरे से निकटता से संबंधित हैं, चिंता अक्सर खतरे के रूप में होती है जिसे अपरिहार्य या अनियंत्रित माना जाता है। अमिगडाला हमारे दिमाग में जगह है, जो डर से जुड़ा हुआ है। अमिगडाला हमारे पिट्यूटरी ग्रंथि के पीछे स्थित है। अमिगडाला हार्मोन का स्राव उत्पन्न करता है जो आक्रामकता और भय को प्रभावित करता है। एक बार भय और आक्रामकता की उत्तेजना उत्पन्न हो जाने के बाद, अमिगडाला हार्मोन की रिहाई को पूरा करता है, जिसने व्यक्ति को सतर्कता की स्थिति में डाल दिया, जिससे व्यक्ति दौड़ता है, आगे बढ़ता है, एक उड़ान लेता है।

डर के बारे में अधिक जानकारी
मानव में लड़ाई-या-उड़ान प्रतिक्रिया हमारे हाइपोथैलेमस द्वारा नियंत्रित होती है जो हमारी अंग प्रणाली का हिस्सा है।
यहां यह जानना दिलचस्प है कि एक बार जब व्यक्ति सुरक्षित मोड में लौटता है और संभावित खतरे के बारे में कोई संकेत नहीं होता है, तो अमिगडाला सूचना भेजता है जो एमपीएफसी (मेडियल प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स) से डर पैदा करता है, जो समान डेटा के लिए डेटा संग्रहीत करता है। भविष्य की स्थिति मस्तिष्क द्वारा सीखने की इस प्रक्रिया को स्मृति समेकन के रूप में भी जाना जाता है। कुछ हार्मोन और रासायनिक तत्व जो डर के कारण गुप्त होते हैं। वे एपिनेफ्राइन, नोरेपीनेफ्राइन, कोर्टिसोल और कैल्शियम हैं।ये हार्मोन और रसायन दिल की दर, रक्त प्रवाह, रक्त वाहिकाओं के फैलाव और वायु मार्गों और अन्य लोगों को विनियमित करने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

डर (फोबिया) के लक्षण 
फोबिया को आप तीन भागों में बांट सकते हैं’ एगोराफोबिया ( खुली जगह का डर , भीड़-भाड़ ) , स्पेस्फिक फोबिया विशिष्ट फोबिया (Specific Phobia) जैसे ट्रिपैनोफोबिया (सुई/इंजेक्शन का डर) और सोशल फोबिया ( जैसे सामाजिक वातावरण में जाने या भाग लेने में डर ), फोबिया के लक्षण व संकेत क्या हो सकते हैं?इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपको किस विशिष्ट प्रकार का फोबिया है, इससे कुछ सामान्य प्रकार के रिएक्शन होने की संभावना होती है, जैसे:-

  • डर के किसी स्रोत का सामना करके या उसको याद करके भी अचानक से तीव्र भय, चिंता और दिमाग में भगदड़ महसूस होना।
  • यह जानते हुऐ भी कि भय अकारण महसूस हो रहा है, लेकिन उसको नियंत्रित करने में अक्षम महसूस होना।
  • जैसे ही डर का कारण बनने वाली स्थिति या वस्तु आपके या समय के करीब आती है, चिंता उतनी गंभीर होती जाती है।
  • उस वस्तु या स्थिति से बचने के लिए हर संभव कोशिश करना या चिंता और भय को सहन करने की कोशिश करना।
  • डर महसूस होने के कारण, मस्तिष्क द्वारा सामान्य रूप का कार्य करने में परेशानी।
  • शारीरिक प्रतिक्रियाएं और उत्तेजनाएं जिनमें पसीना आना, ह्रदय की गति तेज होना, छाती में जकड़न और सांस लेने में कठिनाई आदि भी शामिल हैं।
  • चोट या खून आदि को देखकर जी मिचलाना, लड़खड़ाना या बेहोश हो जाना आदि।
  • बच्चों में चिड़चिड़ापन, अडिग होना, चिल्लाना या माता-पिता से दूर जाने से या उनका गुस्सा झेलने से मना करना।

विशिष्ट फोबिया के लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं 

  • एक विशिष्ट वस्तु या स्थिति के प्रति अत्यधिक या तर्कहीन भय,
  • उस वस्तु या स्थिति से बचने की कोशिश करना या गंभीर संकट के साथ सहते रहना।
  • चिंता या भगदड़ आक्रमण के शारीरिक लक्षण जैसे, ह्रदय तेजी से धड़कना, मतली और दस्त, पसीना आना, कांपना या हिलना, सुन्न होना या झुनझुनी महसूस होना, सांस लेने में कठिनाई, चक्कर आना और सिर घूमना, सांस घुटने जैसा महसूस होना आदि।
  • पूर्वानुमानित चिंता, इसमें फोबिया का कारण बनने वाली स्थिति या वस्तु का सामना करने के समय से पहले बेचैन होना। उदाहरण के लिए अगर किसी व्यक्ति को कुत्तों से डर लगता है, वह बाहर जाने से पहले चिंतित या बेचैन हो सकता है, अगर उसको पता है कि उस रास्ते पर कुत्ते रहते हैं।

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?
बिना किसी कारण के डर महसूस करना, झुंझलाहट का कारण बन सकता है, लेकिन इसको विशिष्ट फोबिया नहीं माना जाता जब तक यह आपके जीवन को गंभीर रूप से संकटमय ना कर दे। यदि चिंता काम, स्कूल या सामाजिक परिस्थितियों के कार्य करने को नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है, तो आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

बचपन के डर में अंधेरा, भूत या राक्षस, अकेला छोड़ा जाना आदि सामान्य हैं, ज्यादातर बच्चे उम्र के साथ ठीक हो जाते हैं। लेकिन अगर बड़ा होने के बाद भी आपके बच्चे को अत्याधिक डर महसूस हो रहा है, जो घर के काम या स्कूल आदि के कार्यों में बाधा उत्पन्न करता है, तो बच्चे को डॉक्टर से दिखाएं।

डर (फोबिया) के कारण 
दर क्यों लगता है?सिंपल फोबिया के सामान्य कारण

  • यह आमतौर पर बच्चों में 4 से 8 साल की उम्र के बीच होता है। कुछ मामलों में यह पहले कभी जीवन में हुई किसी घटना के कारण भी हो जाता है।
  • परिवार के किसी सद्स्य द्वारा किसी भयावह चीज से सामना भी अन्य सदस्यों के लिए फोबिया का कारण बन सकता है, ज्यादातर बच्चों में इसकी संभावना बढ़ जाती है।
  • अगर किसी बच्चे की मां को मकड़ी से डर लगता है (Arachnophobia), तो बच्चे में यह फोबिया विकसित होनी की काफी संभावनाएं होती हैं।
  • फोबिया माता-पिता से भी लग जाता है या भय की बातें सुनकर भी किसी बच्चे में यह विकसित हो सकता है।

जटिल फोबिया का सामान्य कारण 
एग्रोफोबिया (भीड़ से डरना) या सामाजिक फोबिया को शुरू करने वाला कारण अभी तक भी एक रहस्य ही है, किसी को भी नहीं पता कि उनको भय क्यों लग रहा है। ISIS (International Study of Infarct Survival) के मुताबिक ये निम्न के संयोजन का कारण भी हो सकता है।

  • जीवन का अनुभव (Life experiences)
  • मस्तिष्क केमिस्ट्री (Brain chemistry)
  • आनुवंशिकी (Genetics)
  • सोशल फोबिया की अत्याधिक संभावना अत्यधिक तनावपूर्ण अनुभव के कारण होती है।

फोबिया और अस्तित्व 
ई प्रकार के फोबिया के लिए कई प्रकार के स्पष्टीकरण हो सकते हैं। सोशल फोबिया जीवन की प्रवृत्ति भी हो सकती है। घर में रहने के लिए प्रवृत्ति, विशेष रूप से छोटे बच्चों के लिए, एड्स से पीड़ितों के लिए। मेल-जोल में विचित्रता और खतरा ढूंढने के लिए यह एक प्राकृतिक प्रवृत्ति होती है।

मस्तिष्क में फोबिया का विकसित करने की क्रियाविधि 
दिमाग के कुछ क्षेत्र कुछ खतरनाक और संभावित घातक घटनाओं को अपने दिमाग में बसा लेते हैं या उनको बार-बार याद करते रहते हैं। भविष्य में किसी अवसर के दौरान जब ऐसी ही किसी घटना से सामना होता है, तो वे क्षेत्र उन यादों को फिर से ताजा कर लेते हैं, इससे कारण से शरीर को लगता है कि यह फिर से हो रहा है। मस्तिष्क के वे क्षेत्र जो डर और तनाव में काम करते हैं, वे इन भयावह घटनाओं को अनुपयुक्त रूप से फिर से प्राप्त कर लेते हैं।

कुछ लोगों में अगर कोई घटना बार-बार हो रही है तो उनको फोबिया महसूस हो सकता है, फोबिया एक तर्कहीन घटना होती है, जिसमें मस्तिष्क किसी घटना पर अति-प्रतिक्रिया करता है।

डर (फोबिया) के प्रकार
फोबिया के कुल मिलाकर 550 से जयादा प्रकार होते हैं. लेकिन अब इनमें और भी इजाफा होता जा रहा है. कुछ सामान्य फोबिया के नाम हम यहां शेयर कर रहे हैं, जो लगभग सभी फोबिओ को शामिल करेगा .

  • जानवरों से डर (Animal phobias) – इसके उदाहरण में सांप, मकड़ी, चूहे और कुत्ते आदि से डर लगना आदि शामिल है।
  • प्राकृतिक पर्यावरण से डर (Natural environment phobias) – ऊंचाइयों, तूफान, पानी ,अंधेरे , बिजली चमकने से डरआदि ।
  • परिस्थिति से डर (Situational phobias) – इसमें किसी विशेष परिस्थिति से डर लगना शामिल होता है, जैसे तंग स्थान में डर लगना (Prism glasses), उड़ान, ड्राइविंग, सुरंगों और पुलों आदि पर भयभीत होना आदि।
  • खून या इंजेक्शन या चोट का डर – इसमें खून, चोट, बीमारी, सुई या अन्य चिकित्सा प्रक्रियाओं से डर लगता है।

डर (फोबिया) से बचाव 
हालांकि, ऐसे कई विशिष्ट फोबिया हैं जिनकी रोकथाम नहीं की जा सकती, प्रारंभिक बीच-बचाव और एक दर्दनाक अनुभव के बाद उसका उपचार, व्यक्ति में गंभीर फोबिया विकसित होने से रोकथाम कर सकता है।अपने डर से निपटने के द्वारा आप अपने बच्चे को उत्कृष्ट कौशल सिखा सकते हैं और उनकी हिम्मत बढ़ा सकते हैं। यह बच्चों में फोबिया विकसित होने से रोकथाम करता है।

डर (फोबिया) का परीक्षण 
फोबिया का परीक्षण/ निदान कैसे किया जाता है?

  • फोबिया का निदान करते समय, डॉक्टर यह निर्धारित करने की कोशिश करते हैं कि कोई वस्तु या स्थिति मरीज में किसी प्रकार का डर पैदा करता है।
  • जिन लोगों को फोबिया होता है, उनको लगभग हमेशा पता होता है कि उनको भय महसूस हो रहा है और वे अपने लक्षण आसानी से डॉक्टर को बता सकते हैं।

डर का इलाज, फोबिया का इलाज
फोबिया के इलाज के लिए कोई एक खास ट्रीटमेंट नहीं होता है. हर मरीज का फोबिया और उसकी स्थिति अलग-अलग होती है.फोबिया के इलाज के के लिए मनोवैज्ञानिक थेरेपी और मेडिकेशन्स दोनों बेहद जरूरी हैं. Cognitive Behavioural Therapy CBT इसके लिए अच्छा इलाज माना जाता है. जिसमें मरीज की सोच में बदलाव लाया जाता है. फोबिया के ट्रीटमेंट के लिए रोगी के थायरॉयड, ब्लड शुगर, डायबिटीज आदि की जांच करना भी जरूरी होता है.

डर का इलाज दवा, कुछ खास थेरेपी या दोनों के सयोजन से किया जा सकता है। अधिकतर मामलों में दवा और थेरेपी दोनों का इस्तेमाल किया जाता है।

1. दवा – नीचे कुछ प्रकार की दवाओं के बारे में बताया गया है, जो फोबिया के इलाज के लिए कारगर साबित हुई हैं –

  • बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers) – ये दवाएं फोबिया के लक्षण और घबराहट (जैसे तेजी से और कठोरता से दिल धड़कना) जैसी समस्याओं को कम कर देती है और इनके साथ-साथ टांगों व बाजूओं के कांपने की स्थिति को भी कम कर देती है। कई मरीजों ने बताया कि ये दवाएं उनकी दबी आवाज को भी ठीक होने में मदद करती है।
  • एंटिडिप्रैसेंट्स (Antidepressants) – SSRI’s (serotonin reuptake inhibitors) दवाएं आम तौर पर फोबिया से पीड़ित लोगों को ही दी जाती हैं। ये दवाएं मस्तिष्क में सेरोटोनिन (Serotonin) को प्रभावित करती हैं, जिससे परिणामस्वरूप मूड अच्छा हो जाता है। (और पढ़ें – मूड अच्छा बनाने के उपाय)
  • सीडेटिव (शामक; Sedatives) – बेंज़ोडायज़ेपींस (benzodiazepines) दवाएं चिंता के लक्षणों को कम करने में मदद करती है। जो लोग शराब आदि का सेवन कर रहे हैं, उनको सेडेटिव दवाए नहीं लेनी चाहिए।

2. बिहेवियरल थेरेपी

  • कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरेपी – यह थेरेपी फोबिया के इलाज के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जानी वाली चिकित्सिय थेरेपी है। थेरेपिस्ट पीड़ितों को उनके फोबिया के कारण को समझने के अलग-अलग तरीके सिखातें हैं, जिससे उन्हें अपने डर का सामना करने में आसानी महसूस होती है। डर को देखने व समझने के अन्य वैकल्पिक तरीकों को समझाया जाता है। रोगी को सिखाया जाता है, कि उसके जीवन की गुणवत्ता पर एक गलत दृष्टिकोण का क्या प्रभाव हो सकता है और कैसे एक नया तरीका जिंदगी को बदल सकता है। थेरेपी का पूरा जोर मरीज के अंदर नाकारात्मक विचारों, बेकार की धारणाओं और फोबिया की स्थिति के रिएक्शन का पता लगाने और उसको बदलने पर होता है।
  • डिसेंसिटाइजेशन (एक्सपोज़र थेरेपी) – अगर यह थेरेपी ठीक तरीके से हो पाए, तो इसकी मदद से पीड़ितों के डर के प्रति उनकी प्रतिक्रिया में परिवर्तन करने में सहायता की जा सकती है। रोगियों को उनके डर के कारणों से धीरे-धीरे बढ़ा कर अवगत कराया जाता है। जो व्यक्ति किसी विमान में यात्रा करने से डरते हैं, तो उनको सिर्फ विमान यात्रा के बारे में सोचने से शुरू किया जाता है। उसके बाद विमान को देखना, फिर एयरपोर्ट पर जाना और फिर प्रैक्टिस सिमुलेटेड प्लेन कैबिन (विमान जैसा कमरा) में बैठना, अंत विमान में यात्रा करना आदि शामिल है।

फोबिया दूर करने के ये हैं कुछ आयुर्वेदिक इलाज
आयुर्वेद में मानसिक स्वास्थ्य को पूर्ण स्वास्थ्य का स्तम्भ माना गया है और आत्मा, इन्द्रिय एवं मन की प्रसन्नता को स्वस्थ रहने के लिए आवश्यक बताया गया है। आयुर्वेद के ग्रंथों में मनोरोगों की विस्तृत विवेचना की गई है। अगर आप में निम्न लक्षण उत्पन्न हो रहे हों जैसे :

  • सुबह सुबह अचानक नींद खुल जाना।
  • छोटी- छोटी बातों का याद न रहना।
  • हाथ पैरों में कम्पन आना।
  • हमेशा परेशान (रेस्टलेस) रहना।

आयुर्वेदिक इलाज
यदि ऐसा कुछ हो रहा है तो समझ लें आप एंजायटी की अवस्था से गुजर रहे हैं। ऐसी स्थिति में आयुर्वेद में नस्य चिकित्सा, औषधि उपचार एवं आहार-विहार पर विशेष ध्यान देने क़ी आवश्यकता होती है।

  • सर्पगंधा, खस,जटामांशी, ब्राह्मी, तगर, आंवला, गुलाब आदि कुछ ऐसे नाम हैं जिनका चिकित्सक के निर्देशन में प्रयोग दुष्प्रभाव रहित लाभ देता है।
  • अश्वगंधा एवं बला चूर्ण जैसी औषधियां भी मानसिक दुर्बलता को दूर करने में कारगर होती हैं।
  • कुछ बहु औषधि युक्त चूर्ण जैसे: सारस्वतादि चूर्ण, तगरादि चूर्ण एवं अश्वगंधादि चूर्ण आदि का प्रयोग बड़ा ही फायदेमंद होता है।
  • औषधिसिद्धित घृत में महापैशाचिक घृत, पंचगव्य घृत, पुराण घृत, ब्राह्मी घृत आदि का सेवन भी लाभ देता है।
  • बलारिष्ट, सारस्वतारिष्ट आदि को समभाग जल से भोजन उपरांत लेना भी मनोविकृतियों में लाभ देता है ।
  • कृष्णचतुर्मुख रस, उन्मादगजकेसरीरस एवं स्मृतिसागररस जैसी औषधियों का प्रयोग चिकित्सक के निर्देशन में लेना एंजायटी की अवस्था में फायदेमंद होता है।
  • नींद न आने पर जटामांशी के काढ़े एवं मदनानन्दमोदक जैसी औषधियों का प्रयोग अच्छा प्रभाव दर्शाता है।
  • यदि नियमित रूप से सिर पर सोने से पूर्व ब्राह्मी सिद्धित तेल का प्रयोग किया जाए तो एंजायटी से बचा जा सकता है।

डर की होम्योपैथिक दवा – फोबिया का होम्योपैथिक इलाज
कुछ लोगों को हमेशा डर लगता हैं। जैसे अंधेरे से, अकेले रहने से, ऊंचाई से, मरने से, भीड़ से, एग्जाम से, रोड पार करने से और अकेलेपन से। धीरे-धीरे ये डर कई तरह के शारीरिक और मानसिक रोग पैदा कर देता हैं। फोबिया की होम्योपैथिक दवा
1- आर्जेंटिकम-नाइट्रीकम (Arg-Nit)
2- एकोनाईट (Aconite)
3- स्ट्रामोनियम (Stramonium)
4- एनाकार्डियम (Anacard)

फोबिया तथा साधारण भय में क्या अन्तर है
1- फोबिया – फोबिया की बीमारी अन्य डरों से अलग है? इसकी सबसे बड़ी विशेषता है व्यक्ति की चिन्ता, घबराहट और परेशानी यह जानकर भी कम नहीं होती कि दूसरे लोगो के लिए वही परिस्थिति खतरनाक नहीं है। यह डर सामने दिखने वाले खतरे से बहुत ज्यादा होते हैं। व्यक्ति को यह भी पता रहता है कि उसके डर का कोई तार्किक आधार नहीं है फिर भी वह उसे नियंत्रित नही कर पाता। इस कारण परेशानी और बढ़ जाती है।
2- साधारण भय – इस डर के कारण व्यक्ति उन चीजों, व्यक्तियों तथा परिस्थितियों से भागने का प्रयास करता है जिससे उस भयावह स्थिति का सामना न करना पड़े। धीरे-धीरे यह डर इतना बढ़ जाता है कि व्यक्ति हर समय उसी के बारे में सोचता रहता है और डरता है कि कहीं उसका सामना न हो जाए। इस कारण उसके काम-काज और सामान्य जीवन में बहुत परेशानी होती है

डर दूर करने का मंत्र , डर को दूर करने के मंत्र 
डर का सीधा सम्बन्ध शारीरिक या भावनात्मक खतरे से होता है। शारीरिक डर का सबंध किसी का सामना न करने की क्षमता न होने से होता है, वहीं भावनात्मक डर एक मनोवैज्ञानिक समस्या के कारण होता है। डर लगना वैसे तो आम बात ही है लेकिन ये बीमारी का रूप ना ले ये धयान रखना जरूरी है। हम आपको यहां कुछ मंत्र बताने वाले हैं जिनका जाप पूरे विश्वास के साथ करने से आपका डर दूर होता है। पुराणों एवं प्राचीन ग्रंथों में इन मंत्रों को बड़ा महत्व दिया गया है।

1- हनुमान जी के मंत्र का जाप करे – डर को भगाने के लिए हनुमान चालीसा का पाठ काफी लाभकारी होता है। ग्रंथों में लिखा गया है कि हनुमानजी के जाप से ही डर दूर हो जाते हैं। आप हनुमान चालीसा के अलावा नीचे दिया मंत्र हनुमानजी की प्रतिमा सामने बैठकर 108 बार जाप करें। यह आपके लिए लाभकारी होगा।
“॥ॐ एम ह्रीम हनुमते रामदूताए नमः॥”

2- महामृत्युञ्जय मन्त्र है बहुत शक्तिशाली –  बहुत सारे लोगो को इस बात का भय रहता है कि उनकी मौत कभी भी असमय हो सकती है। महामृत्युञ्जय मंत्र का जाप करके आप भी मौत के डर को जीत सकते हैं।
” ॥ ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।

3- मां दुर्गा की स्तुति – मां दुर्गा को शक्ति की देवी कहा जाता है और इनसे हर डर दूर भागता है। आप मां दुर्गा की स्तुति करके अपने डर को दूर भगा सकते हैं। विश्व से अशुभ तथा भय का विनाश करने के लिए मां दुर्गा की स्तुति करना चाहिए।
” ॥ यस्याः प्रभावमतुलं भगवाननन्तो ब्रह्मा हरश्च न हि वक्तमलं बलं च |
सा चण्डिकाखिलजगत्परिपालनाय नाशाय चाशुभभयस्य मतिं करोतु ॥ “

4- भगवान गणेश मंत्र – ये मंत्र भगवान गणेश को समर्पित है. ये मंत्र भक्त साहस को बहाल करने और उनके मन को निडर बनाने के लिए करते हैं.
“॥ ऊँ गतभिये नमः ओम गहता – भियए नमः॥

5- गजेंद्र मोक्ष स्त्रोत –  श्रीमद भागवत गीता से दिन में एक बार गजेंद्र मोक्ष स्त्रोत को सुन सकते हैं। नरसिंह उपनिषद में इस महान मंत्र, नरसिंह अनुष्ठान और प्रभु के सुदर्शन चक्र का विवरण भी दिया गया है। प्रभु के महान सुरक्षा चक्र से भय आदि से मुक्ति व स्वतंत्रता मिलती है।
“॥उग्रवीरं महाविष्णुं ज्वलन्तं सर्वतोमुखम्. नृसिंहं भीषणं भद्रं मृत्युमृत्युं नमाम्यहम् ॥”

6 – भविष्य की अनहोनी रोकने वाला मंत्र – ये मंत्र भी भगवान गणेश को समर्पित है. ये कहा जाता है कि अतीत के डर को दूर करने के साथ ही भविष्य की आने वाली किसी भी भयभीत घटना से जब आपको डर लगे तो इस वैदिक मंत्र को एक दिन में कम से कम 5 बार पड़े.
“॥ ऊँ गतागतनिवारकाय नमः ओम गहता -घटा -निवारकाय् नमः ॥”

Disclaimer – हमारा एकमात्र उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि पाठको सटीक और भरोसेमंद जानकारी मिले. हालांकि, इसमें दी गई जानकारी को एक योग्य चिकित्सक की सलाह के विकल्प के रूप में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए. यहां दी गई जानकारी केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है यह सभी संभावित दुष्प्रभावों, चेतावनी या अलर्ट को कवर नहीं कर सकता है. कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें और किसी भी बीमारी या दवा से संबंधित अपने सभी प्रश्नों पर चर्चा करें. हमारा मकसद सिर्फ जानकारी देना है.

मानसिक डर का इलाज, फोबिया का घरेलू उपचार, बीमारी का डर कैसे दूर करे, डर का कारण क्या है, डर की होम्योपैथिक दवा, फोबिया का होम्योपैथिक इलाज, फोबिया की होम्योपैथिक दवा, Dar Lagna, मन में डर लगना, Phobia Ka Ilaj, Phobia Ko Kaise Dur Kare, फोबिया उपचार, Dar Ka Ilaj, Hamesha Dar Lagna, Phobia Ke Lakshan, डर लगना, डर के लक्षण कारण इलाज दवा उपचार और परहेज, डर को दूर करने के मंत्र,  डर (फोबिया) के प्रकार, Fear (Phobias) in Hindi, Phobia Ka Gharelu Upchar, Types of Phobia and Symptoms in Hindi

स्वास्थ्य से सम्बंधित आर्टिकल्स – 

बीकासूल कैप्सूल खाने से क्या फायदे होते हैं, बिकासुल कैप्सूल के लाभ, Becosules Capsules Uses in Hindi, बेकासूल, बीकोस्यूल्स कैप्सूल

शराब छुड़ाने की आयुर्वेदिक दवा , होम्योपैथी में शराब छुड़ाने की दवा, शराब छुड़ाने के लिए घरेलू नुस्खे , शराब छुड़ाने का मंत्र , शराब छुड़ाने के लिए योग

कॉम्बिफ्लेम टेबलेट की जानकारी इन हिंदी, कॉम्बिफ्लेम टेबलेट किस काम आती है, Combiflam Tablet Uses in Hindi, Combiflam Syrup Uses in Hindi

अनवांटेड किट खाने के कितने दिन बाद ब्लीडिंग होती है, अनवांटेड किट खाने की विधि Hindi, अनवांटेड किट ब्लीडिंग टाइम, अनवांटेड किट की कीमत

गर्भाशय को मजबूत कैसे करे, कमजोर गर्भाशय के लक्षण, गर्भाशय मजबूत करने के उपाय, बच्चेदानी का इलाज, बच्चेदानी कमजोर है, गर्भाशय योग

जिम करने के फायदे और नुकसान, जिम जाने से पहले क्या खाएं, जिम जाने के बाद क्या खाएं,  जिम जाने के फायदे, जिम जाने के नुकसान,  जिम से नुकसान

माला डी क्या है, Mala D Tablet Uses in Hindi, माला डी कैसे काम करती है, Maladi Tablet, माला डी गोली कब लेनी चाहिए

Unienzyme Tablet Uses in Hindi, Unienzyme गोली, यूनिएंजाइम की जानकारी, यूनिएंजाइम के लाभ, यूनिएंजाइम के फायदे,यूनिएंजाइम का उपयोग

मानसिक डर का इलाज, फोबिया का उपचार, डर के लक्षण कारण इलाज दवा उपचार और परहेज, डर लगना, मानसिक डर का इलाज, मन में डर लगना

हिंदी बीपी, उच्च रक्तचाप के लिए आहार, High Blood Pressure Diet in Hindi, हाई ब्लड प्रेशर में क्या नहीं खाना चाहिए, हाई ब्लड प्रेशर डाइट

क्या थायराइड लाइलाज है, थ्रेड का इलाज, थायराइड क्‍या है, थायराइड के लक्षण कारण उपचार इलाज परहेज दवा,  थायराइड का आयुर्वेदिक

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण और उपचार, हाई ब्लड प्रेशर, बीपी हाई होने के कारण इन हिंदी, हाई ब्लड प्रेशर १६० ओवर ११०, बीपी हाई होने के लक्षण

खाना खाने के बाद पेट में भारीपन, पेट में भारीपन के लक्षण, पतंजलि गैस की दवा, पेट का भारीपन कैसे दूर करे, पेट में भारीपन का कारण

योग क्या है?, Yoga Kya Hai, योग के लाभ, योग के उद्देश्य, योग के प्रकार, योग का महत्व क्या है, योग का लक्ष्य क्या है, पेट कम करने के लिए योगासन, पेट की चर्बी कम करने के लिए बेस्‍ट योगासन