अटल बिहारी वाजपेयी, अटल बिहारी वाजपेयी की जीवनी, अटल बिहारी वाजपेयी की रचनाएं, अटल बिहारी वाजपेयी की कविताएं, अटल बिहारी वाजपेयी की उम्र, Atal Bihari Vajpayee, Atal Bihari Vajpayee Biography In Hindi, Atal Bihari Vajpayee Compositions, Atal Bihari Vajpayee Poems, Atal Bihari Vajpayee Age

अटल बिहारी वाजपेयी की जीवनी, Biography of Atal Bihari Vajpayee
भारत रत्न के रुप में मशहूर अटल बिहारी वाजपेयी भारत के पूर्व प्रधानमंत्री थे. बहु प्रतिभावान राजनैतिज्ञ अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय राजनीती में पिछले 50 सालों से सक्रीय है. अपने राजनैतिक सफ़र में वाजपेयी जी सबसे आदर्शवादी व प्रशंसनीय राजनेता थे. अटल जी जैसा नेता होना पुरे देश के लिए गर्व की बात है. उनके बहुत से कामों की वजह से देश आज इस मुकाम पर है. जवाहरलाल नेहरु के बाद अगर कोई 3 बार प्रधानमंत्री बना है तो वो अटल जी ही है. अटल जी पिछले 5 दशकों से संसद में सक्रीय रहे, साथ ही वे इकलोते राजनेता है जो 4 अलग अलग प्रदेश से सांसद चुने गए. अटल जी भारत की आजादी के पहले से राजनीती में आ गए थे, उन्होंने गाँधी जी के साथ भारत छोड़ो आन्दोलन में भी भाग लिया था, और कई बार जेल यातनाएं भी सही.

अटल की बहुमुखी प्रतिभा के धनि है, वे बहुत अच्छे कवी भी है, जो राजनीती पर भी अपनी कविता और व्यंग्य से सबको आश्चर्यचकित करते रहे है, उनकी बहुत ही रचनाएँ पब्लिश भी हुई है जिन्हें आज भी लोग पढ़ते है. अटल जी को अपनी मातृभाषा हिंदी से भी बेहद प्रेम है, अटल जी पहले राजनेता बने, जिन्होंने यू एन जनरल असेंबली में हिंदी में भाषण दिया था. अटल जी पहली बार सिर्फ 13 दिन के लिए प्रधानमंत्री बने थे. इसके 1 साल के बाद वे फिर प्रधानमंत्री बने लेकिन इस बार भी उनका ये सफ़र एक साल का रहा. तीसरी बार अटल जी जब प्रधानमंत्री बने तब उनका कार्यकाल पूरा 5 साल का रहा और ये सबसे अधिक सफल माना गया.

नाम – अटल बिहारी वाजपेयी
जन्म – 25 दिसम्बर 1924
उम्र – 95 वर्ष
जन्म स्थान – ग्वालियर, मध्यप्रदेश
मृत्यु – 16 अगस्त 2018
मृत्यु स्थान – एम्स हॉस्पिटल, नई दिल्ली, भारत
व्यवसाय – राजनेता, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री
माता-पिता – कृष्णा देवी, कृष्णा बिहारी वाजपेयी
राजनैतिक पार्टी – भारतीय जनता पार्टी

अटल बिहारी वाजपेयी का प्रारंभिक जीवन, Atal Bihari Vajpayee’s Early Life
अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 में मध्य प्रदेश के ग्वालियर के एक छोटे से गांव में हुआ था. साधारण परिवार में जन्मे अटल बिहारी वाजपेयी के पिता कृष्ण बिहारी वाजपेयी अध्यापक थे और साथ ही वे महान कवि भी थे. जिसके चलते अटल बिहारी वाजपेयी को कवित्व का गुण अपने पिता से विरासत में मिला था. अटल बिहारी वाजपेयी की प्रारंभिक शिक्षा ग्वालियर के ही विक्टोरिया (लक्ष्मीबाई ) कॉलेज और कानपुर के डीएवी कॉलेज में हुई थी. अटल बिहारी वाजपेयी ने राजनीतिक विज्ञान में स्नातकोत्तर किया था. अटल बिहारी वाजपेयी छात्र जीवन से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक बने और तभी से राष्ट्रीय स्तर की वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में भाग लेते रहे. तीन बार भारत के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी का 16 अगस्त 2018 को दिल्ली के एम्स में हो गया था.

अटल बिहारी वाजपेयी का व्यक्तिगत जीवन, Personal Kife of Atal Bihari Vajpayee
वाजपेयी समस्त जीवन अविवहित रहे. उन्होंने राजकुमारी कौल और बीएन कौल की बेटी नमिता भट्टाचार्य को गोद लिया था.

अटल बिहारी वाजपेयी का राजनीतिक जीवन, Atal Bihari Vajpayee’s Political Life
अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने राजनीति जीवन की शुरुआत 1942 में उस समय की थी जब भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान उनके भाई 23 दिनों के लिए जेल गए. सन् 1951 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सहयोग से भारतीय जनसंघ पार्टी का गठन हुआ था. उस दौरान अटल बिहारी वाजपेयी की भूमिका श्‍यामाप्रसाद मुखर्जी जैसे नेताओं के साथ रही. अटल बिहारी वाजपेयी 1968 से 1973 तक भारतीय जनसंघ पार्टी के अध्यक्ष भी रहे. अटल बिहारी वाजपेयी ने 1955 में पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा, लेकिन उन्हें इस चुनाव में सफलता हासिल नहीं हुई. 1957 में अटल बिहारी वाजपेयी को जनसंघ ने उत्तर प्रदेश के लखनऊ, मथुरा और बलरामपुर से लड़ाया. लेकिन वे लखनऊ और मथुरा से चुनाव हार गए और बलरामपुर सीट से चुनाव जीतकर लोकसभा में पहुंचे. अटल बिहारी वाजपेयी मोरारजी देसाई की सरकार में सन् 1977 से 1979 तक विदेश मन्त्री रहे और विदेशों में भारत की छवि बनायी. लेकिन 1980 में अटल बिहारी वाजपेयी ने जनता पार्टी से नाखुश होकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की स्थापना की. अटल बिहारी वाजपेयी 6 अप्रैल 1980 को भाजपा के अध्यक्ष बने. अटल बिहारी वाजपेयी दो बार राज्यसभा के लिये भी निर्वाचित हुए. अटल बिहारी वाजपेयी ने 16 मई से 1 जून तक 1996 को प्रधानमंत्री के रूप में देश की बागडोर संभाली. इसके बाद अटल बिहारी वाजपेयी ने 19 मार्च 1998 से 10 अक्टूबर 1999 तक प्रधानमंत्री के रूप में देश की बागडोर संभाली. फिर इसके बाद 10 अक्टूबर 1999 से 2004 तक देश की बागडोर संभाली. 2004 से ही अटल बिहारी वाजपेयी ने शारिरिक अस्वस्थता के कारण सक्रिय राजनीति से सन्यास ले लिया. लंबी बीमारी के चलते अटल बिहारी वाजपेयी का 16 अगस्त 2018 को दिल्ली के एम्स में हो गया था. जानकारी के लिए आपको बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी इकलौते नेता थे जिन्होंने उत्तर प्रदेश के लखनऊ और बलरामपुर, गुजरात के गांधीनगर, मध्यप्रदेश के ग्वालियर और विदिशा और दिल्ली की नई दिल्ली संसदीय सीट से चुनाव जीता था.

अटल बिहारी वाजपेयी का भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर, Atal Bihari Vajpayee as The Prime Minister of India
सन 1996 के लोकसभा चुनाव के बाद बीजेपी को में सत्ता में आने का मौका मिला और अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री चुने गए. लेकिन बहुमत सिद्ध नहीं कर पाने के कारण सरकार गिर गईऔर वाजपेयी को प्रधानमंत्री पद से मात्र 13 दिनों के बाद ही इस्तीफा देना पड़ गया. सन 1998 चुनाव में बीजेपी एक बार फिर विभिन्न पार्टियों के सहयोग वाला गठबंधन नेशनल डेमोक्रेटिक अलायन्स के साथ सरकार बनाने में सफल रही पर इस बार भी पार्टी सिर्फ 13 महीनों तक ही सत्ता में रह सकी, क्योंकि ऑल इंडिया द्रविड़ मुन्नेत्र काज़गम ने अपना समर्थन सरकार से वापस ले लिया. वाजपेयी के नेतृत्व वाली एन.डी.ए. सरकार ने मई 1998 में राजस्थान के पोखरण में परमाणु परीक्षण कराए.

1999 के लोक सभा चुनावों के बाद नेशनल डेमोक्रेटिक अलायन्स (एन. डी. ए.) को सरकार बनाने में सफलता मिली और अटल बिहारी वाजपेयी एक बार फिर प्रधानमंत्री बने. इस बार सरकार ने अपने पांच साल पूरे किए और ऐसा करने वाली पहली गैर-कांग्रेसी सरकार बनी. सहयोगी पार्टियों के मजबूत समर्थन से वाजपेयी ने आर्थिक सुधार के लिए और निजी क्षेत्र के प्रोत्साहन हेतु कई योजनाएं शुरू की. उन्होंने औद्योगिक क्षेत्र में राज्यों के दखल को सीमित करने का प्रयास किया. वाजपेयी ने विदेशी निवेश की दिशा में और सूचना तकनीकी के क्षेत्र में शोध को बढ़ावा दिया. उनकी नई नीतियों और विचारों के परिणाम स्वरूप भारतीय अर्थव्यवस्था ने त्वरित विकास हासिल किया. पाकिस्तान और यूएसए के साथ मैत्रीपूर्ण रिश्ते कायम करके उनकी सरकार ने द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत किया. हालाँकि अटल बिहारी वाजपेयी की विदेश नीतियां ज्यादा बदलाव नहीं ला सकीं, फिर भी इन नीतियों को बहुत सराहा गया. अपने पांच साल पूरे करने के बाद एन.डी.ए. गठबंधन पूरे आत्मविश्वास के साथ अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में 2005 के चुनाव में उतरा पर इस बार कांग्रेस के नेतृत्व में यू.पी.ए. गठबंधन ने सफलता हासिल की और सरकार बनाने में सफल रही. दिसंबर 2005 में अटल बिहारी वाजपेयी ने सक्रीय राजनीति से संन्यास लेने की घोषणा कर दी. अटल बिहारी वाजपेयी के पुरस्कार, प्रमुख रचनाएं और कविता की सूची खबर के लास्ट में दी गई है.

अटल बिहारी वाजपेयी की मृत्यु, Death of Atal Bihari Vajpayee
सन 2009 में उन्हे दौरा पड़ा था, जिसके बाद उनका स्वास्थ्य लगातार बिगड़ता ही गया. 11 जून 2018 को उन्हें अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती कराया गया था, जहाँ 16 अगस्त 2018 को वे परलोक सिधार गये. 17 अगस्त को उनकी दत्‍तक पुत्री नमिता कौल भट्टाचार्या मुखाग्नि दी. राजघाट के पास शान्ति वन में स्मृति स्थल में उनकी समाधि बनायी गयी है.

अटल बिहारी वाजपेयी के पुरस्कार और सम्मान, Atal Bihari Vajpayee Awards and Honors
1- देश के लिए अपनी अभूतपूर्व सेवाओं के चलते उन्हें वर्ष 1992 में पद्म विभूषण सम्मान से नवाजा गया.
2- 1993 में उन्हें कानपुर विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट की उपाधि का सम्मान प्राप्त हुआ.
3- वर्ष 1994 में अटल बिहारी वाजपेयी को लोकमान्य तिलक अवार्ड से सम्मानित किया गया
4- वर्ष 1994 में पंडित गोविंद वल्लभ पंत पुरस्कार भी प्रदान किया गया.
5- वर्ष 1994 में सर्वश्रेष्ठ सांसद का सम्मान.
6- वर्ष 2015 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान, भारत रत्न से नवाजा गया.
7- वर्ष 2015 में बांग्लादेश द्वारा लिबरेशन वार अवार्ड दिया गया.

अटल बिहारी वाजपेयी का जीवन घटनाक्रम, Life events of Atal Bihari Vajpayee
1924: अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म ग्वालियर शहर में हुआ.
1942: भारत छोड़ो आंदोलन में हिस्सा लिया.
1957: पहली बार लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए.
1980: बीजेएस और आरएसएस के साथियों के साथ मिलकर बीजेपी की स्थापना की
1992: देश की उन्नति में योगदान के लिए पद्म विभूषण पुरस्कार दिया गया.
1996: पहली बार देश के प्रधानमंत्री बने.
1998: दूसरी बार भी देश के प्रधानमंत्री बने.
1999: तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री बने और दिल्ली से लाहौर के बीच बस सेवा संचालित कर इतिहास रचा .
2005: दिसंबर माह में राजनीति से संन्यास ले लिया.
2015: देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान, भारत रत्न से नवाजा गया.
2018: 11 जून 2018, मृत्यु

अटल बिहारी वाजपेयी की प्रमुख रचनाएं, Major Compositions of Atal Bihari Vajpayee-
1- मृत्यु या हत्या
2- रग-रग हिन्दू मेरा परिचय
3- कैदी कविराय की कुण्डलियाँ
4- संसद में तीन दशक
5- अमर आग है
6- राजनीति की रपटीली राहें
7- बिन्दु बिन्दु विचार, इत्यादि.
8- मेरी इक्यावन कविताएँ
9- अमर बलिदान (लोक सभा में अटल जी के वक्तव्यों का संग्रह)
10- कुछ लेख: कुछ भाषण
11- सेक्युलर वाद

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता, Poem by Atal Bihari Vajpayee
जो कल थे, वे आज नहीं हैं.
जो आज हैं, वे कल नहीं होंगे.
होने, न होने का क्रम, इसी तरह चलता रहेगा,
हम हैं, हम रहेंगे, यह भ्रम भी सदा पलता रहेगा.
सत्य क्या है? होना या न होना?
या दोनों ही सत्य हैं? जो है, उसका होना सत्य है,
जो नहीं है, उसका न होना सत्य है.
मुझे लगता है कि होना-न-होना एक ही सत्य के दो आयाम हैं, शेष सब समझ का फेर, बुद्धि के व्यायाम हैं.
किन्तु न होने के बाद क्या होता है, यह प्रश्न अनुत्तरित है.
प्रत्येक नया नचिकेता, इस प्रश्न की खोज में लगा है.
सभी साधकों को इस प्रश्न ने ठगा है.
शायद यह प्रश्न, प्रश्न ही रहेगा.
यदि कुछ प्रश्न अनुत्तरित रहें तो इसमें बुराई क्या है?
हां, खोज का सिलसिला न रुके, धर्म की अनुभूति,
विज्ञान का अनुसंधान, एक दिन, अवश्य ही रुद्ध द्वार खोलेगा. प्रश्न पूछने के बजाय यक्ष स्वयं उत्तर बोलेगा.

अटल बिहारी वाजपेयी, अटल बिहारी वाजपेयी की जीवनी, अटल बिहारी वाजपेयी की रचनाएं, अटल बिहारी वाजपेयी की कविताएं, अटल बिहारी वाजपेयी की उम्र, Atal Bihari Vajpayee, Atal Bihari Vajpayee Biography In Hindi, Atal Bihari Vajpayee Compositions, Atal Bihari Vajpayee Poems, Atal Bihari Vajpayee Age

ये भी पढ़े –

विवेकानंद की जीवनी, स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय, स्वामी विवेकानंद की बायोग्राफी, Swami Vivekananda In Hindi, Swami Vivekananda Ki Jivani

शहीदे आज़म भगत सिंह की जीवनी, शहीद भगत सिंह की बायोग्राफी हिंदी में, भगत सिंह का इतिहास, भगत सिंह का जीवन परिचय, Shaheed Bhagat Singh Ki Jivani

महात्मा गांधी की जीवनी, महात्मा गांधी का जीवन परिचय, महात्मा गांधी की बायोग्राफी, महात्मा गांधी के बारे में, Mahatma Gandhi Ki Jivani

डॉ. भीम राव अम्बेडकर की जीवनी, डॉ. भीम राव अम्बेडकर का जीवन परिचय हिंदी में, डॉ. भीमराव अम्बेडकर के अनमोल विचार, Dr. B.R. Ambedkar Biography In Hindi

सुभाष चन्द्र बोस की जीवनी, सुभाष चंद्र बोस की जीवनी कहानी , नेताजी सुभाष चन्द्र बोस बायोग्राफी, सुभाष चन्द्र बोस का राजनीतिक जीवन, आजाद हिंद फौज का गठन

महादेवी वर्मा की जीवनी , महादेवी वर्मा की बायोग्राफी, महादेवी वर्मा की शिक्षा, महादेवी वर्मा का विवाह, Mahadevi Verma Ki Jivani

तानसेन की जीवनी , तानसेन की बायोग्राफी, तानसेन का करियर, तानसेन का विवाह, तानसेन की शिक्षा, Tansen Ki Jivani, Tansen Biography In Hindi

वॉरेन बफे की जीवनी, वॉरेन बफे की बायोग्राफी, वॉरेन बफे का करियर, वॉरेन बफे की पुस्तकें, वॉरेन बफे के निवेश नियम, Warren Buffet Ki Jivani, Warren Buffet Biography In Hindi

हरिवंश राय बच्चन की जीवनी, हरिवंश राय बच्चन की बायोग्राफी, हरिवंश राय बच्चन की कविताएं, हरिवंश राय बच्चन की रचनाएं, Harivansh Rai Bachchan Ki Jivani

रामधारी सिंह दिनकर की जीवनी , रामधारी सिंह दिनकर की बायोग्राफी, रामधारी सिंह दिनकर के पुरस्कार, रामधारी सिंह दिनकर की रचनाएं, Ramdhari Singh Dinkar Ki Jivani

मन्नू भंडारी की जीवनी, मन्नू भंडारी की बायोग्राफी, मन्नू भंडारी का करियर, मन्नू भंडारी की कृतियां, Mannu Bhandari Ki Jivani, Mannu Bhandari Biography In Hindi

अरविन्द घोष की जीवनी, अरविन्द घोष की बायोग्राफी, अरविन्द घोष का करियर, अरविन्द घोष की मृत्यु, Arvind Ghosh Ki Jivani, Arvind Ghosh Biography In Hindi

सम्राट अशोक की जीवनी, सम्राट अशोक की बायोग्राफी, सम्राट अशोक का शासनकाल, सम्राट अशोक की मृत्यु, Ashoka Samrat Ki Jivani, Ashoka Samrat Biography In Hindi

मिल्खा सिंह की जीवनी, मिल्खा सिंह की बायोग्राफी, मिल्खा सिंह का करियर, मिल्खा सिंह का विवाह, मिल्खा सिंह के पुरस्कार, Milkha Singh Ki Jivani, Milkha Singh Biography In Hindi