एसिडिटी का तुरंत इलाज, एसिडिटी का परमानेंट इलाज, एसिडिटी का तुरंत इलाज Gharelu, एसिडिटी का तुरंत इलाज घरेलू, एसिडिटी बने तो क्या करें, एसिडिटी को जड़ से खत्म करने के घरेलू उपाय, एसिडिटी का कारण, एसिडिटी का आसान तरीका, एसिडिटी का इलाज

एसिडिटी का तुरंत इलाज, एसिडिटी का परमानेंट इलाज
Follow Some Home Remedies To Get Rid Of Acidity – एसिडिटी कोई नई बीमारी नहीं है, लेकिन आधुनिक जीवन शैली के बुरे प्रभाव के कारण इसके खतरे का स्तर बढ़ता जा रहा है। आमतौर पर खट्टी डकार आना, पेट फूलना, सीने और पेट में जलन एसिडिटी के लक्षण माने गए हैं। साधारण खाना खाने वाले को भी कभी-कभी ऐसा हो सकता है, लेकिन वक्त-बेवक्त खाना खाने वालों के साथ ही ज्यादा स्पाइसी, तला-गला पसंद करने वालों और ज्यादा शराब पीने वालों में यह बीमारी खतरनाक हो सकती है।

ऐम्स की डॉ. वीके राजलक्ष्मी के अनुसार, पेट के अम्लीय पदार्थों का खाने की नली में आ जाना एसिडिटी का मुख्य कारण होता है। लंबे समय तक यह स्थिति बनी रहे तो शरीर के अंदरूनी अंगों को नुकसान पहुंचता है।

एसिडिटी को काबू करने के घरेलू उपाय
कुछ सरल प्राकृतिक उपायों की मदद से एसिडिटी का इलाज किया जा सकता है।
1- जिन लोगों को अक्सर इसकी समस्या रहती है, वे रात को सोने से पहले एक गिलास गुनगुना पानी पीएं। खाना खाते समय या खाना खाने के ठीक बाद पानी पीने से बचें। खाना खाने के करीब 15 मिनट तक कुछ न खाएं। जब शरीर को पानी की जरूरत होगी, वह अपने आप मांग लेगा।
2- एसिडिटी के इलाज में तुलसी रामबाण दवा है। जैसे ही एसिडिटी की समस्या हो, तुलसी के कुछ पत्ते चबा लें। तत्काल आराम मिलेगा। इसके अलावा तुलसी की पत्तियों को पानी में उबालकर काढ़ा बनाया जा सकता है।
3- दालचीनी पाचन के लिए अच्छी होती है। एक कप पानी में आधा चम्मच दालचीनी डालें और उबाल लें। इसको ठंडा होने पर दिन में चार से पांच बार पिएं। सलाद या सूप में दालचीनी का उपयोग किया जा सकता है।
4- छाछ भी एसिडिटी का कारगर उपाय है। छाछ में लैक्टिक एसिड होता है, जो एसिडिटी को सामान्य करने में मदद करता है। छाछ में काली मिर्च और धनिया की पत्तियां मिलाकर सेवन करें। इसके अलावा छाछ में मैथी बीज का पेस्ट मिलकर सेवन करने से एसिडिटी से होने वाला पेट दर्द दूर हो जाता है।
5- पेट में ज्यादा जलन हो रही है तो लौंग चबाएं। इसके उपयोग का दूसरा तरीका है- लौंग को क्रश कर लें और उतनी ही मात्रा में इलायची मिलाकर खाएं। इससे एसिड की समस्या से निजात पाने में मदद मिलेगी।
6- इसके अलावा जीरा, अदरक, गुड़ और सौफ को किसी भी रूप में लिया जाए, एसिडिटी में मदद करते हैं।
7- दूध गैस्ट्रिक एसिड को स्थिर करता है। कैल्शियम में समृद्द होने के कारण दूध पेट में एसिडिटी बढ़ने से रोकता है।

जिन लोगों में एसिडिटी की अधिक शिकायत रहती है, उन्हें फल और सब्जियों का सेवन अधिक करने की सलाह दी जाती है। खाना थोड़ी-थोड़ी मात्रा में खाएं । दरअसल, एसिडिटी तब होती है जब पेट में मौजूद हाइड्रोक्लोरिक एसिड नामक अम्ल अन्न को शरीर में टुकड़ों में नहीं तोड़ पाता है। यह अम्ल अपना काम ठीक से कर सके, इसके लिए जरूरी है कि थोड़ी-थोड़ी मात्रा में खाना खाया जाए। इस घरेलू इलाज के बाद भी एसिडिटी बनी हुई है, तो बिना विलंब डॉक्टर को दिखाएं। कई ऐसी दवाएं उपलब्ध हैं जो तत्काल राहत दिलाती हैं।

एसिडिटी का तुरंत इलाज, एसिडिटी का परमानेंट इलाज, एसिडिटी का तुरंत इलाज Gharelu, एसिडिटी का तुरंत इलाज घरेलू, एसिडिटी बने तो क्या करें, एसिडिटी को जड़ से खत्म करने के घरेलू उपाय, एसिडिटी का कारण, एसिडिटी का आसान तरीका, एसिडिटी का इलाज

स्वास्थ्य से सम्बंधित आर्टिकल्स – 

  1. बीकासूल कैप्सूल खाने से क्या फायदे होते हैं, बिकासुल कैप्सूल के लाभ, Becosules Capsules Uses in Hindi, बेकासूल, बीकोस्यूल्स कैप्सूल
  2. शराब छुड़ाने की आयुर्वेदिक दवा , होम्योपैथी में शराब छुड़ाने की दवा, शराब छुड़ाने के लिए घरेलू नुस्खे , शराब छुड़ाने का मंत्र , शराब छुड़ाने के लिए योग
  3. कॉम्बिफ्लेम टेबलेट की जानकारी इन हिंदी, कॉम्बिफ्लेम टेबलेट किस काम आती है, Combiflam Tablet Uses in Hindi, Combiflam Syrup Uses in Hindi
  4. ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Nind Kyon Aati Hai, ज्यादा नींद आना के कारण, ज्यादा नींद आना, शरीर में सुस्ती, शरीर में थकावट
  5. अनवांटेड किट खाने के कितने दिन बाद ब्लीडिंग होती है, अनवांटेड किट खाने की विधि Hindi, अनवांटेड किट ब्लीडिंग टाइम, अनवांटेड किट की कीमत
  6. गर्भाशय को मजबूत कैसे करे, कमजोर गर्भाशय के लक्षण, गर्भाशय मजबूत करने के उपाय, बच्चेदानी का इलाज, बच्चेदानी कमजोर है, गर्भाशय योग
  7. जिम करने के फायदे और नुकसान, जिम जाने से पहले क्या खाएं, जिम जाने के बाद क्या खाएं,  जिम जाने के फायदे, जिम जाने के नुकसान,  जिम से नुकसान
  8. माला डी क्या है, Mala D Tablet Uses in Hindi, माला डी कैसे काम करती है, Maladi Tablet, माला डी गोली कब लेनी चाहिए
  9. Unienzyme Tablet Uses in Hindi, Unienzyme गोली, यूनिएंजाइम की जानकारी, यूनिएंजाइम के लाभ, यूनिएंजाइम के फायदे,यूनिएंजाइम का उपयोग
  10. मानसिक डर का इलाज, फोबिया का उपचार, डर के लक्षण कारण इलाज दवा उपचार और परहेज, डर लगना, मानसिक डर का इलाज, मन में डर लगना
  11. हिंदी बीपी, उच्च रक्तचाप के लिए आहार, High Blood Pressure Diet in Hindi, हाई ब्लड प्रेशर में क्या नहीं खाना चाहिए, हाई ब्लड प्रेशर डाइट
  12. क्या थायराइड लाइलाज है, थ्रेड का इलाज, थायराइड क्‍या है, थायराइड के लक्षण कारण उपचार इलाज परहेज दवा,  थायराइड का आयुर्वेदिक
  13. मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट, वजन घटाने के लिए डाइट चार्ट, बाबा रामदेव वेट लॉस डाइट चार्ट इन हिंदी, वेट लॉस डाइट चार्ट
  14. हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण और उपचार, हाई ब्लड प्रेशर, बीपी हाई होने के कारण इन हिंदी, हाई ब्लड प्रेशर १६० ओवर ११०, बीपी हाई होने के लक्षण
  15. खाना खाने के बाद पेट में भारीपन, पेट में भारीपन के लक्षण, पतंजलि गैस की दवा, पेट का भारीपन कैसे दूर करे, पेट में भारीपन का कारण
  16. योग क्या है?, Yoga Kya Hai, योग के लाभ, योग के उद्देश्य, योग के प्रकार, योग का महत्व क्या है, योग का लक्ष्य क्या है, पेट कम करने के लिए योगासन, पेट की चर्बी कम करने के लिए बेस्‍ट योगासन