सद्गुरु जग्गी वासुदेव की जीवनी, सद्गुरु जग्गी वासुदेव की बायोग्राफी, सद्गुरु जग्गी वासुदेव के विचार, सद्गुरु जग्गी वासुदेव की बायोग्राफी हिंदी में, Sadguru Jaggi Vasudev Ki Jivani, Sadguru Jaggi Vasudev Biography In Hindi, Sadguru Jaggi Vasudev Thoughts

नाम – जग्गी वासुदेव
उपनाम – सद्गुरु
जन्म – 3 सितंबर 1957 (उम्र 63 वर्ष)
जन्म स्थान – मैसूर, कर्नाटक, भारत
राष्ट्रीयता – भारतीय
व्यवसाय – भारतीय योगी और रहस्यवादी
स्कूली शिक्षा – Demonstration स्कूल, मैसूर (1973)
कॉलेज – मैसूर विश्वविद्यालय
शैक्षणिक योग्यता – अंग्रेजी साहित्य में स्नातक

जग्गी वासुदेव के शौक
गोल्फ खेलना, होप्सकॉच करना, क्रिकेट खेलना, वॉलीबॉल खेलना, बिलियर्ड्स खेलना, फ्रिसबी और ट्रेकिंग करना

जग्गी वासुदेव से जुड़े विवाद
1- अक्टूबर 1997 में, अपनी पत्नी की मृत्यु के बाद बैंगलोर पुलिस स्टेशन में उनके खिलाफ एक शिकायत दर्ज की गई, जिसमें उन पर अपनी पत्नी पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने का आरोप लगा था. जिसके कारण तमिल मीडिया ने सद्गुरु के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते हुए, लाल झंडा दिखाया.
2- वह विवादों में तब आए, जब उनके खिलाफ तमिलनाडु जिला अदालत में एक याचिका दायर की गई, जिसमें उन पर आरोप लगा कि उनके ईशा योग केंद्र, कोयंबटूर में दो वयस्क महिलाओं को बंदी बनाकर रखा गया है.
3- पर्यावरणविदों और कई राजनीतिक नेताओं ने दावा किया कि ईशा योग केंद्र वन भूमि पर स्थित है और वह पश्चिमी घाट के वेल्लियानिरी हिल्स में स्थित हाथियों के क्षेत्र (elephant corridor) का अतिक्रमण कर रहा है, जिससे हाथियों की पर्यावरणीय क्षति और मौत हो रही है.

जग्गी वासुदेव से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ
1- वह ईशा फाउंडेशन के संस्थापक हैं, जो पूरी दुनिया में योग कार्यक्रमों को संचालित करती है.
2- वह सामाजिक कार्यों, पर्यावरणीय कार्यक्रमों और शैक्षणिक कार्यक्रमों में सक्रिय रूप से भाग लेते रहते हैं.
3- आध्यात्मिकता के प्रति उनके योगदान के लिए भारत सरकार ने उन्हें 13 अप्रैल 2017 को पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया है.
4- बचपन में, वह प्रकृति की ओर काफी आकर्षित हुए. जिसके चलते उन्होंने घर के पास एक जंगल में समय बिताना शुरू किया. उस दौरान उन्होंने सरीसृपों के प्रति प्यार को विकसित किया.
5- बारह वर्ष की उम्र में, उन्होंने मल्लादिहल्ली श्री राघवेंद्र स्वामीजी से मुलाकात की और योग आसन सीखा. उनके अनुसार, वह बिना किसी ब्रेक के नियमित रूप से इन आसनों का अभ्यास करते रहते हैं.
6- कॉलेज के दिनों में, उन्हें मोटरसाइकिल पर यात्रा करना बहुत पसंद था. जिसके चलते वह मैसूर के निकट चामुंडी हिल में अपने दोस्तों के साथ रात्रिभोज के लिए जाते थे.
7- उन्हें भारत के विभिन्न स्थानों पर मोटरसाइकिल पर अकेले यात्रा करना पसंद है.
8- कॉलेज से पढ़ाई पूरी करने के बाद, उन्होंने पोल्ट्री फार्म, ईंट बनाने, इत्यादि कई व्यवसायों को करने कोशिश की. जिसके कारण, वह एक सफल व्यवसायी बने.
9- उन्होंने दावा किया कि 23 सितंबर 1982 को चामुंडी हिल में एक चट्टान पर बैठने के दौरान उन्हें अध्यात्म की अनुभूति हुई थी.
10- रहस्यमयी अनुभवों के बारे में अधिक जानने के लिए, उन्होंने विभिन्न स्थानों की यात्रा की और एक वर्ष तक ध्यान के आंतरिक अनुभवों को लोगों के साथ साझा करने का निर्णय किया.
11- वर्ष 1983 में, उन्होंने मैसूर में अपनी पहली योग कक्षा का आयोजन किया और उसके बाद कर्नाटक और हैदराबाद में योग कक्षाओं का आयोजन किया. धीरे-धीरे, उनके योग आसन इतने लोकप्रिय हो गए कि 15,000 से अधिक प्रतिभागियों ने योग कार्यक्रमों में भाग लेना शुरू कर दिया.
12- उन्होंने अपनी योग कक्षाओं के लिए कुछ भी नहीं स्वीकार करने का फैसला किया और जीवित रहने के लिए अपने पोल्ट्री फार्म के उत्पादन पर निर्भर रहना शुरू किया.
13- वह योग कक्षाओं से एकत्रित धन को स्थानीय दान के लिए दे देते थे.
14- वर्ष 1993 में, उन्होंने ईशा (निरर्थक दिव्य) योग केंद्र को स्थापित किया, जो संयुक्त राष्ट्र की अंतर्राष्ट्रीय निकायों आर्थिक और सामाजिक परिषद के साथ मिलकर काम करता है.
15- उनके योग कार्यक्रम को इनर इंजीनियरिंग के रूप में नामित किया गया है, जो लोगों के ध्यान, ईशा क्रिया, चित शक्ति, शम्भवी महामुद्रा और प्राणायाम को निर्देशित करता है.

जग्गी वासुदेव के कुछ अनमोल वचन
1- आत्मज्ञान कोई बिग-बैंग धमाके की तरह नहीं होता है. यह निरंतर जारी रहने वाली प्रक्रिया है.
2- आत्मज्ञान का अर्थ है – जीवन के एक नए आयाम में प्रवेश करना. यह भौतिकता से परे का आयाम है.
3- एक देश के रूपांतरण के लिए ज्ञानोदय की जरूरत नहीं है – बस थोड़ी सी समझदारी और अपने आसपास रहने वाले हर इंसान के प्रति प्रेम की जरूरत है.
4- न तो किसी औरत को आत्मज्ञान मिल सकता है और न ही किसी पुरुष को. आत्मज्ञान की संभावना तभी बनती है जब आप लिंग भेद से ऊपर उठ जाते हैं.
5- आत्मज्ञान में कोई सुख नहीं होता, कोई पीड़ा नहीं होती – बस होता है एक बेनाम आनंद, परमानंद.
6- आत्मज्ञान का बीज हर प्राणी में मौजूद है. आत्मज्ञान कोई ऐसी चीज नहीं है जो बाहर से आती है. आत्मज्ञान सिर्फ एक बोध है.
7- आत्मज्ञान उस सत्य का साक्षात्कार है, जो पहले से ही मौजूद है.

जग्गी वासुदेव के 7 सूत्र स्वतंत्रता के बारे में
1- दूसरों से आशाएं होने का मतलब है कि आप उनकी ज़िन्दगी ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं. ऐसा न करें. अपना खुद का जीवन ठीक करें – यही आज़ादी है.
2- साधना चाहे कितनी भी साधारण हो, अगर आप इसे हर दिन करते हैं, तो धीरे-धीरे, कदम-दर-कदम, यह आपके भीतर एक नये स्‍तर की आज़ादी पैदा करती है.
3- ध्यान का अर्थ है : अपने भीतर परम आज़ादी.
4- तनाव से मुक्त होने का एकमात्र तरीका ध्यान है, क्योंकि यह मन से परे का आयाम है. सारा तनाव और संघर्ष तो मन में है.
5- एक बार जब आपमें और आपकी विचार प्रक्रिया में एक दूरी आ जाती है, एक नई स्वतंत्रता जन्म लेती है. इस स्वतंत्रता के साथ एक नया बोध जागता है.
6- पीड़ा के डर से आप जीवन को आधा अधूरा जीते हैं. जीवन को पूर्णता में जीने के लिए पीड़ा के डर से छुटकारा जरूरी है.
7- आवश्यक जागरुकता के बिना स्वतंत्रता खतरनाक है.

जग्गी वासुदेव के 6 सूत्र आसनों के बारे में
1- आपके मस्तिष्क की गतिविधियां, आपके शरीर की केमेस्ट्री, यहां तक कि आपके वंशानुगत गुण भी योगाभ्यास से बदले जा सकते हैं.
2- कोई योगिक अभ्यास चाहे कितना भी सीधा और सरल क्यों न लगे, उसमें हमेशा एक आध्यात्मिक आयाम होता है.
3- गलत कारणों से योगाभ्यास करते हुए भी, अगर आप इसे सही तरीके से करते हैं, तब भी यह काम करता है.
4- अगर आप जागरूक होकर किसी एक आसन में रहते हैं, तो जैसे आप सोचते हैं, महसूस करते हैं और जीवन को अनुभव करते हैं, उसे यह बदल सकता है. हठ-योग यह कर सकता है.
5- आसनों को अगर सही तरीके से किया जाए, तो हर आसन ऊर्जा की एक प्रक्रिया है.
6- अगर आप रूपांतरित होना चाहते हैं, तो सबसे बड़ा रूपांतरण शरीर में होना होगा – क्योंकि शरीर में दिमाग से कहीं बहुत अधिक याद्दाश्त होती है.

जग्गी वासुदेव के अपने मन में झांकने के 6 सरल सूत्र
1- सृष्टि का स्रोत बहुत सूक्ष्म है. जब आप अपने शरीर और मन को शांत कर देते हैं, तभी यह बात करता है.
2- जि़ंदगी चलाने के लिए बुद्धि एक शानदार साधन है. लेकिन साथ ही, यह एक घोर रूकावट भी है जो आपको जीवन के एकत्व को अनुभव नहीं करने देती.
3- एक बार जब आप और आपके मन की गतिविधियों के बीच एक दूरी आ जाती है, फिर मन जंजाल नहीं रह जाता. तब यह एक शानदार लय में आ जाता है; एक ज़बरदस्त संभावना बन जाता है.
4- चाहे वह आपका शरीर हो, आपका मन हो, या फिर आपकी जीवन ऊर्जा हो – आप इनका जितना ज्यादा इस्तेमाल करते हैं, ये उतने ही बेहतर होते जाते हैं.
5- डर, गुस्सा, दुख, कुंठा, अवसाद, और हताशा सभी एक ऐसे मन की उपज हैं, जिसका नियंत्रण आपने अपने हाथ में नहीं लिया है.
6- आपका शरीर एक बड़ी छलांग लगा सकता है, आपकी उर्जाएं एक ऊंची उछाल ले सकती हैं, लेकिन मन हमेशा किश्तों में रूपांतरित होता है.

ये भी पढ़े –

  1. विवेकानंद की जीवनी, स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय, स्वामी विवेकानंद की बायोग्राफी, Swami Vivekananda In Hindi, Swami Vivekananda Ki Jivani
  2. शहीदे आज़म भगत सिंह की जीवनी, शहीद भगत सिंह की बायोग्राफी हिंदी में, भगत सिंह का इतिहास, भगत सिंह का जीवन परिचय, Shaheed Bhagat Singh Ki Jivani
  3. महात्मा गांधी की जीवनी, महात्मा गांधी का जीवन परिचय, महात्मा गांधी की बायोग्राफी, महात्मा गांधी के बारे में, Mahatma Gandhi Ki Jivani
  4. डॉ. भीम राव अम्बेडकर की जीवनी, डॉ. भीम राव अम्बेडकर का जीवन परिचय हिंदी में, डॉ. भीमराव अम्बेडकर के अनमोल विचार, Dr. B.R. Ambedkar Biography In Hindi
  5. सुभाष चन्द्र बोस की जीवनी, सुभाष चंद्र बोस की जीवनी कहानी , नेताजी सुभाष चन्द्र बोस बायोग्राफी, सुभाष चन्द्र बोस का राजनीतिक जीवन, आजाद हिंद फौज का गठन
  6. महादेवी वर्मा की जीवनी , महादेवी वर्मा की बायोग्राफी, महादेवी वर्मा की शिक्षा, महादेवी वर्मा का विवाह, Mahadevi Verma Ki Jivani
  7. तानसेन की जीवनी , तानसेन की बायोग्राफी, तानसेन का करियर, तानसेन का विवाह, तानसेन की शिक्षा, Tansen Ki Jivani, Tansen Biography In Hindi
  8. वॉरेन बफे की जीवनी, वॉरेन बफे की बायोग्राफी, वॉरेन बफे का करियर, वॉरेन बफे की पुस्तकें, वॉरेन बफे के निवेश नियम, Warren Buffet Ki Jivani, Warren Buffet Biography In Hindi
  9. हरिवंश राय बच्चन की जीवनी, हरिवंश राय बच्चन की बायोग्राफी, हरिवंश राय बच्चन की कविताएं, हरिवंश राय बच्चन की रचनाएं, Harivansh Rai Bachchan Ki Jivani
  10. रामधारी सिंह दिनकर की जीवनी , रामधारी सिंह दिनकर की बायोग्राफी, रामधारी सिंह दिनकर के पुरस्कार, रामधारी सिंह दिनकर की रचनाएं, Ramdhari Singh Dinkar Ki Jivani
  11. मन्नू भंडारी की जीवनी, मन्नू भंडारी की बायोग्राफी, मन्नू भंडारी का करियर, मन्नू भंडारी की कृतियां, Mannu Bhandari Ki Jivani, Mannu Bhandari Biography In Hindi
  12. अरविन्द घोष की जीवनी, अरविन्द घोष की बायोग्राफी, अरविन्द घोष का करियर, अरविन्द घोष की मृत्यु, Arvind Ghosh Ki Jivani, Arvind Ghosh Biography In Hindi
  13. सम्राट अशोक की जीवनी, सम्राट अशोक की बायोग्राफी, सम्राट अशोक का शासनकाल, सम्राट अशोक की मृत्यु, Ashoka Samrat Ki Jivani, Ashoka Samrat Biography In Hindi
  14. मिल्खा सिंह की जीवनी, मिल्खा सिंह की बायोग्राफी, मिल्खा सिंह का करियर, मिल्खा सिंह का विवाह, मिल्खा सिंह के पुरस्कार, Milkha Singh Ki Jivani, Milkha Singh Biography In Hindi
  15. अटल बिहारी वाजपेयी की जीवनी, अटल बिहारी वाजपेयी की रचनाएं, अटल बिहारी वाजपेयी की कविताएं, Atal Bihari Vajpayee, Atal Bihari Vajpayee Biography In Hindi